Search This Blog

Sunday, June 30, 2013

in conversation with shahrukh khan

-Ajay Brahmatmaj
One of the most anticipated movies of the year is ‘Chennai Express’ with the perfect trio: Shah Rukh Khan, Deepika Padukone and Rohit Shetty. The trailer of the film has already been released and unsurprisingly this action-comedy with the traditional SRK effect is a visual delight. As it happens to be the first association of Rohit and Shah Rukh , Dainik Jagran Film Editor, Ajay Brahmatmaj had an exclusive chat with King Khan on his next.
Q. You had initially planned to team up with Rohit Shetty for remake of Angoor. Then how ‘Chennai Express’ comes in?
Ans: Yes, it’s true. Actually, Rohit first approached me with the proposal to work on ‘Angoor’ remake 4-5 years back and I too was excited to do it as the original ‘Angoor’ is close to my heart. He narrated me a couple of stories including that of ‘Angoor’ and ‘Chennai Express’.  Since, Rohit wanted more time for Angoor remake, he offered me ‘Chennai Express’.
Q. We have heard that ‘Chennai Express’ has many dialogues in Tamil. As you hardly understand the language, how did you agree to join the project?
Ans: When we were discussing the script, I realized, even if the dialogues have Tamil influence, they would have a mass appeal. When Rohit was narrating me the story, the entire unit of Chennai Express was also present. There were many who didn’t understand the language but the best thing was that the Tamil dialogues made everyone laugh as it was easy to comprehend them.
Q. The official trailer of ‘Chennai Express’ has already set the celluloid on fire. Tell us more about the story?
Ans: ‘Chennai Express’ is the story of a 40-year-old man Rahul who leaves Mumbai for Rameshwaram to immerse the ashes of his 99-year-old grandfather. During his journey, he comes across a gorgeous South Indian girl (played by Deepika) and as expected he falls head over heels in love with her. Then follows the action, drama, comedy and a lot of twists and turns in Rahul’s life.
Q. What is the best thing about ‘Chennai Express’?
Ans: We live in a country with vast regional and cultural diversity where the people speak many languages and follow different cultures. This is the message what ‘Chennai Express’ gives us. I live in Maharashtra but cannot speak Marathi.  My children speak Marathi very well. My mother knew Kannad and my father was fluent at Pashto and Persian. There was great diversity in my family too but we still lived together happily. ‘Chennai Express’ beautifully gives us the message that it’s not the language but the bonding, love and affection that make relations.
Q. The new benchmark of judging the performance of a Bollywood film, is the famous '100 crore club'. In such a scenario buzz is all around that if ‘Chennai Express’ fails to make its mark then what will happen to the ‘Baadshah of Bollywood’?
Ans: What will happen? I will give up everything and will probably open a grocery shop … I find all these rumours and speculations worthless. They make me laugh sometimes. In the last 20 years, I have come across such questions so many times. Whenever a new comer performs well then people start making speculations about my ouster. If any of my contemporaries give a hit, people start gossiping that the era of SRK is finished. I don’t know why people co-relate me every time with wrong things. Perhaps, they love me so much so, they care for me a lot.
Q. As ‘Chennai Express’ has a complete South Indian flavour, it must have been a totally different film for Shah Rukh Khan?
Ans. ‘Chennai Express’ is a unique film and despite a touch of south Indian language, it is easy for anyone to comprehend its dialogues. Some of them are in Tamil but the audiences are bound to burst into laughter while watching the film. All credit goes to Rohit Shetty and the team. As I said earlier, ‘Chennai Express’ beautifully sends us the message that it’s not the language but the bonding, love and affection that make relations.
Q.  Do you think, language plays a pivotal role for the audience in accepting a movie?
Ans. Let’s take it this way. Many of my audience are from non-Hindi regions as well as other countries. But they like my movies and appreciate my work. I had the same experience in England. People loved me there too. Surprisingly, the youths, who are our third generation and who hardly follow Hindi, also like my movies. This shows people love one’s work and performance, no matter what the language you know.
Q. How did you find South India for an actor of Hindi cinema?
Ans. I have a huge fan following from South especially from Kerala. Shooting in South India was an unforgettable experience for me. The people accepted me whole-heartedly. While we were shooting in Munnar, I got the opportunity to interact with the locals on several occasions. The crowd was very friendly. I interacted with some elderly women while shooting in a tea garden in Munnar. I narrated the dialogues from my movies and conversed with them in Hindi. They hardly understood me but interestingly, we had a memorable time.
Q. Do you enjoy meeting with your fans?
Ans. With the passing age and time, I enjoy meeting with my fans and well-wishers more. But I hardly get opportunity to converse with them in public as things often go wrong due to heavy crowd and poor management.
Q. We have heard that your association with Rohit Shetty has been quit a personal affair. Tell us more about it?
Ans. Well… Like I earlier said, Rohit had first approached me with a proposal for remake of Angoor which was released in 1982. I was too eager to do the movie so I gave my commitment. My selection for the movie was not because it can go well in Bihar or London or any other region. I chose it just because it is close to my heart.
Q. What’s the story behind Angoor?
- See more at: http://post.jagran.com/My-mother-thought-I-looked-like-Dilip-Kumar-Shah-Rukh-Khan-1372251270#sthash.5bszcjfS.dpuf
Ans. My connection with ‘Angoor’ goes back to my childhood days. It was the favourite film of my mother (Lateef Fatima). We have many precious moments of life attached with the film. Those were the days of the VCR. We used to watch movies on the VCR. My mother suffered from pain in her legs. So every night, I used to sit by her side and gently massage her legs while watching Angoor. I still remember the dialogues of Dilip Saab. She loved Dilip Kumar and thought I looked like him.
Q. Is that the reason you went for Devdas?
Ans. Well…I had no interest in serious movies like Devdas in my teenage days. We grew up watching films of action and romantic heroes like Amitabh Bachchan, Rishi Kapoor and Vinod Khanna. We never thought that serious characters like Devdas can ever be meant for our generation. When Sanjay Leela Bhansali offered me Devdas, there were many who strongly suggested me not to take up the project. Some even termed it a career destroying movie. But Sanjay had faith in me. He told me that my eyes speak about the emotion and pain of Devdas and I am perfect for the role. At that time Aziz Mirza and Juhi Chawla were also there. I accepted the movie and now everybody knows it was a great movie.
Q. Tell us more about the movies which you would love to remake? 
Ans. I have already done a lot of remakes that have been close to me. Don, Devdas, Raju Ban Gaya Gentleman, Shree 420- all were great. But if I get the opportunity I would love to remake Chupke Chupke and Angoor. I would cherish to do movies of Amitji and Dilip Saab. Rafoo Chakkar and Aan are my personal favourites.
Q. And what about Namak Halaal?
Ans. I don’t think people will accept me in the role. I find myself quit unfit for Namak Halaal.
Q. You have shared the silver screen with the finest stars who played your reel parents. Who resembled the most with your real life parents?
Ans. DDLJ’s Anupam Kher and Om Shanti Om’s Kiron Kher. Both the roles are close to me. The cute, silly and innocent mother played by Kiron ji in OSO somewhat resembled my mother. The awesome sense of humour of Anupam ji as a father in DDLJ, the way he encourages the moral of his son when he fail in his graduation and accepts his defeat is speechless. Both the characters gave endless love to their child without putting any condition.
Q. Would you like to see Gauri working in movies?
Ans. I can never imagine Gauri or even my children working in movies. She is a good house wife.
Q. What are the lessons you have pass on to your children that you got from your parents?
Ans. Acceptance and patience are the two things I have learnt from my parents. My friends consider my patient attitude as my weakest point. My father was a very tolerant person. I believe one should be what he is. I have taught my children sense of competition. I, Gauri and our children, all of us live like friends. Like friends we point out mistakes of each other and pat each other’s back when we have done something good.
Q. We have heard that you don’t take money for your film projects.
Ans. Yes this is the truth. I don’t take money for films as it is my passion and not business. I still remember what Deven Verma has once told me. Once we were having a good time together, he told me, “Take up a project in your life time just for your shake, just because your heart allows it.”
Q.  If that is the case then how do you manage your livelihood?
Ans. I dance at award shows and high profile marriages and do advertisements to mend my ways.
Q. But this has earned you severe criticism?
Ans. I simply don’t bother over such worthless criticisms. I feel my heart is clean and soul is pure as I have not done my films as part of my profession. They have emotional connection. It’s my passion. I never compromise with my films. Whatever project I take up I do it sincerely without pondering over how many crores it will fetch me. See, it’s not that my directors and producers don’t offer me money. They do. But I never bargain with them. Whatever they give me I take. This is why they love me.
Q. It’s like an era since you have been in the film industry. Any regrets?
Ans. Well…may be two or three. Everyone has regrets in life. But the best part is that my work and my busy schedule never allow me to think over regrets.
Q. You have done ad for an alcohol brand. Don’t you think that an actor like you, who is the role model for many, should shun such endorsements?
Ans.  Well, if alcohol is legal then why not. Newspapers, media do endorse it then why not me. After all morality is not only my responsibility.  I have never endorsed drugs, cigarettes. Producers pay us for doing such endorsements.
Q. You are considered as the ‘Baadshah of Bollywood’. You have a huge fan following. You enjoy the kind of female adoration that any other actor would envy. Does Shah Rukh Khan ever feel lonely?
Ans. If I am at the top, I have to pay for it. But I guess people now-a-days are talking much about my decline. So, now I do find some people to chat. Hahaha…Jokes apart, I am extremely lonely. But I have chosen this for me. After giving 22 long years to the industry, I find myself totally disconnected from the basic, normal life. This doesn’t mean I have high class friends only but now I have lost the art of making relationships. My hectic schedule, long working hours doesn’t allow me to engage with people. I think I have inherited this in my personality.
Q. Along with personality, how far you blame your profession for this?
Ans. I don’t know exactly. I believe I am not good at making friends. Yes, I do have friends from Bollywood and from outside too. But I hardly get engaged with them. I really miss such things but I guess I am pretty old now to involve in such things. Yeah, I also don’t have time to do so.
Q. Companion of your solitude?
Ans. I read books and sometimes I write too. I have started penning down my autobiography but it’s still waiting for being completed. I feel I will complete it this holiday as I am recovering well from my shoulder surgery.
Q. Your fans and well-wishers die to have a glimpse of SRK. Do you ever try to meet them?
Ans. Yes, I use to go for outing on weekends whenever in Mumbai. During this I try to meet my fans. But things often go wrong as the crowd gets out of control and situation gets worse. So, we ought to avoid this. I still remember the days when we were shooting for Karan Johar’s Kabhi Alvida Na Kahna in London. The crowd over there was very awesome. We used to shoot at night on the railway station. The people used to wait for us the whole night in that bone-chilling winter. After the shoot, I used to meet them. I guess these are the people who inspire us and encourage us to do better.
Q. People love you and want to share each and every moment of SRK. Have you ever tried to develop a way to stay connected with your fans?
Ans.  Yeah, earlier I used to tweet for my fans. But there I found many irrelevant comments that were painful. I am quit an emotional person. So, I cannot digest such rubbishes. Moreover, my tweets were often dragged into controversies. I remember once during the shoot of Jab Tak Hai Jaan in London, we got a day off due to heavy raining. I was enjoying the off with the awesome weather and hot coffee. I felt like expressing my happiness on twitter. Unfortunately, that day India lost to England in ODI. I found media reports suggesting that I was celebrating India’s defeat in London. It was very painful. So, I stopped tweeting. Now, I am thinking of developing an interactive website where I will share my life moments, my interviews with my fans. I am planning to record my precious moments.
Q.  Many writers have tried to define Shah Rukh Khan and his persona in their writings. How many of them have succeeded?
Ans.  Well, I haven’t read any of them so far. Once Bhatt ji had told me never read books written on you as no one else will understand you more than yourself. But if you ask me there was a thin book written by Deepa Mehta, I have read that. I have also heard about Anupama Chopra’s ‘King of Khan’.  But I haven’t read it.
Q. Who has understood SRK as an individual?
Ans. People often find me unreal. Initially when they meet, they appreciate me as a person but later on they start finding me weird. I am quite a different person. I have a different thinking. I am frank, open-hearted and emotional. Like everybody I also get angry, I also feel pain. Many times, my stardom also does not allow people to understand me.
Q. How would you like to be remembered?
Ans.  I wish people remember me by my hard work and determination. If ever a day come when I will be no more then I want people to realize the fact that Khan had tried a lot in his life. At my grave, I would like to be written ‘Here lies Shah Rukh Khan and he tried.’ I don’t want people to count my accomplishments but my hard work. My hard work is my accomplishment. It’s easy to count achievements, even easier to find faults but the one that is hard is to realize the hard work and labour.
Q. Shah Rukh Khan is one word, it is a sentence in itself as well. Your association with the entertainment industry is like an era. But don’t you think you have limited your appeal to metros and overseas?
Ans. Well, it’s purely a matter of choice and taste. I don’t know about others but I do films that suit my personality, thinking and moreover my comfort. It’s not like I have limited myself to any genre. I have done action films, negative roles in the early phase of my career. With time and experience, an actor comes at a stage where he can choose different roles. This is the time, when we often go for the roles that describe our inner self. And as far as my audience is concerned, till date, I have not been able to figure out who my audience is and where my films work.
Q. Then what sort of roles does SRK love to take up?
Ans. I go for roles where I think I can fit it. I can work for formula films which have mass appeal and can fetch good business, but I prefer myself in decent, cultured and high class roles. I still remember when Madhuri Dixit asked me to do ‘Hum Tumhare Hai Sanam.’ I have heard it has done good business in Bihar and Uttar Pradesh. See if I would have known the formula, I would have
adopted these in my future films too.
Q. If we talk about your films, you have limited yourself to a few directors. Why such limitations?
Ans. I have been working in the film industry for 22 years and we have become a family. We have special bonding with each other as happens in a family. I work with only them who I am comfortable with. I have worked with Karan Johar, Aditya Chopra and also with Farah Khan. We have a great chemistry. I take up two to three projects a year and so I don’t find it necessary to go outside.
Q. What’s on your mind when you take up any project for Red Chillies?
Ans. See till now I think, feel and choose projects as an actor. My inner actor never allows me to think like a producer. As I have earlier said, films are my passion and not business, I take up projects which I relate to, irrespective of the project’s budget.
Q. Will we see Shah Rukh working with new age directors like Anurag Kashyap and Tigmanshu Dhulia?
Ans. Yes, why not? We have been friends from our days in Delhi. Kashyap has been pressing me to work in his films. Hopefully, we will work together if something good comes my way. And I have already worked with Tishu (Tigmanshu) in Dil Se. The film is very close to my heart. I have many offers from other directors, will probably take up some of them. You must have heard that I was working with Vishal Bharadwaj in Two States. But Vishal was looking for a younger actor for the role, so I left.

Friday, June 28, 2013

फिल्‍म समीक्षा : घनचक्‍कर

 Ghanchakkar -अजय ब्रह्मात्मज
                     जब भी कोई निर्देशक अपनी बनाई लीक से ही अलग चलने की कोशिश में नई विधा की राह चुनता है तो हम पहले से ही सवाल करने लगते हैं-क्या जरूरत थी? हमारी आदत है न तो हम खुद देखी हुई राह छोड़ते हैं और न अपने प्रिय फिल्मकारों की सोच, शैली और विषय में कोई परिव‌र्त्तन चाहते हैं। राजकुमार गुप्ता की 'घनचक्कर' ऐसी ही शंकाओं से घिरी है। उन्होंने साहसी कदम उठाया है और अपने दो पुराने मौलिक प्रयासों की तरह इस बार भी सफल कोशिश की है? कॉमेडी का मतलब हमने बेमतलब की हंसी या फिर स्थितियों में फंसी कहानी ही समझ रखा है। 'घनचक्कर' 21वीं सदी की न्यू एज कामेडी है। किरदार, स्थितियों, निर्वाह और निरूपण में परंपरा से अलग और समकालीन 'घनचक्कर' से राजकुमार गुप्ता ने दर्शाया है कि हिंदी सिनेमा नए विस्तार की ओर अग्रसर है।
                        सामान्य सी कहानी है। मराठी संजय आत्रेय (इमरान हाशमी) और नीतू (विद्या बालन ) पति-पत्‍‌नी हैं। दोनों की असमान्य शादी है। उसकी वजह से उनमें अनबन बनी रहती है। दोनों एक-दूसरे की ज्यादतियों को बर्दाश्त करते हुए दांपत्य का निर्वाह कर रहे हैं। उनके बीच प्रेम और भरोसा भी है। रोज के सवालों और जवाबों से वे उकताए नजर नहीं आते। मराठी पति थोड़ा आलसी और ढीले किस्म का आरामतलब व्यक्ति है,जबकि पंजाबन पत्‍‌नी फैशनेबल और हाइपर है। ताले और सेफ खोलने में उस्ताद संजय उर्फ संजू को एक ऑफर मिलता है, जिसमें चोरी की रकम से 10 करोड़ उसे मिल जाएगा। बेहतर जीवन की उम्मीद में बीवी की रजामंदी से संजू चोरी करता है। पंडित (राजेश शर्मा) और इदरीस (नमित दास) उसका सहयोग और साथ लेते हैं। तय होता है कि चोरी की रकम तीन महीनों तक छिपा दी जाए। जब सब कुछ शांत हो जाए तो फिर हिस्से का बंटवारा कर लिया जाए। इस सहमति के बाद एक एक्सीडेंट में संजू की याददाश्त चली जाती है। संजू को याद नहीं आता कि सूटकेश कहां रख है। उधर पंडित और इदरीस को लगता है कि संजू के मन में खोट आ गया है। इन सबसे अलग नीतू अपनी फैंटेसी की दुनिया में रहती है। यहीं से कहानी शुरू होती है और एक जबरदस्त ट्रिवस्ट के साथ खत्म होती है।
                राजकुमार गुप्ता की तारीफ करनी होगी कि उन्होंने कहानी के सस्पेंस को उसके खुलने तक बनाए रखा है। कहानी की गति कभी धीमी और कभी तेज जरूर होती है, लेकिन निर्देशक की पकड़ नहीं छूटी है। उन्हें इमरान हाशमी और विद्या बालन का भरपूर सहयोग मिला है। दोनों कलाकार अंत तक अपने किरदारों में रहे हैं। पिछली फिल्मों की लगातार सफलता और खास छवि एवं ख्याति के बावजूद दोनों कलाकारों द्वारा 'घनचक्कर' का चयन उल्लेखनीय साहसिक कदम है।
               इमरान हाशमी ने अपनी छवि से भिन्न एक कमजोर, सिंपल और पड़ोसी किरदार को शिद्दत से निभाया है। यही बात विद्या बालन के बारे में भी कही जा सकती है। उन्होंने नीतू को पर्दे पर उसकी खासियतों के साथ पेश किया है। नीतू की भावमुद्राओं में वह सफल रही हैं। पंजाबी लहजा कई बार उनके संवादों से फिसल गया है। राजेश शर्मा और नमित दास ने भी अपने किरदारों को कैरीकेचर होने से बचाते हुए इंटरेस्ट बनाए रखा है। फिल्म के अंतिम दृश्यों में आया कलाकार अपने किरदार के अनुरूप प्रभावशाली नहीं है।
राजकुमार गुप्ता ने दैनंदिन जीवन में हास्य चुना है। इस फिल्म की कॉमेडी आनी वास्तविकता और यथार्थपूर्ण चित्रण से ब्लैक कॉमेडी की ओर सरकती दिखती है। कुछ प्रसंगों में संवाद और दृश्यों की कसावट का अभाव खलता है। फिर भी राजकुमार गुप्ता ने जिस संजीदगी और नवीनता के साथ किरदारों को गढ़ा और रचा है, वे इन कमियों को ढक देते हैं। इसमें उन्हें इमरान हाशमी और विद्या बालन से मदद मिलती है।
फिल्म में गीत-संगीत का उपयोग नहीं के बराबर है। फिल्म की गति बनाए रखने में पाश्‌र्र्व संगीत का योगदान है।
अवधि-137 मिनट
*** 1/2 साढ़े तीन स्टार

Thursday, June 27, 2013

दरअसल : फिल्म फेस्टिवल की उपयोगिता


-अजय ब्रह्मात्मज
    कान, बर्लिन, वेनिस, शांगहाए, टोरंटो, मुंबई, टोकियो, सिओल आदि शहर फिल्म फेस्टिवल की वजह से भी विख्यात हुए हैं। पिछले दशकों के निरंतर आयोजन से इन शहरों में हो रहे फिल्म फेस्टिवल को गरिमा और प्रतिष्ठा मिली है। सभी का स्वरूप इंटरनेशनल है। सभी की मंशा रहती है कि उनके फेस्टिवल में दुनिया की श्रेष्ठ फिल्में पहली बार प्रदर्शित हों। इन फेस्टिवल में शरीक होना भी मतलब और महत्व रखता है। कृपया अपने देश की मीडिया में कान फिल्म फेस्टिवल में शामिल हुई फिल्मों की सुर्खियों पर न जाएं। अनधिकृत और मार्केट प्रदर्शन को भी कान फिल्म फेस्टिवल की मोहर लगा दी जाती है।
    दर्शकों का एक हिस्सा और बुद्धिजीवियों का बड़ा हिस्सा हिंदी की अधिकांश फिल्मों को उनके मनोरंजक और मसाला तत्वों की वजह से खारिज कर देता है। अगर 21वीं सदी में इंटरनेशनल सिनेमा के विस्तार और गहराई के साथ हिंदी की अधिकांश फिल्मों की तुलना करें तो शर्मिंदगी ही महसूस होगी। इसमें कोई शक नहीं कि हिंदी फिल्में अपने दर्शकों का पर्याप्त मनोरंजन करती हैं और पैसे भी बटोरती हैं, लेकिन गुणवत्ता, विषय और प्रभाव के मामले में वे समय बीतने के साथ भुला दी जाती है। इंस्टैंट फूड की तरह वे स्वाद से संतुष्ट करती हैं, लेकिन पौष्टिकता उनमें नहीं होती। भोजन और मनोरंजन में ऐसे स्वाद और मनोरंजन के लंबे सेवन के दुष्प्रभाव से हम परिचित हैं।
    विदेशों से पढ़ कर लौटे फिल्मकार हों या देश के सुदूर इलाके से संघर्ष कर मुंबई पहुंचे जुझारू फिल्मकार हों ़ ़ ़ दोनों ही आरंभिक सफल-असफल कोशिशों के बाद हिंदी फिल्मों के फार्मूले में बंध जाते हैं। उन पर भी स्टार और बाजार का शिकंजा कसता है। धीरे-धीरे उनकी आग बुझ जाती है और अधिकांश चालू किस्म की फिल्मों से ही वे संतुष्ट होने लगते हैं। इन दिनों सभी यह तर्क देते-बताते दिखते हैं कि सिनेमा को फायदेमंद होना चाहिए। सिनेमा फायदेमंद होने से किसी को क्या गुरेज हो सकता है? हां, अगर सिर्फ फायदे के लिए समझौते किए जाएं तो नतीजा ढाक के तीन पात ही होता है। सिर्फ कलेक्शन के आंकड़े बढ़ते हैं। 300 करोड़ के कलेक्शन की तरफ बढ़ रही ‘ये जउानी है दीवानी’ की गुणवत्ता से हम सभी वाकिफ हैं। हम दशकों से यही देखते आ रहे हैं। श्याम बेनेगल और अनुराग कश्यप जैसे चंद फिल्मकार ही होते हैं, जो तमाम दबावों के बावजूद सिनेमा के अपने उद्देश्य से नहीं भटकते। उनके विचार और फिल्मों से हमारी असहमतियां हो सकती हैं, लेकिन उनके इरादे और ईमानदारी पर शक नहीं किया जा सकता।
    प्रतिनिधि के तौर पर मैंने दो फिल्मकारों का नाम लिया। दोनों ने ही हिंदी फिल्मों को विस्तार और गहराई दी है। संयोग ऐसा है कि दोनों पर फिल्म फेस्टिवल का गहरा असर रहा है। पहले दर्शक और फिर निर्देशक के तौर पर फिल्म फेस्टिवल में दोनों की जबरदस्त भागीदारी मिलती है। हिंदी सिनेमा की चौहद्दी से बाहर निकलें तो बंगाली, उडिय़ा, तमिल, मलयालम और कन्नड़ में भी अनेक फिल्मकार मिल जाएंगे। दरअसल, सभी फिल्म फेस्टिवल के खाद-पानी से ही पुष्पित-पल्लवित हुए हैं। हिंदी फिल्मों में अगर संजीदा और सार्थक फिल्मकारों का अकाल दिखता है तो उसकी एक वजह यह भी है कि हिंदी प्रदेशों में फिल्म फेस्टिवल नहीं के बराबर हुए। फिल्म सोसायटी का अभियान और आंदोलन भी नहीं रहा। सिनेमा का कोइ्र कल्चर नहीं रहा है।
    इधर कुछ सालों में निजी और सांस्थानिक तरीके से विभिन्न रूपों में फिल्म फेस्टिवल का आयोजन बढ़ा है। स्वयं दैनिक जागरण ने पिछले तीन सालों में अपने फूटप्रिंट में जागरुकता बढ़ाई है। अनेक युवा महत्वाकांक्षाओं को फिल्म फेस्टिवल से दिशा मिली है। आवश्यक है कि फिल्म फेस्टिवल के महत्व और प्रभाव को सही ढंग से समझते हुए सहयोग और भागीदारी की जाए। हिंदी प्रदेशों की संभावनाएं असीम हैं। हिंदी फिल्मों में सक्रिय युवा फिल्मकारों की ताजा फेहरिस्त बना कर देख लें। इनमें से अधिकांश हिंदी प्रदेशों से ही आए हैं।

Wednesday, June 26, 2013

कृष 3 का फर्स्‍ट लुक


पढ़ लें धनुष के बारे में

धनुष को आप सभी ने देख लिया। अब उन्‍हें पढ़ भी लीजिए। 
तमिल सिनेमा के प्रिंस धनुष हिंदी फिल्मों में रांझणा से एक नई पारी का आगाज कर रहे हैं. रघुवेन्द्र सिंह इस सुपस्टार की विनम्रता से प्रभावित हैं
आजकल तमिल सिनेमा के इंटरनेशनल सुपस्टार धनुष का नाम मुंबई में सबकी जुबान पर है. आनंद एल राय की फिल्म रांझणा में इस तीस वर्षीय युवक ने स्कूल बॉय की भूमिका जीवंत करके सबको चौंका दिया है. सोनम कपूर के साथ उनकी जोड़ी को अपरंपरागत माना जा रहा है, लेकिन यही इस अभिनेता की विशेषता है. उनका चेहरा भी हिंदी फिल्मों के आदर्श हीरो जैसा नहीं है, लेकिन उनके व्यक्तित्व में ऐसा आकर्षण है, जो सबको उनका दिवाना बना देता है. अपने अतुलनीय अभिनय के लिए उन्होंने सबसे कम उम्र (29 वर्ष) में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार हासिल करने का कीर्तिमान अपने नाम किया है. अडुकलम (2011) के लिए ही सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का फिल्मफेयर अवॉर्ड भी उन्होंने जीता था. तमिल सिनेमा में 12 वर्षों से राज कर रहे धनुष ने दो वर्ष पहले कोलावरी डी गीत से विश्वस्तरीय लोकप्रियता हासिल करके सबको अचंभित कर दिया था.
वह दक्षिण भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में वह पले-बढ़े और खेले हैं. उनके पिता कस्तुरी राजा और बड़े भाई सिल्वाराघवन तमिल के स्थापित फिल्मकार हैं. वह इंजीनियर बनना चाहते थे, लेकिन किस्मत ने उनके लिए सिनेमा का सितारा बनना तय कर रखा था. सुपस्टार रजनीकांत की बेटी ऐश्वर्या से शादी करने के बाद, लोगों के मन में संशय था कि वह सातवें आसमान पर पहुंच जाएंगे, लेकिन उनकी विनम्रता और मृदुभाषिता की जितनी प्रशंसा की जाए, कम होगी. वक्त के साथ उनके प्रति लोगों का प्यार और सम्मान और बढ़ गया है.
फिल्मफेयर से एक खास मुलाकात में धनुष ने अपने जीवन की किताब खोलकर रख दी.
   

आप 2002 से तमिल फिल्मों में अभिनय कर रहे हैं. हिंदी फिल्मों में आने में इतनी देर क्यों हुई?
यह मौका मुझे अब मिला है. मेरा मानना है कि हर चीज का एक सही समय होता है. रांझणा जैसी स्क्रिप्ट मेरे पास अब आई और मुझे लगा कि यह रोल मेरे लिए ही लिखा गया है. 

आपके पास अनेक हिंदी फिल्मों के ऑफर आए होंगे, लेकिन आपने रांझणा को ही क्यों चुना?
रांझणा मेरे लिए एकदम परफेक्ट है. यह किरदार आइकॉनिक है. यह बहुत अच्छा किरदार है. मैं कुंदन के किरदार के आसानी से कनेक्ट कर सका. मैं इतना जानता हूं कि यह किरदार मेरे लिए ही लिखा गया है.

दक्षिण भारतीय होते हुए एक बनारसी लडक़े का किरदार निभाना आपके लिए चुनौती रही होगी?
मेरे लिए केवल एक चुनौती थी कि मैं हिंदी नहीं जानता था. यह मेरे लिए एक मुश्किल पक्ष था. लेकिन मुझे इस फिल्म की शूटिंग में बहुत मजा आया, क्योंकि इसके लेखक हिमांशु शर्मा ने हिंदी के मामले में मेरी मदद की. उन्होंने लाइंस को समझने में मेरी सहायता की. वो सब लोग बहुत अच्छे इंसान हैं, इसलिए इसकी शूटिंग को मैंने एंजॉय किया. हम नई जगहों पर गए और नए लोगों से मिले. इस वजह से हिंदी की कठिनाई थोड़ी कम हो गई. मैं कहना चाहूंगा कि मेरे लिए इसमें कोई चैलेंज नहीं था. 

हमने पर्दे पर अनेक प्रेम कहानियां देखी हैं. रांझणा की लव स्टोरी किस प्रकार अलग है?

रांझणा का साधारण प्यार ही इसका असाधारण पहलू है. जब आप इसे देखेंगे तो भूल जाएंगे कि यह एक फिल्म है. यह इतनी रियलिस्टिक है. इस फिल्म के 45 मिनट देखने के बाद मुझे तो ऐसा ही महसूस हुआ. इस फिल्म की विशेषता इसकी सरलता और सहजता है.

आप किस तरह के प्रेमी हैं?
मैं प्यार का इजहार करने में विश्वास करता हूं. मैं बहुत पॉजिटिव हूं. मुझे प्यार किया जाना अच्छा लगता है.

क्या आप बचपन के प्यार में यकीन करते हैं?
मैं हर तरह के प्यार में विश्वास करता हूं. प्यार केवल दूसरे के प्रति एक भावना नहीं है. यह एक अलग तरह का अहसास है. यह जरूरी नहीं है कि आपको अपने पहले प्यार से जुड़ाव होना चाहिए. यह एक अहसास है और इसका सम्मान किया जाना चाहिए.

आपने प्यार में सबसे क्रेजी चीज क्या की है?
मैंने जो भी किया, वह सब क्रेजी था (हंसते हैं). मैं अपने पहले प्यार पर एक फिल्म बना सकता हूं. मुझे नहीं पता कि मुझे अपने किस प्यार का चुनाव करना चाहिए, लेकिन मैं उसके बारे में बात करना चाहूंगा, जिसके साथ मैं हूं. मैं झूठ बोलकर किसी को चोट नहीं पहुंचाना चाहता.

कोलावरी डी की कामयाबी के बाद आपकी लोकप्रियता बहुत बढ़ गई. क्या आपकी पत्नी ऐश्वर्या (रजनीकांत की बड़ी बेटी) असुरक्षित महसूस करती हैं?
उन्हें असुरक्षित क्यों होना चाहिए? बल्कि वह बहुत खुश हैं. असुरक्षित महसूस करने का उनके पास कोई कारण नहीं है.

ऐश्वर्या से आपकी पहली मुलाकात कब हुई? अपनी लव स्टोरी के बारे में बताएं.
वह मेरी फिल्म का फस्र्ट डे फस्र्ट शो देखने थिएटर में गई थीं और मैं पब्लिक का रिएक्शन देखने के लिए वहां मौजूद था. यह मेरी दूसरी फिल्म (कढ़ाल कोंडें) थी. उन्हें फिल्म बहुत अच्छी लगी. बाद में, उन्होंने मुझे एक गुलदस्ते के साथ मैसेज भेजा, ''गुड जॉब एंड कीप इन टचÓÓ. और मैंने उस मैसेज को कुछ ज्यादा ही गंभीरता से ले लिया और आज देखिए हम दोनों कहां हैं (हंसते हैं).

सोनम कपूर के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा? क्या उन्होंने मुंबई को समझने या हिंदी के मामले में आपकी कोई मदद की?
सोनम कपूर के साथ काम करने का अनुभव शानदार रहा. वे मेरे साथ बहुत प्यार और धैर्य से पेश आईं. धैर्य इसलिए कह रहा हूं क्योंकि हिंदी पर मेरी पकड़ अच्छी नहीं थी, लेकिन वे इस बात को लेकर घबराई नहीं. उन्होंने मेरा पूरा सहयोग किया. उन्होंने कभी अपना स्टारडम दिखाने की कोशिश नहीं की. उन्होंने कभी ऐसे बर्ताव नहीं किया कि वे सुपरस्टार हैं. वे डाउन टू अर्थ हैं. वे रोज अपने घर से हम लोगों के लिए खाना लाती थीं. वे स्वीटहार्ट हैं. जहां तक हिंदी की बात है, तो आनंद सर और हिमांशु अधिकतर समय मेरी मदद करते थे. अगर जरूरत होती थी, तो सोनम स्पॉट पर मेरी मदद करती थीं. सोनम ने क्या किया कि मुझे सहज करवाया. वह मेरे लिए बड़ी मदद थी.

आपको साउथ में राजकुमार माना जाता है. आप रजनीकांत के दामाद हैं. रांझणा साइन करते समय किसी प्रकार का प्रेशर था? 
बिल्कुल नहीं. कर्नाटक में लोग मुझे रजनीकांत का दामाद मान कर सम्मान देते हैं, लेकिन जब मैं उत्तर भारत में आता हूं, तो लोग मुझे कोलावरी वाला कहकर बुलाते हैं (हंसते हैं). जब भी मैं बाहर निकलता हूं, तो लोग कहते हैं, वो देखो कोलावरी वाला, कोलावरी वाला. तो रांझणा साइन करते समय मैं कोलावरी वाला था.

क्या आप रजनीकांत से किसी प्रकार का सुझाव लेते हैं?
नहीं, बिल्कुल नहीं. मैं अपने फैसले खुद लेता हूं.

रजनीकांत से किस तरह का रिश्ता आप शेयर करते हैं? एक दोस्त का या फिर ससुर-दामाद का औपचारिक रिश्ता?
हमारा रिश्ता बहुत स्पेशल और अलग है. मैं शब्दों में इसे बयां नहीं कर सकता. यह शब्दों से परे है. यह मेरे लिए बहुत कीमती है. हम दोनों एक-दूसरे के प्रति ईमानदार हैं. यह रिश्ता अपने आप में अनूठा है.

वो घर में कैसे रहते हैं? ऐसा कहा जाता है कि वह अपनी स्क्रीन इमेज को पर्सनल लाइफ में नहीं लाते?
मुझे उनके बारे में बात नहीं करनी चाहिए. यह उचित नहीं होगा. मैं अपने जीवन के बारे में बात कर सकता हूं, लेकिन उनके नहीं.

अमिताभ बच्चन ने कोलावरी डी की प्रशंसा की थी. उनके साथ अपने संबंध के बारे में कुछ बता सकते हैं?
ईमानदारी से कहूं तो मैंने बच्चन साहब को दूर से देखा है. आठ साल पहले मेरी शादी में वो आए थे. उसके बाद उनसे मेरी मुलाकात नहीं हुई. फिर जब कोलावरी डी आया, तो उन्होंने उसके बारे में ट्विट किया. कोलावरी डी की शानदार सफलता के कारणों में से एक वो हैं. उनके एक ट्विट ने इसे चर्चित कर दिया. बाद में, एक अवॉर्ड फंक्शन में मैंने कोलावरी डी को उन्हें समर्पित किया. मैंने इसके बोल बदल दिए और इस धुन पर उनके बारे में गाया. इसके बदले में उन्होंने मुझे अपने गले लगाया, वह अहसास मेरे दिल के हमेशा करीब रहेगा. ऐसा नहीं है कि मैं उनके बहुत नजदीक हूं, उनके लिए मेरे दिल में बहुत सम्मान है. वह मुझे प्रेरित करते हैं. उनके साथ मुझे कुछ ऐसे पल मिले हैं, जिन्हें मैं जिंदगी भर याद करता रहूंगा.

कोलावरी डी ने किस प्रकार आपकी जिंदगी को परिवर्तित किया?
सबकी जिंदगी में एक हाई पॉइंट आता है. कुछ लोगों के जीवन में यह नौकरी हो सकती है, कुछ के लिए कार हो सकती है. मेरे लिए कोलावरी डी मेरे जीवन का हाई पॉइंट था.

जावेद अख्तर ने इसके लिरिक्स की आलोचना की. आपको इस बात से ठेस पहुंची?
बिल्कुल नहीं. मुझे इस इंडस्ट्री में आए काफी साल हो गए. पहले मैं इस तरह की टिप्पणियों से विचलित हो जाता था, लेकिन बाद में मुझे अहसास हुआ कि हर व्यक्ति को अपने विचार रखने का अधिकार है. कुछ लोगों को वह अच्छा लग सकता है और कुछ को बुरा. मुझे इस बात की खुशी है कि मेरा गाना जावेद साहब जैसे लीजेंड तक पहुंचा. हम सबको इस बात की खुशी थी कि यह गाना इस लेवल के लोगों तक पहुंच सका. मैं उनकी इस टिप्पणी को सकारात्मक रूप से लेता हूं. यह उनके विचार हैं और मैं उनके विचारों का सम्मान करता हूं.

आनंद एल राय के साथ कैसा अनुभव रहा?
आनंद जी मेरे सीक्रेट सैंटा हैं. मैं उनके जैसा बनना चाहूंगा. अनेक कारणों में से एक वो हैं, जिनकी वजह से मैं हिंदी फिल्मों में यकीन करता हूं. वह हमेशा दूसरों के हित के बारे में सोचते हैं. वह बहुत सुलझे इंसान हैं. उन्होंने सेट पर मुझे बहुत अच्छे से रखा. मुझे नहीं पता कि रांझणा से मुझे प्रोफेशनल लाइफ में क्या मिलेगा, लेकिन मुझे इसका यकीन है कि मुझे एक बहुत अच्छा इंसान भाई के रूप में मिल चुका है.

क्या यह सच है कि आप आनंद राय के साथ एक हिंदी फिल्म बनाने जा रहे हैं?
हां, हमारी ऐसी योजना है. लेकिन हम अभी उसके बारे में बात कर रहे हैं. हिंदी फिल्मों में मैं आगे क्या करूंगा, यह रांझणा की रिलीज के बाद पता चलेगा.

क्या आप हिंदी फिल्मों में गाने के लिए तैयार हैं?
बिल्कुल, और क्यों नहीं? अगर मुझे मौका मिलता है, तो मैं जरूर हिंदी फिल्म में गाना गाना चाहूंगा.

हिंदी और तमिल फिल्म इंडस्ट्री में आपने क्या फर्क महसूस किया?
कोई फर्क नहीं है. केवल भाषा अलग है. कल्चर के मामले में भी थोड़ा विभिन्नता है. भावनाएं एक ही हैं. फिल्मों के लिए लोगों को प्यार भी एक समान ही है. मुझे कोई बड़ा अंतर नहीं दिखा.

क्या दक्षिण भारतीय फिल्मों के हिंदी रिमेक के आप पक्षधर हैं?
आजकल हिंदी फिल्मों का रिमेक तमिल में हो रहा है, तो तमिल फिल्मों का हिंदी में रिमेक होना चाहिए. तमिल फिल्मों का तेलुगू और कन्नड़ में रिमेक होता है. ऐसा हर इंडस्ट्री में हो रहा है. इसमें गलत बात नहीं है. यह एक अच्छी चीज है.

अपनी कौन-सी फिल्म का आप चाहेंगे कि हिंदी में रिमेक हो?
मैं चाहता था कि पोल्लाधवन (२००७) हिंदी में बने. लेकिन मैंने सुना है कि किसी ने उसके अधिकार खरीद लिए हैं और इसे हिंदी में बना रहा है.

क्या आपको इस बात का डर है कि आपको हिंदी फिल्म दर्शकों के बीच स्वीकृति मिलेगी या नहीं?
नहीं, मेरे अंदर ऐसी कोई फीलिंग नहीं है. मैं नर्वस भी नहीं हूं. बल्कि मैं तो खुश हूं कि मैं रांझणा जैसी फिल्म कर सका. और मैं ऐसे लोगों के बीच हूं, जो वाकई अच्छे इंसान हैं. मैंने जितनी चाह की थी, उससे कहीं ज्यादा ईश्वर ने मुझे दिया है. इसलिए जिंदगी से मेरी कोई अपेक्षा नहीं है. इसलिए मुझे कभी निराशा नहीं होती और मैं सरप्राइजेज के लिए हमेशा तैयार रहता हूं.

कोलावरी डी के बाद कोई क्रेजी फैन मोमेंट, जो आप शेयर कर सकें.
मुझे लगता है कि कोलावरी डी अपने आप में सबसे क्रेजी चीज थी. मेरे हिसाब से कोलावरी डी का हर वर्जन, सोनू निगम के बेटे के वर्जन के अलावा, जो इंटरनेट पर आया, मेरे लिए क्रेजी था.

हमने आपको रांझणा के सेट पर देखा. आपमें कोई स्टार वाला एट्टियूड नहीं है. क्या आप ऐसे ही हैं?
आपने मुझे वैसे ही देखा, जैसा मैं हूं. मुझे ऑफ कैमरा एक्टिंग करनी नहीं आती (हंसते हैं). यह हमेशा से मेरी समस्या रही है.

आप एक्टिंग में कैसे आए?
मैंने एक्टिंग में आने का फैसला नहीं किया था. मैं हमेशा एक इंजीनियर बनना चाहता था, लेकिन इस करियर ने मुझे चूज किया. मेरे पिता (कस्तूरी राजा) एक निर्माता-निर्देशक हैं. मुझे याद है कि एक इमर्जेन्सी आ गई थी और उन्हें एक सप्ताह में अपनी फिल्म की शूटिंग शुरू करनी थी और उस रोल के लिए उन्हें एक स्कूल बॉय की जरूरत थी और उस समय मैं स्कूल में था. बस, मैं आ गया फिल्मों में.

ऐसा कहा जाता है कि शादी के बाद स्टार्स की फैन फॉलोइंग कम हो जाती है. क्या आप मानते हैं?
मेरे साथ ऐसा कुछ नहीं हुआ है.

क्या आप मानते हैं कि एक स्टार को कम उम्र में शादी नहीं करनी चाहिए?
बिल्कुल नहीं. लोगों को उस समय शादी कर लेनी चाहिए, जब उन्हें लगे कि यह सही समय है.

आप दो बच्चों (यात्रा और लिंगा) के पिता हैं, जिस बात पर आपको देखने के बाद कोई यकीन नहीं करेगा. क्या आप सख्त पिता हैं?
मैं किसी भी दूसरे पिता की तरह हूं. एक पिता के तौर पर मेरे अंदर कोई स्पेशल बात नहीं है. मैं अपने बच्चों के लिए एक नॉर्मल डैड हूं. हर पिता अपने बच्चों के लिए बेस्ट करना चाहता है और मैं भी ऐसा ही करता हूं. हर पिता चाहता है कि उसके बच्चे हर चीज में सबसे आगे हों, ऐसा ही मैं भी चाहता हूं.

आपके बच्चे एक सेलीब्रिटी परिवार में बड़े हो रहे हैं, आप उन्हें ग्राउंडेड कैसे रखते हैं?
मुझे इस तरह का कोई प्रयास नहीं करना पड़ा है क्योंकि मेरा बड़ा बेटा छह साल का है और छोटा तीन साल का है. हां, मैं उन्हें मीडिया से दूर रखने की हर संभव कोशिश करता हूं. मैं उन्हें एक सामान्य बचपन देने की कोशिश करता हूं.

हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में किन निर्देशकों के साथ आप काम करना चाहते हैं?
मैं राजकुमार हिरानी, अनुराग बासु, अनुराग कश्यप और अभिषेक कपूर के साथ  काम करना पसंद करूंगा.

आप इनके बारे में कैसे जानते हैं? क्या आपने इनकी फिल्में देखी हैं?
नहीं, ऐसा नहीं है. मेरे पास फिल्में देखने के लिए समय नहीं मिल पाता, लेकिन ये निर्देशक हैं, जिनका नाम मेरे दिमाग में घूमता रहता है, इसलिए मैंने इनका नाम लिया.

आप किन एक्ट्रेसेस के साथ रोमांस करना चाहते हैं?
यह मेरे निर्देशकों पर निर्भर करेगा (हंसते हैं).

हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में आपके दोस्त कौन हैं?
फिलहाल, आनंद सर, हिमांशु, सोनम कपूर, स्वरा भास्कर, जिशान और मेरे सिनेमैटोग्राफर विशाल सर.

Tuesday, June 25, 2013

रघु और तारा का शुद्ध देसी रोमांस

रघु (सुशांत सिंह राजपूत) और तारा (परिणीति चोपड़ा) का 'शुद्ध देसी रोमांस'।
मनीष शर्मा निर्देशित आदित्‍य चोपड़ा की यह फिल्‍म 13 सितंबर 2013 को रिलीज होगी।
 

Sunday, June 23, 2013

शाहरूख खान से अजय ब्रह्मात्‍मज की बातचीत

-अजय ब्रह्मात्‍मज 
( कुछ कारणों से फिलहाल पूरा इंटरव्‍यू यहां नहीं दे रहा हूं। चवन्‍नी के पाठकों के सवालों के जवाब मेरे पास ही हैं। जल्‍दी ही सब कुछ यहां होगा।धैर्य रखें। मैंने रखा है।)
शाहरुख खान के परिचित जानते हैं कि वह बेलाग बातें करते हैं। उनके जवाबों में जिंदगी का अनुभव और दर्शन रहता है। धैर्यवान तो वह पहले से थे, फिलहाल उनका एक ही मकसद है कि कैसे ज्यादा से ज्यादा खुश रहें और दूसरों को खुश रखें। इस बातचीत में कई बार उनका गला रुंधा। बच्चों की बातें करते हुए आवाज लरजी। माता-पिता को याद करते समय उनके स्वर का कंपन सुनाई पड़ा। शाहरुख निजी जीवन में भी खुद को किंग मानते हैं और किसी बादशाह की तरह सब कुछ मुट्ठी में भरना चाहते हैं। एक फर्क है, उनकी मुट्ठी जब-तब खुल भी जाती है दोस्तों और प्रशंसकों के लिए, परिवार के लिए तो वे समर्पित हैं ही...

चर्चा तो यह थी कि आप रोहित शेट्टी के साथ 'अंगूर' करने वाले थे, फिर 'चेन्नई एक्सप्रेसÓ में कैसे सवार हो गए? क्या है आपकी इस अगली फिल्म की थीम?
दोनों ही रोहित के आइडिया थे और अंतत: मुझे मिली चेन्नई एक्सप्रेस। मेरे लिए यह बड़ी फिल्म है। इसमें मुंबई से मैं अपने दादा की अस्थियां रामेश्वरम में बहाने जा रहा हूं। यही दादा की आखिरी इच्छा थी। मेरे मन में है कि रामेश्वरम जाने के बजाए गोवा चला जाऊंगा। अस्थियां तो कहीं भी बह जाएंगी। सोच रखा है कि थोड़ी मौज-मस्ती करके लौट आऊंगा। स्टेशन पर दादी से झूठ बोलकर मैं दक्षिण भारत जा रही एक ट्रेन में चढ़ जाता हूं कि कल्याण में उतर कर कोई और ट्रेन ले लूंगा। कुछ ऐसा होता है कि मैं उस ट्रेन से उतर नहीं पाता। ट्रेन की वह गलत जर्नी मुझे जिंदगी का सही रास्ता दिखा देती है। दार्शनिक स्तर पर यही थीम है। दूसरी परत यह है कि अपने ही देश में हम एक-दूसरे की भाषा नहीं समझते। एक-दूसरे के लिए एलियन हैं। चेन्नई एक्सप्रेस की जोड़ी देश की बात करती है। चेन्नई एक्सप्रेस बताती है कि यह देश क्यों एक है?

फिल्मी गलियारों में चर्चा है कि यह फिल्म न चली तो आपका क्या होगा?क्या होगा? सबकुछ बेचकर चला जाऊंगा? मुझ पर बीस-बाइस सालों से यही सवाल मंडराता रहता है। हमेशा मेरी ही चिंता क्यों की जाती है? कोई नया आता है तो मैं खत्म हो जाता हूं। कोई पुराना आगे बढ़ता है तो मेरे खत्म होने की बात की जाती है। मुझे यह सब सुनकर अच्छा नहीं लगता। बच्चे बड़े हो गए हैं। वे पढ़ते हैं तो उन्हें भी बुरा लगता है। मैं बहुत कम फिल्में करता हूं। जो करता हूं, उन्हें बहुत यकीन से करता हूं। इतना वादा करता हूं कि अपनी दुकान चलाता रहूंगा।

लोग कहते हैं कि आप फिल्मों में काम करने के पैसे नहीं लेते। अगर यह सच है तो आपका कारोबार कैसे चलता है?
पैसों के लिए मैं अवॉर्ड फंक्शन और शादियों में नाचता हूं। एड फिल्में करता हूं। यकीन करें फिल्में अभी तक मेरा धंधा नहीं हैं। कैसी भी फिल्म हो उसे दिल से करता हूं। सिंपल सी बात बताता हूं। मैं 300 दिन रोजाना 18 घंटे काम करता हूं। 18 घंटे काम कर लौटता हूं तो बीवी-बच्चों से बात करता हूं और सो जाता हूं। जहां 18 घंटे काम करता हूं, वहां दिल से काम करता हूं। ये जो घर है, गाड़ी है, नाम है; इसके लिए मेहनत करता हूं। चोट भी लगती है। अभी हाथ का ऑपरेशन कराकर बैठा हूं। चोट लगने पर ही छुट्टी मिलती है। 22 सालों के कॅरियर में एक भी फिल्म किसी और वजह से नहीं की। मैंने कमाई के वैकल्पिक रास्ते बना लिए हैं।

लेकिन इसकी वजह से आपकी बदनामी भी हुई कि शाहरुख लोगों की शादी में नाचते हैं...नाचने और एंकरिंग करने की बदनामी से मुझे फर्क नहीं पड़ता। मैं यह तो कह सकता हूं न कि फिल्मों में कभी चोरी नहीं की। मेरी आत्मा सच्ची है। फिल्मों से मैं कभी समझौता नहीं कर सकता। मेरी इज्जत इसी वजह से है कि मैंने फिल्मों को धंधा नहीं बनाया। इसके बावजूद ऐसा नहीं है कि लोग मुझे पैसे नहीं देते। डॉन में उन्होंने मुझे पार्टनर बना दिया। अभी तक उसके पैसे आते रहते हैं। स्वदेस के समय आशुतोष को बोला था कि पैसे बच जाएं तो मुझे दे देना। उनके पैसे नहीं बचे। फिल्म नहीं चली तो भी मेरा धंधा तो चल ही रहा है। निर्माता-निर्देशक दो साल में एक फिल्म बनाते हैं। फिल्म नहीं चली तो मेरा क्या दायित्व बनता है? मैं आपसे पैसे वसूल लूं क्या? अरे भाई मेरे तो 21 धंधे चल रहे हैं। मेरे पास पैसे आ रहे हैं। आपसे कुछ करोड़ ले लूंगा तो क्या हो जाएगा? मैं किसी अहंकार से यह नहीं बोल रहा हूं। लोग मुझे किंग खान कहते हैं तो सच है न कि राजा कुछ मांगेगा नहीं। अगर आप कमाओगे तो खुद ही दे दोगे। मैं ऐसा कर ही नहीं सकता कि निर्माता मर जाए, लेकिन वह मेरे पैसे दे दे।

आपकी पूरी मेहनत, काबिलियत, उपलब्धियों और कामयाबी का हासिल क्या है?
(ठहर कर) मुझे नहीं मालूम पर कोशिश है कि उन लोगों से मिलूं या उनके साथ काम करूं, जिनसे मिलकर खुशी होती है। काम तो भांडगिरी का ही है। सभी प्रशंसकों से मिल लूं। वे ट्विटर, फेसबुक और अन्य सोशल मीडिया नेटवर्क पर इतना प्यार जताते हैं। रियल लाइफ में दुनियाबी तरीके से देखें तो माशाअल्लाह घर अच्छा है। पैसे अच्छे हैं। बच्चों को अच्छी पढ़ाई मिल जाएगी। मेरे मां-बाप ने मेरे लिए घर नहीं छोड़ा था। वे बहुत सारी सीख छोड़ कर गए थे। उसकी वजह से मैं कुछ बन गया। मुझे एक कदम आगे चलना है। मेरा हासिल मेरे बच्चे आर्यन और सुहाना ही हैं। मैंने अपने बच्चों को सीख के साथ एक घर भी दे दिया। उनके सिर पर छत रहेगी। उम्मीद है कि वे मुझसे ज्यादा कमाएंगे। उम्मीद है मैं उनके साथ ज्यादा रहूंगा। मेरे मां-बाप मेरे साथ नहीं रहे। मन दुखी होता है तो कमी महसूस होती है- काश, मम्मी-डैडी होते। जाकर उनके पास बैठ जाता। मां बूढ़ी हो गई होती। मैं उसकी गोद में सो जाता।

आपके माता-पिता ने आपको जिंदगी के क्या सबक दिए? उनमें से आपने अपने बच्चों को क्या दिया?
मेरे पिता में बहुत धैर्य था। स्वीकार करने की उनकी क्षमता अद्भुत थी। वे जज नहीं करते थे। आप जैसे भी हो, रहो। वे लक्षण, चरित्र, स्वभाव, मिजाज की बातें ही नहीं करते थे। बच्चों को मैंने 'सेंस ऑफ कंपटीशन' दिया है। कुछ करो तो उसमें श्रेष्ठ हो, ये कोशिश करो।

कभी अकेले नहीं होते शाहरुख खान...?
अगर चोटी पर हूं तो अकेला हूं। अभी बातें चल रही हैं कि नीचे आ गया हूं। यह एक तरह से अच्छा ही है। दो-चार लोग साथ में मिल जाएंगे। मजाक छोड़ें, असल जिंदगी में मैं निहायत अकेला हूं। फिल्मों में काम करते-करते कहीं पर बेसिक और नॉर्मल जिंदगी से मेरा टच खत्म हो गया है। बीवी और बच्चों से अटूट रिश्ता है। बाकी से मुझे निभाना ही नहीं आता। शायद वक्त की कमी से रिश्ता बनाना नहीं आता। मुझे लगता है कि मेरा एक गाना मेरी जिंदगी का बयान करता है- मुझसे लायी भी नहीं गई और निभायी भी नहीं गयी। मैं तोड़ भी नहीं पाता, जोड़ भी नहीं पाता। मैं चार दोस्तों के साथ मिलकर हंसता-खेलता नहीं। मैं इन चीजों को मिस करता हूं। शायद मेरी उम्र हो गई है। मैं उस दिन अपनी बीवी से पूछ रहा था कि तुम लोग कैसे इतनी देर तक साथ बैठे रहते हो? गप्पें मारते हो। चाय पीते हो। पार्टी होती है। बच्चों से भी यही सवाल पूछा। वे हंस पड़े। मुझे यह अरेंज करना ही नहीं आता।

इस अकेलेपन में क्या करते हैं?
अकेला होने पर मैं किताबें पढ़ता हूं। मूड करता है तो लिखता हूं। मेरी आत्मकथा अभी तक पड़ी हुई है। काफी लिखी जा चुकी है। अभी भी लिख रहा हूं। अभी यही उत्साह है कि चोट लगी है तो इस छुट्टी के दौरान आत्मकथा लिख दूं।

क्या कोई बॉयोग्राफर शाहरुख खान को महसूस कर पाया?
सच कहूं, मैंने खुद पर लिखी एक भी किताब नहीं पढ़ी है। बहुत पहले भट्ट साहब ने कहा था कि अपने ऊपर लिखे लेख और किताबें पढऩा सबसे बड़ी गलती है। मैं ऐसी गलती नहीं करता। उन्होंने कहा था कि तुमसे बेहतर तुमको कौन जानता है? फिर क्यों मोटी-मोटी किताबें पढ़ूं?
 
सर्कस की सीख
 
''सर्कस के दिनों में के.एन. सिंह के बेटे पुष्कर उस सीरियल के चीफ असिस्टेंट थे। एक बार उनके साथ के.एन. सिंह से मिलने गया था। तब वे देख नहीं सकते थे। उन्होंने पास बुलाया और मेरे चेहरे को उंगलियों से टटोला। उन्होंने एक ही बात कही ऑबजर्व, एबजर्व एंड टेक इट आउट ऑफ योर सिस्टम व्हेन कॉल्ड अपॉन टू डू सो। (देखो और आत्मसात करो। जब करने के लिए कहा जाए तो अपने सिस्टम से उसे निकालो और उड़ेल दो)। सच कहूं तो मैं वही करता रहा हूं। डायरेक्टर के एक्शन बोलते ही अपने अनुभव उड़ेल देता हूं।''
 
जब याद मेरी आए
 
''मैं चाहूंगा कि लोग मुझे इस बात के लिए याद रखें कि शाहरुख ने कोशिश बहुत की थी। मेरी कब्र पर लिखा हो - हियर लाइज शाहरुख खान एंड ही ट्रायड (यहां शाहरुख खान लेटे हैं। उन्होंने बहुत कोशिशें की थीं) मेरी कामयाबी मत गिनो, कोशिशें गिनो। मेरी कोशिशें ही मेरा हासिल हैं।''

स्टारडम का कवच
 
''आरंभिक दो-चार मुलाकातों में मैं लोगों को बहुत भाता हूं। मैं अमूमन बदतमीजी नहीं करता। बहुत प्यार से मिलता हूं। लोगों को लगता है कि इतना बड़ा स्टार होकर भी इतना विनम्र है? फिर कुछ मुलाकातें हो जाती हैं तो उन्हें लगने लगता है कि मैं एक्टिंग करता हूं। तीसरे फेज में मैं लोगों को अनरियल लगने लगता हूं। मुझे भी ऐसा लगता है कि जब लोग मेरे बहुत करीब आ जाते हैं तो मेरा और उनका तालमेल नहीं रह जाता। स्टारडम का कवच किसी को भी मेरे करीब नहीं आने देता।''


अलग है मेरा मिजाज
 
''मेरी सोच थोड़ी सी अलग है। आजाद खयाल हूं। बहुत खुले दिमाग का हूं। अलग किस्म का दिल है मेरा। मैं गलतियां माफ कर देता हूं तो लोग समझते हैं कि मैं डर गया। मैं संवेदनशील होकर बुरा मान जाता हूं तो लोग कहते हैं कि पता नहीं यह अपने आपको क्या समझता है?''
--

Saturday, June 22, 2013

फिल्‍म समीक्षा : एनिमी

21_06_2013-enemy -अजय ब्रह्मात्‍मज 
मुंबई के पुलिस विभाग के चार अधिकारियों को जिम्मेदारी मिली है कि वे अंडरव‌र्ल्ड के चल रहे गैंगवार को समाप्त कर शहर में अमन-शांति बहाल करें। वे अपनी शैली में इस उद्देश्य में एक हद तक सफल होते हैं, लेकिन दिल्ली से आए सीबीआई के आला अधिकारी की जांच-पड़ताल से कुछ और बातें पता चलती हैं। राजनीति और अंडरव‌र्ल्ड के तार जुड़ते दिखाई पड़ते हैं।
राजनीति, अपराध और मुंबई की पृष्ठभूमि पर अनेक फिल्में बन चुकी हैं। आशु त्रिखा की नई पेशकश 'एनिमी' कुछ नए ट्विस्ट और टर्न के साथ आई है। उन्होंने बार-बार देखी जा चुकी कहानियों में ही नवीनता पैदा करने कोशिश की है। कुछ नए दृश्य गढ़े हैं। अनुभवी अभिनेताओ को मुख्य किरदार सौंपा है। ड्रामा और एक्शन का स्तर बढ़ाया है। फिर भी 'एनिमी' अपनी सीमाओं से निकल नहीं पाती।
इस फिल्म में हालांकि अनेक किरदार हैं, लेकिन गौर करें तो मुख्तार के इर्द-गिर्द ही कहानी चलती है। मुख्तार की भूमिका में जाकिर हुसैन ने अपना श्रेष्ठ प्रदर्शन किया है। वे उम्दा अभिनेता हैं। मिले हुए अच्छे, साधारण और बुरे मौके में भी वह कुछ नया कर जाते हैं। उनके चरित्र को गढ़ने में लेखक-निर्देशक ने मेहनत भी की है।
'एनिमी' में सुनील शेट्टी, मिथुन चक्रवर्ती, जॉनी लीवर, के के मेनन और महाअक्षय ने अपने किरदारों को जीवंत करने की भरपूर कोशिश की है। जॉनी लीवर अभिनय की अपनी आदतों से इस भिन्न किरदार में भी बाज नहीं आते। के के मेनन और सुनील शेट्टी की मेहनत दिखाई पड़ती है। फिल्म में मिथुन चक्रवर्ती और उनके पुत्र महाअक्षय पर विशेष ध्यान दिया गया है। जहां पिता मिथुन के लिए सब कुछ आसान रहा है, वहीं बेटा महाअक्षय हर दृश्य में जूझते नजर आते हैं।
आठवें-नौवें दशक की मारधाड़ की मसाला फिल्मों की शैली में बनी ऐसी फिल्मों के दर्शक आज भी मौजूद हैं। उन्हें यह फिल्म भाएगी, लेकिन आशु त्रिखा को अपनी प्रतिभा का उपयोग कुछ बेहतर विषयों के चित्रण करना चाहिए।
अवधि-129 मिनट
** दो स्टार

फिल्‍म समीक्षा : शॉर्टकट रोमियो

21_06_2013-romeo -अजय ब्रह्मात्‍मज 
सुसी गणेश ने अपनी तमिल फिल्म 'थिरूट्टु पायले' को हिंदी में 'शॉर्टकट रोमिया' टायटल के साथ पेश किया है। बताया जा रहा है कि उन्होंने फिल्म में कुछ नए दृश्य जोड़े हैं और इसका स्केल बढ़ा दिया है। फिल्म की कहानी केन्या जाती है और वहां के वन्यजीवों का भी दर्शन कराती है। तमिल में यह फिल्म हिट रही थी, मगर हिंदी में इसे दर्शकों की पसंद बनने के आसार कम हैं।
एक तो फिल्म के सारे किरदार निगेटिव शेड के हैं। फिल्म के नायक सूरज के मामा के अलावा किसी में भी अच्छाई नजर नहीं आती। सभी किसी न किसी प्रपंच में लगे हुए हैं। शांतचित्त दिखने वाला किरदार तक अंत मे खूंखार नजर आता है। जल्दी से अमीर बनने की ख्वाहिश के साथ सूरज ब्लैकमेलिंग की दुनिया में घुस जाता है। सूरज (नील नितिन मुकेश) और मोनिका (अमीषा पटेल) के बीच एक-दूसरे को मात देने की चालें चली जाती हैं। सूरज शातिर और बदमाश है। वह प्रेम और रिश्तों में यकीन नहीं करता। अपनी चालबाजी के दौरान ही उसकी मुलाकात शेरी उर्फ राधिका से हो जाती है। राधिका का एक चुंबन उसे सच्चे प्रेम का एहसास दिला देता है। राधिका की शर्त पर वह सब कुछ छोड़ कर सामान्य जिंदगी में प्रवेश करना चाहता है, लेकिन तब तक देर हो चुकी होती। हिंदी फिल्मों ने हमें बताया है कि बुरे काम का बुरा नतीजा होता है। हम सूरज को ऐसे ही बुरे नतीजे का शिकार होते देखते हैं।
फिल्म में दृश्यों और एक्शन के दोहराव हैं। फिल्म ऊब पैदा करने तक दृश्यों को बढ़ाती चलती है। पता नहीं चलता कि यह निर्देशक की अयोग्यता है या उनका चरम विश्वास..लेकिन फिल्म के प्रति रुचि नहीं बनी रहती। नील नितिन मुकेश फिल्म के केंद्र में हैं। उन्हें पर्याप्त दृश्य मिले हैं एक्शन और इमोशन के..जिन्हें वे स्टायल की बलि चढ़ा देते हैं। कुछ अभिनेता स्टायल को ही एक्टिंग समझने की गलती कर बैठते हैं। पर अभिनेता से अधिक दोषी लेखक और निर्देशक है, जो शूटिंग के समय उन्हें सचेत नहीं करते।
'शॉर्टकट रोमियो' एक ऊबाऊ फिल्म है। अमीषा पटेल, नील नितिन मुकेश, बंटी ग्रेटाल और राजेश श्रृंगारपुरे चारों मुख्य अभिनेताओं ने निराश किया है। पूजा गुप्ता ठीक हैं, मगर उन्हें सीमित दृश्य ही मिले हैं। फिल्म अनावश्यक रूप से लंबी है। एक्शन दृश्यों की डिटेलिंग से कानों में हथौड़े चलने लगते हैं। पता नहीं चलता, लेकिन फिल्म के प्रति बेरूखी बढ़ती जाती है। आखिरकार हम ठगे महसूस करते हैं।
अवधि-147 मिनट
** दो स्टार

Friday, June 21, 2013

फिल्‍म समीक्षा : रांझणा

-अजय ब्रह्मात्‍मज 
अगर आप छोटे शहरों, कस्बों और गांवों में नहीं रहे हैं तो 'रांझणा' का कुंदन बेवकूफ और बच्चा लगेगा। उसके प्रेम से आप अभिभूत नहीं होंगे। 21वीं सदी में ऐसे प्रेमी की कल्पना आनंद राय ही कर सकते थे। उसके लिए उन्होंने बनारस शहर चुना। मुंबई और दिल्ली के गली-कूचों में भी ऐसे प्रेमी मिल सकते हैं, लेकिन वे ऊिलहाल सिनेमा की नजर के बाहर हैं। बनारस को अलग-अलग रंग-ढंग में फिल्मकार दिखाते रहे हैं। 'रांझणा' का बनारस अपनी बेफिक्री, मस्ती और जोश के साथ मौजूद है। कुंदन, जोया, बिंदिया, मुरारी, कुंदन के माता-पिता, जोया के माता-पिता और बाकी बनारस भी गलियों, मंदिरों, घाट और गंगा के साथ फिल्म में प्रवहमान है। 'रांझणा' के चरित्र और प्रसंग के बनारस के मंद जीवन की गतिमान अंतर्धारा को उसकी चपलता के साथ चित्रित करते हैं। सिनेमा में शहर को किरदार के तौर पर समझने और देखने में रुचि रखने वाले दर्शकों के लिए 'रांझणा' एक पाठ है। फिल्म में आई बनारस की झलक सम्मोहक है।
'रांझणा' कुंदन और जोया की अनोखी असमाप्त प्रेम कहानी है। बचपन में ही कुंदन की दुआ जोया की नमाज में पूरी होती दिखती है। पहली झलक में ही जोया उसे प्रिय लगने लगती है। उम्र बढ़ने के साथ 16 थप्पड़ों के बाद भी कुंदन उसे रिझा नहीं पाता तो भावावेश में उसके सामने कलाई काट लेता है। किशोरी जोया उसके भावातिरेक को समझ नहीं पाती। वह उसके गले लग जाती है। कुंदन के एकतरफा प्यार के लिए यह स्वीकृति है, जबकि जोया की अनायास प्रतिक्रिया.. बहरहाल, खबर जोया के पिता तक पहुंचती है। जोया पहले अपनी फूफी के पास अलीगढ़ भेज दी जाती है। वहां से आगे की पढ़ाई के लिए वह जेएनयू चली जाती है। इधर बनारसी आशिक अपनी जोया के इंतजार में दिन गुजार रहा है। जेएनयू से जोया लौटती है तो फिर से मुलाकातें होती हैं। जोया बातों ही बातों में उसे अपने जेएनयू के प्रेमी के बारे में बता देती है। यहां से 'रांझणा' हिंदी फिल्मों की आम प्रेम कहानी नहीं रह जाती है।
कबीर से लेकर अनेक कवियों ने प्रेम, प्यार, मोहब्बत की भावनाओं को अलग-अलग रूपों और शब्दों में व्यक्त किया है। कुंदन के प्रेम के लिए कबीर की यह पंक्ति उचित होगी, 'प्रेम पियाला जो पिए, शीश दक्षिणा देय।' कुंदन अपनी जोया के लिए किसी हद तक जा सकता है। दुनियावी अर्थो में वह व्यावहारिक और समझदार नहीं है। उसे तो जोया के प्यार की धुन ल“ी है। वह उसी में रमा रहता है। अपने दोस्त मुरारी को मुसीबतों में डालता है और बचपन की दोस्त बिंदिया के प्रेम की परवाह नहीं करता। जोया को हासिल करना उसका लक्ष्य नहीं है। उसके प्रेम के विचित्र लक्षण हैं। उसका दिल सीने के बीच में अटक गया है, इसलिए उसे बाएं या दाएं दर्द महसूस नहीं होता।
आनंद राय ने बहुत खूबसूरती और सोच से कुंदन के चरित्र को गढ़ा है। बाकी किरदारों में भी उनकी सोच झलकती है, लेकिन कुंदन अप्रतिम है। कुंदन के स्वभाव को समझने के लिए इस नाम के शाब्दिक और लाक्षणिक अर्थ को भी समझना होच्च। हिंदी फिल्मों में नायक का इतना उपयुक्त नाम लंबे समय के बाद सुनाई पड़ा है। यह नाम ही उसके चरित्र का बखान कर देता है। 'तपे सो कुंदन होय'.. पवित्र धातु सोना भी आग में तपने के बाद कुंदन कहलाता है। इस लिहाज से नायक वर्तमान समाज में प्यार में तपा कुंदन है। वह अपने व्यवहार और कार्य से इसे सिद्ध करता है। 'रांझणा' की प्रेमकहानी शब्दों में नहीं बांधी जा सकती, क्योंकि कुंदन, जोया, अकरम, मुरारी, बिंदिया समेत अन्य किरदारों के भावोद्रक और अभिव्यक्ति का वर्णन मुश्किल है। फिल्म देख कर ही उन्हें समझा जा सकता है। रसास्वादन लिया जा सकता है।
जेएनयू के छात्र जीवन, राजनीति और अकरम के चरित्र में आनंद राय ने सरलीकरण से काम लिया है। छात्र राजनीति और जेएनयू के छात्र जीवन से वाकिफ दर्शकों के लिए ये घटनाएं अपेक्षाकृत सिनेमाई आजादी के सहारे गढ़ी गई है। आनंद राय का उद्देश्य छात्र राजनीति में गहरे उतरना भी नहीं था। उन्होंने एक संदर्भ लिया है, लेकिन उसके विवरण और चित्रण में वे धारणाओं पर निर्भर रहे हैं। फिल्म का यह प्रसंग थोड़ा खिंचता भी है, लेकिन काल्पनिक और अवास्तविक होने के बावजूद 'रांझणा' की मूल कहानी को प्रभावकारी बना देता है। इन दृश्यों में ही बनारस का पंडितपुत्र सघन प्रेमी के रूप में उभरता है। प्रेम में तपता और फिर कुंदन की तरह दमकता है।
कुंदन की भूमिका में धनुष का चुनाव आनंद राय की सबसे बड़ी कुशलता है। धनुष की निर्मल और स्वच्छ अभिनय कुंदन के किरदार को प्रिय और विश्वसनीय बना देता है। सोनम कपूर अपनी सीमाओं में बेहतरीन अभिनय कर पाई हैं। पटकथा और निर्देशक की मदद मिली है। मुरारी और बिंदिया की छोटी भूमिकाओं में आए मोहम्मद जीशान अयूब और स्वरा भास्कर इस फिल्म को आवश्यक बनारसी कलेवर देते हैं। कुमुद मिश्रा और विपिन शर्मा भी उल्लेखनीय योगदान करते हैं।
'रांझणा' के गीत-संगीत में बनारस की लय है। इरशाद कामिल ने “ीतों में अमीर खुसरो की शैली में मुकरियों और पहेलियों का भावपूर्ण प्रयोग किया है। ध्यान से सुनें तो “ीतों के भाव मर्मस्पर्शी और अर्थपूर्ण हैं। ए आर रहमान ने अपनी धुनों और ध्वनियों में विषय के अनुकूल प्रयोग और आयोजन किया है।
'रांझणा' के लेखक हिमांशु शर्मा को अतिरिक्त धन्यवाद। उन्होंने बनारस के रंग, तंज, तेजाबी प्रवृति और चरित्रों को दृश्यों ,शब्दों और संवादों में तीक्ष्णता से उतारा है।
अवधि-141 मिनट
**** चार स्टार

Thursday, June 20, 2013

दरअसल : कहानी और एक्शन मात्र नहीं है सिनेमा



-अजय ब्रह्मात्मज
    पटना में विधु विनोद चोपड़ा की ‘एकलव्य’  देख रहा था। इस फिल्म में उन्होंने कुछ दृश्य अंधेरे और नीम रोशनी में शूट किए थे। इन दृश्यों के पर्दे पर आते ही दर्शक शोर करने लगे... ठीक से दिखाओ। प्रोजेक्शन ठीक करो। कुछ दिख ही नहीं रहा है। दृश्य की सोच के मुताबिक पर्दे पर कुछ दिखता नहीं था। संपूर्ण दृश्य संयोजन में विधु विनोद चोपड़ा फिल्म के मुख्य कलाकार अमिताभ बच्चन की खासियत दिखाना चाहते थे। इसी फिल्म के समय विधु विनोद चोपड़ा ने बयान दिया कि चवन्नी छाप दर्शकों के लिए फिल्में नहीं बनाता। मेरी फिल्मों के रसास्वादन के लिए दर्शकों को समझदार होना पड़ेगा।
    विधु विनोद चोपड़ा के इस अहंकार में हमारे फिल्म देखने की परंपरा की सच्चाई छिपी है। मल्टीप्लेक्स और मॉडर्न थिएटर आने के पहले देश से ज्यादातर दर्शक चलती-फिरती तस्वीरों को किसी भी रूप में देखने से सिनेमा के आनंद से खुश हो जाते थे। ब्लैक एंड व्हाइट टीवी, सरकार के प्रचार अभियान में दिखायी गयीं 18 एमएम की फिल्में, बाद में वीडियो और पायरेटेड डीवीडी से देखी गयी फिल्में... इन सभी अनुभवों में दर्शकों का पूरा ध्यान केवल एक्शन और कहानी पर रहता था। संवाद सुनाई पड़ जाए तो फिल्म प्रभावशाली हो जाती थी। उन्हें फिल्म के प्रिंट की क्वालिटी से मतलब नहीं रहता था। फिल्म के अन्य जरूरी तकनीकी पक्षों के बारे में भी वे नहीं जानते थे। अधिकांश दर्शक आज भी नहीं जानते। यहां तक कि समीक्षक भी फिल्म के तकनीकी पक्षों पर ध्यान नहीं देते। ध्यान न देने की सबसे बड़ी वजह यही है कि उन्हें ज्ञान ही नहीं है।
    मल्टीप्लेक्स थिएटरों के आने के बाद सिनेमा का आनंद बढ़ गया है। इस बढ़े हुए आनंद को दर्शक रेखांकित नहीं कर सकता, लेकिन वह धीरे-धीरे तय कर लेता है कि उसे अपने शहर के किस थिएटर में फिल्म देखनी है। अगर 3डी फिल्म देखनी है तो उसके लिए कौन सा थिएटर बेहतर आनंद के लिए पैसे सर्च करने में नहीं हिचकता। थोड़े संपन्न हुए तो लोग घरों में भी होम थिएटर का इंतजाम कर लेते हैं। हालांकि होम थिएटर में अभी तक साउंड सिस्टम पर ही ज्यादा जोर रहता है, लेकिन एलसीडी, एलइडी, प्लाजमा और प्रोजेक्टर आ जाने से होम वीडियो का आनंद भी कई गुना बढ़ गया है। टीवी की अच्छी क्वालिटी से डिश एंटेना या केबल के जरिए दिख रही फिल्मों का चाक्षुष आनंद बढ़ गया है।
    सिनेमा के बेहतर रसास्वादन के लिए कुछ दर्शक निजी कोशिशें करते हैं। वे सिनेमा के इतिहास और वर्तमा न का अध्ययन करते हैं। विदेशी फिल्मों से सीखते हैं। देश की श्रेष्ठ फिल्मों का अवलोकन करते हैं। फिर भी सारा जोश फिल्मों के कथ्य पर ही रहता है। अभी तक सिनेमा के दृश्य और श्रव्य होने की खासियत पर कम ध्यान दिया जाता है। जरूरी हे कि फिल्मों से जुड़े लोग इस दिशा में पहल करें। फिल्मों के प्रचार में स्टार के अलावा वे तकनीशियनों का भी सहयोग लें। फिल्म के प्रोमो और प्रचार में तकनीशियन की कही दो-चार बातों से भी दर्शकों की समझदारी बढ़ेगी। वे साउंड, फोटोग्राफी, आर्ट डायरेक्शन, एडीटिंग आदि की खूबियों को भी समझ सकेंगे।
    आस्कर मिलने के बाद रसूल पोटुकुट्टी का नाम सभी जान गए। उसके बाद ही लोगों ने साउंड डिजायनिंग के बारे में सुना और समझा। अगर फिल्म निर्माता अन्य तकनीशियनों को महत्व दें तो दर्शक भी उनके प्रति जिज्ञासु होंगे। देख रही फिल्मों के साउंड, फोटोग्राफी, एडीटिंग और अन्य तकनीकी पक्षों पर ध्यान देंगे। वक्त आ गया है कि हम सिनेमा को सिर्फ कहानी, एक्शन और एक्टर की हद स बाहर निकालें। सभी प्रकार के योगदान को रेखांकित करें। उनका आनंद लें और उन्हें उचित तरीके से सराहें।

Tuesday, June 18, 2013

ऑन द सेट्स: रांझणा

सोनम कपूर और धनुष के साथ आनंद एल राय फिल्म रांझणा के कुछ गंभीर दृश्यों की शूटिंग फिल्मसिटी में कर रहे थे. उनके सेट से कुछ खूबसूरत यादें लेकर लौटे हैं रघुवेन्द्र सिंह
कहानी
कुंदन (धनुष) और जोया (सोनम कपूर) की प्रेम कहानी है रांझणा. यह बनारस की गलियों में रची-बसी है. कुंदन का बचपन का प्यार है जोया, लेकिन वह उससे अपने प्यार का इजहार करने की हिम्मत नहीं जुटा पाया. जोया पढ़ाई के लिए दिल्ली चली जाती है. जेएनयू में उसकी मुलाकात अकरम (अभय देओल) से होती है और फिर वह राजनीति में उतर जाती है. इस त्रिकोणीय प्रेम कहानी में दोस्ती और राजनीति का हल्का रंग भी है. 
फिल्मसिटी में बसी दिल्ली
रांझणा यूं तो बनारस के शुद्ध वातावरण में बसी एक प्रेम कहानी है, लेकिन इस प्रेम कहानी का एक बहुत गंभीर पहलू भी है. जिसके तार दिल्ली की राजनीति से जुड़ते हैं. इस राजनीति में उतरकर जोया कुछ खोती है, तो कुछ पाती है. उसने क्या खोया है और क्या पाया है, यह तो आपको यह फिल्म देखने के बाद पता चलेगा, लेकिन मुंबई की फिल्मसिटी में आनंद एल राय कुछ ऐसे दृश्यों की शूटिंग कर रहे हैं, जिनमें सोनम कपूर और धनुष को अभिनय के अपने हुनर का प्रदर्शन करने का अवसर मिला है.
आम तौर पर सोनम कपूर पर्दे पर डिजाइनर लिबास में नजर आती हैं, लेकिन इसमें उन्होंने सादगी का चोला पहन रखा है. काले जूतों, ब्लू जींस और काली कमीज के ऊपर उन्होंने गले में एक शॉल लपेट रखा है. चेहरे पर गंभीरता है. वह अस्पताल से जैसे ही बाहर निकलती हैं, मीडिया उन पर टूट पड़ता है. लेकिन वह किसी सवाल का जवाब दिए बिना मीडिया को चीर कर निकल जाती हैं. महज दो टेक में आनंद एल राय इस सीन को ओके कर देते हैं. निर्माता-निर्देशक सुभाष घई के व्हिस्लिंगवुड्स इंटरनेशनल स्कूल के एक हिस्से को दिल्ली के अस्पताल में तब्दील कर दिया गया है. कट होते ही आनंद राय हमसे सोनम कपूर की परफॉर्मेन्स के बारे में पूछते हैं और फिर अपने इस कलाकार की तारीफ में कहते हैं, ''सोनम कमाल की एक्ट्रेस हैं. वह जिस संजीदगी और समर्पण से काम करती हैं, वह प्रशंसनीय है. आनंद जानकारी देते हैं कि फिल्म की शूटिंग लगभग पूरी हो चुकी है और यहां वे फिल्म का प्री-क्लाइमेक्स सीन शूट कर रहे हैं. 
मैं फिर बनारस लौटना चाहूंगा
हम मॉनीटर के एक ओर बैठकर बातें करने में व्यस्त हैं, तो दूसरी ओर धनुष तल्लीनता से एक अंग्रेजी नॉवेल पढ़ रहे हैं. सेट के शोर-शराबे का उन पर कोई असर नहीं है. हम उनका ध्यान तोड़ते हैं. धनुष पहली बार साउथ का अपना साम्राज्य छोडक़र मुंबई आए हैं. रांझणा उनकी पहली हिंदी फिल्म है. बनारस में उन्होंने इस फिल्म की शूटिंग के दौरान एक महीने से ज्यादा वक्त बिताया. ''मुझे बनारस बहुत अच्छा लगा. अगर मौका मिले, तो मैं फिर उस शहर में लौटना चाहूंगा. उत्तर भारत के अपने प्रवास का अनुभव इन शब्दों में वे बयां करते हैं. अगला शॉट रेडी होते ही धनुष को बुलाया जाता है. इस शॉट में धनुष गलियारे में कुर्सी पर बैठे हैं और अकरम के परिजन आकर उनका शुक्रिया अदा करते हैं. शॉट खत्म हो जाता है, लेकिन धनुष के आस-पास न मेकअप आर्टिस्ट और न ही हेयर स्टाइलिस्ट नजर आता है. फिल्मकार आनंद बताते हैं, ''धनुष को मेकअप-हेयर आर्टिस्ट की जरूरत ही नहीं पड़ती. वे अपने आप सब कर लेते हैं.
लंच ब्रेक की घोषणा होती है. सोनम अपनी वैनिटी वैन में चली जाती हैं. आनंद हमें धनुष की वैनिटी वैन में लेकर पहुंचते हैं. धनुष की मांग पर आनंद घर से अपनी पत्नी के हाथ की बनी भिंडी की सब्जी लाए हैं. धनुष भिंडी की सब्जी की तारीफ करते नहीं थकते. ''मैंने भिंडी की ऐसी सब्जी कभी नहीं खाई थी. मैं भाभी जी (आनंद राय की पत्नी) का फैन बन गया हूं. जब हम उनकी टिफिन से भिंडी की सब्जी निकालते हैं, तो वे यह कहकर हमें फौरन रोक देते हैं. ''मुझे रात को भी सब्जी खानी है. धनुष बताते हैं कि बिना कोक के वह कभी खाना नहीं खाते थे, लेकिन मुंबई आने के बाद उनकी यह आदत छूट गई है और वह इस बात से बहुत खुश हैं.
सोनम ने जीत लिया दिल
अगला सीन एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का फिल्माया जा रहा है. चीफ मिनिस्टर और कुछ अन्य नेताओं के साथ जोया डायस पर है. चीफ मिनिस्टर प्रेस को संबोधित करती हैं, ''एआईसीपी और हमारी पार्टी प्री-इलेक्शन इलेक्ट्रोरियल अलायंस में जा रहे हैं. वक्त आ गया है कि नया खून राजनीति में आए. राइट्स चाहिए तो ड्यूटी भी निभाओ. आओ जोया... और जोया उठकर डायस की ओर बढ़ती है. आनंद कट बोलते हैं. यह बेहद इमोशनल सीन है. सोनम को नम आंखों से एक लंबा डायलॉग बोलना है, लेकिन वह गिलसरीन नहीं लगातीं. वह डायस पर खड़ी होती हैं और डायलॉग बोलते-बोलते उनकी आंखों से आंसू छलक पड़ते हैं. चार रिटेक्स में आनंद सीन ओके कर देते हैं. सोनम तेज कदमों से आती हैं और आनंद के गले लग जाती हैं. सभी मॉनीटर पर शॉट चेक करते हैं. आनंद राय हमारा परिचय मशहूर थिएटरकर्मी अरविंद गौड़ से करवाते हैं और कहते हैं, ''अगर हमारी फिल्म में दोस्ती, कॉलेज और राजनीति असली दिखेगी, तो उसका श्रेय इन्हें जाएगा. अरविंद गौड़ पहली बार कैमरे के लिए एक्टिंग करके बेहद रोमांचित हैं.
मैं इस दुनिया से बिलॉन्ग नहीं करती
सोनम कपूर के लिए यह फिल्म एक चुनौती रही. इसकी शूटिंग आरंभ करने से पहले उन्होंने अरविंद गौड़ के साथ काफी दिनों तक वर्कशॉप की थी. उनके लगन की तारीफ करते हुए अरविंद ने कहा, ''सोनम ने जोया के किरदार के लिए बहुत मेहनत की. मुझे उनका सर्मपण देखकर बहुत खुशी हुई. सोनम फिल्म के सेट पर मस्त मिजाज नजर आईं. वह कभी पपी के साथ खेलती, उसके साथ तस्वीर निकालती, तो कभी अपने डायरेक्टर पर डायट करने का दबाव डालती दिखीं. ''सर के लिए ककड़ी और गाजर लाओ. आप डायट का खयाल रखो सर! कुछ इस तरीके से आनंद पर सोनम धौंस जमाती हैं. सोनम बीच-बीच में लेखक हिमांशु शर्मा के साथ अपने डायलॉग का रिहर्सल करती रहीं, जिनके अनुसार रांझणा आशिकों के लिए इन्सपिरेशनल फिल्म होगी. ब्रेक के दौरान उन्होंने अपने मोबाइल पर पुराने गाने प्ले कर दिए. सोनम ने दार्शनिक अंदाज में कहा, ''मुझे कभी-कभी लगता है कि मैं इस दुनिया से बिलॉन्ग ही नहीं करती हूं. मुझे पुराने जमाने में पैदा होना चाहिए था. मुझे पुराने जमाने के गीत वगैरह बहुत अच्छे लगते हैं. अब सोनम-धनुष के साथ आनंद राय रांझणा का क्लाइमेक्स सीन फिल्माने जा रहे थे. हमने उनसे विदा लेना बेहतर समझा, क्योंकि न तो हम अपना और न ही आपका इस फिल्म का मजा किरकिरा करना चाहते थे.
साभार: फिल्मफेयर

Sunday, June 16, 2013

छोटे शहरों में ही मेरे किरदारों को सांस मिलती है-आनंद राय

छोटे शहरों में ही मेरे किरदारों को सांस मिलती है-आनंद राय
-अजय ब्रह्मात्मज
    आनंद राय की अगली फिल्म ‘रांझणा’ में ए आर रहमान का संगीत है। गीत इरशाद कामिल ने लिखे हैं। अभी तक जारी हुए तीन गानों में श्रोताओं को बनारस की लय,्र मधुरता और गेयता दिख रही है। आनंद राय ने इस फिल्म की प्लानिंग के समय ही गीत और संगीत के बारे में सोच लिया था। फिल्म की जरूरत को ध्यान में रखते हुए उन्होंने ‘तनु वेडस मनु’ की म्यूजिकल टीम को नहीं दोहराया। आनंद राय एआर रहमान के साथ काम का हतप्रभ और खुश हैं। आरंभ में फिल्म में छह गानों की बात सोची गई थी, लेकिन आनंद राय कहते हैं, ‘रहमान सर के साथ काम करते हुए मैंने पाया कि आप गिन कर गाने नहीं रख सकते। मैं उनके साथ थीम की बात करता हूं तो वह भी गाने का रूप ले लेता है। फिल्म में वैसे छह गाने दिखाई पड़ेंगे, लेकिन अलबम में आठ गाने और दो थीम हैं। रहमान सर के आने के साथ हर फिल्म म्यूजिकल हो जाती है।’
     ‘रांझणा’ के प्रोमो के आने के साथ ‘मोहल्ला अस्सी’ के निर्देशक डॉ . चंद्रप्रकाश द्विवेदी ने कहा था, ‘अब मेरी फिल्म की नवीनता खत्म हो गई। बनारस के रंग और ढंग को ‘रांझणा’ ने अच्छी तरह पकड़ा है।’ आनंद राय उनकी इस प्रतिक्रिया से खुश होते हैं और कहते हैं, ‘मैं ‘रांझणा’ में बनारस की धडक़न और इंसान को पकडऩा चाहता था। वहां का एटीट्यूड फिल्म में लाना था। मुझे दीवारों, गलियों और मंदिरों से अधिक आदमी को समझना था। अगर मैं बनारस के आदमी को दिखा पाया तो खुद को सफल मानूंगा।’ वे आगे कहते हैं, ‘मैं दिल्ली में पला-बढ़ा। मुंबई में मैंने काम किया। इन दोनों शहरों को जानता हूं। लखनऊ और बनारस जैसे शहरों के बारे में हम सभी ने धारणाएं बना रखी है। मैं महसूस करता हूं कि अभी हिंदुस्तान की आत्मा ऐसे ही शहरों में बसती है। ‘तनु वेड्स मनु’ के समय मैं लखनऊ और कानपुर गया। इस बार बनारस गया हूं, क्योंकि मेरे किरदारों का देसीपन ऐसे शहरों की पृष्ठभूमि में ही उभरता है। यकीन करें कि इन किरदारों को मुंबई या दिल्ली में रखूंगा तो वे करप्ट और चिप्पी लगेंगे। कुंदन और जोया बनारस के ही हो सकते हैं।’
  
    ‘रांझणा’ के प्रमुख किरदारों में कुंदन का किरदार धनुष निभा रहे हैं। आनंद राय के शब्दों में, ‘धनुष का किरदार मेरे लिए बनारस है। वह मेरे ख्याल में बनारस के हर व्यक्ति  में एक भोले हैं। कुंदन भी एक भोले है। सबकी अपनी परिभाषा है। खुश होने पर सब न्योछाबर कर देता है। दर्द झेलने की अपार क्षमता है उसमें। प्यार देने की बेइंतहा इच्छा है उसमें। जोया मेरे लिए हर पीढ़ी की वह लडक़ी है, जो हमारे साथ तो रहती है, लेकिन होती है कहीं और की। जोया है तो बनारस में, लेकिन वह उस शहर की हद से बाहर की है। शहर उसके लिए छोटा हो गया है। वह हमेशा यह एहसास देगी कि कभी भी यह लडक़ी शहर छोड़ देगी। अभय देओल में बड़प्पन है। वह लोगों के बारे में सोचता है। वह स्वार्थरहित है, लेकिन दोषरहित नहीं है। वह मुकम्मल इंसान का एहसास देता है। जेएनयू में पढ़ता है। वह हमेशा दूसरों के बारे में सोचता है। खुले दिल का लडक़ा है, जिसे सभी प्यार करते हैं।’
    ‘रांझणा’ बनारस की कहानी है। बनारस की धडक़नों के साथ। इस शहर में कुंदन है। घाट और मंदिर के आसपास पला-बढ़ा। 14 की उम्र से वह डमरू बजा रहा है। जोया बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के हिस्ट्री के प्रोफेसर की लडक़ी है। इस फिल्म में बनारस की तरह जेएनयू भी एक किरदार है। शहर और कैंपस के एटीट्यूड को आनंद राय ने फिल्म में उतारने की पूरी कोशिश की है। किरदारों की बदलती सोच को दिखाने के लिए जेएनयू का प्रतीकात्मक इस्तेमाल किया गया है। आनंद राय की फिल्मों में छोटे शहरों में लौटती हैं। इस संबंध में वे कहते हैं, ‘मुझे अपने किरदारों को इन शहरों में सांस मिलती है। अपनी कहानियों और किरदारों की मासूमियत के लिए वहां का माहौल जरूरी लगता है। मैं मुंबई का आनंद राय बनारस, कानपुर या लखनऊ पहुंचते ही बदल जाता हूं। यह इन शहरों की खासियत है कि वे आप के चेहरे से नकाब उतार देते हैं।’

इस फिल्म की कल्पना और योजना के बारे में पूछने पर आनंद राय स्पष्ट करते हैं, ‘मैं चालीस पार का चुका हूं। अभी कॉफी सेंटर में बैठने पर मुझे अगली जेनरेशन दिखाई पड़ती है। यह पीढ़ी ईमानदार और दो टूक है। मैं उन्हें समझने की कोशिश करता हूं। सारी अच्छाइयों के बावजूद उनके रिलेशनशिप में एक छिछोरापन है। उनका दिल टूटता है तो दो कप कॉफी और दो दिन बीतने के बाद किसी और से जुड़ जाता है। जिंदगी आगे बढ़ जाती है। इनका प्यार और विछोह क्येां इतना झणभंगुर है। मोहब्बत के दर्द का वे आनंद क्यों नहीं ले पा रहे हैं? मैं कुंदन और जोया के बहाने एक ऐसा प्रेम दिखा रहा हूं, जो बड़े शहरों से गायब है। छोटे शहरों में सात सालों से किसी के पीछे घूम रहे हैं और जब हाथ पकड़ा तो वह सबसे बड़ा दिन बन गया। ऐसे प्यार के बारे में मैट्रो के युवा सोच ही नहीं सकते। छोटे शहरों और कस्बों में प्यार के लिए आप अपनी औकात भी लांघ जाते हैं। कुंदन और जोया का प्यार ऐसा ही है। वह बनारसी प्यार है।’

Saturday, June 15, 2013

फिल्‍म समीक्षा : फुकरे

Fukrey-अजय ब्रह्मात्मज
मृगदीप सिंह लांबा की फिल्म 'फुकरे' अपने किरदारों की वजह से याद रहती है। फिल्म के चार मुख्य किरदार हैं-हनी (पुलकित सम्राट), चूचा (वरुण), बाली (मनजीत सिंह) और जफर (अली जफर)। इनके अलावा दो और पात्र हमारे संग थिएटर से निकाल आते हैं। कॉलेज के सिक्युरिटी इंचार्ज पंडित जी (पंकज त्रिपाठी) और भोली पंजाबन (रिचा चड्ढा)..ये दोनों 'फुकरे' के स्तंभ हैं। इनकी अदाकारी फिल्म को जरूरी मजबूती प्रदान करती है।
बेरोजगार युवकों की कहानी हिंदी फिल्मों के लिए नई नहीं रह गई है। पिछले कुछ सालों में अनेक फिल्मों में हम इन्हें देख चुके हैं। मृगदीप सिंह लांबा ने इस बार दिल्ली के चार युवकों को चुना है। निठल्ले, आवारा और असफल युवकों को दिल्ली में फुकरे कहते हैं। 'फुकरे' में चार फुकरे हैं। उनकी जिंदगी में कुछ हो नहीं रहा है। वे जैसे-तैसे कुछ कर लेना चाहते हैं। सफल और अमीर होने के लिए वे शॉर्टकट अपनाते हैं, लेकिन अपनी मुहिम में खुद ही फंस जाते हैं। उनकी मजबूरी और बेचारगी हंसाती है। पंडित जी की मक्कारी और भोली पंजाबन की तेजाबी चालाकी फुकरों की जिंदगी को और भी हास्यास्पद बना देती है।
फिल्म के दो किरदार लाली और जफर शुरू में अपनी कोशिशों में नाकामयाब होते हैं। उनके प्रति हमार सहानुभूति बनती है, लेकिन हनी और चूचा तो बेशर्म और चालाक हैं। उनकी बेवकूफियों पर तरस नहीं आता। मजेदार है कि फिल्म एक घटनाओं में चारों किरदारों के मिल जाने के बाद हमें चारों की कामयाबी जरूरी लगने लगती है। लेखकों ने बहुत खूबसूरती से इन चरित्रों को घटनाओं में डालकर हमारी संवेदना जागृत कर दी है। फिर उनका निकम्मापन भी हमें बुरा नहीं लगता। हम उन्हें सफल होते देखना चाहते हैं।
'फुकरे' एक सीधी सी कहानी पर नहीं चलती। इसमें घटनाओं और प्रसंगों की अद्भुत गति है। फिल्म के कई दृश्यों में जबरदस्त हंसी आती है। नए किस्म की यह कॉमेडी हिंदी फिल्मों को नया विस्तार और आयाम देती है। चारों अभिनेताओं ने अपने किरदारों को संयत तरीके से निभाया है। वरुण और मनजोत थोड़े ज्यादा अच्छे दिखते हैं। फिल्म को पंकज त्रिपाठी और रिचा चड़्ढा के अभिनय से मजबूती मिली है। दोनों ही कलाकार जबरदस्त फॉर्म में हैं। वे अपने परफारमेंस से फिल्म के प्रभाव को बढ़ाते हैं।
इस फिल्म का गीत-संगीत फुकरे टाइप का ही है। फिल्म में ही अच्छा लगता है।
अवधि-130 मिनट
*** तीन स्टार

फिल्‍म समीक्षा : अंकुर अरोड़ा मर्डर केस

Ankur arora murder case-अजय ब्रह्मात्मज
फिल्म के टायटल से स्पष्ट है कि निर्माता-निर्देशक एक घटना को बगैर लाग-लपेट के पेश करना चाहते हैं। सुहैल तातारी ने सच्ची घटनाओं पर आधारित अनेक रियलिस्टिक टीवी शो का निर्देशन किया है। उनके लिए यह काम बहुत मुश्किल नहीं रहा होगा। इस बार उन्हें लगभग दो घंटे में एक प्रभावपूर्ण कहानी दिखानी थी। अपने उद्देश्य में वे सफल रहे हैं। इस फिल्म में कथित मनोरंजन नहीं है, क्योंकि रोमांस और कॉमेडी नहीं है। यह फिल्म उदास करती है। अवसाद बढ़ा देती है।
मेडिकल क्षेत्र में डाक्टर की लापरवाही और पैसों के खेल से हम सभी परिचित हैं। स्वास्थ्य सेवा लाभप्रद व्यवसाय बन चुका है। डॉ ़ अस्थाना (के के मेनन) अपने पेशे में दक्ष हैं, लेकिन व्यावसायिक मानसिकता के कारण वे अनेक जरूरतों को नजरअंदाज करते हैं। उनकी प्रतिभा का कायल रोमेश (अर्जुन माथुर) अपनी गर्लफ्रेंड रिया (विशाखा सिंह) के साथ सीखने के उद्देश्य से उनके अस्पताल में इंटर्नशिप लेता है। आरंभिक दृश्यों की भिडं़त में ही स्पष्ट हो जाता है कि डॉ ़ अस्थाना की पोल रोमेश ही खोलेगा। अस्पताल में दाखिल अंकुर अरोड़ा का एक सामान्य ऑपरेशन डॉ ़ अस्थाना की लापरवाही और अहंकार से जानलेवा हो जाता है। रोमेश इस मौत की जड़ों में जाता है और मामले को कोर्ट में ले आता है।
लेखक-निर्देशक की टीम ने मेडिकल लापरवाही पर बनी 'अंकुर अरोड़ा मर्डर केस' को तथ्यपरक रखते हुए भी संभावित नाटकीयता क्रिएट की है। मेडिकल प्रोफेशन से वाकिफ व्यक्तियों को कुछ तथ्यात्मक गलतियां दिख सकती हैं, लेकिन तथ्यों की नावाकिफयत से दर्शकों का मनोरंजन कम नहीं होता। यह फिल्म मेडिकल प्रोफेशन के द्वंद्व को भी उजागर करती है। इस द्वंद्व के दो छोर रोमेश और रिया हैं। साथ ही अंकुर अरोड़ा की मां और उसके सहकर्मी के सहयोग से विक्रम भट्ट और सुहैल तातारी ने रिश्तों के नए आयाम दिखाए हैं।
अंकुर अरोड़ा की मां की भूमिका में टिस्का चोपड़ा जंचती हैं। युवा अभिनेता अर्जुन माथुर रोमेश की भूमिका में निराश नहीं करते। विशाखा सिंह को सिर्फ दुखी और दुविधाग्रस्त रहना था। उनके किरदार को थोड़ा और विकसित किया जा सकता था। फिल्म केंद्रीय पात्र के के मेनन ने डॉ ़ अस्थाना के अहंकार को अच्छी तरह व्यक्त किया है। उनके एक्सप्रेश में खास किस्म का ठहराव और स्फूर्ति है।
अवधि- 129 मिनट
*** तीन स्टार

Thursday, June 13, 2013

सपनों से बंधी ख्वाहिशों की पोटली का बोझ

-अजय ब्रह्मात्मज
    पिछले हफ्ते जिया खान की आत्महत्या पर बहुत कुछ लिखा और बोला गया। अभी तक तहकीकात जारी है। आत्महत्या के कारणों का पता चल जाए तो भी अब जिया वापस नहीं आ सकती। भावावेश में लिया गया जिया का फैसला खतरनाक और खौफनाक स्थितियों को उजागर करता है। बाहर से दिख रही हिंदी फिल्म इंडस्ट्री की रोशनी के पीछे घुप्प अंधेरा है। इस अंधेरे की जमीन खुरदुरी और जानलेवा है। पता नहीं चलता कि कब पांव लहूलुहान हो गए या आप किसी सुरंग की ओर मुड़ गए। जिया ने मौत की सुरंग में कदम रखा।
    हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में कामयाबी बेतहाशा खुशी देती है। अचानक लगने लगता है कि आप आसमान में चल रहे हैं, पर गुलजार के शब्दों में इस आसमानी चाल में सितारे पांव में चुभते हैं। एहसास ही नहीं होता कि कब दोस्तों और रिश्तेदारों का संग-साथ छूट गया। अचानक रोने या शेयर करने का मन करता है तो कोई कंधा या सहारा नहीं मिलता। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के तौर-तरीकों से वाकिफ व्यक्तियों को अधिक तकलीफ नहीं होती। उन्हें संभलने या संभालने में देर नहीं लगती। उनक लिए नई राहें खुल जाती हैं। आउटसाइडर यानी बाहर से आई महत्वाकांक्षी प्रतिभाओं के लिए निराशा और हताशा के पल नुकीले और असहनीय होते हैं। आम तौर पर देखा गया है कि छोटी-बड़ी कामयाबी के बाद इन प्रतिभाओं के कंधों पर उनके कथित हितैषियों के सपनों का बोझ भी आ जाता है। रिश्तेदार, दोस्त, सहयोगी और अन्य करीबी भी अपनी ख्वाहिशों की पोटली उनके सपनों से लटका देते हैं। यहां तक कि मां-बाप भी सिर्फ लाभ और स्वार्थ देखते हैं। उन्हें यह चिंता नहीं रहती कि संबंधित व्यक्ति पर क्या गुजर रही है।
    जिया की आत्महत्या के बाद उन्हें हिंदी फिल्मों में पहला मौका देने वाले निर्देशक राम गोपाल वर्मा ने माफी मांगते हुए श्रद्धांजलि लिखी। उन्होंने स्पष्ट शब्दों में जिया के करिअर में आई गिरावट और उसकी हताशा का जिक्र किया है। जिया उनसे मिलने भी आई थी। अपनी नियमित व्यस्तता की वजह से वे जिया को पर्याप्त समय नहीं दे पाए थे। उन्होंने अफसोस जाहिर किया कि अगर उस दिन वे ठीक से जिया को समझा पाते तो शायद ऐसी स्थिति नहीं आती। यह महज संभावना है। क्या हुआ होता तो क्या हो जाता जैसी बातें केवल भाग्यवादी कर सकते हैं। सच्चाई तो यह हे कि जिया के पास काम नहीं था। धमाकेदार शुरुआत के बाद दूसरी फिल्म में उन्हें सेकेंड लीड और तीसरी फिल्म में अतिथि भूमिका मिली। उसके बाद वह फिल्मों के लिए छटपटाती रह गईं। उनकी आत्महत्या के प्रति गहरी संवेदना रखने के बावजूद यह तो स्वीकार करना पड़ेगा कि वह उस स्तर की प्रतिभासंपन्न अभिनेत्री नहीं थीं। अन्यथा अभिनेत्रियों की तलाश में भटकती फिल्म इंडस्ट्री में उन्हें मौके क्यों नहीं मिले?
    करिअर की निराशा के साथ निजी जिंदगी में प्रेम की अनिश्चितता भी जुड़ गई थी। कहना मुश्किल है कि कथित प्रेमी और उनके बीच आखिरी संवाद क्या हुए? लेकिन क्या आज की कोई लडक़ी दिल टूटने  या प्यार छूटने पर आत्महत्या का दुस्साहस कर लेगी? कहीं न कहीं आत्मबल और संबल की कमी थी। नजदीकी व्यक्तियों ने जिया की तकलीफ को नहीं समझा। यह भी हो सकता है कि जिया खुद को तनहा पाती हो और इस तनहाई से निजात पाने के लिए उसने क्षणिक आवेश में छलांग लगाने का फैसला कर लिया।
    जिया की आत्महत्या सबक है। बाहर से फिल्म इंडस्ट्री में आ रही प्रतिभाएं महत्वाकांक्षाओं के साथ परिवार और दोस्तों का संबल लेकर आएं। यहां कामयाबी के बावजूद अकेलापन घेरता है। आसपास भीड़ तो रहती है, लेकिन उनमें से कोई भी आप की तरह नहीं सोचता। सभी के अपने स्वार्थ होते हैं। वे कलाकार के आंतरिक झंझावातों से अपरिचित और अनजान रहते हैं।