Search This Blog

Wednesday, April 19, 2017

रोज़ाना : अशांत सुशांत



रोज़ाना
अशांत सुशांत
-अजय ब्रह्मात्‍मज
दिनेश विजन की फिल्‍म राब्‍ता के ट्रेलर लांच पर सुशांत सिंह राजपूत और फिल्‍म पत्रकार भारती प्रधान के बीच हुई झड़प के मामले में सोशल मीडिया और मीडिया दो पलड़ों में आ गया है। सुशांत का पलड़ा भारी है। फैंस और मीडिया फैंस उनके समर्थन में उतर आए हैं। ऐसा लग रहा है कि गलती भारती प्रधान से ही हुई। अगर उस लांच के वीडियों को गौर से देखें तो पूरी स्थिति स्‍पष्‍ट होगी।
हुआ यों कि सवाल-जवाब के बीच एक टीवी पत्रकार ने कुलभूषण जाधव के बारे में सवाल पूछा,जिन्‍हे कथित जासूसी के अपराध में पाकिस्‍तान ने फांसी की सजा सुनाई है। इस सवाल को सुनते ही थोड़ी देर के लिए खामोशी छा गई। फिर कृति सैनन ने निर्देशक दिनेश विजन का फुसफुसाकर सुझााया कि इस सवाल का जवाब नहीं दिया जाएं। दिनेश विजन ने कहा कि अभी हमलोग इस पर बातें ना करें। सवालों का सिलसिला आगे बढ़ गया। मंच के ठीक सामने बैठी सीनियर भारती प्रधान को यह बात नागवार गुजरी। उन्‍होंने खड़े होकर सवाल किया कि राष्‍ट्रीय महत्‍व के इस सवाल से कैसे बच सकते हैं? मौजूद फिल्‍म स्‍टारों का इसका जवाब देना चाहिए। सुशांत ने कमान संभाली और जवाब नहीं देने के तर्क देने लगे। वही घिसा-पिटा जवाब कि हमें इस विषय की पूरी जानकारी नहीं है। भारती प्रधान ने फिर से जोर दिया तो सुशांत बिफर गए। शब्‍दों को चबाते हुए उन्‍होंने भारती से पूछा कि क्‍या आप राष्‍ट्रीय मुद्दों के सभी सवालों के उत्‍तर दे सकती हैं? सामान्‍य बातचीत अभद्र और एकतरफा हो गई। टी सीरिज के भूषण कुमार ने मामले की नजाकत को समझा और उन्‍होंने सुशांत को शांत किया।
सवाल ही कि पहली बार ही फिल्‍म स्‍टार और निर्देशक कह देते कि हम इस मुद्दे पर नहीं बोलना चाहते या हमें सही जानकारी नहीं है। वैसे देश के जागरूक नागरिक और एक्‍टर होने के नाते उनसे अपेक्षा की जाती है कि वे सभी समसामयिक घटनाओं से वाकिफ रहें। ऐसे इवेंट में ही पत्रकारों को गैरफिल्‍मी जरूरी मुद्ददों पर सवाल करने के मौके मिलते हैं। बच्‍चन और खान जैसे अनुभवी स्‍टार सवालों को ढंग से डील कर लेते हैं। नए स्‍टार अहंकार और स्‍टारडम के नशे में जरूरी सवालों का मजाक बनाते हैं और उन्‍हें टालते हैं। सुशांत को अशांत होने की जरूरत नहीं थी।  

5 comments:

Unknown said...
This comment has been removed by the author.
Shashank Kandwal said...
This comment has been removed by the author.
Anonymous said...

Hello Sir,main bhi is news k baare kuch kehna chahunga.

Ashaant utawali media(some of them)

Jb Mr.Rajput ne explain kr diya tha ki unhe iss issue k bare me zyada jankaari nhi h,to phir bhi Mrs.Pradhan ko kya zarurat thi ki" jawaab do,dete kyun ni".Agar Mr.Rajput,issue k baare me kum jankaari hote hue, kuch galat bol dete,to aap sare reporters milke unko sunaate.To sawaal ye uthta h ki media bollywood actors se national muddon pe kuch na kuch tippani lene k liye kyun utawali rehti h?
Aap ko bhi pata h ki news reporters ek hi press conference me alag alag muddon k sare sawaal puch daaltile hn.Phir unhi sawaal aur jawaab ko bari bari alag alag din pure hafte show krti h,jisse unke pass content rhe.Kyunki sach me unke pass kuch valuable content rehta to hai nhi.Main sb reporters k bare me nhi bol rha par zyadatar aise hi hn.

Jb aap apni convienience k hisaab se sawaal puch skte hn to bollywood fraternity ka bhi hakk h ki wo apni convienience se kisi sawaal ka jawab de ya nhi.Arre jb unhe nhi pata to zabardasti halla machane ki kya zarurat h ki aapko bolna chahiye,sb expect krte hn aapse ek tippani.Sach me common people ya audience ko koi aag nhi lagi h ki celebrities har national mudde pe tippani de.Bas media ko news byte bnane k liye unse puchna hota h,aur ye aap bhi jante hn.Newspaper k second last yar third last page me daalna hota h ki "Sushant ne kaha ki wo cheez galat h".Sbko pata h wo galat h, par aapko ek chota column bnana h jisme star ne wahi ghisi piti baat khi ho.

Media hamesha hr cheez k liye utawali hoti h jaise us star couple ka newborn baby hua h.Chahe na ti couple itne khush aur excited ho aur na hi audiebce jo unki films dekhte hn.Hme sach me nhi janna aur main sb k liye bol ra hun ki stars kya krre the us raat club me ya phir unke ghar me pani kyun ni aa rha.Seriously hr cheez aur comment ki news bnana band kr dijiye,audience ko film industry k saath saath media se bhi kuch fresh,interesting aur sbse important responsible content chahiye.

Mujhe pata h aap bhaasha par bohot dhyaan dete hn aur kuch idhar udhar ho to apko bura lagta h.Ye language thodi whatsapp wali h kyunki hm naujawan aajkl isi ka upyog krte hn.Oh sorry I'm sounding like you.Koi spelling mistake ho to sorry.Aur haan meri koi baat bekaar ya buri lgi ho to main bura nhi manaunga kyun aapki kuch baaten bhi mujhe 'same'lgi thi.

Thank you

Anonymous said...

Pata h kuch galti se spelling mistakes ho gyi ex. Convenience.Koi baat ni aap bhi krte ho.

ajay brahmatmaj said...

anoonymous hokar comment karne ka koi matlab nahin banta.