Search This Blog

Saturday, November 30, 2013

आर...राजकुमार के गाने



आर...राजकुमार

1

Gandi Baat

 

Ho.. beedi peeke nukkad pe
Wait tera kiya re
Khali pili attharah cup
Chay bhi to piya re (Repeat once)
Raja beta banke maine
Jab sharafat dikhayi
Toone bola hat mavali
Bhaav nahi diya re
ABCD padh li bahut
Thandi aaheein bhar li bahut
Achchi baatein kar li bahut
Ab karunga tere saath..
Gandi baat..
Gandi gandi, gandi gandi, gandi baat..(Repeat 3 times)
Aise kyun kyun kyun
Karta tu tu tu
Munh pe thu thu thu pyar me
Jab se hu hu hu
Laila ki ki ki
Into to to to pyar me
Aise kyun kyun kyun
Karti tu tu tu
Munh pe thu thu thu pyaar mein
Jab se hu hu hu
Majnu ka ka ka
Into to to to pyar mein
ABCD padhali bohot
Thandi aahein bhar li bahut
Acchi baatein karli bahut
Ab karungi tere saath
Gandi baat…
Gandi gandi gandi gandi gandi baat.. (Repeat 3 times)
Gul badan, dan dan dan
Deal done done done..
One to one one one ho gaya..
Mooh se kya kya kya
Bol na na na..
Man to man man man ho gaya..
Dikhne mein thi tu kadak
Dheere dheere pighli bahut
Acchi baatein karli bahut
Ab karunga tere saath
Gandi baat..
Gandi gandi, gandi gandi, gandi baat..(Repeat 3 times)



Lyrics: Gandi Baat – Rambo Rajkumar Song
Music Director: Pritam Chakraborty
Lyrics: Anupam Amod
Singer: Kalpana Patowary, Mika Singh



1
गंदी बात

हो.. बीड़ी पीके नुक्कड़ पे
वेट तेरा किया रे
खाली पीली अट्ठारह कप
चाय भी तो पिया रे (रिपीट वन्स)
राजा बेटा बनके मैने
जब शराफ़त दिखाई
तूने बोला हट मवाली
भाव नही दिया रे
एबीसीडी पढ़ ली बहुत
ठंडी आहें भर ली बहुत
अच्छी बातें कर ली बहुत
अब करूँगा तेरे साथ..
गंदी बात..
गंदी गंदी, गंदी गंदी, गंदी बात..(रिपीट 3 टाइम्स)
ऐसे क्यूँ क्यूँ क्यूँ
करता तू तू तू
मुँह पे थू थू थू  प्यार मे
जब से हू हू हू
लैला की की की
इंटो तो तो तो प्यार मे
ऐसे क्यूँ क्यूँ क्यूँ
करती तू तू तू
मुँह पे थू थू थू प्यार में
जब से हू हू हू
मजनू का का का
इंटो तो तो तो प्यार में
एबीसीडी पढ़ ली बहुत
ठंडी आहें भर ली बहुत
अच्‍छी बातें करली बहुत
अब करूँगी तेरे साथ
गंदी बात
गंदी गंदी गंदी गंदी गंदी बात.. (रिपीट 3 टाइम्स)
गुल बदन, दान दन दन
डील डन डन डन..
वन तो वन वन वन हो गया..
मूह से क्या क्या क्या
बोल ना ना ना..
मन तो मन मन मन हो गया..
दिखने में थी तू कड़क
धीरे धीरे पिघली बहुत
अच्‍ी बातें कर ली बहुत
अब करूँगा तेरे साथ
गंदी बात..
गंदी गंदी, गंदी गंदी, गंदी बात..(रिपीट 3 टाइम्स)



लिरिक्स: गंदी बात रॅंबो राजकुमार सॉंग
म्यूज़िक डाइरेक्टर: प्रीतम चक्रवर्ती
लिरिक्स: अनुपम आमोद
सिंगर: कल्पना पतोवरी, मीका सिंग


2

Sari Ke Fall Sa

 

Sari ke fall sa
Kabhi match kiya re
Kabhi chhod diya dil
Kabhi catch kiya re
Sari ke fall sa
Kabhi match kiya re
Kabhi chhod diya dil
Kabhi catch kiya re
Touch ker ke, touch kar ke
Touch kar ke, touch ker ke
Kahan chal di, touch ker ke
Touch kar ke, touch ker ke
Touch ker ke dil se dil
Attach kiya re
Kabhi chhod diya dill
Kabhi catch kiya re
Saree ke faal sa
Kabhi match kiya re
Kabhi chhod diya dil
Kabhi catch kiya re
Saya.. Jab se mila tera saya
Bhaya.. Mujhe har baar tu bhaya
Laya.. Sapne hazaar tu laya
Aise aise haan aise aise aise jaise
Aaya.. Jabse hai yaar tu aaya
Chhaya.. Ban ke hai pyaar tu chhaya
Laya.. Sapne hazaar tu laya
Aise aise haan aise aise aise
Sach kar ke, sach kar ke
Mere sapne sach kar ke
Kahaan chal di bach kar ke
Touch kar ke, touch kar ke
Touch kar ke dil mera
Kyun scratch kiya re
Kabhi chhod diya dil
Kabhi catch kiya re
Saree ke fall sa
Kabhi match kiya re
Kabhi chhod diya dil
Kabhi catch kiya re
Ghar se chali main jahaan kabhi ghar se
Sar se chunri kahaan udi sar se
Darr se nikli ye jaan meri darr se
Aise aise haan aise aise aise aise jaise
Barse barse ghata kahin barse
Tarse mere armaan sabhi tarse
Darr se nikli ye jaan meri darr se
Aise aise haan aise aise aise
Cut karke, cut karke
Seene se dil cut karke
Kahaan chal di bach kar ke
Cut kar ke, cut kar ke
Cut kar ke dil kahaan
Phir patch kiya re
Kabhi chhod diya dil,
Kabhi catch kiya re
Saree ke fall sa
Kabhi match kiya re
Kabhi chhod diya dil
Kabhi catch kiya re
Saree ke fall sa
Kabhi match kiya re
Ha.. Aa..
Lyrics: Sari Ke Fall Sa – R Rajkumar Song
Music Director: Pritam Chakraborty
Lyrics: Mayur Puri
Singer: Nakash Aziz, Antara Mitra

2

सारी के फॉल सा

सारी के फॉल सा
कभी मॅच किया रे
कभी छोड़ दिया दिल
कभी कॅच किया रे
सारी के फॉल सा
कभी मॅच किया रे
कभी छोड़ दिया दिल
कभी कॅच किया रे
टच कर के, टच कर के
टच कर के, टच कर के
कहाँ चल दी, टच कर के
टच कर के, टच कर के
टच कर के दिल से दिल
अटॅच किया रे
कभी छोड़ दिया डिल
कभी कॅच किया रे
सारी के फाल सा
कभी मॅच किया रे
कभी छोड़ दिया दिल
कभी कॅच किया रे
साया.. जब से मिला तेरा साया
भाया.. मुझे हर बार तू भाया
लाया.. सपने हज़ार तू लाया
ऐसे ऐसे हां ऐसे ऐसे ऐसे जैसे
आया.. जब से है यार तू आया
छाया.. बन के है प्यार तू छाया
लाया.. सपने हज़ार तू लाया
ऐसे ऐसे हां ऐसे ऐसे ऐसे
सच कर के, सच कर के
मेरे सपने सच कर के
कहाँ चल दी बच कर के
टच कर के, टच कर के
टच कर के दिल मेरा
क्यूँ स्क्रॅच किया रे
कभी छोड़ दिया दिल
कभी कॅच किया रे
सारी के फॉल सा
कभी मॅच किया रे
कभी छोड़ दिया दिल
कभी कॅच किया रे
घर से चली मैं जहाँ कभी घर से
सर से चुनरी कहाँ उड़ी सर से
डर से निकली ये जान मेरी डर से
ऐसे ऐसे हां ऐसे ऐसे ऐसे ऐसे जैसे
बरसे बरसे घटा कहीं बरसे
तरसे मेरे अरमान सभी तरसे
डर से निकली ये जान मेरी डर से
ऐसे ऐसे हां ऐसे ऐसे ऐसे
कट कर के, कट कर के
सीने से दिल कट कर के
कहाँ चल दी बच कर के
कट कर के, कट कर के
कट कर के दिल कहाँ
फिर पॅच किया रे
कभी छोड़ दिया दिल,
कभी कॅच किया रे
सारी के फॉल सा
कभी मॅच किया रे
कभी छोड़ दिया दिल
कभी कॅच किया रे
सारी के फॉल सा
कभी मॅच किया रे
हा.. आ..
लिरिक्स: सारी के फॉल सा र राजकुमार सॉंग
म्यूज़िक डाइरेक्टर: प्रीतम चकरबोर्ती
लिरिक्स: मयूर पूरी
सिंगर: नकश अज़ीज़, अंतरा मित्रा
3

Dhokha Dhadi

 

Ud gaye tote re
Tere to ud gaye tote re
La la la la.. (Repeat 2 times)
Teri aankhon se hui yaariyan chalte chalte yunhi
Meri aankhon ne teri aankhon se aap-beeti kahi
Teri aankhon k piche piche hum pagle se chal pade
Meri aankhen ab dil ke chakar me kuch bhi na sunti hain
Dil yeh dhokha dhadi kar dega, Socha na tha
Itni yeh gadbadi kar dega, Socha na tha
Aisi mushkil khadi kar dega, Socha na tha
Ud gaye tote
Tere to ud gaye tote re
La la la la..
Ud gaye tote re
Tere to ud gaye tote re
Haan tera dil farebi hain
Aur hum sirphire bhi hain
Pyaar vyaar hum nahi jaante..
Seedhe saade lagte ho
Phir kyun aise thugte ho
Lagte hain kya nadaani se
Hun.. isse jo maaf kije wallah
Yeh dil zara sa hai nitthalla
Iraade hain beimaan se
Dil ye dhokha dhadi kar dega
Socha na tha
Itni ye gadbadi kar dega
Socha na tha
Aise mushkil khadi kar dega
Socha na tha..
Ud gaye tote re
Tere to ud gaye tote re
O la la la..
Ud gaye tote re
Tere to ud gaye tote re
O la la la..
Mere kaano mein kahin
Roshandaano se kahin
Chhanti teri aawaz hai
Zyaada na hai ye kahin
Chup bhi na hai yeh rahe
Aankhon ka ye andaaz hai
Chalo miyaan ho gaya wallah
Neendon mein bhi khona phisalna
Khwaabon pe tum chalna dheere se
Dil ye dhokha-dhadi kar dega
Socha na tha
Itni yeh gadbadi kar dega
Socha na tha
Aise mushkil khadi kar dega
Socha na tha..
Ud gaye tote re
Tere to ud gaye tote re
La la la la.. (Repeat 2 times)



Lyrics: Dhokha Dhadi – R Rajkumar Song
Music Director: Pritam Chakraborty
Lyrics: Anupam Amod
Singer: Arijit Singh

3

धोखा धड़ी

उड़ गये तोते रे
तेरे तो उड़ गये तोते रे
ला ला ला ला.. (रिपीट 2 टाइम्स)
तेरी आँखों से हुई यारियाँ चलते चलते यूँ ही
मेरी आँखों ने तेरी आँखों से आप-बीती कही
तेरी आँखों क पीछे पीछे हम पगले से चल पड़े
मेरी आँखें अब दिल के चाकर मे कुछ भी ना सुनती हैं
दिल यह धोखा धड़ी कर देगा, सोचा ना था
इतनी यह गड़बड़ी कर देगा, सोचा ना था
ऐसी मुश्किल खड़ी कर देगा, सोचा ना था
उड़ गये तोते
तेरे तो उड़ गये तोते रे
ला ला ला ला..
उड़ गये तोते रे
तेरे तो उड़ गये तोते रे
हां तेरा दिल फरेबी हैं
और हम सिरफिरे भी हैं
प्यार व्यार हम नही जानते..
सीधे सादे लगते हो
फिर क्यूँ ऐसे ठगते हो
लगते हैं क्या नादानी से
हूँ.. इससे जो माफ़ कीजे वल्लाह
यह दिल ज़रा सा है निठल्ला
इरादे हैं बेईमान से
दिल ये धोखा धड़ी कर देगा
सोचा ना था
इतनी ये गड़बड़ी कर देगा
सोचा ना था
ऐसे मुश्किल खड़ी कर देगा
सोचा ना था..
उड़ गये तोते रे
तेरे तो उड़ गये तोते रे
ओ ला ला ला..
उड़ गये तोते रे
तेरे तो उड़ गये तोते रे
ओ ला ला ला..
मेरे कानो में कहीं
रोशनदानो से कहीं
छनती तेरी आवाज़ है
ज़्यादा ना है ये कहीं
चुप भी ना है यह रहे
आँखों का ये अंदाज़ है
चलो मियाँ हो गया वल्लाह
नींदों में भी खोना फिसलना
ख्वाबों पे तुम चलना धीरे से
दिल ये धोखा-धड़ी कर देगा
सोचा ना था
इतनी यह गड़बड़ी कर देगा
सोचा ना था
ऐसे मुश्किल खड़ी कर देगा
सोचा ना था..
उड़ गये तोते रे
तेरे तो उड़ गये तोते रे
ला ला ला ला.. (रिपीट 2 टाइम्स)



लिरिक्स: धोखा धड़ी र राजकुमार सॉंग
म्यूज़िक डाइरेक्टर: प्रीतम चक्रवर्ती
लिरिक्स: अनुपम आमोद
सिंगर: अरिजीत सिंह
4

Mat Maari

 

Aayee kuthe, Idiot
Hatt teri toh
Ek chanta maar ke na tera munh suja dungi main
Chor, lukkha, luccha, ganda
Chor hai tu, luccha hai tu
Had se bada tuccha hai tu
Chor hoon main
Luccha hoon main
Had se bada tuccha hoon main
Huh.. kabhi dekha hai tune sheeshe mein khudko
Akal se khacchar
Shakal se bandar
Harqatein hai gundo wali
Baaton se tu hai mawaali (Thank You)
Harqatein hai gundo wali
Baaton se main hun mawaali
Lafanga pukaare ya gunda mawaali
Mujhe teri gaali bhi lagti hai taali
Shut up
Okay, you shut up
Lafanga pukaare ya gunda mawaali
Mujhe teri gaali bhi lagti hai taali
Ho maari maari maari
Gayi meri mat maari (Arey mar jaa ke kahin!)
Ho maari maari maari
Gayi meri mat maari (Joker lagta hai Joker!)
Diye ja bhale duniya bhar ke udaahran
Tu khud jaanti hai ki tere hi kaaran
Ho Maari maari maari
Gayi meri mat mari
Ho maari maari maari
Gayi meri mat maari (Tu.. tu baaz nahi aayega na)
Huh! tujh jaise 1765 takarte hain
Ginti sikhata hai kisey
Hadd paar karne ki koshish agar ki toh
Chappal se maarungi tujhe
Ye aadat kameeni bichhadti nahin haain (Oh meri jaanu.. muaah)
Ye aadat kameeni bichhadti nahin
Sharafat mere palle padti nahi
Ho maari maari maari
Gayi meri..
Gayi meri mat maari
Ho maari maari maari
Gayi meri mat maari.. haah
Waise – haan bol
Buddhi tujhe toh aadhi mili thi
Woh aadhi bhi sad gayi, sad gayi (Na na na..)
Thodi body bachi thi (Ha ha)
Woh bhi ishaq ki bimari mein pad gayi pad gayi
(Ye kya baat kar rahi hai)
Na body ki chinta na khaane ki sudh hain
Devi.. (jaagte raho)
Na body ki chinta, na khaane ki sudh hai
Na din ka pata hai ki mangal hai, budh hai
Ki maari maari maari
Gayi meri.. (Arey ye maari maari maari kya laga rakha hai)
Bada dheet hai re tu, nahi maanega (O chhamiya..)
Koi batayega main iska kya karun
Ho maari maari maari gayi meri mat maari
(Isey chup karao..)
Ho maari maari maari gayi meri mat maari
(Hey bhagwan mere, koi mujhe iss paagal se bachao)
Ho maari maari maari gayi meri mat maari (Hey chup na..)
Ho maari maari maari gayi meri mat maari
Khaamosh


Lyrics: Mat Maari – R Rajkumar Song
Music Director: Pritam Chakraborty
Lyrics: Anupam Amod
Singer: Kunal Ganjawala, Sunidhi Chauhan



4

मत मारी

आई कुठे, ईडियट
हत तेरी तो
एक चांटा मार के ना तेरा मुँह सूजा दूँगी मैं
चोर, लुक्खा, लुच्‍चा, गंदा
चोर है तू, लुच्‍चा है तू
हद से बड़ा टुच्‍चा है तू
चोर हूँ मैं
लुच्‍चा हूँ मैं
हद से बड़ा टुच्‍चा हूँ मैं
हा.. कभी देखा है तूने शीशे में खुद को
अकल से खच्‍चर
शकल से बंदर
हरक़तें है गुंडो वाली
बातों से तू है मवाली (थॅंक यू)
हरक़तें है गुंडो वाली
बातों से मैं हूँ मवाली
लफंगा पुकारे या गुंडा मवाली
मुझे तेरी गाली भी लगती है ताली
शट उप
ओके, यू शूट उप
लफंगा पुकारे या गुंडा मवाली
मुझे तेरी गाली भी लगती है ताली
हो मारी मारी मारी
गयी मेरी मत मारी (अरे मार जा के कहीं!)
हो मारी मारी मारी
गयी मेरी मत मारी (जोकर लगता है जोकर!)
दिए जा भले दुनिया भर के उदाहरण
तू खुद जानती है कि तेरे ही कारण
हो मारी मारी मारी
गयी मेरी मत मारी
हो मारी मारी मारी
गयी मेरी मत मारी (तू.. तू बाज़ नही आएगा ना)

हा! तुझ जैसे 1765 टकराते हैं
गिनती सिखाता है किसे
हद पार करने की कोशिश अगर की तो
चप्पल से मारूँगी तुझे
ये आदत कमीनी बिछड़ती नहीं है (ओह मेरी जानू.. मुआः)
ये आदत कमीनी बिछड़ती नहीं
शराफ़त मेरे पल्ले पड़ती नही
हो मारी मारी मारी
गयी मेरी..
गयी मेरी मत मारी
हो मारी मारी मारी
गयी मेरी मत मारी.. हाः
वैसे हां बोल
बुद्धि तुझे तो आधी मिली थी
वो आधी भी सड़ गयी, सड़ गयी (ना ना ना..)
थोड़ी बॉडी बची थी (हा हा)
वो भी इशक़ की बीमारी में पड़ गयी पद गयी
(ये क्या बात कर रही है)
ना बॉडी की चिंता ना खाने की सुध हैं
देवी.. (जागते रहो)
ना बॉडी की चिंता, ना खाने की सुध है
ना दिन का पता है की मंगल है, बुध है
की मारी मारी मारी
गयी मेरी.. (अरे ये मारी मारी मारी क्या लगा रखा है)
बड़ा ढीठ है रे तू, नही मानेगा (ओ च्चामिया..)
कोई बताएगा मैं इसका क्या करूँ
हो मारी मारी मारी गयी मेरी मत मारी
(इसे चुप काराव..)
हो मारी मारी मारी गयी मेरी मत मारी
(हे भगवान मेरे, कोई मुझे इस पागल से बचाओ)
हो मारी मारी मारी गयी मेरी मत मारी (हे चुप ना..)
हो मारी मारी मारी गयी मेरी मत मारी
खामोश


लिरिक्स: मत मारी र राजकुमार सॉंग
म्यूज़िक डाइरेक्टर: प्रीतम चकरबोर्ती
लिरिक्स: अनुपम आमोद
सिंगर: कुणाल गांजावाला, सुनिधि चौहान


5

Kaddu Katega

 

Kaddu katega toh sab mein batega (Repeat 3 times)
Jo man bak sandook mein bandook chhupai ke
Neeyat mein mohabbat ki zara bhookh milai ke
Sunsaan se pichwade mein jo tang gali hai
Uss tang se galiyaare mein maashook bulai le
Mail tan ke badan se dhulegi
Aabroo ke silaayi khulegi
Sharm ka bhi lifafa phatega
Kaddu katega toh sab mein batega
Kaddu kategaa toh sab mein batega
Jo bhi katega vah sab mein batega re
Kaddu katega toh sab mein batega
Rookhi hai, zara sookhi hai
Zameen barso se jisam ki
Barsaa de, ras barsaa de
Mere hothon pe tu rangeen (haaye)
Rookhi hai, zara sookhi hai
Zameen barso se jisam ki
Barsaa de, ras barsaa de
Mere hothon pe tu rangeen
Aaj kar de tu aisi tabaahi
Khaali hote hi poori surahi
Khud-b-khud jo badha le ghatega
Kaddu katega toh sab mein batega
Kaddu kategaa toh sab mein batega
Kaddu katega toh.. (aayi…)
Kaddu kategaa toh sab mein batega
Desi hoon, mujhe gatka le
Tujhe bhulwa doon vilaiyti
Mudde ki phir baatein ho
Badi kar li hain bakaiti (are bakaiti)
Desi hoon, mujhe gatka le
Tujhe bhulwa doon vilaiyti
Mudde ki phir baatein ho
Badi kar li hain bakaiti
Jaise hi ho khatam kaam tetees
Hote hote chhuaare se kismis
Naam tu sirf mera ratega
Kaddu katega toh sab mein batega
Kaddu katega toh sab mein batega
Kaddu katega toh sab mein batega
Kaddu katega toh.. (aayee..)
Kaddu katega toh sab mein batega


Lyrics: Kaddu Katega – R Rajkumar Song
Music Director: Pritam Chakraborty
Lyrics: Anupam Amod
Singer: Antara Mitra

5

कद्दू कटेगा

कद्दू कटेगा तो सब में बंटेगा (रिपीट 3 टाइम्स)
जो मान बक संदूक में बंदूक छुपाई के
नीयत में मोहब्बत की ज़रा भूख मिलाई के
सुनसान से पिछवाड़े में जो तंग गली है
उस तंग से गलियारे में माशूक बुलाई ले
मैल तन के बदन से धुलेगी
आबरू के सिलाई खुलेगी
शर्म का भी लिफ़ाफ़ा फटेगा
कद्दू कटेगा तो सब में बंटेगा
कद्दू कटेगा तो सब में बंटेगा
जो भी कटेगा वह सब में बंटेगा रे
कद्दू कटेगा तो सब में बंटेगा
रूखी है, ज़रा सूखी है
ज़मीन बरसो से जिसम की
बरसा दे, रस बरसा दे
मेरे होठों पे तू रंगीन (हाए)
रूखी है, ज़रा सूखी है
ज़मीन बरसो से जिसम की
बरसा दे, रस बरसा दे
मेरे होठों पे तू रंगीन
आज कर दे तू ऐसी तबाही
खाली होते ही पूरी सुराही
खुद-ब-खुद जो बढ़ा ले घटेगा
कद्दू कटेगा तो सब में बंटेगा
कद्दू कटेगा तो सब में बंटेगा
कद्दू कटेगा तो.. (आई…)
कद्दू कटेगा तो सब में बंटेगा
देसी हूँ, मुझे गटका ले
तुझे भूलवा दूं विलायती
मुद्दे की फिर बातें हो
बड़ी कर ली हैं बकैती (अरे बकैती)
देसी हूँ, मुझे गटका ले
तुझे भूलवा डून विलायती
मुद्दे की फिर बातें हो
बड़ी कर ली हैं बकैती
जैसे ही हो ख़तम काम तैंतीस
होते होते छुहारे से किस्मीस
नाम तू सिर्फ़ मेरा रटेगा
कद्दू कटेगा तो सब में बंटेगा
कद्दू कटेगा तो सब में बंटेगा
कद्दू कटेगा तो सब में बंटेगा
कद्दू कटेगा तो.. (आई..)
कद्दू कटेगा तो सब में बंटेगा


लिरिक्स: कद्दू कटेगा र राजकुमार सॉंग
म्यूज़िक डाइरेक्टर: प्रीतम चकरबोर्ती
लिरिक्स: अनुपम आमोद
सिंगर: अंतरा मित्रा

पटना सिने परिवेश : सैयद एस तौहीद

सैयद एस तौहीद का यह लेख मुझे बहुत पहले मिल गया था। पोस्‍ट नहीं कर पाया था। पटना शहर के सिने परिवेश पर उन्‍होंने रोचक तरीके से लिखा है। हम सभी को अपने शहरों और कस्‍बों के बारे में लिखना चाहिए। सब कुछ इतनी तेजी से बदल रहा हैं कि हम खुद ही भूल जाएंगे पते,ठौर-ठिाने और किस्‍से...इन सब के साथ भूलेंगी यादें।

पटना सिने वातावरण से गुजरा दौर बडे व्यापक रूप से ओझल होने की कगार पर है।

आधुनिक समय की धारा में गुजरा वक्त अपनी ब्यार खो चुका है। नए समय में सिनेमा का जन-सुलभ वितरण अमीरों के शौक में बदलता जा रहा है। राजधानी के बहुत से सिंगल-स्क्रीन सिनेमाघर परिवर्तन एवं तालाबंदी के दौर से गुजररहे हैं। परिवर्तन की रफ्तार में यह इतिहास ‘आधुनिकता’ व बाजारवाद के लिए जगह बना रहा है । अतीत जो अब भी उस समय की याद लिए नगर में कहीं सिमटा पडा था। आज वह गुजरे वक्त की जुस्तजु को फिर भी हवा देता है । सबसे पहले बुध मार्ग के उजड चुके ‘पर्ल’ का जिक्र करना चाहिए। कहा जाता है कि यह अस्सी के उत्तरार्ध में तालाबंदी के अंधेरे में डूब गया। रेलवे स्टेशन करीब जबरदस्त लोकेशन पर इसे स्थापित किया गया था। संचालन के कुछ ही वर्षों के भीतर तालाबंदी का साया पड गया। एक विश्लेषण के मुताबिक सिनेमाघर पर बंदी का कारण पर्याप्त लाईसेंस का न होना समझ आता है। फिर वितरकों के साथ व्यावसायिक अराजकता का मामला एवं स्वामित्व बडा कारण है। भूमि विवाद एवं फिल्मों के प्रदर्शन पर स्टे भी बडी समस्या है। पर्ल की किस्मत का साया पटना के सभी पुराने सिनेमाघरों पर पड चुका है । इस समय
राजधानी के अनेक लोकप्रिय छविग्रह किसी न किसी वजह से दैनिक सिनेमाई गतिविधियों से महरूम हैं। अब वहां फिल्मों का प्रदर्शन नहीं होता, आज की तारीख में अप्सरा से लेकर अशोक तक के परदे पर कोई मंजर नहीं आता। दर्शक हितों के मददेनजर लोकप्रिय छविग्रहों का एक के बाद एक बंद हो जाना बडी बात है। आधुनिक बदलाव के वजह से नए समय में पुरानी दरों का मनोरंजन शुल्क लगभग समाप्त है। अब छविग्रहों में फिल्म का मजा लेना हर किसी के बस में नहीं। विशेषकर हर तरफ का मारा गरीब आदमी एक बडे शहर में सिनेमा का टिकट नहीं ले सकता। गांव में ढंग का सनेमा होता नहीं ।गांव-कसबे से पलायन कर नगर-महानगर में आए आदमी के पास स्वस्थ मनोरंजन का विकल्प नहीं है। घर पर गुजारा हो जाने लायक रोजगार नहीं कि वापस लौट आएं। मोबाइल में लोड फिल्म उसे सिनेमाघर का मजा नहीं दे सकती। त्वरित व आसान तरीके से मनोरंजन का सामान मुहय्या कराने वाला बाजार गरीब आदमी से विशेष सरोकार नहीं । हां,स्वस्थ मनोरंजन का दायित्त्व रेडियो जरूर निभा रहा है । किंतु सिने अनुभव में भागीदारी का दायरा सामुदायिक सेवा से खरीद सेवा में बदल चुका है । सिनेमाघरों के परंपरागत प्रारूप में बदलाव से ‘सभी को मनोरंजन’ देने की मुराद पर चर्चा नहीं । हाशिए के लोग हर जगह उपेक्षा के शिकार होते रहे। कहना होगा कि यह तक़रीबन हर जगह देखा जाता है ।
                 एक समय में राजधानी का गौरव कहा जाने वाला बडे लोगों का हाल ‘अशोक’ फिल्हाल संक्रमण काल से गुजर रहा है । आज इसकी जमीन पर एक महत्त्वकांक्षी योजना का काम चल रहा है। । पाटलीपुत्र
                         राजेन्द्र नगर का वैशाली सिनेमा पर भी संकट के बादल हैं । कुछ ही समय पहले जबरदस्त प्रयास के साथ पुनरूत्थान की सांसे ले सका था । किंतु फिर से गुमनाम पटरी पर खडा है। आस-पास के दर्शकों के लिए अब विकल्प के तौर पर वीणा सिनेमा ही उपलब्ध है । भोजपुरी फिल्मों की चाहत रखने वाले लोगों के
लिए यह खास है। वीणा में पोपुलर बाम्बे सिनेमा (हिंदी सिनेमा) की फिल्मों का प्रदर्शन तकरीबन रूका पडा है । इस तरह हिंदी फिल्म के दर्शकों को विकल्प की तलाश करनी होगी। लेकिन सिनेमा अनुभव का भागीदार होना अब एक पूंजी का सवाल है। नए समय में आधुनिक छविग्रहों का सेवा शुल्क बढ जाने से फिल्म देखना अमीरों की ठसक हो गया है । विशेष कर मल्टीपलेक्स के जमाने में हाशिए का मनोरंजन अधिकार एक दीवास्वपन है। वह समय अब नहीं रहा जब सिनेमा हर वर्ग की पहुंच में था। सिनेमा से आम आदमी के गायब हो जाने का असर परदे के दूसरी ओर भी नजर आने लगा है । छविग्रहों की दीर्घा से गरीब आदमी का गायब हो जाना खटकता है । अब ज्यादातर सिनेमाघरों में आसान शुल्क वाली श्रेणी खत्म हो गयी है। यह कम दाम पर लोगों को अच्छी फिल्में दिखाने की क़ुव्वत रखती थी । अमीर मल्टीपलेक्स में गरीब आदमी का स्वागत करने वाली स्पेशल-फ्रंट-रियर दीर्घा की अवधारणा नहीं होती। उसकी चमक गरीब आदमी को बहुत असहज कर सकती है । परंपरागत सिंगल स्क्रीन छविग्रहों की तालाबंदी एवं बदलाव की नयी ब्यार में हाशिए के आदमी का सवाल खारिज सा लगता है। स्तरीय मनोरंजन सेवाएं आसान दरों पर मुहय्या कराने का स्वपन धूमिल है । आधुनिक कीमत के प्रकाश में एक साधारण आदमी ‘पाइरेटेड सीडी’ की सीमित दुनिया में गुमराह होने को आमदा नजर आता है । कहना जरूरी है कि उस बाजार की निरंतरता में चिंताजनक परिणाम देखने को मिलेंगे ।
राजधानी की सिने-दर्शक परम्परा फिल्मों के प्रदर्शन में सहायक बनी । यह चलन सिनेमाघरों से विकसित हुआ । यह सभी पटना सिने संस्कृति के महत्त्वपूर्ण पड़ाव कहे जा सकते हैं । गांधी मैदान से सटे नगर के तीन
मुख्य सिनेमा हाल: मोना-रिजेंट-एल्फिसटन क्षेत्र में सिने दर्शन को परिभाषित करते थे । दर्शक जब कभी इस दिशा मे आता, तो एक अनजाने मोहपाश में स्वयं को बंधा पाता । मोना से कुछ ही पहले एल्फिसटन टाकिज का भवन है,जोकि फिलवक्त परिवर्तन काल से गुजर रहा है । इस टाकिज में भोजपुरी फिल्मों का प्रेमियर होता था। क्षेत्रीय सर्कल में यह टाकिज काफी लोकप्रिय रहा । सिने टाकिज त्रयी में तीसरी कड़ी रेजेंट सिनेमा है। रेलवे स्टेशन के करीब बना वीणा आस-पास के दर्शको के लिए वर्षो से एक विकल्प रहा है । लेकिन अब वीणा में ग्रेड- वन फिल्में न के बराबर रिलीज़ होती हैं । पटना से सटे दानापुर के छविग्रह राजधानी सिने संसार को विस्तार देने के प्रयास में हैं । यहां पर टिकट की कीमत नगर के सिनेमाघरों से कम है । लेकिन वहां जाने को बडी फुर्सत की दरकार है।
                       वर्त्तमान हालात में पर्व त्योहार- सांस्कृतिक संस्कारों तथा परंपरागत विधान से गरीब तबका छूटता दिख रहा । हाशिए के लोगों को सुरक्षित करने के लिए भोजपुरी फिल्म मनोरंजन को गलत रूप से कुंठाओं से मुक्ति का मार्ग करार दिया जाता है। आरंभिक भोजपुरी फिल्मों के संदर्भ में बात ठीक थी। किंतु वो बात अब के भोजपुरी सिनेमा पर लागू नहीं होती । हाशिए के आदमी का मनोरंजन अधिकार इससे आगे निर्धारित होना चाहिए । एक सांस्कृतिक जागरूकता कार्यक्रम चलाए जाने की जरूरत है। उसे स्तरीय फिल्में दिखाने का अवसर उपलब्ध कराया जाए। बदलाव की धारा में छविग्रहों की परंपरागत अवधारणा मिटने से सिनेमा का शौकीन गरीब तबक़ा भयावह कुंठाओं की गिरफ्त में है। हाशिए के हित में सिनेमा का सामुदायिक स्वरूप बरकरार रखना चाहिए। केवल भोजपुरी फिल्में दिखाने से काम नहीं चल सकता । उन्हें अच्छी भोजपुरी व हिंदी फिल्में दिखाने का इंतजाम होना चाहिए । उन्हें सकारात्मक मनोरंजन का आदि बनाना होगा। फिर वो शायद मानसिक हित-अहित का अवलोकन स्वतंत्र होकर कर सकेंगे । यह एक बडे सामाजिक संघर्ष की दिशा में एक पहल होगी । आगे और भी पहल की जरूरत पड सकती है । हमें इस दिशा में विचार करना होगा । फिल्हाल ऐसा नहीं हो रहा और यह लोग भ्रमित दिशाओं की ओर मोड दिए जा रहे हैं। सिनेमा से जुडे लोगों ऊपर समाज को जोडने का महत्ती दायित्व है। आधुनिकता व बाजार की इकानामी में काम थोडा मुश्किल जरूर है, किंतु असंभव नहीं ।  लेकिन क्या हाशिए को कुछ अधिकार मुहय्या कराने के ऊपर सोंचा भी जाता है?
कालोनी के नजदीक चालू अत्याधुनिक शापिंग माल में राज्य का पहला मल्टीपलेक्स स्थापित हो जाने से कंशट्रक्शन क्षेत्र में बहुत रश हो गया है। उदाहरण की विराट भव्यता दोहराव को प्रेरित करती है । अशोक सिनेमा की जमीन पर भी बहुमंजिला इमारत का निर्माण हो रहा है । जिसमें एक मल्टीपलेक्स की भी योजना है। विगत कुछ वर्षों से राजधानी में पुराने ठिकानों को जमींदोज कर देने की एक मुहिम सी चली है । परिवर्तन यह कहानी चाण्क्य एवं एलिफिस्टन के साथ भी फिट बैठती है । नगर का हर परिवर्तित (मिटा हुआ भी) पता एक बडी कहानी का हिस्सा है। विकास की कहानी के भूले-बिसरे किरदारों में इनका नाम भी जोडा जा सकता है। मंजर से जो हट तो गए लेकिन यादों में अब भी हैं। बदलाव की ब्यार में परंपरा की बात पुरानी मालूम पडे लेकिन फिर भी वह वक्त याद आता है । छविग्रहों के पुराने भवन को ध्वस्त कर नए भवन का निर्माण हो रहा है। एलिफिस्टन के पुराने भवन को हटा कर नए युग में प्रवेश की नींव पड चुकी है। संचालन रोके जाने समय यह भोजपुरी फिल्मों का सिनेमाहाल था । हो सकता है कि आगामी समय में इस चलन में विस्तार हो । बहरहाल फिलवक्त तो यह साफ नहीं कि नियमित प्रदर्शन कब तक बहाल हो सकेगा। एक्जिविशन रोड पर ‘अप्सरा’ तालाबंदी भी इसी संकट से जूझ रहा है । जिस समय से यहां फाटक बंद हुआ, तब से एक इंच भी सकारात्मक बदलाव सामने नहीं आया । नगर के एक नामचीन छविग्रह की वर्त्तमान हालात देखकर  एक मिटे हुए नाम का आभास होता है । जिस प्रांगण में दर्शकों का जमावडा हुआ करता था, अब एक परिंदा भी बमुश्किल दिख जाए । कह सकते हैं कि खंडहर में तब्दील होने को है । तालाबंदी के गुमनाम अंधेरे में जाने बाद एक गुमनाम विषय है।

Friday, November 29, 2013

फिल्‍म समीक्षा : बुलेट राजा

Bullet Rajaदेसी क्राइम थ्रिलर 
-अजय ब्रह्मात्‍मज
तिग्मांशु धूलिया 'हासिल' से अभी तक अपनी फिल्मों में हिंदी मिजाज के साथ मौजूद हैं। हिंदी महज एक भाषा नहीं है। हिंदी प्रदेशों के नागरिकों के एक जाति (नेशन) है। उनके सोचने-विचारने का तरीका अलग है। उनकी संस्कृति और तहजीब भी थोड़ी भिन्न है। मुंबई में विकसित हिंदी सिनेमा की भाषा ही हिंदी रह गई है। संस्कृति, लोकाचार, बात-व्यवहार, परिवेश और प्रस्तुति में इसने अलग स्वरूप ले लिया है। प्रकाश झा, विशाल भारद्वाज, अनुराग कश्यप और तिग्मांशु धूलिया की फिल्मों में यह एक हद तक आ पाती है। तिग्मांशु धूलिया ने बदले और प्रतिशोध की अपराध कथा को हिंदी प्रदेश में स्थापित किया है। हालांकि मुंबइया सिनेमा (बॉलीवुड) के दुष्प्रभाव से वे पूरी तरह से बच नहीं सके हैं, लेकिन उनके इस प्रयास की सराहना और प्रशंसा करनी होगी। 'बुलेट राजा' जोनर के लिहाज से 'न्वॉयर' फिल्म है। हम इसे 'पुरबिया न्वॉयर' कह सकते हैं।
इन दिनों हिंदी फिल्मों में लंपट, बेशर्म, लालची और लुच्चे नायकों की भीड़ बढ़ी है। 'बुलेट राजा' के राजा मिसरा को गौर से देखें तो वह इन सब से अलग तेवर का मिडिल क्लास का सामान्य युवक है। वह 10 से 5 की साधारण नौकरी करना चाहता है, लेकिन परिस्थितियां ऐसे बनती हैं कि उसके हाथों में बंदूक आ जाती हैं। आत्मविश्वास के धनी राजा मिसरा के दिन-दहाड़े गोलीकांड से सभी आतंकित होते हैं। जल्दी ही वह प्रदेश के नेताओं की निगाह में आ जाता है। उनकी राजनीतिक छत्रछाया में वह और भी संगीन अपराध और हत्याएं करता है। एक स्थिति आती है कि उसकी हरकतों से सिस्टम को आंच आने लगती है। उसे हिदायत दी जाती है तो वह सिस्टम के खिलाफ खड़ा हो जाता है। राजा मिसरा आठवें दशक के एंग्री यंग मैन विजय से अलग है। वह आज का नाराज, दिग्भ्रमित और दिल का सच्चा युवक है। दोस्ती, भाईचारे और प्रेम के लिए वह जान की बाजी लगा सकता है।
राजा मिसरा के जीवन में दोस्त रूद्र और प्रेमिका हैं। इनके अलावा उसका मध्यवर्गीय परिवार भी है, जिसके लिए वह हमेशा फिक्रमंद रहता है। राजा मिसरा आठवें दशक के विजय की तरह रिश्तों में लावारिस नहीं है। रूद्र की हत्या का बदला लेने से जब उस रोका जाता है तो स्पष्ट कहता है, 'भाई मरा है मेरा। बदला लेने की परंपरा है हमारी। यह कोई कारपोरेट कल्चर नहीं है कि अगली डील में एडजस्ट कर लेंगे।' तिग्मांशु अपने फिल्मों के चरित्रों को अच्छी तरह गढ़ते हैं। इस फिल्म में ही रूद्र, सुमेर यादव, बजाज, मुन्ना और जेल में कैद श्रीवास्तव को उन्होंने हिंदी प्रदेश की समकालीन जिंदगी से उठा लिया है। शुक्ला, यादव और अन्य जातियों के नामधारी के नेताओं के पीछे कहीं न कहीं हिंदी प्रदेश के राजनीतिक समीकरण को भी पेश करने की मंशा रही होगी। तिग्मांशु का ध्येय राजनीति के विस्तार में जाना नहीं था। कई प्रसंगों में अपने संवादों में ही वे राजनीतिक टिप्पणी कर डालते हैं। अगर भाषा की विनोदप्रियता से वाकिफ न हों तो तंज छूट सकता है। मुंबई, कोलकाता और चंबल के प्रसंग खटकते हैं।
सैफ अली खान ने राजा मिसरा के किरदार में चुस्ती, फुर्ती और गति दिखाई है। अगर उनके बातों और लुक में निरंतरता रहती तो प्रभाव बढ़ जाता। उम्र और अनुभव से वे देसी किरदार में ढलते हैं। जिम्मी शेरगिल को कम दृश्य मिले हैं, लेकिन उन दृश्यों में ही वे अपनी असरदार मौजूदगी से आकर्षित करता है। सुमेर यादव की भूमिका में रवि किशन मिले दृश्यों में ही आकर्षित करते हैं। छोटी और महत्वपूर्ण भूमिकाओं में राज बब्बर, गुलशन ग्रोवर आदि अपनी भूमिकाओं के अनुकूल हैं। यहां तक कि चंकी पांडे को भी एक किरदार मिला है। सोनाक्षी सिन्हा बंगाली युवती के किरदार को निभा ले जाती हैं। विद्युत जामवाल का एक्शन दमदार है।
फिल्म का गीत-संगीत थोड़ा कमजोर है। देसी टच और पुरबिया संगीत की ताजगी की कमी महसूस होती है। 'तमंचे पर डिस्को' खास उद्देश्य को पूरा करता है और 'डोंट टच' में माही गिल का नृत्य बॉलीवुड के आयटम नंबर से प्रभावित है। इस फिल्म की खूबी परतदार पटकथा और स्थितिजन्य संवाद हैं।
अवधि: 138 मिनट 
**** चार स्‍टार 

Thursday, November 28, 2013

दरअसल : फिल्म लेखक बनना है तो...


-अजय ब्रह्मात्मज
    आए दिन कभी कोई साहित्यकार मित्र या फेसबुक के जरिए बने युवा दोस्त जानना चाहते हैं कि फिल्मों का स्टोरी रायटर कैसे बना जा सकता है? हर किसी के पास एक कहानी है, जिसे वह जल्दी से जल्दी फिल्म में बदलना चाहता है। साहित्यकारों को लगता है कि उन्होंने आधा काम कर लिया है। अब उन्हें अपनी कहानी या उपन्यास को केवल पटकथा में बदलना है। गैरसाहित्यिक व्यक्तियों को भी लगता है कि अपने अनुभवों के कुएं में जब भी बाल्टी डालेंगे कहानी निकल आएगी। मुंबई में फिल्म पत्रकारिता करते हुए अनेक लेखकों से मिलना-जुलना हुआ है। उनसे हुई बातचीत और उनकी कार्यप्रणाली को नजदीक से परखने के बाद कुछ सामान्य बातें की जा सकती हैं। यों हर लेखक का संघर्ष अलग होता है और सफलता तो बिल्कुल अलग होती है।
    सबसे पहले तो यह जान और समझ लें कि इन दिनों अधिकांश निर्देशक खुद ही कहानी लिखते हैं। यह चलन पहले भी था, लेकिन अब यह प्रचलन बन चुका है। निर्देशक अपने संघर्ष के दौरान बेकारी के दिनों में लेखक मित्रों के साथ बैठ कर कहानियां रचते हैं और मौका मिलते ही धड़ाधड़ फिल्मों की घोषणाएं करने लगते हैं। कामयाबी मिल चुकी है तो ठंडे बस्ते में पड़ी उनकी कहानियों को भी हॉट स्टार मिलने लगते हैं। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में सफलता के साथ हर कोई जुडऩा चाहता है। अगर किसी निर्देशक से जान-पहचान गांठ सकें तो लेखक बनने की संभावना ठोस हो जाती है। यह निश्चित तौर पर जान लें कि आरंभिक फिल्मों में शोषण हो सकता है। कभी क्रेडिट गायब हो सकता है तो कभी पैसे ़ ़ ़फिर भी फिल्म इंडस्ट्री में पहचान बढ़ती जाती है। आपका दायरा बढ़ता है। पैसे और क्रेडिट से वंचित होने पर भी आप के काम की चर्चा होने लगती है। आरंभिक ठोकरों से आपका निजी आत्मविश्वास बढ़ता है। आप तरकीबें सीख लेते हैं। इंडस्ट्री की भाषा में कहीं तो खुद को बेचना आ जाता है।
    फिल्मों की कहानी लिखने के लिए जरूरी नहीं है कि आप मुंबई में ही रहें। अगर आप साहित्यकार हैं तो यकीन करें कि कोई न कोई आप को पढ़ रहा है। वह स्वयं आपकी उपयोगी रचना का इस्तेमाल कर सकता है या किसी को प्रेरित कर सकता है। विजयदान देथा तो जिंदगी भर अपने गांव में रहे, लेकिन उनकी कहानियों पर फिल्में बनीं। फिल्मकारों ने उनके गांव जाकर कहानियों के अधिकार लिए। ऐसे अनेक उदाहरण मिल जाएंगे। यों यह सच है कि हर लेखक विजयदान देथा नहीं होता। कुछ साहित्यकारों को देखा कि वे अपनी कहानी के अधिकार देने तक ही सीमित नहीं रहते। वे पटकथा और संवाद भी लिखना चाहते हैं। आप उम्दा साहित्यिक रचनाकार हो सकते हैं, लेकिन यह कतई जरूरी नहीं है कि आप पटकथा के शिल्प और संवाद के कौशल से परिचित हों। ‘शोले’ के मशहूर संवाद  - कितने आदमी थे?- को याद करें। यह सलीम-जावेद ही गब्बर सिंह के लिए लिख सकते थे।
    मन नहीं माना और उत्साह में आप मुंबई आ ही गए हैं तो पहले बैंक बैलेंस मजबूत कर लें। या फिर मां, पिता, बहन, भाई,पत्नी या कोई दोस्त आप के सपनों का जबरदस्त समर्थक हो। मुंबई बहुत ही महंगा शहर है। यहां आजीविका और स्वयं के भरण-पोषण के लिए समझौते करने पर उद्देश्य से भटक सकते हैं। इसी माहौल में ऐसे भी लेखक मिलते हैं, जिन्होंने आजीविका के लिए तात्कालिक तौर पर भले ही कोई काम क लिया हो, लेकिन अपने लक्ष्य से नहीं भटके। आखिरकार वे सफल रहे। मुंबई में संघर्ष लंबा हो सकता है, लेकिन प्रतिभाओं को पहचान मिलती है। एक बार पहचान बन जाए तो फिर अवसर दरवाजे पर खड़े मिलते हैं। मोबाइल फोन के नंबर सभी को मिल जाते हैं।
    फिल्में देखना न बंद करें। हिंदी फिल्में तो बचपन से देखते रहे हैं। अपने देश की अन्य भाषाओं और विदेशों की फिल्में भी मनोरंजन से अधिक प्रशिक्षण के लिए देखें। एक पर्सनल नोटबुक रखें, जिसमें फिल्म की बारीकियों को दर्ज करते रहें। विश्वास करें ये सारे नोट्स एक न एक दिन काम आएंगे। फिल्मों के साथ पढऩा भी जारी रखें। पढऩे से आशय टाइमपास नहीं है। पढ़ें कि आप की जानकारी बढ़े। नए विषयों के बारे में पता चले। ज्यादा से ज्यादा लोगों से मिलें। सामाजिक व्यक्तित्व विकसित करें। हंसमुख हों और पॉजीटिव बातों में रुचि लें। न तो किसी की निंदा करें और न सुनें।
    लिखने के लिए खंडाला, लोनावाला, गोवा या किसी विदेशी शहर जाने की जरूरत नहीं है। सफल होने पर निर्माता, निर्देशक और फिल्म स्टार खुद ही अपने खर्चे पर आप को भेजने-बुलाने लगेंगे। जरूरी है कि आप भाव और कथ्य से लबरेज हों। आवश्यकता होने पर तो रात भर में कहानी लिख सकें। ज्यादातर लेखकों को आरंभिक सफलता जल्दबाजी के लेखन से मिली है। कई बार पूरी योजना के साथ तैयारी कर लिखी कहानियां सालों कंप्यूटर में ही पड़ी रह जाती हैं। लिखने के लिए तत्पर रहने की जरूरत है।
    मुंबई आ ही गए हैं और फिल्में नहीं मिल रही हैं, तो भी निराश न हों। इन दिनों टीवी, ट्रांसलेशन, वॉयसओवर और ऐड में संभावनाएं हैं। इन से आप की जरूरतें पूरी हो जाएंगी। याद रखें कि आप टीवी या ऐड लिखने नहीं आए थे। वे सिर्फ माध्यम हैं। आप के घर से एयरपोर्ट पहुंचने की सवारी हैं। आप को तो फ्लाइट लेनी है। लेखक बनना है।
    और हां, हर शुरुआत छोटी होती है। मंसूबे के साथ पहले ही काम को बड़ा काम साबित करने की गलतफहमी में न पड़ें। अब सोचना क्या? इरादा है तो लिखना आरंभ कर दें। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री आप का इंतजार कर रही है। अंत में फिम रायटर्स एसोशएसन की सदस्यता अवश्य ले लें। अपने अधिकारों की रक्षा और चोरी से बचने के लिए यह कारगर है।