Search This Blog

Thursday, April 26, 2018

दरअसल : 725 पन्ने... 6 लुक... और संजय दत्त



दरअसल: 725 पन्ने... 6 लुक... और संजय दत्त


-अजय ब्रह्मात्मज

राजकुमार हिरानी इस दौर के बेहतरीन और संवेदनशील फिल्म डायरेक्टर हैं। अभी तक उनकी फ़िल्में मास्स और क्लास में एक सामान पसंद की जाती रही हैं। दर्शकों के हर तबके को उनकी फिल्मों से कुछ न कुछ मिलता है। उनका भी मकसद रहता है कि दर्शकों को मनोरंजन के साथ कुछ सन्देश भी मिले। अभी तक उनकी फ़िल्में अभिजात जोशी की मदद से काल्पनिक चरित्रों पर लिखी जाती रही हैं। ऐसी फिल्मों में चरित्र निर्देशक के नियंत्रण में रहते हैं। वे उन्हें अपने हिसाब से चरित्रों को नयी परिस्थितियों में डाल कर सोचे हुए निष्कर्ष तक ले जा सकते हैं। हिरानी अपने किरदारों को दर्शकों के बीच प्रिय बनाने में सफल रहे हैं। पडोसी देश चीन के दर्शक भी उन्हें पसंद करने लगे हैं। आमिर खान के साथ हिरानी की फ़िल्में भी चीन में खूब चली हैं। इस बार वह अपनी सफलता की लकीर छोड़ कर एक नयी रह पर चले हैं , मुन्नाभाई सीरीज की तैयारियों के दौरान संजय दत्त से हो रही बातचीत में उन्हें उनकी ज़िन्दगी किसी फिल्म की कहानी के उपयुक्त लगी। संजय दत्त को हम सभी उनकी प्रचलित छवि के अनुसार जानते हैं। हिरानी को संजय दत्त ने अनसुनी घटनाएं बतायीं।  उन घटनाओं ने ही हिरानी को उनकी ज़िन्दगी पर बायोपिक के लिए प्रेरित किया।
हिंदी फिल्मों के इतिहास में फ़िल्मी हस्तियों और फिल्म संसार पर काम फ़िल्में बानी हैं।  श्याम बेनेगल की 'भूमिका ' इस लिहाज से उल्लेखनीय फिल्म है। काफी समय से साहिर लुधियानवी की ज़िन्दगी पर फिल्म की बात चल रही है,लेकिन अभी तक वह शुरू नहीं हो पायी है। किशोर कुआं पर फिल्म बनाने की असफल कोशिशें हुई हैं। संयोग से किशोर कुमार की भूमिका के लिए भी रणबीर कपूर ही विचाराधीन थे। किसी जीवित फ़िल्मी हस्ती पर फीचर फिल्म का यह पहला वाक्य है। सब यही सोच रहे हैं कि हिरानी ऐसा क्या दिखाएंगे? कुछ आलोचक इसे संजय दत्त की 'इमेज बिल्डिंग' के तौर पर भी देख रहे हैं। फिल्म की सच्चाई और गहराई तो फिल्म देखने के बाद ही पता चलेगी। फिर भी हम हिरानी से यह उम्मीद तो कर ही सकते हैं कि वे प्रचलित और परिचित छवि के पार जायेंगे और संजय दत्त के सही व्यक्तित्व को पेश करेंगे।
इतिहासकार और जीवनीकार की प्रक्रिया लगभग एक जैसी होती है।  वह उपलब्ध तथ्यों के आधार पर किसी कल या व्यक्ति की विवेचना करता है। अपनी पसंद और विचारधारा के मुताबिक वह तथ्यों को छोड़ता या इस्तेमाल करता है। अभिजात जोशी के मुताबिक संजजे दत्त का नरेशन 725 पृष्ठों में लिखा गया है। जाहिर सी बात है की इसमें उनके जीवन की छोटी-बड़ी हर तरह की बातें होंगी। राजकुमार हिरानी और अभिजात जोशी ने अपने समझ और सोच से निश्चित अवधी की पटकथा लिखने में 725 पृष्ठों में से अधिकांश छोड़ दिया होगा। सवाल यह है की उनहोंने जो छोड़ा उनमें भी तो संजय दत्त के जीवन के पहलू होंगे। मुमकिन है उन अज्ञात तथ्यों से संजय दत्त की कोई और छवि बने। फिल्म के रूप में हम वही देखेंगे,जो हिरानी दिखाएंगे।  वस्तुनिष्ठ होने के बावजूद यह व्यक्तिनिष्ठ बायोपिक होगी। यह भी जानकारी मिली है कि संजय दत्त ने हिरानी को खुली छूट दी है। उन्हें ऐतबार है कि हिरानी उनके साथ न्याय करेंगे , वे तो इसी बात से खुश हैं की उनकी ज़िन्दगी फिल्म के लायक समझी गयी।
हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में पिछले 115 सालों में ऐसे अनेक कलाकार और तकनीशियन रहे हैं,जिनकी ज़िन्दगी बायोपिक फिल्म के काबिल है। 'संजू' की कामयाबी हिंदी फिल्मकारों को फिल्मों का नया विषय दे सकती है। 'संजू' के टीजर से आम दर्शकों को लुभाने के लिए 308 गर्ल फ्रेंड जैसे संवाद दिए गए हैं। एक कलाकार की ज़िन्दगी में में सिर्फ प्रेम और रोमांस ही नहीं होता। अपनी क्रिएटिव छटपटाहट के साथ वह एक पारिवारिक व्यक्ति और नागरिक भी होता है। अगर वह अपने समय के प्रतिनिधि के तौर पर विरोधाभासों के साथ परदे पर आये और कुछ सकारात्मक अंत को पहुंचे तभी बायोपिक का प्रयास सफल मन जायेगा।

 

Sunday, April 22, 2018

फिल्म लॉन्ड्री : पोस्‍टर ही पहली झलक हैं फिल्‍म की


फिल्म लॉन्ड्री : पोस्‍टर ही पहली झलक हैं फिल्‍म की

-अजय ब्रह्मात्‍मज

सोशल मीडिया के इस दौर में सारी सूचनाएं रियल टाइम(तत्‍क्षण)  में प्रसारित और ग्रहण की जा रही हैं। इस प्रभाव में फिल्‍म के प्रचार के स्‍वरूप में भी बदलाव आया है। फिल्‍मों के पोस्‍टर प्रचार के मूल साधन हैं। डिजिटल युग आ चुका है। प्रचार भी वर्चुअल स्‍पेस में उपयुक्‍त स्‍थान खोज रहा है। अभी यह ठोस रूप से निर्धारित नहीं हो सका है। संक्रांति के इस समय में संभावनाओं और तरीकों के ऊहापोह में ही नई प्रविधियां आकार ले रही हैं। किसी नई प्रविधि की चलन के प्रचलन बनने के पहले ही कुछ नया हो जा रहा है। पोस्‍टर को ही ‘फर्स्‍ट लुक’ का नाम दे दिया गया है। लोकप्रिय स्‍टार की महंगी फिल्‍म हो तो देश के प्रमुख अखबारों के साथ सोशल मीडिया पर ‘फर्स्‍ट लुक’ जारी किए जा रहे हैं। मझोली या छोटी फिल्‍म हो तो खर्च बचाने और पहुंच बढ़ाने के लिए धड़ल्‍ले से सोशल मीडिया का इस्‍तेमाल हो रहा है। हमदर्द,प्रशंसक और पत्रकार उन्‍हें शेयर करते हैं। उक्‍त फिल्‍म से संबंधित हैशटैग ट्रेंड होने लगता है। निर्माता खुश होता है कि उसकी फिल्‍म का ‘फर्स्‍ट लुक’ ट्रेंड हो रहा है। किसी भी फिल्‍म के लिए दर्शकों के बीच यह पहली फतह होती है। सोशल मीडिया पर ट्रेंड का पताका फहराने के बाद आगे की रणनीतियां तय की जाती हैं। यहां नोट कर लें कि हिंदी फिल्‍मों के ‘फर्स्‍ट लुक’ अंग्रेजी(रामन लिपि में हिंदी शीर्षक) में ही जारी किए जाते हैं। भाषा की इस भेदनीति और समझ पर आगे हम संक्षिप्‍त चर्चा करेंगे।

पहले अतीत में लौटते हैं। 1913 में दादा साहेब फालके ने पहली भारतीय फिल्‍म ‘राजा हरिश्‍चंद्र’ का निर्माण और निर्देशन किया। इस फिल्‍म का पोस्‍टर खोजें तो एक विज्ञापन मिलता है,जिसमें फिल्‍म के प्रदर्शन की सूचना है। डेढ़ घंटे के इस शो में डांसर,जग्‍लर और कॉमेडियन भी मौजूद थे। रोजाना चार शो के इस प्रदर्शन में दोगुना प्रवेश शुल्‍क लिया गया था। तब अखबारों में विज्ञापन के साथ हैंडबिल बांटे जाते थे। दर्शकों तक पहुंचने का यही साधन था। ों  ण से लेकर आरंभिक ुल्‍क बहरहाल,मूक फिल्‍मों के निर्माण से लेकर टॉकी फिल्‍मों के शुरूआती दिनों त‍क फिल्‍मों के पोस्‍टर हाथों से पेंट किए जाने लगे थे। उन्‍हें प्रिंट कर सिनेमाघरों,प्रदर्शन स्‍थलों और शहर के प्रमुख स्‍थानों पर चिपका दिया जाता था। धरोहरों के संरक्षण के प्रति लापरवाह भारतीय समाज में तीसरे दशक के आरंभ से शुरू हुए हाथों से पेंट किए पोस्‍टर नहीं मिलते। सबसे पुराना पोस्‍टर 1924 की मराठी फिल्‍म ‘कल्‍याण खजीना’ का मिला है। इस फिल्‍म के निर्देशक बाबूराव पेंटर थे। उउनका पूरा नाम बाबूराव कृष्‍णराव मिस्‍त्री था। वे थिएटर कंपनियों के लिए सीन पेंट किया करते थे,इसलिए उनका उपनाम पेंटर पड़ गया। बाबूराव पेंटर देश के पहले निर्देशक थे,जिन्‍होंने फिल्‍मों के पोस्‍टर की जरूरत को समझा। उनके देखादेखी दूसरे निर्माता-निर्देशकों ने भी पोस्‍टर के महत्‍व और प्रभाव को समझते हुए हाथ से पेंट किए पोस्‍टर अपनाए। फिल्‍मों के प्रचार का यही मुख्‍य तरीका बना। कालांतर में हिंदी सिनेमा के स्‍वर्णकाल में हाथों से पेंट किए पोस्‍टर का चलन मजबूत हुआ। आज भी कमोबेश पोस्‍टर छपते हैं। हां,अब वे हाथ से पेंट नहीं होते। उन्‍हें डिजिटिल से परिष्‍कृत किया जाता है। फोटोशॉप और स्‍पेशन इफेक्‍ट से मनचाही छवि क्रिएट की जाती है। अब यह अधिक रंगीन,मनोहारी और आकर्षक हो गया है। फिर भी पुराने पोस्‍टरों का विंटेज महत्‍व है। फिल्‍मप्रेमी,कला संग्रहालय,फिल्‍म इतिहासकार,संग्रहालय और इंटीरियर डेकोरेटर के बीच पुराने पोस्‍टर की मांग बढ़ गई है। इनके अलावा ये किसी भी फिल्‍म में पीरियड बताने की निश्चित छवि के रूप में काम आते हैं। आज की किसी फिल्‍म में अगर दीवारों पर ‘शोले’ के पोस्‍टर दिखें तो दर्शक बगैर बताए ही समझ जाते हैं कि 1975 के आसपास की घटनाएं और किरदार हैं।

हाथों से पेंट किए पोस्‍टर में रंग चटख,नैन-नक्‍श धारदार,फिल्‍म के प्रमुख किरदार और हिंदी,उर्दू व अंग्रेजी में फिल्‍मों के नाम होते थे। फिल्‍मों के नाम लिखने की टाइपोग्राफी में 3डी तकनीक अपनायी जाती थी,ताकि दूर से भी अलग-अलग कोणों से फिल्‍म का नाम पढ़ा जा सके। कोशिश रहती थी कि पोस्‍टर के बीस-तीस प्रतिशत हिस्‍से में ही कुछ लिखा जाए। बाकी 70-80 प्रतिशत हिस्‍से में फिल्‍म के किसी दृश्‍य से निकाला गया क्‍लोज अप हो। हाथें से पेंट करने वाले आर्टिस्‍ट किसी एक स्‍कूल या खास ट्रेंनिंग लेकर नहीं आते थे,इसलिए उनके बनाए पोस्‍टरों में कल्‍पना और सोच की विविधता रहती थी। अपने समय में या बाद में मशहूर हुए चित्रकारों ने भी फिल्‍म पोस्‍टर बनाए। ूकबूल फिदा हुसैन के पोस्‍टर प्रेम के बारे में हम सभी जानते हैं। अफसोस की बात है कि इन पेंटरों पर कभी कोई किताब नहीं लिखी गई और न हिंदी फिल्‍म के इतिहास में उनके योगदान का उल्‍लेख किया गया। इदो बाउमन और राजेश देवराज ने ‘ द आर्ट ऑफ बालीवुड’ में कुछ पेंटरों और पोस्‍टरों के हवाले से हिंदी फिल्‍मों की इस विचित्र मगर रोचक परंपरा के बारे में लिखा है। उनके मुताबिक हालीवुड में फिल्‍मकार जल्‍दी ही पेंट की जगह फोटोग्राफिक छवियों का इस्‍तेमाल करले लगे थे। हिंदी फिल्‍मों में यह सिलसिला लंबा चला। दूसरी खास बात यह भी रही कि स्‍थानीय स्‍तर पर पोस्‍टर पेंट किए जाने से एक ही फिल्‍म की अलग-अलग छवियां बनीं। दर्जनों पोस्‍टर बनते थे। उन्‍हें अलग भंगिमा दी जाती थी। नौवे दशक मं तो उत्‍त्‍र भारत में पोस्‍टरों में हीरो के हाथ में बंदूक थमा दी जाती थी। उसके होठों और ललाट से खून टपकना जरूरी होता था। तीन साल पहले अपने कस्‍बे वीरपुर में मुझे स्‍थानीय सिनेमाघर के मालिक ने बताया था कि जिन पोस्‍टरों में खून नहीं होता,उनमें वे गाढ़ा लाल रंग हीरो के चेहरे से टपका देते हैं। भले ही फिल्‍म में एक भी खूनी द(श्‍य न हो। एक बार कुछ दर्शकों ने फिल्‍म में हिंसा और खून के दृश्‍य नहीं होने पर मैनेजर को रगेद दिया था। दुर्भाग्‍य ही है कि ऐसे यूनिक पोस्‍टर के संरक्षण और रखरखाव पर किसी ने ध्‍यान नहीं दिया। बाबूराव पेटर,मकबूल फिदा हुसैन से लेकर नौवें दशक तक सक्रिय रहे गुमनाम पेंटरों ने ही हिंदी फिल्‍मों के इतिहास को हाथ से पेंट किए पोस्‍टरों के जरिए जीवित और संरक्षित किया। ये सभी निजी अभ्‍यास से इस विधा में पारंगत हुए। आजादी के पहले की हिंदी फिल्‍मों के पोस्‍टर अप्राप्‍य हो गए हैं। हाथों से पेंट किए पोस्‍टर की छवियों या कागज पर छपे पोस्‍टर मिल जाते हैं,लेकिन मूल कैनवास गुम हो गए।

डिजिटल युग में पोस्‍अर और पोस्‍टर की छवियां तेजी से बदली हैं। कंप्‍यूटरजनित छवियों ने कल्‍पना को नई उड़ान दी है। अब राहुल नंदा जैसे डिजायनर अपने स्‍टूडियो में इंटरनेशनल स्‍तर के पोस्‍टर डिजायन कर सकते हैं। इन दिनों मूविंग पोस्‍टर का भी चलन बढ़ा है। इसमें 10 से 30 सेंकेंड में फिल्‍म का पूरा पोस्‍टर टायटल और छवियों के साथ नमूदार होता है। कंप्‍यूटर के प्रयोग ने कुछ सीमाएं भी क्रिएट की हैं। इन दिनों फिल्‍में के पोस्‍टर हिंदी में कम दिखते हैं। इसकी एक व्‍यावहारिक दिक्‍क्‍त है कि अंग्रेजी की तरह हिंदी में भिन्‍न्‍-भिन्‍न्‍ फांठ उपलब्‍ध नहीं हैं। जल्‍दीबाजी में अंतिम समय में फायनल किए जा रहे पोस्‍टर के लिए अंग्रेजी टायटल से मिलते-जुलते फांट में हिंदी में नाम लिख पाना मुमकिन नहीं होता। इस व्‍यावहारिक दिक्‍कत के साथ लापरवाही और ओढ़ी गई भेदनीति भी है। माना जाता है कि अंग्रेजी में पोस्‍टर लाने से सोशल मीडिया के अधिकांश यूजर उसे समझ लेते हैं। यह धारणा के साथ सच्‍चाई भी है कि सोशल मीडिया पर अंग्रेजी यूजर ही अधिक हैं। साथ ही हिंदीभाषी भी सोशल मीडिया पर अंग्रेजी में सहज और सुघड़ रहता है। स्‍मार्ट फोन में हिदी की उपलब्‍धता और सुविधा नहीं होने से वह अंग्रेजी पढ़ने और समझने का अभ्‍यस्‍त हो जाता है। पिछले कुुछ सालों से हिंदी में पोस्‍टर लाने की ललकार लगाने से कुछ निर्माता और निर्देशकों ने भले ही थोड़ी देरी से लेकिन हिंदी में पोस्‍टर लाने पर ध्‍यान दिया है। 

पुन:श्‍च :

रितिक रोशन की फिल्‍म ‘कृष’ आने वाली थी। उनके पिता और फिल्‍म के निर्माता-निर्देशक वितरकों से मिल रहे थे। मुझे याद है छत्‍तीसगढ़ से आए वितरक ने उनसे आग्रह किया कि पोस्‍टर पर हिंदी में ‘कृष’ लिखवा दें। राकेश रोशन ने मुस्‍कराते और समझााते हुए कहा कि पोस्‍टर पर रितिक रोशन की दो-दो छवियां(मास्‍क रहित और मास्‍क सहित) हैं। दर्शक तो पहचान ही लेंगे। फिल्‍म की इतनी चर्चा है कि वे समझ ही जाएंगे कि यह  ‘कृष’ ही है। छत्‍तीसगढ़ से आए वितरक ने उनकी बात ध्‍यान से सुनने के बाद इतना ही जोडा़ कि आप नहीं लिखेंगे तो हम वहां पोस्‍टर पर नील से ‘कृष’ लिख देंगे।

Saturday, April 21, 2018

दरअसल : फालके अवार्ड से सम्मानित विनोद खन्ना

दरअसल  ... 
फालके अवार्ड से सम्मानित विनोद खन्ना
-अजय ब्रह्मात्मज

मनमोहन देसाई की फिल्म 'अमर अकबर एंथोनी' की रिलीज के समय अमिताभ बच्चन और विनोद खन्ना अपनी लोकप्रियता के चरम पर थे। दोनों के प्रशंसक अपने प्रिय अभिनेताओं के समर्थन में सिनेमाघर में सिटी और तालियां बजाया करते थे। मुझे याद है दरभंगा के उमा सिनेमाघर में लगी इस फिल्म को देखने के लिए मारामारी थी। टिकट खिड़की पर एक-दूसरे पर चढ़ते और फांदते लोगों की भीड़ देख कर मन घबरा गया था।  मैं अपनी साइकिल मोड़ने ही वाला था कि शरद दिख गया। टिकट लहरा कर उसने पास बुलाया। चिरौरी करने पर वह एक टिकट देने के लिए राजी हो गया। दरअसल,वह पॉपुलर फिल्मों के एक्स्ट्रा टिकट खरीद कर ब्लैक कर कुछ कमाई कर लेता था। फिल्म शुरू होने पर हम एक-दूसरे के मुकाबले में बैठ गए। वह अमिताभ बच्चन का प्रशंसक था और मैं विनोद खन्ना का.... दोनों भिड़ गए।  फिल्म के एक सीन में अमिताभ बच्चन और विनोद खन्ना के बीच लड़ाई होती है।  वह अमिताभ बच्चन की जीत की घोषणा कर चुका था और मैं नहीं चाहता था कि विनोद खन्ना हारें। मनमोहन देसाई ने हमारे जैसे सभी प्रशंसक दर्शकों का ख्याल रखा और दोनों को एक साथ चित कर दिया। मल्टीस्टारर फिल्मों के उस दौर में निर्देशक ऐसी युक्तियों से किसी भी प्रशंसक दर्शक को दुखी नहीं करते थे।
बहरहाल,हम अभिनेता विनोद खन्ना की बात करें।  हिंदी फिल्मों के आला अभिनेता विनोद खन्ना अपने करियर के एक पड़ाव पर आकर ग्लैमर और प्रसिद्धि की दुनिया से विरक्त हो गए थे।  बात बहुत पुरानी है...उनकी माँ का निधन हुआ था। अंतिम संस्कार के लिए श्मशान गए विनोद खन्ना तब बेहद दुखी और क़तर हुए जब किसी प्रशंसक शोक के उस माहौल में उंडे संवाद सुनाने के लिए कहा।  उन्होंने तब उस प्रशंसक की बात मान ली थी,लेकिन उन्हें अपनी लोकप्रियता की तुच्छता समझ में आ गयी थी।  इसके साथ ही पवित्र मन के विनोद खन्ना उस दौर में चल रही छल-कपट और साजिशों से खिन्न रहने लगे थे। अमिताभ बच्चन उनके निकटतम  प्रतिद्वंदी थे।  ऐसा कहते हैं कि उनसे जूझ पाने में वह खुद को असमर्थ महसूस कर रहे थे। निराशा और खिन्नता के इस वक़्त में महेश भट्ट ने उनका परिचय आचार्य रजनीश से करवा दिया।  विनोद खन्ना को राहत मिली और अध्यात्म्‍िाक सुकून के लिए उन्होंने एक दिन फिल्म इंडस्ट्री छोड़ने का फैसला कर लिया। तब उन्होंने कहा था कि मैं अपने विरोधियों की तरह साजिशें नहीं रच सकता। वे संकीर्ण,खतरनाक और चालबाज़ हैं। विनोद खन्ना ने किसी का नाम नहीं लिया था,फिर भी सब स्‍पष्‍ट था। यह भी विडंबना है की जिस महेश भट्ट ने विनोद खन्ना का परिचय आचार्य रजनीश से करवाया वे स्वयं उनकी माला कमोड में फ्लश कर फिल्मों में लौट आये।  विनोद खन्ना रजनीश के साथ अमेरिका गए।  मोहभंग के बाद जब वे फ़िल्मी दुनिया में लौटे तो समय बदल चुका था। उन्हें फ़िल्में तो मिलीं,लेकिन पुराणी लोकप्रियता हासिल नहीं हो सकी। फिर वे राजनीति में गए।
इस बार दादा साहेब फाल्के अवार्ड से विनोद खन्ना सम्मानित हुए। सिनेमा के क्षेत्र में यह देश का सबसे बड़ा सम्मान है,जो किसी भी कलाकार,फिल्मकार या फिल्म माधयम से जुड़े किसी व्यक्ति के योगदान के लिए दिया जाता है। निस्संदेह विनोद खन्ना हिंदी फिल्मों के लोकप्रिय अभिनेता रहे। उन्होंने कई दशकों तक दर्शकों का मनोरंजन किया। यह सवाल ज़रूर उठा कि उन्हें ही क्यों? कई वरिष्ठ कलाकार और फ़िल्मकार इस अवार्ड की योग्यता रखते हैं। इस तरह के सवाल हर साल उठाते हैं। बहुभाषी भारत देश की हर भाषा में ऐसे फ़िल्मकार हैं,जिनके योगदान को रेखांकित करने की ज़रुरत है। अभी तक यह अवार्ड हर साल किसी एक व्यक्ति को ही दिया जाता है। अगर इस अवार्ड की संख्या बढ़ाई जाये तो दिवंगत और सक्रिय पुराधाओं का सम्मान हो पायेगा। बेहतर तो यही होगा कि यह जीवित व्यक्तियों को दिया जाये। मरणोपरांत अवार्ड से अलंकृत करने में दिक्कत नहीं है। इसे जारी रखा जा सकता है। एक दिवंगत और एक जीवित की दो श्रेणियां बनायीं जा सकती हैं और योग्‍य कलाकारों को सम्‍मानित किया जा सकता है।