Search This Blog

Showing posts with label गैंग्‍स ऑफ वासेपुर. Show all posts
Showing posts with label गैंग्‍स ऑफ वासेपुर. Show all posts

Monday, February 25, 2013

naman ramchandran on anurag kashyap

नमन रामचंद्रन का यह लेख अनुराग कश्‍यप के निर्देशन और उनकी फिल्‍म गैंग्‍स ऑफ वासेपुर को समझने की नई दृष्टि देता है। यह लेख पत्रिका के sight and sound मार्च अंक में छपा है। अनुराग के आलोचकों और प्रशंसकों दोनों के निमित्‍त है यह लेख्‍ा...
Naman Ramachandran
Friday, 22 February 2013
from our March 2013 issue
Keeping Bollywood routines at ironic distance, Anurag Kashyap’s sprawling, scintillating gangster saga could be the international breakout that Indian cinema has been waiting for.

Anurag Kashyap first came to prominence in filmmaking circles for writing Ram Gopal Varma’s Satya (1998), one of Indian cinema’s best examples of the gangster genre. However, his feature-directing debut, the visceral abduction drama Paanch (2003), went unreleased; his next film, Black Friday (2004), a procedural about the 1993 Mumbai bomb blasts, was initially banned in India and released only after a long court process; and 2007’s No Smoking divided critics and failed to find favour with audiences.
All this while, Kashyap was earning a living writing mediocre Bollywood movies, but he was also beginning to acquire a cult following among discerning audiences and the country’s independent film community. Then in 2009 came his first box-office success: Dev D, an edgy, drug-fuelled adaptation of Sarat Chandra Chattopadhyay’s tragic 1917 novel Devdas. At the same time, Gulaal, his hard-hitting take on small-town student politics, won festival acclaim, as did its 2010 follow-up, That Girl in Yellow Boots.
Thanks to changing audience tastes in India, driven by a largely young population, his films are now perceived to be cool. He acts as creative producer on pictures made by some of the country’s brightest independent talents, and although he dislikes the term, he has been dubbed the ‘Godfather of Indian independent cinema’.
It is perhaps then wholly appropriate that Kashyap’s latest film and his most ambitious to date, Gangs of Wasseypur, released in two parts, is in many ways a homage to The Godfather movies. Kashyap set out to make, in his own words, a commercial film, and simply to have fun.
The result is a sprawling, giddy, hyperviolent ride through the badlands of northern India, spanning 68 years from 1941 to 2009, breaking stride whenever Kashyap finds something that holds his attention, and going off on hugely enjoyable tangents. These range, to give just a few examples, from a disquisition on north India’s erstwhile coalmining mafia to an examination of the illegal gun-making process and languid, highly erotic seductions.
The Godfather, so to speak, of the film’s first part is Sardar Khan, played by Manoj Bajpayee (who was one of the lead gangsters in Satya). As written by Kashyap and his team, Sardar is on the one hand a gangster seeking revenge on his nemeses, the Qureshi clan and mine-owner turned politician Ramadhir Singh. On the other, Sardar is often helpless before his rampant libido and has to contend with both his wife and his mistress, two equally feisty women.
Sardar is just one of the well-etched characters in a film teeming with them. Ramadhir, played magisterially in his first feature-length role by Tigmanshu Dhulia, a director in his own right, is another, as is Sardar’s second son Faisal, the Michael Corleone character, a pot-smoker who is reluctantly thrust into a decades-long gang war; the part is interpreted magnificently by Nawazuddin Siddiqui, an actor who is fast becoming the face of Indian independent cinema.
Though the film is undoubtedly Kashyap’s most accessible and hence commercial to date, it doesn’t bear any resemblance to the routine Bollywood fare churned out by Mumbai’s dream factories. Bollywood is, though, a living, breathing presence in Gangs of Wasseypur: several characters are hugely influenced by Bollywood movies and style themselves in the manner of its popular stars; the film is punctuated by hit Bollywood songs, which also serve to denote the passage of time; and the mobile ringtones of practically any character with a phone is a Bollywood song. Cleverly, Kashyap and his writers have made the main antagonist, Ramadhir, resolutely anti-Bollywood. In a memorable monologue, he explains that the reason for his longevity is that he doesn’t watch the movies; his opponents’ relatively short lives, he believes, can be attributed to their desire to emulate the lifestyles of Bollywood stars.

Another area where Kashyap scores is his choice of locations rarely seen in mainstream Bollywood films, with Rajeev Ravi’s restless camera capturing both the beauty and the shabbiness of small-town northern India. Wasiq Khan’s production design is meticulous, subtly delineating the changing periods with the introduction of film posters or household products. The locations mark a return to his roots for Kashyap, who was born in the area and grew up there. Setting films in authentic small-town India is a practice that’s been popularised recently by Tamil filmmakers Bala, Ameer Sultan and M. Sasikumar, and Gangs duly carries a dedication to them in the opening credits.
Gangs of Wasseypur is, then, an adrenalin shot of a film, powered along by an inventive score by Sneha Khanwalkar that’s a grab-bag of diverse genres including north Indian folk, electronica and even Indo-Caribbean reggae. However, fatigue sets in during the second part, when the relentless eye-for-an-eye revenge-taking becomes repetitive. This is partly redeemed by a bloodsoaked bullet ballet of a shootout set in a hospital, comparable to similar sequences in John Woo’s Hard Boiled (1992).
The five-hour-plus running time and the plethora of characters might be daunting for some, but overall the sheer pace and drive of Kashyap’s bravura approach ensure that once the film hits its straps it barely pauses for breath. Like Olivier Assayas’ Carlos (2010) and Jean-Francois Richet’s Mesrine films (2008), this is a movie where the two parts are best watched back to back with a short break, all the better to inhabit the noisy and colourful world of Wasseypur.

Indian cinema has long been trying to produce a breakout film that will appeal to international audiences in the manner of Crouching Tiger, Hidden Dragon (2000) or City of God (2002). Unfortunately, most of the resulting films have been an uneasy mix of Western filmmaking techniques and predominantly English-language dialogue, set in milieux that international audiences are supposedly comfortable with. Unsurprisingly, these crossover films have appealed neither to Indian audiences nor global ones.
The late great Satyajit Ray maintained that he made films primarily for his native Bengali audience – any global recognition that followed was a bonus. Kashyap seems to have embraced this philosophy and created a film that’s uniquely Indian, despite having some Western influences. Festival acclaim has duly followed, with packed screenings at Cannes, Sydney, Toronto and Sundance among others, leading to commercial release in France and now the UK.
Perhaps Gangs of Wasseypur and other breakout Indian films from 2012, including Cannes selections Miss Lovely and Peddlers (produced by Kashyap), are a harbinger of things to come. The fact that independent productions Wasseypur and Peddlers were co-funded by mainstream Bollywood studios is also a welcome indication that the Bollywood machine is no longer wary of risking its coin on differently themed films.

Thursday, February 7, 2013

छोटी फिल्मों को मिले पुरस्कार


-अजय ब्रह्मात्मज
    हिंदी फिल्मों के निमित्त तीन बड़े पुरस्कारों की घोषणा हो चुकी है। इस बार सभी पुरस्कारों की सूची गौर से देखें तो एक जरूरी तब्दीली पाएंगे। जी सिने अवार्ड, स्क्रीन अवार्ड और फिल्मफेअर अवार्ड तीनों ही जगह ‘बर्फी’ और ‘कहानी’ की धूम रही। इनके अलावा ‘इंग्लिश विंग्लिश’, ‘विकी डोनर’, ‘पान सिंह तोमर’ और ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ के कलाकारों और तकनीशियनों को पुरस्कृत किया गया है। अपेक्षाकृत युवा और नई प्रतिभाओं को मिले सम्मान से जाहिर हो रहा है कि दर्शकों एवं निर्णायकों की पसंद बदल रही है। उन पर दबाव है। दबाव है कथ्य और उद्देश्य का। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री दावा और यकीन करती है कि मनोरंजन और मुनाफा ही सिनेमा के अंतिम लक्ष्य हैं। खास संदर्भ में यह धारणा सही होने पर भी कहा जा सकता है कि सिनेमा सिर्फ मनोरंजन और मुनाफा नहीं है।
    पुरस्कारों की सूची पर नजर डालें तो इनमें एक ‘बर्फी’ के अलावा और कोई भी 100 करोड़ी फिल्म नहीं है। 100 करोड़ी फिल्मों के कलाकारों और तकनीशियनों को पुरस्कार के योग्य नहीं माना गया है। ‘जब तक है जान’, ‘राउडी राठोड़’ और ‘दबंग-2’ के छिटपुट रूप से कुछ परस्कार, मिले हैं। ज्यादातर पुरस्कार कथित छोटी फिल्मों के कलाकारों और तकनीशियनों को मिले हैं। पुरस्कार सूची में उनकी मौजूदगी बड़े बदलाव का संकेत भर है, क्योंकि उनकी मजबूत मौजूदगी के बावजूद पापुलर कैंटगरी में अभी तक पापुलर स्टार ही हावी है। घूम-फिर कर किसी न किसी बहाने शाहरुख खान, सलमान खान, रितिक रोशन और रणबीर कपूर को सामने कर दिया जाता है। हीरोइनों में कट्रीना कैफ और प्रियंका चोपड़ा का नाम लिया जाता है। अर्जुन कपूर और अनुष्का शर्मा, इस पापुलर कैटेगरी के नए नाम हैं।
    बाकी पुरस्कार तो छोटी फिल्मों के कलाकारों और तकनीशियनों को दिए गए, लेकिन जब पापुलर कैटेगरी में खास कर सर्वोत्तम अभिनेता के लिए हीरो चुनने की बात आई तो सभी रणबीर कपूर की ओर लपके। निस्संदेह रणबीर कपूर ने ‘बर्फी’ में सुंदर अभिनय किया है। फिल्मी परिवारों से आए वत्र्तमान पीढ़ी के कलाकारों में वे अकेले संजीला आर्टिस्ट हैं। ग्लैमर और इमेज में नहीं बंधे हुए हैं। फिर भी अभिनय के लिहाज से वे इस साल इरफान खान, मनोज बाजपेयी, आयुष्मान खुराना ने उनसे कमतर प्रदर्शन नहीं किया है। चरित्रों को निभाने में वे रणबीर कपूर से मीलों आगे हैं। सिर्फ एक पुरस्कार सूची में इरफान खान को रणबीर कपूर के साथ संयुक्त रूप से सम्मानित किया गया। बाकी के नाम तो कहीं-कहीं नामांकित भी नहीं थे।
    पुरस्कार समितियों को ‘बर्फी’ ने बड़ी राहत दी। अगर अनुराग बसु की ‘बर्फी’ बेहतर नहीं बनी होती तो सारे पुरस्कार कथित छोटी फिल्मों को ही मिलते। पुरस्कार समिति ने ‘बर्फी’ पर पुरस्कारों की बारिश कर दी है। मैं ऐसा नहीं कहता कि ‘बर्फी’ को पुरस्कार नहीं मिलने चाहिए थे। ‘बर्फी’ को कुछ ज्यादा ही पुरस्कार मिल गए। सभी को याद होगा कि ‘बर्फी’ को ऑस्कर के लिए भेजे जाने के समय इस पर विदेशी फिल्मों से दृश्य चुराने के आरोप लगे थे। ऑस्कर में यह नामांकन सूची तक नहीं पहुंच पाई। औसत से बेहतर यह फिल्म भारत में सभी तरह के पुरस्कार बटोरने में सफल रही। अगर पुरस्कार समितियों के निर्णायक इसके स्थान पर छोटी फिल्मों को तरजीह देते तो पुरस्कारों की खोई प्रतिष्ठा बढ़ जाती।
    बहरहाल, यह गर्व की बात और समय है कि छोटी फिल्मों से जुड़े तकनीशियनों और कलाकारों को पहचान मिल रही है। यह भी उल्लेखनीय है कि इन फिल्मों के निर्देशक फिल्मी परिवारों या फिल्म इंडस्ट्री के नहीं हैं। उन्होंने बाहर से आकर अपनी प्रतिभा, लगन और अनवरत कोशिशों से यह मुकाम हासिल किया है। सुजॉय घोष, सुजीत सरकार, अनुराग कश्यप और अनुराग बसु भी पिछले दस-पंद्रह सालों के संघर्ष के बाद यहां पहुंचे हैं। इस साल नवाजुद्दीन सिद्दिकी को पहचान और प्रतिष्ठा मिला, जबकि वे ‘सरफरोश’ के समय से छोटी-मोटी भूमिकाएं निभा रहे हैं।
    समीक्षक बदल चुके हैं। दर्शक बदल रहे हैं और अब निर्णायकों को भी बदलना पड़ रहा है। यह समय की मांग और जरूरत है। पहले ही पुरस्कारों की प्रतिष्ठा संदिग्ध हो चुकी है। अगर भविष्य में भी युवा, नई और सही प्रतिभाओं को पुरस्कृत किया जाए तो पुरस्कारों की गरिमा और प्रामाणिकता बढ़ेगी। इस साल के अभी तक के घोषित पुरस्कार इस दिशा में बढ़ते दिख रहे हैं।

Thursday, July 5, 2012

बच्चन सिनेमा और उसकी ईर्ष्यालु संतति-गिरिराज किराडू


चवन्‍नी के पाठकों के लिए यह लेख जानकीपुल से कट-पेस्‍ट किया जा रहा है....
अनुराग कश्यप ने सिनेमा की जैसी बौद्धिक संभावनाएं जगाई थीं उनकी फ़िल्में उन संभावनाओं पर वैसी खरी नहीं उतर पाती हैं.'गैंग्स ऑफ वासेपुर' का भी वही हाल हुआ. इस फिल्म ने सिनेमा देखने वाले बौद्धिक समाज को सबसे अधिक निराश किया है. हमारे विशेष आग्रह पर कवि-संपादक-आलोचक गिरिराज किराडू ने इस फिल्म का विश्लेषण किया है, अपने निराले अंदाज में- जानकी पुल.
============================================

[गैंग्स ऑफ वासेपुर की 'कला' के बारे में बात करना उसके फरेब में आना है, उसके बारे में उस तरह से बात करना है जैसे वह चाहती है कि उसके बारे में बात की जाए. समीरा मखमलबाफ़ की 'तख़्त-ए-सियाह' के बाद फिल्म पर लिखने का पहला अवसर है. गर्मियों की छुट्टियाँ थीं, दो बार (एक बार सिंगल स्क्रीन एक बार मल्टीप्लेक्स) देखने जितना समय था और सबसे ऊपर जानकीपुल संपादक का हुक्म था]

अमिताभ बच्चन अपनी फिल्मों में 'बदला' लेने में नाकाम नहीं होता. तब तो बिल्कुल नहीं जब वह बदला लेने के लिए अपराधी बन जाय. बदला लेने में कामयाब होना उन कई फार्मूलों में से एक अहम फार्मूला है जो अमिताभ बच्चन के सिनेमा ने बनाया. और यह फार्मूला - 'व्यक्तिगत' स्पेस में हुए अन्याय का प्रतिकार कानून और सामाजिक नैतिकता = स्टेट की मशीनरी से बाहर जा कर ही संभव है उर्फ अपराधी होना एंटी-स्टेट होना है - उन कई फार्मूलों में से एक है जिन पर गैंग्स ऑफ वासेपुर बनी है. 'मर्दानगी' का 'प्रदर्शनवाद' (एग्जिबिशनिज्म) और उसका सफल कमोडिफिकेशन; स्त्री-'बोल्डनेस' के दो बेसिक प्रकारों - एरोटिक (दुर्गा) और लिंग्विस्टिक (नग्मा) - का उतना ही सफल कमोडिफिकेशन और ज़बरदस्त संगीत (चाहे वह हमेशा संगत न हो) ऐसे ही कुछ दीगर फार्मूले हैं जिन पर यह फिल्म बनी है, वैसे ही जैसे बहुत सारी फिल्में बनती आयी हैं.

फिल्म का आखिरी दृश्य है. फिल्म के 'हीरो' सरदार खान को उसी जगह - एक पेट्रोल पम्प - पर शूट किया जा रहा है जहाँ उसे पहला अपराध करते हुए दिखाया जाता है.
उसे गिर के मर जाना चाहिए, हो सके तो स्क्रीन पर उसका चेहरा नहीं आना चाहिए (वैसे ही जैसे उन बहुत सारे लोगों के चेहरे नहीं आये  मरते वक्त स्क्रीन पर जिनकी वह हत्या करता है:  इसी तरह, पब्लिक स्पेस में). लेकिन एक बेहद वल्गर (पहली बार देखते हुए/ मुझे इस फिल्म में, इसकी गालियों समेत और कुछ भी 'वल्गर' नहीं लगा -- यह भी वल्गर इस अर्थ में है कि यह देसी मेचोइज्म को एक प्रोडक्ट में बदलता है और बतौर बोनस एक सामूहिक पहचान - बिहारी- को एक उपभोक्ता समूह के तौर पर सीधे एड्रैस करता है ) और बेहद हास्यास्पद (दूसरी बार देखते हुए) दृश्य में वह स्लोमोशन में गिरता है और पार्श्व में उसके हीरोइज्म को सेलेब्रेट करता हुआ एक गीत बजता है जो बीसियों लोगों को क़त्ल कर चुके सरदार खान को ऐसे हीरो के रूप में याद करता है जिसके
"पुरखे जिये अँधेरा
और तूने जना उजाला"
रस ले लेकर हत्याएं करने वाले सरदार ने कौनसा उजाला पैदा किया है इसके बारे में मत सोचिये न ही उसके पिता के कोयला मजदूर और 'पहलवान' के तौर पर जिये अंधेरों के बारे में आप कल्पना करिये कि सरदार के बर्फ छीलने वाले पेंचकस से सरे राह हत्या करने वाले हाथ उन कन्धों से जुड़े हैं जिन पर 'चढ़ के सूरज आकाश में रोज पहुँचता' (एकदम वीरगाथा काव्य है!) है  और इस तरह याद रखिये कि आपके अपने जीवन के उजाले का 'बाप' भी कौन है.
अगर आप बिहार से हैं तो मनोज वाजपेयी पर बलिहारी होते हुए दुआएं दीजिए कि 'आपका' लाला हज़ार साल जिये, बची हुई दो बीवियां और रक्खे, दोनों से 'प्यारे' लगने वाले दो-चार 'सपूत' और पैदा करे और नाची गाई आपका 'मनोरंजन' करता रहे. 
और अगर आप अंग्रेजी में दुनिया देखते हैं तो एग्जोटिका के परफेक्ट एग्जोटिक अंत पर प्रभावित हो जाइये. लिरिक्स पूरी तरह समझ में न आये तो कोई बात नहीं.

शाहिद खान के एक बेटा है. सरदार.
सरदार के दो स्त्रियों से चार बेटे हैं.
रामाधीर सिंह के एक बेटा है.
सुल्तान की शायद शादी नहीं हुई है.  
बदले, अपराध और राजनीति का यह व्यापार पूर्णतः मर्द व्यापार है - हत्याएं, गैंगवार, और हिंसा का उत्तराधिकार.  पिता और पुत्र के बीच एक अनिवार्य साझेदारी. अगर सरदार खान के एक बेटी होती तो वह उससे भी मज़ाक करता, काम पर या धंधे में? 

अकेला कोयला ही 'गैंग्स' पैदा नहीं करता.
कथा में कोयला बैकड्रॉप है. उसकी जगह आयरन स्क्रैप आ सकता है, मछलियों से भरा हुए तालाब आ सकता है .. हिंसा वैसे ही जारी रहती है.

पार्ट १ के 'हीरो' सरदार का बचपन एक घटना ने बदल दिया - यह जानकारी कि उसके पिता की हत्या की गयी और हत्यारा कौन है.
पार्ट २ के 'हीरो' फैज़ल का बचपन भी एक घटना ने बदल दिया - उसकी माँ का एक रिश्तेदार से शारीरिक सम्बन्ध ("शारीरिक सम्बन्ध' जैसा युफेमिज्म इस्तेमाल करने के लिए आप चाहें तो मेरी धज्जियां उडाएं या कह कर कुछ और करें).
हेमलेट के पिता को उसका अंकल मार देता है. वही अंकल उसकी माँ से शादी कर लेता है.
सरदार और फैज़ल मिलकर हेमलेट का केस बनते हैं.
सरदार की मुक्त हिंसा का उसके मुक्त लिबिडो से सीधा सम्बन्ध है.  फैज़ल का अवरुद्ध जमा हुआ लिबिडो यादव की हत्या से  पिघल गया है. अब वह पिता की जगह लेने के लिए तैयार है.

लेकिन शेक्सपियर से कोई साम्य इसके बहुत आगे नहीं जाता, न वासेपुर का न ओमकारा या मकबूल का. कैथार्सिस के लिए कोई जगह नहीं है. यहाँ नैतिक द्वंद्व नहीं है. कोई चयन नहीं है. इसलिए यह सिनेमा एक स्तर पर अमिताभ बच्चन के सिनेमा की ओर हमेशा हसरत और डाह से देखता रहेगा. 

बदले और मर्दानगी के एक ज्यादा 'देसी' कल्ट के लिए एक टेरिटरी बन गयी है. (लेकिन यह 'मुझे जीने दो' या 'बैंडिट क्वीन' की नहीं ओमकारा की  टेरिटरी है) १८ करोड़ की प्रोडक्शन लागत और १७-२६ करोड़ के विज्ञापन (स्रोत: गूगल सर्च) को कवर ही नहीं कर लिया गया है, मुनाफ़े की लकीर शुरू हो गयी है.
मार्किट इसी तरह काम करता है शायद. जैसे सरदार की जो गुंडई और लुच्चई विमर्श में सामाजिक-राजनैतिक चीज़ है थियेटर में देसी मेचोइज्म का थ्रिल और कॉमेडी हो जाती है और उसी तरह नग्मा और दुर्गा की कथा जो विमर्श में त्रासदी है, थियेटर में कॉमेडी हो जाती है. इतनी हिंसा के बीच इतनी कॉमेडी से मार्किट बनता है.

फिल्म साहसिक ढंग से उस 'मुस्लिम-छवि-विमर्श' में हिस्सेदारी करती है जो हिन्दू सांस्कृतिक राष्ट्रवाद ने निर्मित किया है. साहसिक इसलिए कि वह इस बात की परवाह नहीं करती कि वह कई स्तरों पर उस 'मुस्लिम-छवि-विमर्श' को अप्रूव भी करती है, लेकिन इरादतन या बदनीयती से नहीं.

७.१
इन किरदारों की ज़िंदगी में मज़हब, अपना या अपने दुश्मन का, कितनी अहमियत रखता है?
रामाधीर मुसलमानों से लड़ने के लिए मुसलमान ढूँढता है. उसके घर में दो तरह के बर्तन और बर्ताव हैं.
पीयूष मिश्र का किरदार अपने प्राइवेट स्पेस में खुद को सजा देता है - लेकिन महज़ दो बार. दीन-ओ-ईमान का उसका अपना विचार एक निजी चीज़ है - वह हत्या या हिंसा को जायज़ मानता है लेकिन अपने 'मालिक' से बेवफाई को नहीं. 
बीच सड़क पर कोई गाता है ऐ मोमिनों दीन पर ईमान लाओ!

फिल्मकार बार बार साफ़ साफ़ दो टूक कह चुका है उसे 'पक्षधरता' पसंद नहीं है (अफोर्ड भी नहीं कर सकता) लेकिन उसके विमर्शकार पक्षधरता के विमर्शकार हैं.  उसके दोनों हाथों में चेरी है.
कई बार कला पोलिटिकल करेक्टनेस के कारण कमज़ोर हो जाती है, वासेपुर कहीं कहीं उसकी कमी के चलते.
१०
कथा में किस राजनैतिक पार्टी की बात हो रही है किस ट्रेड यूनियन की ऐसी अन्य जिज्ञासाओं के लिए थोड़ी रिसर्च खुद भी करिये.

फुट नोट: कहते हैं कहानी पर बात करनी चाहिए कहानीकार पर नहीं. इसीलिए भंते, अब पहली और आखिरी बार इस लिखे में 'अनुराग' शब्द.

गिरिराज किराड़ू


गिरिराज किराडू से rajkiradoo@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है.

Saturday, June 23, 2012

फिल्‍म समीक्षा : गैंग्‍स ऑफ वासेपुर-रवीश कुमार

 (चेतावनी- स्टाररहित ये समीक्षा काफी लंबी है समय हो तभी पढ़ें, समीक्षा पढ़ने के बाद फिल्म देखने का फैसला आपका होगा )

डिस्क्लेमर लगा देने से कि फिल्म और किरदार काल्पनिक है,कोई फिल्म काल्पनिक नहीं हो जाती है। गैंग्स आफ वासेपुर एक वास्तविक फिल्म है। जावेद अख़्तरीय लेखन का ज़माना गया कि कहानी ज़हन से का़ग़ज़ पर आ गई। उस प्रक्रिया ने भी दर्शकों को यादगार फिल्में दी हैं। लेकिन तारे ज़मीन पर, ब्लैक, पिपली लाइव,पान सिंह तोमर, विकी डोनर, खोसला का घोसला, चक दे इंडिया और गैंग्स आफ वासेपुर( कई नाम छूट भी सकते हैं) जैसी फिल्में ज़हन में पैदा नहीं होती हैं। वो बारीक रिसर्च से जुटाए गए तमाम पहलुओं से बनती हैं। जो लोग बिहार की राजनीति के कांग्रेसी दौर में पनपे माफिया राज और कोइलरी के किस्से को ज़रा सा भी जानते हैं वो समझ जायेंगे कि गैंग्स आफ वासेपुर पूरी तरह एक राजनीतिक फिल्म है और लाइसेंसी राज से लेकर उदारीकरण के मछलीपालन तक आते आते कार्पोरेट,पोलिटिक्स और गैंग के आदिम रिश्तों की असली कहानी है।

रामाधीर सिंह, सुल्तान, सरदार जैसे किरदारों के ज़रिये अनुराग ने वो भी दिखा दिया है जो इस फिल्म में नहीं दिखाई गई है। हिन्दू मुस्लिम अपराधिकरण के इस गठजोड़ का इस्तमाल राजनीति में सांप्रदायिकरण की मिसालों के रूप में खूब हुआ है। मगर उसके पहले तक यह गठजोड़ सिर्फ धंधा पानी में दावेदारी तक ही सीमित था। गैंग्स आफ वासेपुर एक राजनीतिक दस्तावेज़ है। इस फिल्म को इसलिए नहीं देखा जाना चाहिए कि किस समीक्षक ने कितने स्टार दिये हैं। इस फिल्म को इसलिए भी देख आइये कि ऐसी फिल्में बनने लगी हैं और सेंसर बोर्ड उन्हें पास भी करने लगा है( सेंसर बोर्ड के अफसरों को बधाई,पंकजा ठाकुर से मिला हूं तो उनका नाम लेकर लेकिन बाकी को भी बधाई)। गालियों के लिए नहीं बल्कि उन दृश्यों के लिए जिनके बिना यह फिल्म वास्तविक नहीं बन पाती। बड़े बड़े मांस के लोथड़ों के कटने की जगह से जो आपराधिक मिथक बनते हैं,यह सीन अगर सेंसर बोर्ड काट देता कि लोगों की भावना आहत हो सकती है तो फिल्म आइना बनने से रह जाती। संवादों में कोइलयरी की राजनीति और अपराधिकरण में टाटा थापर का नाम लेकर उस प्रक्रिया को बता देना आसान फैसला नहीं होगा। नूझ लैनल( मैं न्यूज़ चैनल नहीं कहता क्योंकि मुझे ये लैनल ही लगते हैं) में यह औकात है तो बता दीजिए।

अच्छा निर्देशक वो होता है जो अपनी कहानी के समय और उसके रंग को जानता हो। कैमरे की लाइटिंग, दिन और रात के शेड्स,बारिश के क्लोज अप्स,मोहल्ले की गलियां,गलियों के ढलान, कोने, पुराने अखबारों की कटिंग,धूल,बाल इन सबको एक निरंतरता में रखते हुए दृश्य रचता हो। अनुराग मिलते तो पूछता कि मनोज वाजपेयी के लिए गमछा तो मिल गया होगा लेकिन ईनार(कुआं) पर नहाने के वक्त जो अंडर वियर पहना है वो ब्रांडेड है या पटरी से खरीदा था। ईनार पर बाल्टी में फुले हुए कपड़े और गमछा लपेट कर मनोज का चलना कमाल का है। कट्टा का विवरण और चित्रण बेजोड़ है। फट के फ्लावर हो जाता है। ये संवाद रिसर्च से ही आ सकता है। गुल और ज़र्दे के डिब्बे में बम बनाना और फेंकना वास्तविक है। लुंगी पहनने का तरीका और पीछे फंसी हुई लुंगी को हल्के से खींचना यह सब डिटेलिंग पर्दे के दृश्यों को यादगार बनाते हैं। कलाकार को अभिव्यक्ति देते हैं। जिसने भी इस फिल्म की लाइटिंग की है वो कमाल का बंदा या बंदी होगी। अंधेरा कितने शेड्स में उभरता है,लाजवाब है।

मैं कहानी में नहीं जाना चाहता। कसाई के मोहल्लों के बहाने अनुराग ने  पीयूष मिश्रा के नैरेशन से ज़ाहिर कर दिया है कि एक समय था जब ये बस्तियां ठेकेदारों के गुर्गों की खदानें हुआ करती थीं। जिनका नब्बे के दशक में सांप्रदायिक अफवाहों में इस्तमाल किया गया। बिना इस डायनमिक्स के आप इस फिल्म को नहीं पढ़ सकते। फिल्म बनती है वासेपुर में। आज़ादी के पहले से, अंग्रेज़ों के आने और जाने के बीच, ट्रेन के लूटने का लंबा सीन, सरदार के बाप का मरना, सरदार का बनना,उसकी शादी,बच्चे। वो एक सामान्य मर्द है। मनोज वाजपेयी ने ऐसे किरदारों को अपने समाज में खूब देखा होगा,सुना होगा। सत्या में मनोज अपने बेहतरीन अभिनय से काल्पनिक हो जाते हैं तो वासेपुर में अपने शानदार अभिनय से वास्तविक। गिरिडिह गिरिडिह बोलने का अंदाज़, नली वाला मटन पीस चूसना, लड़की को ताकना,कुएं पर दुर्गा के साथ कपड़े धोते वक्त ताल से ताल मिलना,बंगालन का राजनीति में आना यह सब बिहार यूपी के आपराधिक होते समाज के वास्तविक किस्से हैं। आप इन्हें बिंदेश्वरी दूबे, सत्यदेव सिंह सूरजदेव सिंह बीपी सिन्हा जैसे असली नामों में सुन सकते हैं(जिसकी बेहतरीन चर्चा रंजन ऋतुराज ने अपने फेसबुक स्टेटस में की है) या फिर आप अपने स्थानीय मोहल्लों में उभरे ठेकेदारों और उनके गुर्गे की सुनी सुनाई कहानियों में खोज सकते हैं। कोयला माफिया के पनपने की प्रक्रिया के भीतर कितने उप-वृतांत हैं।

सरदार का अभिनय कमाल का है। मनोज वाजपेयी ने जितना बेहतरीन गुंडई के किरदार को उभारने में किया है उससे कहीं ज्यादा उनका अभिनय औरतों के सापेक्ष एक मर्दाना कमीनगी में दिखता है। मनोज को काफी फोलो किया है। लेकिन इस बार मनोज ने अपने कारतूस से वही निकाले जो हम सब देख चुके हैं। अगर नया वाजपेयी उभरता है तो वो सिर्फ नगमा और दुर्गा के बीच के संबंधों में फंसा मक्कार मनोज है। दानिश को गोली लगते वक्त और अंतिम दृश्य में ठेले पर गिरने का अभिनय काफी अच्छा है। कुएं के पास वो जिस तरह से दुर्गा से बात करते हैं और घर की सफाई करते वक्त जिस तरह से नगमा से बात करते हैं उसका सांस्कृतिक अध्ययन कोई फिल्म वाला करता रहेगा लेकिन हम जिस भोजपुरी समाज से आते हैं उसे देखकर गदगद हो गए। निश्चित रूप से दुर्गा और नगमा के बीच के अवसरों पर मनोज वाजपेयी ने अपने अभिनय को नया मुकाम दिया है। एक सीन में जिस सफाई से मनोज पांव उठाते हुए उठ खड़े होते हैं पता चलता है कि फिल्म में अभिनेता नहीं निर्देशक अभिनय कर रहा है। और बहुत सारे गुमनाम सहायक निर्देशक अपने निर्देशक के साथ खड़े हैं, तैयारी के साथ।

सरदार और औरतों के बीच के संबंध को अलग से देखा जाना चाहिए। नगमा और पीयूष मिश्रा के बीच जो संबंध होते होते रह गया और उससे जो फैज़ल पर असर पड़ा उसके लिए अनुराग ने कैसे आसानी से वक्त निकाल लिया है, शाबासी देने का मन करता है। बिना उस दृश्य के फैज़ल का किरदार पैदा ही नहीं हो सकता था जो शायद दूसरे हिस्से में उभरेगा। मनोज वाजपेयी के पिता का किरदार जिसने भी किया है उसका अभिनय भी नोटिस में लिया जाना चाहिए। कहानी में शुरूआती जान वही डालता है। कोइलरी में पत्थर से मारपीट का सीन प्रभावशाली है।

कसाइयों के मोहल्ले का सुल्तान इस फिल्म में जम गया है। यहां कबूतर भी एक पंख से उड़ता है का संवाद कितनी आसानी से बिना किसी विशेष भाव भंगिमा के उतार देता है। चप्पल उतारकर दांत पीसते हुए दौड़ा कर मारने का सीन। उफ कैसे बताऊं कि एकदम वास्तविक है। मेरे पिताजी ठीक इसी तरह चप्पल खींच लेते थे मारने के लिए। हमारे गांव समाज में चप्पल निकालने का सामंती चलन कैसे आया होगा इसका ज़िक्र करूंगा तो सामंतवाद और जातिवाद में उलझ जाऊंगा। खैर मनोज वाजपेयी ने भी ऐसे वास्तविक दृश्य अपने गांव घरों में देखे होंगे।

सुल्तान को मैंने पहली बार रीमेक वाली अग्निपथ में नोटिस किया था। इस कलाकार का भविष्य उज्ज्वल है। भोजपुरिया ज़ुबान में कहूं तो खंचड़़ा गुर्गा लगा है। इसका किरदार बहुत उभरा नहीं क्योंकि सरदार की बराबरी में नहीं था। सरदार की बराबरी रामाधीर से हो रही थी। क्या आप उस प्रसंग को भूल सकते हैं जब सुल्तान रामाधीर के घर जाता है। पत्नी चीनी मिट्टी वाले बर्तन की बात करती है। मुसलमान आया है। तभी मैं कहता हूं कि इसे आपराधिकरण और सांप्रदायिकरण के बीच की यात्रा के प्रसंगों के रूप में देखा जाना चाहिए। सुल्तान ने क्या एक्टिंग की है।

आप समझ रहे होंगे कि मैं समीक्षा लिख रहा हूं या किताब। कुछ फिल्मों को ऐसे भी देखना चाहिए। इस फिल्म में पीयूष मिश्रा का किरदार बहुत नहीं उभरा। उनकी आवाज़ और गाने ने कमाल का अभिनय किया है। अनुराग पीयूष को और क्रूर बना सकते थे लेकिन शायद स्कोप नहीं रहा होगा। पीयूष का किरदार मनोज के साथ जो लड़का मार काट करता है, वो होना चाहिए था। लेकिन क्या पीयूष के नैरेशन के बिना यह फिल्म पूरी हो पाती। नहीं। हो सकता है कि अनुराग ही पीयूष के रोल को ठीक से समझ न पाये हों। गुलाल में उनके लिए पूरा प्लान था लेकिन गैग्स आफ वासेपुर में पीयूष को लेकर कोई योजना नहीं दिखती है। नगमा और दुर्गा का अभिनय लाजवाब रहा है। दीवार का प्रंसग देखकर लगा कि अनुराग ने सिनेमा के भीतर सिनेमा का इस्तमाल ओम शांति ओम टाइम के भौंडे गाने रचने से हटकर किया है। मुकद्दर का सिकंदर का गाना आहा। सिनेमा देखने की चाह और चाह में बनते किरदार। वाह।

लिखते हुए सोच रहा हूं कि कुछ छूट तो नहीं रहा है। बहुत कुछ छूट रहा है। गानों पर बिल्कुल नहीं लिखा। लेकिन यह फिल्म इसलिए विवाद नहीं पैदा करेगी क्योंकि घटना के समय से बहुत बाद में बनी है। फिर इसका जवाब भी फिल्म में ही है। कैसे माफिया का काम कोयले का चूरा चुराने वाली महिलाएं करने लगीं और माफिया आखिरी दिनों में मछली मारने लगे और रंगदारी के धंधे में आ गए। कुछ नहीं हुआ तो उस रामाधीर सिंह का जिसके पास राजनीतिक सत्ता बची रह जाती है। वही रामाधीर सिंह आज रेड्डी ब्रदर्स लेकर ए राजा तक में बदल गया है।

माफी चाहता हूं बोर समीक्षा के लिए। इस तरह से कोई समीक्षा करे तो फिल्म ही न देखने जाए। मगर आप इस फिल्म को देखिये। काफी मनोरंजन है इसमें । मैं कमज़ोर दिल का आदमी हूं। सोचा था कि बहुत गोली चलेगी तो सिनेमा हाल से चला आऊंगा। बड़ा कलेजा कांपता है महाराज। लेकिन हत्या और गोलीबारी के दृश्य क्रूरतम तरीके से नहीं फिल्माये गए हैं। क्रूरतम से मेरा मतलब वल्गर भी है। सबसे बड़ी बात है कि पूरी फिल्म अनुराग कश्यप की है। निर्देशक ने कहानी पर बराबर की पकड़ बनाए रखी है। किसी किरदार को ज्यादा जगह नहीं दी है। इसीलिए इस फिल्म से आप मनोज वाजपेयी या नवाज़ या पंकज चतुर्वेदी नहीं चुन पायेंगे। जब भी चुनेंगे फिल्म को ही चुनेंगे। अनुराग ने कहानी की ज़रूरत को बहकने नहीं दिया है। हाथ और दिल पर नियंत्रण रखा है। जिसने संपादन किया है उसका नाम तो कोई नहीं जानेगा। उसके परिवारवाले भी स्क्रीन पर नहीं पढ़ पायेंगे मगर वो तारीफ के काबिल है। शायद उसका नाम श्वेता है। इसीलिए कहता हूं कि गैंग्स आफ वासेपुर फिल्म निर्देशकों के लिए चुनौती है। ऐसी बात नहीं है कि इस स्तर की फिल्में नहीं बनी हैं। बनी हैं। मगर आज के मोड़ पर यह फिल्म प्रस्थानबिंदु है। पाथब्रेकिंग।

Friday, June 22, 2012

फिल्‍म समीक्षा : गैंग्‍स ऑफ वासेपुर-गौरव सोलंकी

गौरव सेलंकी के ब्‍नॉग रोटी कपड़ा और सिनेमा से साभार

वासेपुर की हिंसा हम सबकी हिंसा है जिसने कमउम्र फ़ैज़लों से रेलगाड़ियां साफ़ करवाई हैं 

मैं नहीं जानता कि आपके लिए गैंग्स ऑफ वासेपुर गैंग्स की कहानी कितनी है, लेकिन मेरे लिए वह उस छोटे बच्चे में मौज़ूद है, जिसने अपनी माँ को अपने दादा की उम्र के एक आदमी के साथ सोते हुए देख लिया है, और जो उस देखने के बाद कभी ठीक से सो नहीं पाया, जिसके अन्दर इतनी आग जलती रही कि वह काला पड़ता गया, और जब जवान हुआ, तब अपने बड़े भाई से बड़ा दिखता था। फ़िल्म उस बच्चे में भी मौज़ूद है, जिसके ईमानदार अफ़सर पिता को उसी के सामने घर के बगीचे में तब क्रूरता से मार दिया गया, जब पिता उसे सिखा रहे थे कि फूल तोड़ने के लिए नहीं, देखने के लिए होते हैं। थोड़ी उस बच्चे में, जिसकी नज़र से फ़िल्म हमें उसके पिता के अपने ही मज़दूर साथियों को मारने के लिए खड़े होने की कहानी दिखा रही है। थोड़ी उस बच्चे में, जो बस रोए जा रहा है, जब बाहर उसके पिता बदला लेने का जश्न मना रहे हैं। थोड़ी कसाइयों के उस बच्चे में, जिस पर कैमरा ठिठकता है, जब उसके और उसके आसपास के घरों में सरदार ख़ान ने आग लगा दी है। फ़िल्म मेरे लिए उस कोयले की खदान में भी जाकर ठहर गई है, जिसमें बारह घंटे से पहले रुकने पर खाल उधेड़ दी जाएगी, जिसमें रोशनी कम है या हवा, यह ठीक से बताना मुश्किल है, और तब कभी-कभी चमकती रोशनी में काले पड़े शरीर हैं, उस आदमी का चेहरा है, जिसे उस समय के बाद हमेशा के लिए क्रूर हो जाना है, अपने लोगों को मारना है, उनके घर जलाने हैं और शक्ति पानी है। और जब मरना है, तो अपने बेटे को उस आग में छोड़ जाना है, जिसमें वह अपने बाल तभी बढ़ाएगा, जब अपने पिता के हत्यारे से बदला ले लेगा। और बदला नहीं लेगा, कह के लेगा उसकी।
कितनी फ़िल्में होंगी, जो किसी अपराधी की बिना शादी के पैदा हुए बेटे पर इतना भर ठहरेंगी कि जब अब्बू आएं तो वह पढ़ाई छोड़कर दरवाज़े तक दौड़ा जाए और कहे- सलाम अब्बू, और इतने में ही आपको अन्दर कहीं रोना आए। कितनी फ़िल्में होंगी, जो आपको कोयला खदानों के माफ़िया के बारे में बताते हुए उनका इतिहास और वर्तमान बताएंगी, कोयले और लोहे की चोरियां इतनी आम दिखाएंगी कि रात का इंतज़ार नहीं और उन्हीं रास्तों से छोटे छोटे बच्चे लोहा चुराकर लाते हैं जिनसे आईसक्रीम वाला जा रहा है। कितनी फ़िल्में टाटा बिड़ला और थापर में खदानों की बन्दरबाँट की बात करेंगी और कहेंगी कि अंग्रेज तनख़्वाह भी देते थे और छत भी, लेकिन आज़ादी के बाद के अंग्रेज छत तोड़कर-जलाकर सिर्फ़ तनख़्वाह देते हैं, फिर वे कहीं भी जाकर छत डालें। कितनी फ़िल्में उन गरीबों के घर जला रहे आदमी के चेहरे पर ठहरेंगी? उस आदमी के चेहरे की असहजता पर भी, जिसके हुक्म से अभी अभी उसके एक कारिंदे के परिवार को ख़त्म कर दिया गया है? 

इसीलिए गैंग्स ऑफ वासेपुर में भले ही कितनी भी गालियाँ और गोलियाँ हों, कितने ही कटते हुए आदमी और भैंसे हों, लेकिन अपनी भीतर की परत में यह हमारी सामूहिक कहानी है। वासेपुर के अंश हम सबके बीच में हैं। वह हमारी माँ ही है, जो घर के पुरुषों द्वारा रचे जा रहे हत्या के षड्यंत्र के दौरान बैकग्राउंड में दबी आवाज़ में नौकर से कह रही है कि चीनी मिट्टी के बरतन में खाना परोसना, क्योंकि मेहमान मुसलमान है। वे हमारे पिता ही हैं, जो भले ही दुनिया भर का कत्ल करके लौटे हों, लेकिन अपने बेटे को कुछ छर्रे लगने पर पागल हुए जाते हैं। यह हम सब हैं यही है हमारी ज़िन्दगियों का दोहरापन और यह हमारी ही दुनिया की हिंसा है, उसके कसाईख़ाने जिनमें आँख के बदले आँख से पूरी दुनिया अंधी होनी है।
यह ज़रूर है कि बहुत बड़ी और बहुत सारे किरदारों की कहानी होने की वजह से या शायद सबसे इंसाफ़ करने और ख़ुद को कसने की कोशिश में फ़िल्म ऐसे कुछ लम्हे लापरवाही से छोड़ देती है, जो उसके मोती हो सकते थे। इसकी तेज रफ़्तार बहुत सारी डीटेल्स आपके दूसरी बार में देखने के लिए भी छोड़ देती है। लेकिन तब भी, जहाँ जहाँ फ़िल्म ठहरती है अपने किरदारों के दुखों और गुस्से में, वहाँ यह और भी अलग होती जाती है। वैसे पल, जहाँ यह धीमी होती है, कविता जैसी, जब वे कोयले से सिर तक सने लड़ रहे हैं।
यह अपनी घटनाओं के लिए नहीं, अपने किरदारों और हालात पर उनकी प्रतिक्रियाओं के लिए महत्वपूर्ण फ़िल्म है। यह इतनी स्वाभाविक है कि हत्या करके और लूटकर भागते इसके किरदारों की चप्पलें बीच में ही छूट जाती हैं और वे उन्हें लेने लौटते हैं। यह वासेपुर की गली ही है, जिसमें सरदार ख़ान एक पहलवान को दिनदहाड़े छुरे से मार रहा है और पीछे कुछ औरतें और बच्चे दूसरी दिशा में आराम से चले जा रहे हैं। फ़िल्म बार-बार उस हिंसा के प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष गवाह बन रहे बच्चों पर ठहरती है, उन बच्चों पर भी, जिन्हें बाद में यही सब करना है, और इसीलिए यह ख़ास है।
फ़िल्म अपने किरदारों, उनकी ज़िन्दगियों, उनके मोहल्लों और उनके शहर की विश्वसनीयता बार-बार अपनी हदों से आगे जाकर भी कायम करती है। कभी 'कसम पैदा करने वाले की', 'कुली' या 'गाइड' के पोस्टरों से, कभी पिस्तौल देखते ही चमत्कारिक ख़ुशी से भर जाने वाले अपने किरदारों के चेहरों से, कभी ऑटोमैटिक पिस्तौलों की उनकी चाह से, और कभी घर में फ़्रिज आने की ख़ुशी से अपने अलग-अलग समय को बताती हुई। कभी यह उन गाँव वालों के साथ बैठी है जो मंत्रीजी के स्वागत में उनके घर के बाहर फलों की टोकरियाँ लेकर बैठे हैं, कभी उनके साथ, जो उनके बेटे के पैरों में गिर रहे हैं। देखिए, क्या होना था लोकतंत्र और मज़दूर विकास पार्टी को क्या करना था?

यूं तो आप इसे सिर्फ़ प्रतिशोध की कहानी भी समझ सकते हैं, लेकिन यह अलग इसलिए है कि अपने गैंगस्टर्स के घरों की रसोइयों में दाखिल होती है, उनके चौबारों पर टहलती है, उनके साथ चाट खाती है, लस्सी पीती है, उनके पास बैठती है जब वे अपनी प्रेमिकाओं के साथ नल पर कपड़े धो रहे हैं, उनके साथ शरमाती है, जब वे किसी पार्क में पहली बार उनके हाथ छू रहे हैं, उनके साथ उनकी शादियों के गीत गाती है और देसी कट्टे से किए फ़ायर से जब उनके हाथ झनझनाते हैं, तो हँसती है। यह आईसक्रीम की चोरी से लेकर कोयले, लोहे, मछली, तालाब, पैट्रोल और पैसे की, वह हर लूट दिखाती है जो वासेपुर में हो रही है।
'इक बगल में चाँद होगा' से 'कह के लूंगा' तक ‘वासेपुर का संगीत उसकी आत्मा है, जिसके बिना फ़िल्म संभव नहीं थी। इसके लिए स्नेहा खानवलकर और उनके साथियों पर अलग से एक लेख लिखा जाना चाहिए। वासेपुर के ऐक्टर उसकी साँसें हैं मनोज वाजपेयी इसलिए कि अपने किरदार की कमीनगी में इतना उतरते हैं कि आपको बार-बार बेहद विकर्षित करते हैं, लेकिन बस इतना ही कि जब वे अपना बदला ले रहे हों तो आप उनके बिल्कुल साथ खड़े हों। जैसा काम उन्होंने यहाँ किया है, वह दुर्लभ है। रिचा चड्ढा अपने उच्चारण, लहजे और रोने-हँसने में वही हैं जो शादी में ढेर सारा अतिरिक्त और फूहड़ मेकअप पुतवाकर आई कोई बेपढ़ी लड़की होगी। उनका किरदार खूब लिखा गया है और उन्होंने इसे खूब जिया भी है। नवाज़ुद्दीन जब आते हैं, फ़िल्म कोई और ही फ़िल्म लगने लगती है। इसी तरह जयदीप अहलावत, तिग्मांशु धूलिया, पीयूष मिश्रा, रीमा सेन, हुमा कुरैशी और बहुत सारे और भी ऐक्टर मिलकर हमें पूरा यक़ीन दिलाते हैं कि हम उनकी कहानी में नहीं, उनके जीवन में हैं।

अनुराग कश्यप इसलिए भी अलग हैं कि उनकी फ़िल्मों के स्त्री पात्र भले ही थोड़ी देर के लिए आएँ, मामूली जीवन जी रहे हों या कितने भी सताए जा रहे हों, लेकिन हमेशा अपने पूरे आत्मसम्मान और शक्ति के साथ आते हैं। वे हॉल में फ़िल्म देखते हुए सीटियाँ बजाती हैं, चिल्लाकर बच्चन को शादी का प्रस्ताव देती हुई, और बिना उनकी मर्ज़ी के छूने वाले प्रेमी को परमिशन लेने का कहती हैं। वे हमेशा गुस्से में रोती हैं, अबला होकर कभी नहीं। यह उनके यहाँ ही संभव है कि जब उनकी स्त्रियों का बस नहीं चलता कि अपने पतियों को वेश्याओं के पास जाने से रोक सकें, तो डाँटकर उन्हें खूब खाने को कहती हैं कि वहाँ जाकर कम से कम उनकी बेइज़्ज़ती तो न कराए। वे उनसे थप्पड़ खाती हैं और भले ही उल्टा मार न सकें, लेकिन उनके लिए दरवाज़े हमेशा के लिए बन्द कर देती हैं। और अपने गालों पर वे उंगलियाँ कभी भूलती नहीं।  

ट्रेन में, पटरियों पर, धर्मशालाओं-होटलों में, सड़क पर, मुहर्रम के मातम और बनारस के घाटों पर अनुराग कश्यप हमेशा की तरह बेहद सहजता से फ़िल्म को ले जाते हैं। वही उन्हें अलग करता है। पहली बार वे अपनी शहरी स्वभाव की फ़िल्मों से अपनी जड़ों की ओर लौटे हैं। और यह कैसी विडम्बना है कि उनका दबंग किरदार जब घायल होकर गिरता है, उसके लिए कोई एम्बुलैंस नहीं, कोई गाड़ी या मोटरसाइकिल भी नहीं, उसके लिए एक साइकिल रिक्शा है बस, जिस पर किसी दुकानदार जायसवाल का नाम लिखा है। उसे उसी पर गिरना है, रिक्शा को चल पड़ना है और ओझल होते जाना है। वही रिक्शा, जिसे उसके इलाके के कितने ही सरदार ख़ान देश के हर कोने में चलाते हैं और इस तरह देश चलाते हैं, लेकिन कोई कोना उनका नहीं।

यह वह जगह है, जहाँ किसी कलाकार या कलाकृति को अपना स्टैंड लेना होता है, अपने होने की वजह बतानी होती है।
गैंग्स ऑफ वासेपुर यहीं कविता होती है और जिया तू बिहार के लाला का जयघोष करती है।
बात बदले की नहीं है, न वासेपुर की। बात उस हिंसा की है, जिसमें हमारी कितनी पीढ़ियां और नस्लें खप गई हैं, कितने फ़ैज़ल स्कूल छोड़कर ट्रेन के पाखाने साफ़ करने को मज़बूर किए गए हैं, बाद में नशे में डूब जाने को और उसके बाद बदले की आग में। यह उस हिंसा में डूबकर लगातार परेशान भी करती है और हँसती भी रहती है। ख़ुद पर और हम सब पर। यह इसीलिए डेढ़ इंच ऊपर है। 

 

फिल्‍म समीक्षा : गैंग्‍स ऑफ वासेपुर

पर्दे पर आया सिनेमा से वंचित समाज

-अजय ब्रह्मात्‍मज
इस फिल्म का केवल नाम ही अंग्रेजी में है। बाकी सब कुछ देसी है। भाषा, बोली, लहजा, कपड़े, बात-व्यवहार, गाली-ग्लौज, प्यार, रोमांस, झगड़ा, लड़ाई, पॉलिटिक्स और बदला.. बदले की ऐसी कहानी हिंदी फिल्मों में नहीं देखी गई है। जिन दर्शकों का इस देश से संबंध कट गया है। उन्हें इस फिल्म का स्वाद लेने में थोड़ी दिक्कत होगी। उन्हें गैंग्स ऑफ वासेपुर भदेस, धूसर, अश्लील, हिंसक, अनगढ़, अधूरी और अविश्वसनीय लगेगी। इसे अपलक देखना होगा। वरना कोई खास सीन, संवाद, फायरिंग आप मिस कर सकते हैं।
अनुराग कश्यप ने गैंग्स ऑफ वासेपुर में सिनेमा की पारंपरिक और पश्चिमी सोच का गर्दा उड़ा दिया है। हिंदी फिल्में देखते-देखते सो चुके दर्शकों के दिमाग को गैंग्स ऑफ वासेपुर झंकृत करती है। भविष्य के हिंदी सिनेमा की एक दिशा का यह सार्थक संकेत है। देश के कोने-कोने से अपनी कहानी कहने के लिए आतुर आत्माओं को यह फिल्म रास्ता दिखाती है।
इस फिल्म में अनुराग कश्यप ने सिनेमाई साहस का परिचय दिया है। उन्होंने वासेपुर के ठीक सच को उसके खुरदुरेपन के साथ अनगिनत किरदारों के माध्यम से उतारा है। उनकी फिल्म रामाधीर सिंह और सरदार खान की दुश्मनी के बीच ही नहीं उलझी रहती। कहानी के महीन तार वासेपुर की गलियों से जुड़े हैं। एक पूरी तहजीब गैंग्स ऑफ वासेपुर में साकार होती है। जीवन की धड़कन सुनें।
फिल्म के किरदारों के साथ भटकें और हिंदी सिनेमा के पर्दे से दूर किए गए उन वंचितों से मिले जिन्हें अनुराग कश्यप और उनकी टीम ने पूरी संजीदगी के साथ पर्दे पर उतारा है। क्राफ्ट, टेकनीक और सिनेमा के लिहाज से फिल्म कमजोर हो सकती है, लेकिन कथ्य, कंटेंट और काले परिवेश को रचने में अद्भूत मजबूती है। फिल्म के छोटे-बड़े सभी किरदार अपनी छवि छोड़ जाते हैं।
गैंग्स ऑफ वासेपुर की कहानी 2004 में देश के हर घर में देखे जा रहे टीवी सीरियल सास भी कभी बहु थी से आरंभ होती है। छोटे से कमरे में सीरियल देख रहे परिवार पर अचानक हुई गोलीबारी से आफत आती है। टीवी स्क्रीन टूटता है। कहानी अपने परिवेश में आ जाती है और हमें वॉयसओवर से पता चलता है कि यह वासेपुर है, जो कभी बंगाल, फिर बिहार और अब झारखंड का हिस्सा है। मैट्रो और मल्टीप्लेक्स के कई दर्शक झारखंड से अपरिचित हो सकते हैं। देश के इसी हिस्से में अपने पिता शाहिद खान की हत्या पर सरदार खान कसम खाता है कि अब तो जिंदगी का एक ही मकसद है बदला। बदले की यह कहानी एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में आती है। फिल्म के अंत में बदले के लिए तैयार हो रही तीसरी पीढ़ी की भी झलक मिल जाती है।
गैंग्स ऑफ वासेपुर का ठोस सामाजिक-ऐतिहासिक संदर्भ है। यह सच्ची घटनाओं पर आधारित काल्पनिक कहानी है। कुछ किरदारों के नाम बदले गए हैं, लेकिन उन किरदारों का चरित्र वैसे ही रखा गया है। अनुराग कश्यप बताते चलते हैं कि समय के साथ वासेपुर के कारोबार में किस तरह के परिवर्तन होते गए। कोयले की चोरी, रेत का धंधा और लोहा-लक्कड़ की चोरी पृष्ठभूमि में चलती और दिखती रहती है। बदले की इस कहानी में केवल खून-खराबा ही नहीं है। मानव स्वभाव के मुताबिक प्रेम-रोमांस, हवस, दंगा-फंसाद की भी गुंजाइश बनी रहती है। पार्टी-पॉलिटिक्स पर अधिक ध्यान नहीं दिया गया है, लेकिन नौकरशाही और पॉलिटिक्स का फिल्म छूती है।
गैंग्स ऑफ वासेपुर में अनुराग कश्यप ने देश के एक हिस्से का स्लाइस निकालकर पर्दे पर परोस दिया है। इस स्लाइस में उस समाज के सतह के ऊपर-नीचे के सभी नमूने आ गए हैं। सब कुछ आम भारतीय समाज की तरह ऊपर से ठंडा,ठहरा, धीमा और शिथिल है,लेकिन थोड़ा खुरचें तो खलबली महसूस होती है। 1941 से 1985 तक पहुंची इस कहानी में देश के उस हिस्से को बखूबी देखा जा सकता है।
सरदार खान की भूमिका में मनोज बाजपेयी ने अभिनय की लंबी लकीर खींच दी है। उनकी परतदार प्रतिभा का अनुराग कश्यप ने प्रभावपूर्ण उपयोग किया है। सरदार खान में कोई भी गुण नहीं है, फिर भी वह रोचक, आत्मीय, करीबी और आसपास का लगता है। क्रूरता से लेकर रोमांस तक के दृश्यों में मनोज बाजपेयी की सहजता मुग्ध करती है। अपनी बीवी नगमा और दूसरी बीवी दुर्गा से सरदार के संबंधों के चित्रण में मनोज बाजपेयी एक साथ हंसाते और हर्षाते हैं। रिचा चड्ढा ने नगमा के किरदार को बहुत अच्छी तरह से निभाया है। वह इस फिल्म की खोज हैं। रीमा सेन को हम मसाला फिल्मों में देखते रहे हैं। यहां उनकी प्रतिभा का इस्तेमाल हुआ है। हुमा कुरेशी फिल्म के अंत में आती हैं। उनकी मौजूदगी आकर्षक है। हुमा कुरेशी और नबाजुद्दीन सिद्दिकी के बीच का कस्बाई रोमांस कोमल और ताजा है।
फैजल के किरदार में नवाजुद्दीन सिद्दिकी का प्रस्फुटन हुआ है। उनके बड़े भाई दानिश की भूमिका में आए विनीत सिंह ने संयमित अभिनय से चौंकाया है। वे प्रभावित करते हैं। साफ पता चलता है कि फिल्म के दूसरे भाग में दानिश और फैजल कमाल करेंगे। जयदीप अहलावत, जमील अहमद, पियूष मिश्रा, पंकज त्रिपाठी समेत सभी कलाकारों ने इस फिल्म को प्रभावशाली बनाया है। रामाधीर सिंह की भूमिका में में तिग्मांशु धूलिया चौंकाते हैं। उन्होंने किरदार के स्वभाव को समझा है और बगैर नाटकीय हुए उसे जी लिया है।
फिल्म का गीत-संगीत और पाश्‌र्र्व संगीत विशेष रूप से उल्लेखनीय है। वरूण ग्रोवर और पियूष मिश्रा के गीतों में कथ्य के अनुरूप शब्द और भाव हैं और स्नेहा ने उन्हें स्थानीय ध्वनियों से फिल्मों में अच्छी तरह पिरो दिया है। जीवी प्रकाश का पाश्‌र्र्व संगीत फिल्म की कथा को अर्थ और संदर्भ देता है। जीशान कादरी, सचिन और अनुराग कश्यप 44 साल की कहानी को ढाई घंटे में समेटने में सफल रहे हैं। कहीं-कहीं कहानी धीमी और ढीली जरूर पड़ती है, लेकिन संपूर्णता में कोई कमी नहीं रहती। अनुराग कश्यप की संलिप्तता कुछ दृश्यों को लगी करती और दोहराती है। थिएटर में जाकर गैंग्स ऑफ वासेपुर देखना एक अनुभव है। 
**** चार स्टार

Thursday, June 21, 2012

नजरअंदाज होने की आदत पड़ गई थी- विनीत सिंह

गैंग्‍स ऑफ वासेपुर के दानिश खान उर्फ विनीत सिंह
बैग में कुछ कपडे और जेहन में सपने लेकर मुंबई आ गया. न रहने का कोई खास जुगाड़ था न किसी को जानता था. शुरूआत ऐसे ही होती है. पहले सपने होते हैं जिसे हम हर रोज़ देखते है,फिर वही सपना हमसे कुछ करवाता है, इसलिए सपना देखना ज़रूरी है. लेकिन सपना देखते वक़्त हम सिर्फ वही देखते हैं जो हम देखना चाहते हैं और जो हमें ख़ुशी देता है इसलिए सब कुछ बड़ा आसान लगता है. पर मुंबई जैसे शहर में जब  हकीकत से से दो-दो हाथ होता है तब काम आती है आपकी तयारी. क्यूंकि  यहाँ किसी डायरेक्‍टर या प्रोड्यूसर से मिलने में ही महीनो लग जाते हैं काम मिलना तो बहुत बाद की बात है.  बताने या कहने में दो-पांच साल एक वाक्य में निकल जाता है लेकिन ज़िन्दगी में ऐसा नहीं होता भाईi, वहां लम्हा-लम्हा करके जीना पड़ता है और मुझे बारह साल लग गए गैंग्स ऑफ़ वासेपुर  तक पहुँचते-पहुँचते. मेरी शुरुआत हुई एक टैलेंट हंट से जिसका नाम ही सुपरस्‍टार था. मै उसके फायनल राउंड का विजेता हुआ तो लगा कि गुरु काम हो गया. अब मेरी गाडी तो निकल पड़ी लेकिन बाहर से आये किसी बन्दे या बंदी के साथ यहाँ सब कुछ इतना आसान नहीं है ये मुझे बाद में पता चला.   मै किसी स्टार का बेटा  तो  हूँ नहीं  कि  कोई एकदम से मुझे लौंच कर दे. टैलेंट हंट में मेरी मुलाकात महेश मांजरेकर से हुई. उन्होंने एक फिल्म में काम करने का मौका दिया लेकिन दुर्भाग्य से वह फिल्म नहीं चली. उसके बाद पागलों के दिन शुरू हो गए.  सुबह से डायरेक्‍टर और प्रोड्यूसर के ऑफिस के चक्कर लगाना शुरू कर देता था और जब तक तक थक के चूर नहीं हो जाता तब तक लगा रहता था. मै एनएसडी या एफटीआईआई से नहीं था इसलिए मेरे कोई सीनियर या दोस्त भी नहीं था कि गम हल्का कर सकू. जो दोस्त मेरे साथ मुंबई आये थे वो यहाँ की हालत देख कर कुछ महीनो या सालों में वापस हो लिए. मै मेडिकल कॉलेज से था इसलिए लोगों को मेरे अभिनय को लेकर भरोसा भी कम था, मज़ेदार बात ये होती थी की कोई काम तो देता नहीं था हाँ ज्ञान ज़रूर दे देता था कि "डॉक्टर हो, वापस चले जाओ....फिल्म के चक्कर में बर्बाद हो जाओगे." कई बार लोगों ने हंसी भी उड़ाई लेकिन अब वही लोग इज्ज़त भी देते हैं, अच्छा लगता है. खैर! पहली फिल्म असफल होने के बाद मैंने महेश मांजरेकर के साथ डायरेक्‍शन में ६-७ फ़िल्में कर डाली. उनके साथ मराठी सीख गया. उम्मीद थी की कभी न कभी महेश जी मुझे लेकर फिल्म बनायेंगे या कोई मज़बूत रोले देंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ.  मेरा सपना अभी भी मुझे उतना ही दूर था. उसके बाद मैंने नए तरह से काम करना शुरू किया.  कई फिल्मों  में एक-दो सीन इस उम्मीद में करता गया कि कभी बड़ा रोल मिलेगा लेकिन वह भी नहीं हुआ बल्कि लोगों ने एक-दो सीन के लिए ही बुलाना शुरू कर दिया. न पैसे अच्छे मिलते थे न रोल. फिर सीरियल में काम किया ताकि अपना खर्च उठा सकूँ. फिर ११ साल बाद  महेश मांजरेकर ने अपनी फिल्म सिटी ऑफ़ गोल्ड में मुझे लीड करने का मौका दिया. यह फिल्म हिंदी और मराठी दो भाषाओ में बनी. लेकिन किस्मत ने यहाँ भी झटका दे दिया......फिल्म अच्छी होने के बावजूद भी नहीं चली क्यूंकि फिल्म में कोई स्टार नहीं था.
 मेरा दिन बदलना शुरू हुआ अनुराग कश्यप की गैंग्स ऑफ़ वासेपुर के साथ. अनुराग कश्‍यप  ने कहा कि तुम अच्छे एक्‍टर हो. उनका ये कहना मेरे लिए ये बड़ी बात थी क्‍योंकि उन्होंने मेरे टूट  रहे भरोसे को एक सहारा दिया, और अपनी फिल्म गैंग्स ऑफ़ वासेपुर में एक महत्वपूर्ण किरदार  के लिए चुन लिया.  फिल्म अभी रिलीज नहीं हुई है लेकिन मुझे उनकी फिल्म में काम करने के बाद कई काम मिल रहे है. गैंग्स ऑफ़ वासेपुर की शूटिंग में मुझे कई सारे अनुभव हुए. मुझे मेरे पसंदीदा एक्टर मनोज बाजपेयी के साथ कई सीन करने का मौका था. मै इस फिल्म में उनके बेटे की भूमिका में हूँ. जिसका नाम दानिश खान है. मुझे याद है जब शूटिंग के ६ महीने पहले अनुराग कश्यप ने कहा की विनीत मुझे तुम्हारे रोल में ऐसा लड़का चाहिए जो एकदम पतला दुबला हो, इसलिए तुम अपना वजन कम करो. तब यहाँ मेरी पढाई काम आई और मैंने वजन कम करने के हिसाब से अपना शेड्यूल बनाया और ६ महीने में मैंने अपना १६ कग वजन कम कर किया. अनुराग कश्यप ने मेरी शूटिंग से  चार दिन पहले  मुझे सेट पर आने को कहा ताकि मै लोगों से घुल मिल सकूँ. मै बनारस आ गया.  जब मै सेट पर पहुंचा  तो यूनिट के लोग  मेरे सामने से आ  जारहे थे लेकिन किसी ने मुझे पहचाना ही नहीं. मुझे इतने सालों में नज़रंदाज़ होने की आदत सी पड़ गई थी, इसलिये मै चुपचाप एक कोने में में बैठ गया और सोचने लगा कि मैंने चार दिन पहले आकर कोई गलती तो नहीं की? फिर मै उठा और सीधे अनुराग कश्यप के पास पहुंचा  और उनको हेलो कहा. उन्होंने मुझे देखा और सरप्राइज  हो गए , पहले उन्होंने गले से लगा लिया और फिर उनका पहला वाक्‍य था कि  "विनीत वजन कैसे कम किया तुम ने? तुम तोह पहचान में ही नहीं आ रहे हो. मुझे यही चाहिए था तुम्हारे किरदार के लिए, वाह"  फिर सभीi लोग इकट्ठे हो गए और सब ने कहा की विनीत भाई आये तो हम लोगों ने पहचाना ही नहीं और ये चुपचाप एक jजगह बैठ गए तो हम लोगों को लगा कि  कोई होगा. तब मैने समझा कि कई बार हमारे पुराने कड़वे अनुभव हमें  गलत सोचने  पर मजबूर कर देते है, jजबकिh कुछ और होता है.
मुझे वासेपुर की शूटिंग में बहुत से सीनियर के साथ काम करने और सीखने का मौका मिला .सभी लोग थिएटर के माने हुए कलाकार हैं जैसे मनोज बाजपेयी नवाजुद्दीन सिद्दिकी,पियूष मिश्रा,तिग्‍मांशु धूलिया,रिख चड्ढा,हुमस कुरेशी,जमील अहमद  सब एक से बढ़ कर एक. मैंने हमेशा लोगों को देख कर ही सीखा है. इसलिए मै रोज़ सेट पर जाता था था ताकि ये समझ सकूँ कि कौन एक्टर किस तरह से अपने किरदार को अप्रोच करता है. और कमाल की बात थी कि मै हर रोज़ सरप्राइज होता था. अनुराग कश्यप के साथ काम करना मेरे लिए बहुत बड़ा मौका था इसलिए मै हमेशा उनकी बात ध्‍यान से सुनता था लेकिन पहले दिन मै बहुत नर्वस था क्यूंकि मुझे एस बात का डर लग रहा था कि क्‍या  मै उनके विश्‍वास पर खरा उतर पाऊंगा?  लेकिन अनुराग कश्यप ने मुझे जिस तरह से सीन समझाया और मुझे लिैक्‍स किया उसे मै भूल नहीं सकता a. पहले दिन की शूटिंग पट्रोल पंप पर थी, सीन मेरा था और सीन में सभी सीनियर एक्‍टर थे जैसे मनोज बाजपेयी नवाजुद्दीन सिद्दिकी,पियूष मिश्रा,,जमील अहमद  और 200 की भीड़. साथ ही उस दिन तीन तीन कैमरे हुए थे. सीन श्‍ुरू हुआ और पूरा सीन एक टे में खत्‍म हो गया...मुझे पता ही नहीं चला कि मै कर गया. सभीi ने तारु की, गले लगाया. वो पल मेरे लिए यादगार है क्यूंकि उसी पल में सभी ने मुझे स्‍वीकार कर  लिया की ये लड़का एनएसडी या किसी प्रोफशनल स्‍कूल l से नहीं है पर अच्छा है. उसके बाद मै सबसे घुल-मिल गया. उसके बाद सब कुछ आसान हो गया.
बनारस का होने के नाते अनुराग कश्‍यप ने एक्‍टर्स की जिम्‍मेदार में डुपर डाल दीi थी इसलिये मुझे सभी के साथ वक़्त गबताने का ज्‍यादा मौका मिला. हम लोग एक साथ दौड़ने जाते थे, घूने जाते थे, बनारस की बलियों में घूते थे लेकिन सोच समझ कर खाना पड़ता था क्यूंकि शूटिंग करीब सीधे तीन महीने तक चलनी थी. जब शूटिंग खत्‍म होने को आई तोह ऐसी कोई मिठाईया चाट नहीं बचा था जिसे लोगों ने खाया न हो. सेट पर मनोज बाजपेयी से एक्टिंग को लेकर खूब चर्चा की और उनके बताए हुए टिप्‍स आज भी मेरे बिस्‍तर के साने दीवार पर लगे हुए हैं. नवाजुद्दीन सिद्दिकी के साथ बहुत वक़्त बिताया. उनसे काफी कुछ सीखने का मौका मिला, वो अद्भुत कलाकार हैं.पियूष मिश्रा ने हमेशा मेरा हौसला बढ़ाया।.  मै गैंग्स ऑफ़ वासेपुर को लेकर बहुत उत्‍साहित हूँ. 22 june को फिल्म सिनेमाघरों में लग रही है. देखिए और दिखइए। फिल्‍म बहुत कमाल की बनी है।

Friday, June 8, 2012

फिर से अनुराग कश्‍यप-2

-अजय ब्रह्मात्‍मज
पिछली बार अनुराग कश्‍यप से हुई बातचीत का पहला अंश पोस्‍ट किय था। यह उस बातचीत का दूसरा और अंतिम अंश है। आप की प्रतिक्रिया और जिज्ञासा मुझे जोश देती है अनुराग कश्‍यप से बार-बार बात करने के लिए। आप के सवालों का इंतजार रहेगा।


-लेकिन बिहार में सब अच्‍छा ही नहीं हो रहा है। वहां के सुशासन का स्‍याह चेहरा भी है।
0 वह हमें नहीं पता है। बिहार के लोग अच्‍छी तरह बता सकते हैं,क्‍योंकि वे वहां फंसे हुए हैं। कहानी का हमें पता चलेगा तो उस पर भी फिल्‍म बना सकते हैं। अच्‍छा या गलत जो भी आसपास हो रहा है,उसे सिनेमा में दर्ज किया जाना चाहिए। पाइंट ऑफ व्‍यू कोई भी हो सकता है।
हमें अच्छी कहानी मिलेगी तो अच्छी फिल्म बनाएंगे। 
- वासेपुर में सिनेमा का कितना इंफलुएंश है।
0 वासेपुर देखा जाए तो पूरे इंडियन सोसायटी का एक छोटा सा वर्सन है। वासेपुर कहीं न कहीं वही है।
- इस फिल्म के पीछे जो गॉड फादर वाली बात की जाती है?
0 ये कहानी वासेपुर की है। इस कहानी का गॉड फादरसे कुछ लेना देना नहीं है। लोग बिना पिक्चर देखे हुए बात करते हैं तो लोगों के हिसाब से क्या जवाब दूं। कहानी है वासेपुर से। गॉड फादरसबने पढ़ी है, लेकिन उनको अपना खुद का वासेपुर नहीं मालूम। पहले वासेपुर के बारे में रिसर्च करिए। पहले वासेपुर का जानिए फिर आप बोलिए गॉड फादरसे  कितना प्रभावित है। किसी भी कहानी में बाप, बेटा और पोता है तो क्या वह गॉड फादरसे प्रभावित हो जाती है। फिल्म में कुछ भी ऐसा नहीं है जो कहीं से उठाया हुआ है। इसमें जो कुछ भी उठाया गया है वहां की हेड लाइनस से... वहां की न्यूज पेपर रिपार्टिंग से। क्या गॉड फादरदेखने के बाद वासेपुर के लोग ऐसे हो गए थे? अगर हो गए थे तो डिफनिटली गॉड फादरहै। और वह दूसरी इंटरेस्टिंग कहानी हो सकती है।
-वासेपुर की शूटिंग प्रक्रिया कैसी रही?
0 हमलोगों ने 2009 में काम शुरू कर दिया था। सबसे पहले म्‍यूजिक पर काम हुआ। मैं इसे म्‍यूजिकल बनाना चाहता था। शूटिंग बाद में 2010 में आरंभ हुई। फिल्‍म में धनबाद के विजुअल्‍स हैं। पूरी फिल्‍म की वहां शूटिंग करना संभव नहीं था। स्‍थानीय स्‍तर पर कई तरह की दिक्‍कतें हो जाती हैं। हमलोगों ने बिहार,झारखंड और उत्‍तर प्रदेश में शूटिंग की है। हमलोगों ने वहीं धनबाद क्रिएट किया।हमलोगों ने ओबरा,अनपड़ा,चकिया,चुनार,गहरौड़ा,बनारस,रांची,पटनाआदि स्‍थानों पर शूट किया। कई सारे लेखकों ने अपनाअपना वर्सन तैयार किया। फिर मैंने फायनल स्क्रिप्टिंग की। मेरी बीवी कल्कि स्‍पेन में जिंदगी ना मिलेगी दोबारा की शुटिंग कर रही थी। वहीं चला गया। वासेपुर की फायनल स्क्रिप्‍ट स्‍पेन में लिखी गई। मैं खुद नार्थ इंडिया से हूं। उधर का मिजाज और व्‍यवहार समझता हूं। शूल और युवा मैं लिख चुका हूं। इस फिल्‍म की पूरी कहानी बदले की है। पीडि़यों तक चलती है श्‍ह कहानी। फिल्‍म में सबसे ज्‍यादा समय तक तिग्‍मांशु धूलिया दिखाई पड़ेंगे। मनोज बाजपेयी और नवाजुद्दीन सिद्दिकी इस फिल्‍म की रीढ़ हैं। ये दोनों एक्टिंग नहीं करते। किरदारों को जीते हैं। इस फिल्‍म में कहानी सबसे खास है। उसी का महत्‍व है।
- ‘पेडलर्सक्या है?
0 ‘पेडलर्सएक यूनिक फिल्‍म है। पेडलर्सयूनिक फिल्ममेकर की यूनिक फिल्म है। पेडलर्सतो दिखा कर ही समझाया जा सकता है। कुछ लोगों की कहानी है। वे कैसे लोग है और क्या हैं, बताना मुश्किल है। मतलब पेडलर्सदिखा कर ही समझा सकते हैं। पेडलर्सको समझा पाना बड़ा मुश्किल है।
- ‘पेडलर्सकी कहानी क्या है?
0 कहानी ये है कि बंबई शहर में लोग रहते हैं। सब के अपने-अपने, सब के अलग-अलग और अकेली कहानियां हैं। वासन ने तीन व्‍यक्तियों को पकड़ कर उनकी कहानी कही है। कहानी पकड़ते-पकड़ते एक समय एंड में आकर सब की कहानियां आपस में टकराती हैं। टकराती है तो जो साउंड होता है न, वह खतरनाक है।
- कैरेक्टर कौन हैं?
0 गुलशन देवैया हैं जो कि नारकोटिक्स आफिसर है। छोटी सी प्रॉब्लम को डील नहीं कर पाता है। वह नपुंसक है। य‍ह समस्‍या उसकी जिंदगी पर हावी हो जाती है। बहुत बड़ी हो जाती है। एक लडक़ी है,जो अपना इलाज कराने आयी है और उसे पैसे की जरूरत है। क्योंकि इलाज महंगा है। उसके लिए कुछ भी कर सकती है। इसे कीर्ति मल्‍होत्रा निभा रही हैं। तीसरा एक लडक़ा है जो कुछ नहीं करता।
- कौन है?
0 सिद्धार्थ धवन नाम का एक नया लडक़ा है। लडक़ी है कीर्ति मल्होत्रा। तीनों की कहानी आपस में आ कर टकराती है।
- वासन बाला आप के असोसिएट डायरेक्टर रह चुके हैं। मैंने सुना है कि आप ने शुरू में पसंद नहीं थी फिल्‍म?
0 कहानी मैंने पसंद की थी। स्क्रिप्ट नहीं पसंद की थी। उसने जाकर स्क्रिप्ट लिखी और उसने कहा कि स्क्रिप्ट नहीं दिखाऊंगा। उसकी भी जिद्द थी। वह नहीं चाहता था कि मेरे शैडो में रह कर फिल्‍म बनाए। उसने पूरी टीम बनाई। मेरे सहायकों ने रिवोल्‍ट कर दिया। उन्‍होंने कहा कि हम वासन की फिल्‍म बनाने जा रहे हैं। उसने जाकर फिल्‍म बनाई। वर्क किया। उसने मुझे पूरी होने के बाद फिल्‍म दिखाई। मैंने देखा तो खुश हो गया। वह फिल्म लेकर हमलोग तुरंत भागे। लास्ट मोमेंट पर उसका सलेक्शन हुआ। भाग के गया लोगों को दिखाने के लिए कि देखो-देखो-देखो  ...फोन कर रहा था कि लोग देखेंगे-देखेंगे। लास्ट मोमेंट पर कोई देखता नहीं है। ठीक है उन्होंने देख ली और उन्हें पसंद आ गई।
- ‘मिस लवलीके लिए क्या कहना चाहते हैं?
0 ‘मिस लवलीकी स्क्रिप्ट पढ़ी थी मैंने बहुत दिन पहले। मुझे बहुत पसंद है। उस फिल्ममेकर की फिल्म मुझे पसंद है। वह आदमी मुझे अभी तक समझ में नहीं आया है। अच्छा है, कई लोग जो समझ में नहीं आते हैं वे हमेशा इंटरेस्टिंग काम करते हैं। मिस लवलीमुझे कान में देखनी है।
- और कौन-कौन सी फिल्में आप देखने जा रहे हैं।
0 मुझे माइकल हैनरी की नई फिल्म देखनी है। जॉन हिलपोर्ट की नई फिल्म देखनी है। बाकी देखूंगा कि और क्‍या फिल्‍में हैं?
- कान से आप कितनी उम्मीदें रख रहे हैं ?  आपका स्ट्रांग प्रेजेंस होगा। पता नहीं वहां की मीडिया में कितना आप पर फोकस रहेगा कि नहीं रहेगा वह मुझे नहीं मालूम?
0 कहा नहीं जा सकता। मेरी कोशिश रहेगी कि लोग फिल्‍म देखें और लिखें। रिएक्‍ट करें।
- अच्छे या बुरे तरीके से अनुराग ने अपनी जगह बनाई इंटरनेशनल मार्केट में अब वे अपने ढंग की फिल्म बना कर के, हमलोग की परवाह किए बगैर एक अलग ढंग का सिनेमा कर रहा है। यों कहें कि विरोध में खड़े अनुराग कश्‍यप की अपनी जमात बन गई है। वह साथ के लोगों की परवाह नहीं करता।
0 देखिए मेरा प्रॉब्लम क्या है? बहुत संवेदनशील सवाल पूछ लिया आप ने। मेरे बहुत सारे सीनियर्स हैं जिनके साथ मैंने काम किया है। उनसे सीखा है। उनके पास आयडिया है। मैंने सब से सीखा है। बहुत सारे आदमी की शिकायत है कि मैंने कुछ करने के बाद उनके लिए ऐसा कुछ नहीं किया। बहुत सारे लोग की नाराजगी है। मेरी प्रॉब्लम यह है कि मैंने जब भी किसी से बात करने की कोशिश की है। उनका ये कहना रहता है कि तुम ने हम से सीखा है और अब तुम हमें सीखा रहे हो ? बहुत ही डीफिकल्टीज होती है। मैं अपनी आजादी के साथ कुछ कर पाने की कोशिश कर रहा हूं। एक साथ काम करने के लिए पहले तो एक लेबल पर होना पड़ता है। मैं अपने सीनियर कैमरामैन के साथ काम नहीं कर पाया कभी, क्योंकि एक रेस्पेक्ट है बीच में। जब तर्क-वितर्क होगा तो वहां पर रेस्पेक्टफुल हो जाऊंगा। वह मुझे करना नहीं है। मैं उन चीज से दूर हो गया। बहुत सारे लोग जिनके साथ मैं बढ़ा ,वे फिकस्ड रह गए। उनके अंदर फ्लैक्सिबिलीटी बिल्कुल नहीं है और मेरे साथ के लोग कई बार बोलते हैं कि अब तेरे में एनर्जी नहीं रह गई। वे भूल जाते हैं कि मैं अभी उस उम्र का हूं,जिस उम्र में में वे मुझे सीख रहे थे। सब कुछ यंग रहने या एनर्जी से नहीं होता। यहां पर सब लोगों के साथ प्रॉब्लम क्या रहा है मेरा कि वे ढीले पड़ गए हैं। मैं यंग आदमी के साथ ही काम कर सकता हूं। उन लोगों के साथ काम नहीं कर सकता हूं। उन सभी के पास अपने घर हैं, सब के सब ईएमआई की सोचते हैं। उनका फोकस अपने खर्च पर है। जब भी किसी से बात किया हूं। मेरे साथ के बहुत सारे फिल्ममेकर हैं जो मेरे बहुत अच्छे दोस्त हैं, उनकी बात कर रहा हूं। बोलते हैं पहले पैसे दे दो उसके बाद काम करेंगे। मेरा कहना है कि पहले फिल्‍म बनाओ ना ? फिल्म बनाओ तो पैसे आ जाते हैं। वासेपुर की ही बात करें तो तीन साल में हमारी फिल्म बनी। तीन साल में कितने पैसे कमाए ? उनकी भी फिल्म बन गयी होती तो पैसे आते शायद। वैसे क्‍या आया? मेरा ये रहा है कि मैंने जो फिल्म बनायी है, उसके पैसे की चिंता साइड में कर दी। शायद इसलिए फिल्म आसानी से बनी। यह मैं नए लोगों के साथ कर सकता हूं,क्योंकि वो पैशन में आते हैं। वे पिक्चर बनाने आते हैं। मैं उन लोगों के साथ नहीं कर सकता जिन्होंने अलग तरह की इंडस्ट्री देखी है, जिन्हे मालूम है कि यार ये जगह ऐसी नहीं है, पैसे बहुत जरूरी होते हैं। मुझे मालूम है पैसे बहुत जरूरी होते हैं। जिस आदमी ने ये बात ठान ली है कि पैसे बहुत जरूरी होते हैं उन्हें समझ में आता है कि लोग बेवकूफ बना रहे हैं। मैं उनके साथ काम नहीं कर सकता। या तो लोग समझते हैं मैं लोगों को बेवकूफ बना रहा हूं या बन रहा हूं। मैं बहुत चालू तरह का हूं। इसमें बहुत झोल है। मेरा प्रॉब्लम यह है कि लोग मुझे कुछ भी बना दें,कुछ भी कहें, लेकिन मेरी पिक्चर तो बन रही है। उस पर मैं आज तक चलता आया हूं। बेवकूफ बनाने वाले आए और आ के चले गए। वे तो आज भी कहीं नहीं है न? मैं तो फिल्म बनाता रहा हूं लगातार। अगर आदमी का विजन इतना छोटा है कि वह मुझ जैसे को बेवकूफ बना के कुछ कर लेगा  तो फिर वो आदमी किसी लायक ही नहीं है। मुझे उससे क्या मिलने वाला है? मुझे तो फिल्म बनाने के लिए मिल रहा है और मुझे उससे ज्यादा कुछ नहीं चाहिए लाइफ में। इसी बात पर ऐसे ही लोग जुड़ते चले गए। टीम बन गयी। यही लोग हैं जो नई चीज पर कर पाते हैं। पुराने सब मेकर का दूसरा प्रॉब्लम क्या हैवो फॉर्मेट ही नहीं बना पा रहे हैं। कई बार बातें शुरू होती हैं और अटक जाती हैं।
- आपके टीम में सारे लोग आप से यंग हैं?
0 हां सब यंग हैं। मैं सबसे बूढ़ा हूं। सब लोग मुझे पापा बुलाते हैं। कोई भी चीज बनाने के लिए या बदलाव लाने के लिए आदमी के अंदर विलीव होना चाहिए न। नएपन में करने के लिए,नए लोगों के साथ करने के लिए, जो उन लोगों में नहीं है।
- वे बहुत फ्रेंडली होकर बातें करते है?
0 यंग और नए बच्चे हैं, जो चाहे बोलते हैं। जो चाहें कह सकते हैं।
- पूरी आजादी है?
0 बिल्कुल। यहां पर इस तरह का आजादी है कि जो चाहे बोल सकता है। जो चाहे कह सकता है। जब मुझे जरूरत पड़ती है,तब सभी तन कर मेरे साथ ख्‍ड़े हो जाते हैं। ये डेमोक्रेसी है। मेरा अस्सिटेंट मुझे कुछ भी बोलते हैं ,गाली भी देते हैं। ये क्या है? इंटरव्यू में बोलते रहते हो। सारी दुनिया ऐसे बात करती है मेरे से। मुझे कोई इगो नहीं होती है। लेकिन हां, पुराने लोगों के साथ एक अलग प्रॉब्लम है कि यार ये तो मेरे साथ पहली बार आया था काम करने के लिए। जब तक उनके माइंड से वह नया अनुराग नहीं निकलेगा तब तक हमलोग काम नहीं कर सकते। प्लस सिक्योरिटी होना बहुत जरूरी है। आप डरते क्‍यों हो? मैंने कितने लोगों से कहा,जिनको मैं इतना एडमायर करता हूं। इसलिए मैं उन से दूर रहता हूं। उनके लिए मैंने सब कुछ किया। पहले उनकी इमेज का प्राब्‍लम था। उनको सब लोग महान फिल्ममेकर मानते थे। मैं उनका नाम नहीं लूंगा। वे महान हैं। वे कहते हैं मैं दारू पीता हूं सारा दिन। पैसे होते नहीं थे। वो बस दारू छिडक़ने के लिए मेरे घर में आते थे। छिडक़ दो ताकि मैं बाहर जाऊं तो मुंह से बदबू आए। मुझे गुस्सा के साथ उन पर तरस आता है। थकी हुई एक फिल्‍म बनाई,जो कभी रिलीज नहीं हुई।




Thursday, June 7, 2012

मेरे पास खोने के लिए कुछ नहीं था-नवाजुद्दीन सिद्दिकी


 
-अजय ब्रह्मात्मज
    (कई सालों तक नवाजुद्दीन सिद्दिकी गुमनाम चेहरे के तौर पर फिल्मों में दिखते रहे। न हमें उनके निभाए किरदार याद रहे और न वे खुद कभी लाइमलाइट में आए। उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में पहचान बनाने की लंबी राह पकड़ी थी। शोहरत तो आंखों से ओझल रही। वे अपने वजूद के लिए पगडंडियों से अपनी राह बनाते आगे बढ़ते रहे। उन्होंने कभी हिम्मत नहीं हारी। वे अनवरत चलते रहे। और अब अपनी खास शख्सियत और अदाकारी से नवाजुद्दीन सिद्दिकी ने सब कुछ हासिल कर लेने का दम दिखाया है। पिछले पखवाड़े कान फिल्म फेस्टिवल में उनकी दो फिल्में ‘मिस लवली’ और ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ प्रदर्शित की गई। इंटरनेशनल फेस्टिवल में मिली सराहना से उनके किसान माता-पिता और गंवई घरवालों का सीना चौड़ा हुआ होगा।)
    दिल्ली से तीन घंटे की दूरी पर मुजफ्फरनगर जिले में बुढ़ाना गांव है। वहीं किसान परिवार में मेरा जन्म हुआ। घर में खेती-बाड़ी का काम था। पढ़ाई-लिखाई से किसी को कोई वास्ता नहीं था। अपने खानदान में मैंने पहली बार स्कूल में कदम रखा। उन दिनों जब पिता से पांच रुपए लेकर पेन खरीदा तो उनका सवाल था कि इसमें ऐसा क्या है कि पांच रुपए खर्च किए। मैंने उन्हें पेन खोलकर उसके पांच हिस्से दिखाए। लिखकर बताया। उस समय गांव में बिजली का नाम-ओ-निशान नहीं था। अभी भी बमुश्किल घंटे-दो घंटे के लिए बिजली आती है। अंधेरे में पूरा गांव सोता और जागता था। आज भी मेरे माता-पिता और दो भाई बुहाना में ही रहते हैं। बाकी भाई देहरादून शिफ्ट कर गए हैं।
    गांव से इंटरमीडिएट करने के बाद मैंने हरिद्वार के साइंस कॉलेज से बीएससी की डिग्री ली। यह 1990 की बात है। उसके बाद नौकरी की तलाश में बड़ौदा पहुंच गया। बड़ौदा में एक पेट्रोकेमिकल कंपनी में चीफ केमिस्ट की नौकरी मिल गई। क्रूड ऑयल के इलेक्ट्रिकल टेस्ट का काम था। काम करने के दौरान एक बार मुझे डर लगा कि थोड़ा भी ध्यान बंटा तो इलेक्ट्रिक शॉक लग सकता है। घबराहट में मैंने नौकरी छोड़ दी। पता नहीं था कि आगे क्या करना है? दोस्तों की संगत में खाली समय में नाटकों में रुचि जगी। थिएटर का सिलसिला आरंभ हुआ। एक साल तक नाटक देखने और फिर उनमें काम करना जारी रहा। दो-ढाई सौ नाटक देखने और दर्जन भर नाटक करने के बाद मुझे एहसास हुआ कि हिंदी थिएटर में बड़ौदा में कोई फ्यूचर नहीं है। दोस्तों ने सलाह दी कि दिल्ली चले जाओ। दिल्ली आने पर साक्षी ग्रुप से रिश्ता बना।
    साक्षी में तब सौरभ शुक्ला और मनोज बाजपेयी आदि सीनियर एक्टर थे। उनके साथ मैंने काम शुरू किया। दो सालों के अभ्यास और अनुभव के बाद एनएसडी में एडमिशन मिल गया। 1993 में एनएसडी में दाखिला मिला। वहां तीन सालों में थिएटर की सभी बारीकियां सीखीं। गांव से आने की वजह से लड़कियों-लडक़ों से मिलने में झेंप होती थी। वह टूटा। फिर एक रूसी निर्देशक पेपलेकोव से मुलाकात हुई। थर्ड इयर में उनका वर्कशॉप किया। उन्होंने मु़झे जीरो लेवल पर लाकर खड़ा कर दिया। फिर एक्टिंग के बारे में समझाना शुरू किया। उनके साथ नाटक करने के दौरान अपने अंदर के एक्टर से परिचय हुआ। तब तक मैं कामेडी रोल में पॉपुलर और स्टीरियोटाइप था। उन्होंने मुझे उससे निकाला और चुनौतियों के लिए प्रेरित किया। फिर मुझे किरदारों को जीने-निभाने के तरीके मिल गए।
    एनएसडी से निकलने के बाद मैं रेपटरी नहीं गया। मैं नहीं चाहता था कि वहां एक्टरों की तरह छोटी सुविधाओं और पैसों के पीछे भागूं। फ्रीज, गाड़ी और बाकी सुविधाओं से आगे सोचता था मैं। दिल्ली में तीन सालों तक अलग-अलग लोगों के साथ थिएटर, वर्कशॉप और ट्रेनिंग करता रहा। इस वजह से मैं निगेटिविटी से बच गया। गाइड करने वाला कोई नहीं था। सब कुछ अंदर से प्रस्फुटित हो रहा था। पेपलेकोव ने समझाया था कि फोकस और ध्यान कभी नहीं भटकना चाहिए। मैं उनसे बहुत मुतासिर और प्रेरित हुआ। एक्टिंग के प्रति ईमानदार हो गया। दिल्ली में पैसे कमाए। अपनी जिंदगी चलती रही। लगभग संतुष्ट था, लेकिन भागादौड़ी बहुत होती थी। तब तक फिल्म का कोई खयाल नहीं आया था। घरवाले समझते नहीं थे कि मैं क्या कर रहा हूं। उन्हें लगता था कि खाता-कमाता रहे। एक दिन अचानक लगा कि मैं कर क्या रहा हूं? दिन-रात की भागदौड़ और खाने के नाम पर चाय-बिस्किट या बिस्किट-चाय ़ ़ ़ फिर मैंने दिल्ली छोडऩे का निर्णय लिया और मुंबई आ गया।
    मुंबई यह सोच कर आया कि सीनियर लोग आते ही गले मिलेंगे और काम मिलना शुरू हो जाएगा। कुछ दोस्त थे अपने बैच के। तब सारे लोग गोरेगांव ईस्ट के वनराई में रहते थे। चार लोग एक साथ रूम शेयर करते थे। 1200 रुपए के कमरे में अपना शेयर भी जुटाना मुश्किल होता था। फिर फिल्मों में छोटे-मोटे काम शुरू किया। दिल्ली में रहते हुए मुझे ‘सरफरोश’ फिल्म में एक झलक दिखाने का मौका मिला था। फिल्म के आखिरी दृश्य में एक मिनट के लिए आया था। यहां आने के बाद एपिसोडिक टीवी सीरियल किए। तब तक एकता कपूर को सीरियलों का दौर आ गया और हमारे जैसे एक्टर निकम्मे हो गए।
    उन्हीं दिनों मुझे इरफान के निर्देशन में बनी इकलौती छोटी फिल्म ‘अलविदा’ में काम करने का मौका मिला। वह स्टार बेस्टसेलर में आया था। उससे बहुत तारीफ मिली। उसके बाद अनुराग कश्यप से मुलाकात हुई। उनकी ‘ब्लैक फ्रायडे’ मिली। उसमें टाइगर मेनन का एकाउंटेंट मुकादम बना था। ‘बाईपास’, ‘अलविदा’ और ‘ब्लैक फ्रायडे’ के बाद लगा कि काम मिल सकता है। उनके वीएचएस लोगों को दिखाने लगा था। मेरे कुछ दोस्त निराश होकर लौट गए। मैं वापस नहीं जा सकता था। सोचता था कि क्या मुंह लेकर जाऊंगा? दिल्ली भी नहीं जा सकता था। शर्म होती थी। माता-पिता की उम्मीद नहीं तोड़ सकता था। मैं भाई-बहनों में सबसे बड़ा हूं। उसका प्रेशर था। सात भाई और दो बहनें हैं मेरी। घर में कमाने वाला कोई नहीं था। लौटता तो भाइयों पर क्या असर होता?
     यहां रहकर फिल्में करता रहा। एक सीन भी कर लेता था कि अगली फिल्म में दो सीन मिलेंगे। एक-एक सीन की कई फिल्में हो गईं, लेकिन दूसरा सीन नहीं मिला। ‘सरफरोश’, ‘शूल’, ‘जंगल’, ‘मुन्नाभाई एमबीबीएस’ जैसी फिल्में कीं। एक एड फिल्म में बस में बैठने का काम मिला। निर्देशक ने कहा कि सब कोई न कोई एक्टिविटी करे। मैंने कहा कि मैं सो जाता हूं। शाम में सोने के पैसे मिल गया। एक और एड फिल्म की, जिसमें कैमरा सामने आने पर मुंह घूमा लेता था।
    मुंबई डराती बहुत थी, लेकिन मेरे पास खोने के लिए कुछ नहीं था। मैं निडर हो गया था। चार सालों तक गड़बड़ हालत रही। अनुराग कश्यप हमेशा भरोसा देता था कि अभी मेरी कोई औकात नहीं है, लेकिन किसी दिन कुछ लायक हुआ तो तुम्हें फिल्म दूंगा। उन दिनों मैंने एक्टरों को ट्रेंड किया। राजीव खंडेलवाल और रणवीर सिंह को ट्रेनिंग दी। ‘अभय’ और ‘हे राम’ के समय कमल हासन का डायलॉग निर्देशक था। उनके संवाद लिखे। पैसे कमाता रहा,लेकिन फिल्में नहीं थीं। फिर कबीर खान की ‘न्यूयार्क’ मिली। उस फिल्म के बाद लगा कि मैं टाइपकास्ट हो रहा हूं। मैं रोता अच्छा हूं तो टार्चर के सीन के लिए गरीब आदमी के लिए मुझे बुला लेते हैं। मैंने तय किया कि अब खुद का इस्तेमाल नहीं होने दूंगा। वैसे ही काम की वजह से ‘ए वेडनेसडे’ के लिए मना किया।
    बीच में ‘पीपली लाइव’ , ‘पान सिंह तोमर’ और ‘कहानी’ आ गई। मैं दावे के साथ कहता हूं कि एक्टिंग के क्राफ्ट पर मेरी इतनी मेहनत कम एक्टरों ने की होगी। मैं मनोज बाजपेयी का लोहा मानता हूं। उनकी तरह मैं खुद को एक्सप्लोर करता हूं। एक्टिंग की एक्सरसाइज करता हूं। मैं मोटी बुद्धि का अभिनेता हूं। स्मार्ट एक्टर नहीं हूं। अभी तक स्टेज पर नहीं बोल पाता। भीड़ में कोने में घुसने की कोशिश करता हूं। फिर भी मेरे मन में कभी कोई बदगुमानी नहीं हुई। शुरू में कुछ एक आदर्श थे। अभी कोई नहीं है। मुझे अच्छे दोस्त मिले हैं। अनुराग कश्यप ने हमेशा कहा कि छोड़ के जाना मत। हम लड़ेंगे और जीतेंगे। वापस जाओगे तो वहां कौन सी जिंदगी अच्छी हो जाएगी। मैं डटा रहा।
    अब ऐसा लग रहा है कि मेरा नंबर आ गया है। लोग पहचान रहे हैं। लेकिन अभी भी लंबी लड़ाई है। यहां केंद्रीय भूमिका में आना मुश्किल है। वह लगातार मिले तो हम अपनी प्रतिभा दिखा सकते हैं। स्थिति तो यह है कि जिन्हें दो करोड़ दिए जा रहे हैं, वे एक्टर ही नहीं हैं। हम एक्टर हैं, लेकिन हमारे लिए दो लाख भी महंगा हो जाता है। मन में विश्वास है कि मेरे दिन भी बदलेंगे। उम्मीद जाग रही है।
(2012 नवाजुद्दीन सिद्दिकी का साल कहा जा रहा है। उनकी ‘तलाश’,‘मिस लवली’,‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’,‘पतंग’,‘चिटगांव’ और ‘लायर्स डाइस’ इस साल रिलीज होंगी।)



Friday, June 1, 2012

फिर से अनुराग कश्‍यप

अनुराग से यह बातचीत उनके कान फिल्‍म फेस्विल जाने के पहले हुई थी। उस दिन वे बहुत व्‍यस्‍त थे। बड़ी मुश्किल से देश-विदेश के पत्रकारों से बातचीत और इंटरव्‍यू के बीच-बीच में मिले समय में यह साक्षात्‍कार हो पाया। इसका पहला अंश यहां दे रहा हूं। दूसरी कड़ी में आगे का अंश पोस्‍ट करूंगा। 


- कान में चार फिल्मों का चुना जाना बड़ी खबर है, लेकिन फिल्म इंडस्ट्री ने अनसुना कर दिया। कोई हलचल ही नहीं है?
0 क्या कर सकते हैं। कुछ लोगों के व्यक्तिगत संदेश आए हैं। कुछ नहीं कह सकते। हमारी इंडस्ट्री ऐसी ही है। मेनस्ट्रीम की कोई फिल्म चुनी गई रहती तो बड़ी खबर बनती। इंडस्ट्री कभी हमारी कामयाबी को सेलिब्रेट नहीं करती।
- हर छोटी बात पर ट्विट की बाढ़ सी आ जाती है। इस बार वहां भी शून्य ब सन्नाटा छाया है?
0 उन्हें लगता होगा कि हम योग्य फिल्ममेकर नहीं हैं। ये कौन से लोग हैं, जिनकी फिल्में जा रही हैं? इनसे अच्छी फिल्में तो हम बनाते हैं। इंडस्ट्री का यह भी तो भावना है। इंडस्ट्री का एक ही मानना है कि मैं जो फिल्में बनाता हूं। वह बहुत ही डार्क और वाहियात होती हैं। उन्हें यह भी लगता होगा कि ऐसी फिल्में कैसे चुन ली गईं? समस्या यह है कि यहां के लोग फैशन के तहत कान जरूर जाते हैं, लेकिन जाकर वहां फिल्में नहीं देखते। ये नहीं देखते कि कैसी फिल्में बन रहीहैं? उन फिल्मों को देख लें तो फिर मेरी फिल्में कैंडीप्लॉस लगेगी।
- कान फिल्म फेस्टिवल कितना महत्वपूर्ण है?
0 सबसे पहले तो लोगों कोय ही नहीं मालूम कि फेस्टिवल का उद्देश्य क्या होता है? बहुत सामान्य उदाहरण दूं तो यह गांव का मेला है। मेले में हर तरह की चीजें बिकने आती हैं। फिल्म फेस्टिवल के मेले में फिल्में बेची जाती हैं। दिखाई जाती हैं। प्रदर्शित की जाती हैं। कान एक सांस्कृतिक बाजार की तरह है। एक स्थान है? फ्रांस के संस्कृति मंत्रालय से कान में ऐसे आयोजन की मंजूरी मिली हुई है। वहां हर तरह के फेस्टिवल होते हैं। फिल्म फेस्टिवल के बाद पोर्न फिल्म फेस्टिवल होता है। उसके बाद एड फिल्मों का, फिर टीवी का  ़ ़ ़ इस तरह सालो भर कोई न कोई फेस्टिवल चलता रहता है। कान की अर्थव्यवस्था फेस्टिवल पर निर्भर है। होटल, समुद्रतट, सैरगाह है। वेमोस में विएवाल है। विएनाव में हर समय फेस्टिवल चलते रहते हैं। कान में 1946 में एक बॉडी ने फिल्म फेस्टिवल शुरू की। तब कंपीटिशन होता था। फिर उन सर्टेवरिगार्ड चालू हुआ। पहले साल ही भारत की ‘नीचा नगर’ को पुरस्कार मिला था। फिर ‘उन सर्टैनरिगार्ड’ चालू हुआ, क्योंकि अलग ढंग और सोच की फिल्मों को कंपीटिशन में जगह नहीं मिलती थी। ‘अनसर्टेन रिगार्ड’ में मतलब ‘ए सर्टन पाइंट ऑफ व्यू’ यानि अलग दृष्टिकोण। 1966 में लोगों ने विद्रोह कर के डायरेक्टर्स फोर्टनाइट शुरू किया। तब गोरार सबसे आगे थे। फिर क्रिटिक वीक आरंभ हुआ। इस प्रकार तीन बॉडी तीन फेस्टिवल चलाती हैं जिनमें कुल मिलाकर छह कैटेगरी होती है। उसमें लोग बदले जाते हैं। फेस्टिवल चलता रहता है। कान में चल रहे इस फेस्टिवल को सम्मिलित रूप से कान फिल्म फेस्टिवल कहा गया।
    फिर इसके बाद मार्केट आता है। मार्केट में सभी खरीदारों की नजर पहले उन फिल्मों पर होती हैं। जो चुनी गई रहती हैं। निकी नहीं चुनी जाती है, वे भी मार्केट में थिएटर किराए पर लेकर अपनी फिल्में दिखा सकते हैं। वहां फस्र्ट कम फस्र्ट सिस्टम है। वहां स्क्रीनिंग बुक करनी होती है। मार्केट में नेटवर्किंग चलती है। मार्केट में उन फिल्मों पर च्यादा ध्यान रहता है, जो पहले दूसरे फेस्टिवल में जा चुकी हैं। लेकिन अभी बिकी नहीं हैं।
    फेस्टिवल में जब फिल्में चुनी जाती हैं तो उस पर दुनिया का ध्यान जाता है। ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ की बात करूं तो हर लिस्ट में उसका नाम है। इसका मतलब भीड़ होगी। लोग देखेंगे। फिल्म को नया बाजार मिल सकता है। फिल्म सभी की नजर में आ जाती है तो उसे एक पुश मिल जाता है। कान की अपनी एक प्रतिष्ठा है। कान का चुनाव बेहतर माना जाता है। आपकी फिल्म वहां चुन ली गई। इसका मतलब है कि साल की बेहतरीन फिल्मों में आपकी फिल्म है। इससे फायदा होगा। हमारी (भारत) की फिल्मों को कभी उस तरह का दर्जा नहीं मिला। हमारी फिल्में सिर्फ हिंदुस्तानी दर्शकों के लिए बनती हैं। ऐसी फिल्म के बारे में पश्चिम की धारणा भी सीमित रही है। वे बॉलीवुड को ही पूरा इंडियन सिनेमा मान लेते हैं, जो कि है नहीं। तमिल और मराठी में जो फिल्में बन रही है उसे लोग देख ही नहीं पा रहे हैं। फेस्टिवल की एक मुख्य शर्त होती है कि फिल्म वहां के पहले कहीं देखी नहीं गई हो। मराठी और तमिल की बेहतरीन फिल्मों की जानकारी रिलीज के बाद मिलती है। कई बार वह भी नहीं मिलती। वे हम से बेहतर फिल्में बना रहे हैं। रास्ता खुलेगा उन लोगों के लिए भी।
- इस साल की भागीदारी तो अच्छी है?
0 इस साल तो बहुत ही अच्छा है। फिर भी कंपीटिशन में एक भी फिल्म नहीं है। याद नहीं कि आखिरी भारतीय फिल्म कब कंपीटिशन में गई थी। शायद एम एस सथ्यू की ‘गर्म हवा’ आखिरी फिल्म थी। वहां पहुंना जरूरी है। वहां पहुंचने पर ही हम फोड़ेंगे। अभी तक हम फोड़ नहीं पाए हैं। अभी हम अंदर घुसे हैं।
- क्यों नहीं पहुंच या फोड़ पा रहे हैं हमलोग?
0 हमलोग परवाह नहीं करते। हमारी सोच संगीर्ण हो गई है। हम यही सोच कर खुश होते हैं कि अपने दर्शकों के बीच फिल्म चल रही है न? तमिल सिनेमा को हिंदी में एक टिकट नहीं बेचना पड़ता। वे आत्मनिर्भर हैं। हिंदी सिनेमा हिंदुस्तान के बाहर की परवाह नहीं करता। बीच में हुआ भी तो एनआरआई के बारे में सोचा गया। हमें किसी कान या फेस्टिवल की जरूरत नहीं होती। इसका बुरा असर है कि हम ग्रो भी नहीं करते। कूपमंडूक बने हुए हैं। हम कंजरवेटिव और मौरिलिस्टिक फिल्में बनाते हैं। मुझे इसलिए जाने की जरूरी पड़ती है कि भारत के दर्शक मेरी फिल्म देख कर बोलते हैं कि अरे ये क्या बना दिया? इंडियन, डायस्पोरा तो और संकीर्ण है। वह तो भाग जाएगा। मेरा मार्केट मुझे मालूम है। वह फेस्टिवल के रास्ते से ही मिलेगा। उसका दाव चा - फेसिटव है। जब तक पुसूंग नहीं। तब तक कुछ मिलेगा ही नहीं।
- क्यों ऐसा हुआ है?
0 सच कहूं तो मेरी फिल्में यहीं के परिवेश की हैं। दर्शकों तक पहुंचती हैं तो वे पसंद भी करते हैं। समस्या एक्जीबिटर्स और डिस्ट्रिब्यूटर्स की है। उन्हें मेरी फिल्में यहां की नहीं लगतीं। मैं थोड़ा अलग काम कर रहा हूं। उन्हें लगता है कि मेरी फिल्मों का परिवशे हिंदुस्तानी नहीं है। वे मुझे स्पेस नहीं देते। मेरी फिल्में दर्शकों तक नहीं पहुंच पाती। आज ‘गुलाल’ के कितने प्रशंसक हैं? च्यादातर वे टीवी पर देखी हैं। थिएटर में लगी ही नहीं। डिस्ट्रिब्यूटर एक्जीविटर दीवार बन कर खड़ा है। उसका माइंडसेट बदलेगा। तभी सीनेरियो बदलेगा।
- गैंग्स ऑफ वासेपुर क्या है?
0 यह ठेठ हिंदुस्तानी फिल्म है। सच्ची कहानी है। यह धनबाद की कहानी है। माफिया की उत्पत्ति कैसे हुई। क्यों बना, क्या बना, क्या हाल है आज? लेकिन कहानी कहने के लिए डाक्यूमेंट्री नहीं बना सकता था। एक परिवार के जरिए कहानी कही है। एक परिवार की तीन पीढिय़ों की कहानी है। अगर यह वर्क करती है तो ऐसी और भी बहुत चीजें करने का मौका मिलेगा।
- फिल्म का ढांचा शुरू से ही तय था क्या?
0 मैंने तो पहले पूरी कहानी लिखी। इसे तीन हिस्सों में भी बना सकता था। 240 पन्नों की कहानी है। कहानी काटना नहीं चाहता था। कहानी काटकर ‘ब्लैक फ्रायडे’ में देख चुका था। दो हिस्सों में होने के बावजूद कहानी भागती है। लोगों ने कहा कि थोड़ी और लंबी होनी चाहिए थी। कहानी ठहरती नहीं, भागती है।
- भारत में इसकी रिलीज कैसे होगी? एक तो 22 जून को रिलीज होगी ़ ़ ़
0 दूसरे हिस्से का अभी तक नहीं किया है। भारतीय दर्शक एक साथ यह फिल्म नहीं देख सकेंगे। थिएटर वालों को लगता है कि साढे पांच घंटे की फिल्म कैसे लगाएंगे? दो इंटरवल दे तो भी पता नहीं दर्शक आएंगे या नहीं? दिन में दो ही शो दिखा पाएंगे? फिर टिकट का क्या होगा? अच्छी बात है कि दोनों इंपेपेंडेट फिल्म भी है। 80 प्रतिशत फिल्म पूरा हो जाती है। पहले और दूसरे हिस्से का अंत होता है। कहानी पकड़ेगी नहीं तो दूसरा पार्ट अगले दिन रिलीज होने पर भी दर्शक देखने नहीं जाएंगे। कहानी पकड़ लेगी तो एक-दो महीने का इंतजार भी चलेगा। ‘लॉर्ड ऑफ द रिंग्स’ तीन पार्ट में बनी थी और पूरी कहानी तीसरे पार्ट में आकर खत्म होती है। तीन साल में रिलीज हुई। इस फिल्म के तीनों पार्ट को लोगों ने देखा।
- वायकॉम 18 के आने से ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ को कितना लाभ हुआ?
0 वायकॉम 18 आगे नहीं आता तो फिल्म बन ही नहीं पाती। यह फिल्म और भी लोगों ने सुनी। सब घबराए हुए थे कि कैसी फिल्म होगी। दो पार्ट में है। स्टार नहीं है। महंगी भी है। वायकॉम ने यह सब नहीं देखा। उन्होंने कहानी सुनी। विश्वास जताया कि करते हैं। महंगी तो उन्हें भी लगी थी, लेकिन उन्होंने विश्वास किया। इसलिए फिल्म बन पाई। वायकॉम मेरे साथ जुड़ा रहा। यही नहीं ‘शैतान’, ‘येलो बूट्स’ और ‘अय्या’ भी बनाई। ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ भी बनाई मेरे साथ डिफिकल्ट फिल्में कीं।
- आप बार-बार महंगी फिल्में क्यों कह रहे हैं। इन दिनों जितनी भी फिल्में बन रहीं हैं। उनमें तो आप ऐसी दस फिल्में बना सकते हैं?
0 यह फिल्म मेरे हिसाब से महंगी है। मैंने अभी तक इतनी महंगी फिल्म नहीं बनाई। मार्केट के हिसाब से महंगी फिल्म नहीं है। ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ बीस करोड़ में बनी है। इन दिनों तो सौ-दो सौ करोड़ की भी फिल्में बन रही हैं। इसके पहले मेरी फिल्म ‘देव डी’ छह करोड़ की फिल्म थी।
- रिलीज की क्या प्लानिंग है?
0 हमलोग इसे मल्टीप्लेक्स और सिंगल स्क्रीन दोनों जगह रिलीज करेंगे। अभी तक यह मेरी सबसे बड़ी रिलीज होगी। मेरे ख्याल में लगभग हजार प्रिंट तो रिलीज होंगे ही।
- आपने कहा कि कान फिल्म फेस्टिवल जाने से आपकी फिल्म को नए खरीददार मिल सकते हैं। अभी क्या स्थिति है?
0 हमें एक इंटरनेशनल एजेंट मिला है - एलड्राइवर । हमलोग की कोशिश है कि पूरे यूरोप में बिके। इस फिल्म को लेकर हमलोग ऑस्ट्रेलिया भी जा रहे हैं। वहां  यह फिल्म कम्पीटिशन सेक्शन में है। यह फिल्म ऐसे-ऐसे मार्केट में जाएगी जो उन देशों के मेन स्ट्रीम मार्केट हैं। मैं सिर्फ इंडियन ड्रायस्पोरा पर निर्भर नहीं रहना चाहता हूं।
- इंटरनेशनल स्तर पर आज अनुराग कश्यप का एक पहचान है। मुझे मालूम है आपने कितने धैर्य, लगन और अपमान के बावजूद इस कोशिश में लगे रहे। हालांकि उपरी तौर पर लगता है कि आपने अपने लिए जगह बनाई है। लेकिन यह भी सच है कि आपके माध्यम से भारतीय सिनेमा और प्रतिभाएं वहां पहुंच रही हैं। आप भारत के प्रतिनिधि हो जाते हैं।
0 अभी एक झरोखा खुला है। यों समझिए कि बंबई की लोकल ट्रेन में किसी तरह चढऩे की जगह मिल गई है। अब ट्रेन चल रही है। विंडो सीट मिलना अभी बहुत दूर है। हां यह विश्वास है कि हमारी मेहनत का नतीजा बच्चों को मिलेगा। अगली पीढ़ी को मिलेगा। हमलोग जिस तरह का सिनेमा बना रहे हैं उससे यह उम्मीद बनती है कि हम इंटरनेशनल मंच पर रेगुलर दिखाई पड़ते रहेंगे। अगले दो-तीन सालों में हमें कम्पीटिशन सेक्शन में भी जगह मिलेगी।
- अनुराग कश्यप अब एक ब्रांड है। वह एक ऐसी खूंटी बन गए हैं जहां कोट के साथ लंगोट भी टंगे रहते हैं।
0 यह तो अच्छी बात है। यह आजादी अच्छी है। मेरी कोशिश रहेगी कि हर एक कोट के बाद दो लंगोट टंगे। मेरी यही शैली रहेगी। ‘वासेपुर’ के बाद एक ‘अगली’ बनाऊंगा और ‘मुंबई बेलवेट’ के बाद दो छोटी फिल्में बनाऊंगा। आपने सही कहा मैं हर एक डिजायनर कोट के बाद दो लंगोट टांगता रहूंगा। कोट में आदमी बहुत बंधा-बंधा रहता है। आजादी तो लंगोट में ही रहती है।
- ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ की संरचना, अवधारणा और प्रस्तुति के बारे में कुछ बताएं?
0 कल्की का नाटक चल रहा था। मैं बाहर बैठा हुआ था वहां दो लडक़े आए। उनमें एक जामियां का था। उन्होंने एक कहानी सनाई। वह बहुत ज्यादा ‘सिटी ऑफ गॉड’ जैसी थी। मैंने कहा भी कि क्या ‘सिटी ऑफ गॉड’  सुना रहे हो? उन्हें बुरी लगी मेरी बात। उन्होंने जोर देकर कहा कि नहीं सर, ऐसा होता है प्रूव करने के लिए वे जीशान चौधरी को लेकर आए। और पेपर कटिंग्स लाए। मुझे लगा कि वे सिनेमा देखते आए हैं। उन्होंने फार्मेट चुना और वैसे ही घटनाएं डाल दी। सुनने में लगता है कि कोई अलग फिल्म है? वे बार-बार कह रहे थे कि ऑस्कर जाएगी। उन्होंने न्यूज कटिंग्स दिखाई। मैंने कहा कि फिल्म तो इन कटिंग्स में है। वहां ओरिजनल फिल्म है। मैं गैगस्टर फिल्म क्यों बनाऊं। ‘सत्या’ हो गई। ‘ब्लैक फ्रायडे’ हो गई। बनाने का इच्छुक नहीं था। मुझे फिर भी वे लोग, वह जगह इंटरेस्टिंग लगी। मैंने जीशान को बोला तुम जाकर रिसर्च करो और पूरी कहानी लिख कर दो। उसने फिर 150 पन्नों का हिंदी में उपन्यास लिखा। उस उपन्यास पर मैंने स्क्रिप्ट लिखी। पूरी कहानी इतनी कमाल की है की है। सुल्ताना डाकू से शुरू होती है। सुल्ताना डाकू पर रिसर्च किया तो पता चला कि इसने तो अपने विलीब से लिखा है कि सुल्ताना डाकू वासेपुर का था। यह विलीब इसलिए है कि वासेपुर का हर आदमी मानता है कि सुल्ताना डाकू वहींं का था। रिसर्च कुछ और था। सुल्ताना डाकू का मिथ लिया - सुल्ताना डाकू के मिथ से वासेपुर की कहानी कही गई है। एक फैमिली में कहानी रखी। आज वे बड़े माफिया माने जाते हैं। छोटी से रायवेल्री कैसे बड़ी हो गई। कहां से बाहर का मिनिस्टर आया जो नेता था, जो यूनियन लीडर था। इनकी जो कहानी है, वह नया संसार रचती है। माफिया शब्द कहां से शुरू हुआ। हर माफिया फिल्म के साथ दिक्कत है कि वे केवल गोली भरते दिखाई पड़ते हैं। माफिया का नाम क्या है? उसका बिजनेश क्या है? उसे माफिया कहते क्यों है? फिर धीरे-धीरे समझ में आया।
    जहां भी इस तरह की समस्या शुरू हुई है। वह नैचुरल रिसोर्सेज से शुरू हुई है। आदमी को लगता है कि हमारी जमीन के नीचे कोयला है तो उस पर हमारा भी हक है। यह सरकारी कैसे हो गया? लोगों को लगता है कि गिने-चुने लोग ही इसका फायदा क्यों उठा रहे हैं। सब को फायदा क्यों नहीं हो रहा है? कानूनी  नहीं तो गैरकानूनी तरीके से वह चोरी करने लग गया। चोरी पकड़ी जाती है तो बचने के लिए चार चोर मिल जाते हैं। धीरे-धीरे यह माफिया का रूप ले लेता है। यहां से माफिया चालू हुआ। फिर यूनियन बना तो यूनियनबाजी होनी लगी। यूनियन का माफिया चलने लगा। उसे रोकने के लिए राष्ट्रीयकरण किया गया तो सरकारी माफिया बन गया। माफिया की धूरी बदलती गयी। मुझे लगा कि सिर्फ कोयले की कहानी कहूंगा तो बात नहीं बनेगी। इसलिए मैंने परिवार की कहानी चुनी। वे जब तक कोयले के धंधे में थे तब तक कहानी कोयले की है। फिर वह लोहे लक्कड़ और बालू के धंधे में गए। इस तरह हम माफिया को व्यापक रूप में देख सके। कोयला का खनन चालू हुआ तो कहानी कोयले तक रही। तब रेल गाड़ी आयी। जब नयी चीजें पुराने होने लगी तो माफिया ने भी अपना रंग-ढंग बदला। कबाड़ का ही बड़ा बिजनेश है। कबाड़ के धंधे में बहुत बड़ा फायदा है। रेल गाड़ी का कबाड़ बेचा जाता है तो बहुत आमदनी होती है। इन सारी घटनाओं की परिपेक्ष्य में बदले की कहानी भी चल रही है। बहुत सारी चीजें हमने जोड़ी भी। हर दस साल में एक नया विलेन खड़ा हो जाता है। हमने सारे विलेन को जोडक़र एक विलेन बना दिया। यह कहानी हीरो से नहीं चलकर विलेन से चलती है। उस भूमिका में तिग्मांशु धूलिया हैं। माफिया में बदले की इतनी प्लानिंग नहीं होती है। वे तो बस ताक में रहते हैं। वे थेथर लोग हैं। उन्हें जहां भी मौका मिलता है वहीं घुस कर गोली मार देते हैं। वहां ऐसे ही बदला लिया जाता है। उन्हें मौके का इंतजार रहता है। इसी इंतजार में मेरी कहानी आगे बढ़ती जाती है। वे लोग मौका खोज रहे हैं कि वह कब वापस धनबाद आए और हमलोग उसे निशाना बना दें। वहां जिस तरह से घटनाएं घटती हैं वैसे ही हमने कहानी लिखी है। हमने फिल्म का अप्रोच वैसा ही रखा है। आपको अचानक नहीं लगेगा कि कोई किरदार बहुत इंटेलिजेंट हो गया है। वे सब शुरू से इंटेलिजेंट नहीं हैं। ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ की कहानी इस तरह बुनी गयी।
    संगीत के लिए हमने तय किया था कि जमीन का म्यूजिक लेंगे। जमीन का म्यूजिक कई बार लोगों को बोरिंग भी लगता है। लोगों को लगता है कि आज कल के धिन चक धिन चक के जमाने में यह कौन सा म्यूजिक लेकर आ गए। हमने वहां की आवाजों, धुनों और संगीत को लेकर काम किया। ‘जिय हो बिहार के लाला’ का मुखड़ा ट्रेडिशनल है। अंतरे बाद में जोड़े गए। ‘तनि नाचि तनि घूमि सब के मन बहलाव रे भइया’ बाद में जोड़ा गया। हमने बहुत सारे गाने ऐसे ही उठाए हैं। उन्हें आज के संगीत और वाद्य से जोड़ा। उन्हें समकालीन बनाया।
    ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ फिल्म की कहानी बढऩे के साथ टेकनीक भी आधुनिक होती जाती है। हम लोगों ने क्लासिक तरीके से शुरू किया है। धीरे-धीरे सब कुछ कंटम्परेरी होता चला जाता है। बहुत सारी चीजें हमें छोडऩी पड़ी। फिल्म में जम्प है। फैमिली में जब कुछ नहीं हो रहा होता है तो कहानी सीधे जम्प मारती है। जो लोग वहां के भूगोल, राजनीति और इतिहास से परिचित हैं वे सभी किरदारों को पहचान लेंगे। कई किरदारों के हम लोगों ने नाम नहीं रखे हैं। उनकी केवल शक्ल मिलती है। जब धनबाद के लोग आराम से पहचान जाएंगे कि किसके साथ क्या हुआ था? हम लोगों ने सबके नाम बदल दिए हैं। अच्छे लोगों के नाम वही रहने दिए हैं। अच्छे आदमी को अच्छा-अच्छा दिखाओ तो कोई बुरा नहीं मानता।
फिल्म की कास्टिंग बहुत जबरदस्त रही। बंबई, बनारस, पटना, धनबाद आदि जगहों से भी कलाकार लिए गए। सरदार खान तो लिखते समय ही तय था कि मनोज बाजपेयी करेंगे। उन मनोज और मेरे बीच बातचीत बंद थी। मैंने फोन उठा कर सीधा घुमा दिया। मैंने पूछा एक्टिंग करोगे? मेरे पास एक रोल है। रात के ग्यारह बज रहे थे उस समय। वे उस समय मेरे पास आए। पूछा क्या पीते हो? मैंने कहा आज कल केवल रेड वाइन पीता हूं। रेड वाइन मंगवाई गई। रेड वाइन पीते हुए स्क्रिप्ट सुना और हां कह दिया। जिशान कादरी ने तो पहले से ही तय कर लिया था कि एक रोल मैं ही करूंगा। उसने डेफिनिट का कैरेक्टर किया है। बाकी कास्टटिंग मुकेश छाबड़ा ने किया। नवाज तो मेरे साथ पहले भी काम कर चुके हैं। बहुत ही उम्दा एक्टर है। इस फिल्म में लोग उनको तवज्जो देंंगे।
- इस फिल्म की शूटिंग आपने धनबाद में ही क्यों नहीं की?
0 जब रीयल घटनाओं पर कोई फिल्म बनाते हैं तो रीयल लोकेशन पर उसे शूट करने में दिक्कत होती है। लोकल सब की कहानी जानते रहते हैं। थोड़ा भी इधर-उधर हुआ तो हंगामा हो जाता है। बाहर शूट करने का फायदा यह है कि वहां के लोग कहानी और किरदारों से परिचित नहीं होते हैं। स्थानीय लोग हमेशा सब्जेक्टिव होते हैं। शूट करते समय पूछते रहेंगे कि यह कैरेक्टर कौन सा है? कुछ भी बेमेल लगा तो उन्हें आपत्ति होगी। कोई और नाम बता दो तो पूछेंगे कि इस नाम का कोई आदमी ही नहीं था। सही नाम बताओ तो सवाल होगा कि वो तो वैसा नहीं था। बहुत टेंशन रहता है। इसलिए अच्छा है कि ऐसी जगह फिल्म बनाओं जहां किसी को कुछ पता हीं न हो। हॉलीवुड में ऐसा ही करते हैं। ‘ब्लैक फ्रायडे’ के समय मैंने यह मुसीबत झेली थी। जब आरडीएक्स की लैंडिंग दिखा रहे थे तो पूरा गांव इक_ा हो गया था। पूछने लगा कि यह क्यों कर रहे हो? उन्होंने कहा कि आप करोगे बाद में पुलिस आकर हम से पूछेगी। दिक्कतों से बचने के लिए हमने ऐसा किया। धनबाद में हमने कोयला खदानों के अंदर शूटिंग की। वह भी हमने पांचवें-छठे दशक के सीन शूट किए। उस समय के लोग या उनके परिचित अब बचे नहीं हैं। बाहर के एक्सटीरियर सीन हमने धनबाद में लिए। झरिया में भी शूट किया। हमलोग सब जगह शूट करते गए। असल कहानी और ड्रामा दिखाने के लिए हम लोगों ने बनारस के आस पास की जगह चुनी। पहले का वासेपुर और धनबाद दिखाने के लिए हम लोगों ने मिलते-जुलते गांव चुने। शुरू में धनबाद और वासेपुर अलग-अलग थे। बाद में विकास होने पर दोनों गडमड हो गए। यह सब क्रिएट करना बड़ा मुश्किल काम था। फिल्म ढेर सारी जगहों पर शूट की गई।
- मीडिया और कुछ हलकों में ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ को लेकर यह शिकायत की जा रही है कि इसमें जिस तरह से गाली-ग्लौज और हिंसा दिखायी गई है उससे बिहार की छवि खराब होती है।
0 पहले लोगों की समस्या थी कि बिहार के विषय नहीं उठाए जाते। मुझे जो विषय और कहानी मिली मैंने उस पर फिल्म बनायी है। अब अगर ट्रेलर देख कर कोई जज करेगा तो फिर यह उनकी नजरों का धुंधलापन है। मैं अभी कुछ नहीं कहूंगा। वे लोग पिक्चर रिलीज होने का इंतजार करें। फिल्म देखें और फिर अपनी राय दें। अगर कोई कह रहा है कि बिहार में लव स्टोरी है या दूसरी तमाम चीजें हैं तो भोजपुरी फिल्में तो वह सब दिखा ही रही है। मैंने जिस तरह की फिल्म बंबई के बारे में या दिल्ली के बारे में बनाई है वैसी ही फिल्म बिहार के बारे में बनाई है। मैंने सारी जिंदगी जिस तरह की फिल्म बनाई है वैसी ही फिल्म बिहार पर भी बना रहा हूं। इस तरह से कहेंगे तो मैंने हिंदुस्तान को हमेशा निगेटिव इमेज में दिखाया है। इस तथ्य को आगे बढ़ाऊं तो ज्यादातर फिल्ममेकर अपने समाज की निगेटिव चीजें या बुराईयों को ही दिखाते हैं। पॉलिटिक्स में अगर फिल्म बनती है तो पॉलिटिक्स की बुराई होती है। ये सब कहने की बातें हैं। ऐसे लोगों से मुझे एक ही बात कहनी है कि अपनी दुनिया से जरा बाहर निकलिए। देखिए कि कैसी फिल्में बन रही हैं। समाज की पॉजिटिव चीजें दिखा-दिखा कर हिंदी सिनेमा ने दर्शकों की आंखों पर चश्मा चढ़ा दिया है उसे उतारने की जरूरत है। इस फिल्म में यही बात कही गयी है कि कैसे फिल्मों में अच्छी-अच्छी चीजों को दिखा कर दशकों से दर्शकों को बेवकूफ बनाया जा रहा है। हमारे आस पास जो हो रहा है या जो हो चुका है उसे भी दर्ज करना और आईना दिखाना जरूरी है। फिल्मकार के तौर पर मुझे इसी में इंट्रेस्ट है और मैं यही करता रहूंगा। अच्छी बातें तब करूंगा जब अच्छी बातें होंगी। आज बिहार में सब कुछ बदल रहा है। अच्छा हो रहा है। तो कल को अच्छा चित्रण भी होगा। हमें अच्छी कहानी मिलेगी तो अच्छी फिल्म बनाएंगे।