Search This Blog

Saturday, March 30, 2013

श्रद्धांजलि पाकिस्‍तान फिल्‍म इंडस्‍ट्री उर्फ लॉलीवुड

यह लेख चवन्‍नी के पाठकों के लिए बरगद से लिया गया है। पाकिस्‍तान फिल्‍म इंडस्‍ट्री के बारे में भी कुछ जान लें। इसे फारूक सुलेहरिया ने लिखा है।
In terms of production, the late Lollywood was once rated as one of the world’s top ten film industries. Until the 1980s it was not called Lollywood. It was on the pattern of India’s Bollywood that it appropriated Hollywood’s name to become Lollywood.
lollywood_movie_posters_24Paradoxically, all its life – marked by glory and shame – our dear, departed Lollywood lived in awe and envy of Bollywood. While Bollywood is busy celebrating its birth centenary (Raja Harishchandra – the first Indian movie by Dada Saheb Phalke – was released in 1913), the late Lollywood breathed its last almost a decade ahead of its would-be centenary in 2024 (In 1924, Daughter of Today was released from Lahore by G K Mehta).
However, given the average age of institutions in Pakistan, it lived a long life. For instance, an entire province, fondly called East Pakistan, died at the age of 24. Democracy was strangulated at the tender age of nine, in 1958. But then Lollywood was lucky to have spent a third of its life before 1947.
In fact, Lollywood was an unwanted infidel imposition on its puritan motherland. Minister of Industries Sardar Abdur Rab Nishtar announced soon after the creation of Pakistan: “In principle Muslims should not get involved in filmmaking. Being the work of lust and lure, it should be left to the infidels”.
But in the bad old days, patronised by people like Faiz, the Reds were very active on cultural fronts. They infiltrated Lollywood and began to misuse it to propagate their subversive socialist ideals. But vigilant authorities were quick to identify the Red threat. As early as 1954, W Z Ahmed’s Roohi, a socialist kitsch, was banned. For decades, films on poverty-related themes were censored.
When Gen Ayub came to power, while exercising further caution (or ‘censorship’ in liberal-fascist parlance) he employed two shrewd bureaucrats, Qudratullah Shahab and Altaf Gauhar, to use the film medium for projecting the ideology of Pakistan.
Shahab, and later Gauhar, vitalised the Department of Film and Publications (DFP) at the Ministry of Information. The first major attempt was Nai Kiran, a feature length documentary. Nai Kiran exposed greedy politics. Shahab penned the story and was paid Rs20,000 in 1959 (Manto was paid Rs200 for a story).lollywood_main
Normally, prominent artistes would avoid being a part of such an undertaking. To counter such an eventuality the producers of Nai Kiran were empowered to book any artiste for their film. Anybody not complying was coerced by the police. Noor Jehan, for instance, refused to act in the film. When harassed, she had to submit.
For extras to act as dancers, girls from Karachi’s red-light area were commissioned. They too were reluctant, initially. A DSP, however, lined them up for the producer to take his pick for the film. Through a martial law order it was further made mandatory for every cinema house to run the film, free of charge, for at least one week.
Fifty such documentaries were produced under the Ayub dictatorship. Miraculously, Lollywood survived the Ayub regime. In fact, it even thrived. In 1968, 128 films were produced (including Bengali-language productions), a feat Lollywood never performed again.
When Bhutto arrived, his government was infiltrated by the Reds. Most dangerously, Faiz became the country’s culture czar.
To promote Lollywood, the Bhutto government established the National Film Development Corporation (Nafdec) in 1973. This was Lollywood’s golden age. In the next year, 115 films were produced. However, when Bhutto’s government was replaced by the Zia caliphate, religiosity struck a crushing blow to Lollywood.
In 1979, General Zia banned all Pakistani films produced in the preceding three years. A new film policy was formulated. The Motion Picture Ordinance 1979 was promulgated, restricting artistic freedoms. While Bhutto’s government had not allowed the demolition of cinema houses, Zia facilitated it by relaxing the rules. This was in line with the Saudi moral codes.
shahrangaIronically, besides Riyadh, Islamabad is perhaps the only capital city without a single cinema house. By the way, Gen Zia did not believe in total destruction of individuals, institutions and practices he suspected. He destroyed them piecemeal. For instance, in 1977, 81 films were released. In 1988 when he departed, 86 films hit the box office. Instead of shutting Lollywood down, he reoriented it.
To set the direction, a film based on Nasim Hijazi’s Khak Aur Khoon, was released by Nafdec. The next move was to commission a movie on the life of Jinnah (most likely in response to Richard Attenborough’s Gandhi). Even though the project was shelved half-way, it still deserves some mention. The title of the abandoned film was Stand Up From The Dust.
It was understood that this film would (1) portray Jinnah as a greater leader than Gandhi and (2) emphasise that Jinnah founded Pakistan to form an Islamic state. A British firm was hired to execute the project.
The film opens with a shot of horse-riding Arab warriors. Carrying swords, they appear from the Arabian Sea. A young man, Muhammad bin Qasim, is leading them. The epilogue shows glimpses of the Pakhtun, Turk, and Mughal dynasties, which the film terms the Muslim rulers of India. The scene culminates in an anecdote from Jinnah’s early life, immaculately dressed in a three piece-suit .He advises the children in Urdu ‘Golion se mat khelo, tumhary kapry kharab ho jaingey! Cricket khelo’. The English voiceover says ‘Stand up from the dust and play cricket’!
Zia thought it was a ‘very good effort’ … ‘Magar is main wo baat nahi aayee’. Everybody agreed. Hence the project was abandoned. Forgotten. Mercifully. Taking cue from the GHQ, Lollywood began to Islamise the themes. While song and dance sequels were part and parcel even in films such as Ghazi Ilam Din Shaheed (1978), the solution to the conflicts in most of the films was a return to pure Islam.khudakeliye
Paradoxically, in the longer run Lollywood became the victim of the jihadi mindset and Islamisation it projected. The performing arts, considered an obscenity by jihadists, have been increasingly under attack since the 1980s. Already in the 1990s, militants had begun to plant bombs at Lahore’s cinema houses and theatres. Thus censorship, coupled with growing Islamisation in society contributed to Lollywood’s decline. An industry that used to produce over 100 films was able to release hardly five films (excluding Pashto films) in 2012.
One may argue that blaming Islamisation for the death of Lollywood is a flawed argument. After all, in neighbouring Iran filmistan has flourished despite the ayatollahs. True. However, let us not forget two factors. First, cinema houses and films were targeted initially in Iran after the consolidation of the ayatollahs’ regime. However, during the Iran-Iraq war, films came to be needed as a propaganda tool. Women were encouraged to play the role of mothers and sisters of martyrs in propaganda productions. Hence, films began to receive state patronage. Under Zia, they were a target.
Second, Iran as a state and society has gone through reformist phases whereby cultural workers were able to win space for their activities. In Pakistan, the Talibanisation of both state and society has become stronger after Zia. Lollywood and Talibanisation could not exist together. The former slowly embraced an inglorious death. Tragically, nobody is even mourning.
(Facts and figures cited in the article are from Mushtaq Gazdar’s Pakistan Cinema: 1947-1997, and The Film magazine.)

सुशांत सिंह राजपूत से अजय ब्रह्मात्‍मज की बातचीत


 सुशांत सिंह राजपूत 
 ‘काय पो छे’ के तीन युवकों में ईशान को सभी ने पसंद किया। इस किरदार को सुशांत सिंह राजपूत ने निभाया। टीवी के दर्शकों के लिए सुशांत सिंह राजपूत अत्यंत पॉपुलर और परिचित नाम हैं। फिल्म के पर्दे पर पहली बार आए सुशांत ने दर्शकों को अपना मुरीद बना लिया। ‘काय पो छे’ की रिलीज के पहले ही उन्होंने यशराज फिल्म्स की मुनीश शर्मा निर्देशित अनाम फिल्म की शूटिंग कर दी थी। इस फिल्म को पूरी करने के बाद वे राज कुमार हिरानी की ‘पीके’ की शूटिंग आरंभ करेंगे। ‘काय पो छे’ की रिलीज के बाद सुशांत सिंह राजपूत के साथ यह बातचीत हुई है।
- ‘काय पो छे’ पर सबसे अच्छी और बुरी प्रतिक्रिया क्या मिली?
0 अभी तक किसी की बुरी प्रतिक्रिया नहीं मिली। सभी से तारीफ मिल रही है। सबसे अच्छी प्रतिक्रिया मेरी दोस्त अंकिता लोखंडे की थी। उन्होंने कहा कि मैं इतने सालों से तुम्हें जानती हूं और ‘पवित्र रिश्ता’ में ढाई साल मैंने साथ में काम भी किया है। फिल्म देखते हुए न तो मुझे सुशांत दिखा और न मानव। एक शो में अपने दोस्तों के साथ गया था। फिल्म खत्म होने के बाद मुझे देखते ही दर्शकों की जो सीटी और तालियां मिली। वह अनुभव अनोखा है। आप ने इरफान की प्रतिक्रिया बताई। लोग हाथ मिला कर खुश होते हैं और मुझे एनर्जी देते हैं।
- क्या आरंभ से ही यह आत्मविश्वास था कि ऐसी सराहना और प्रतिक्रिया मिलेगी?
0 मुझे पिक्चर पर विश्वास था। निर्माण का शुद्ध प्रयास ही इसे यहां ले आया। बर्लिन में पहली प्रतिक्रिया सकारात्मक थी। हम अपने दर्शकों की प्रतिक्रिया के इंतजार में थे। सच बताऊं तो ‘काय पो छे’ के पहले ही मुझे 5-6 फिल्में मिली थीं। सिंगल हीरो था मैं उनमें। मैं तब टीवी छोडक़र न्यूयॉर्क पढऩे जाने तैयारी कर रहा था। खाली था, फिर भी मैंने किसी फिल्म के लिए हां नहीं कह। इस फिल्म का ऑडिशन और स्क्रिप्ट पढऩे के बाद प्रार्थना करता रहा था कि मैं चुन लिया जाऊं। यह विश्वास था कि तीन दोस्तों की यह कहानी दर्शकों के साथ कनेक्ट होगी।
- फिल्म के प्रचार और प्रोमो में कहीं आप को कथित हीरो के तौर पर नहीं पेश किया गया, लेकिन फिल्म देखने के बाद दर्शकों ने आप को हीरो ठहरा दिया। ये हो गया कि आप लोग भी मान रहे थे?
0 हिंदी फिल्मों में जो प्रमुख किरदार मर जाता है, उसे हीरो मान लिया जाता है। इसकी अवधारणा में ही यह बात नहीं थी कि एक हीरो और दो दोस्त होंगे। अभिषेक कपूर ने किसी स्टार को इसीलिए नहीं रखा। तीनों नए चेहरे लिए गए कि उनकी कोई पूर्व छवि न हो। कोशिश थी कि दर्शक तीनों दोस्तों से कनेक्ट करें। वही हुआ, लेकिन लोगों ने मुझे थोड़ा ज्यादा प्यार दिया।
- आप की पृष्ठभूमि क्या रही है? कैसे आना हुआ ‘काय पो छे’ तक  ... 
0 मैं पटना में पैदा हुआ। प्रायमरी की पढ़ाई वहीं की। सेंट हाई स्कूल और कॉलेज मैंने दिल्ली से किया। दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग में पढ़ाई कर रहा था। शौक के लिए श्यामक डावर के डांस स्कूल जाता था। श्यामक को मैं अच्छा लगा के उन्होंने मुझे अपने डांस ट्रूप में चुन लिया। श्यामक ने ही सुझाव दिया कि तुम डांसर अच्छे हो। मुझे लगता है कि एक्टिंग भी कर सकते हो। फिर मैंने बैरी जॉन को ज्वायन किया। अंदर से एहसास हो रहा था कि डांस और थिएटर करते समय कुछ मैजिकल होता है। उस जादू का असर रहता था।
- क्या स्कूल-कॉलेज में भी परफारमेंस किए?
0 दिल्ली के हंसराज स्कूल में था। उस समय स्कूल शोज में हिस्सा लेता था। डांस और थिएटर ट्रैनिंग के बाद लगा कि इसमें मजा आ रहा है। फिर मैंने इंजीनियरिंग छोड़ दी। मैंने तय किया कि बाकी साल मनपसंद ट्रैनिंग में लगाऊंगा। मुंबई आने पर नादिरा बब्बर के साथ थिएटर किया। मैंने वहां ‘रोमियो जुलिएट’, ‘दौड़ा दौड़ा भागा भागा’,्र ‘प्रेमचंद की कहानियां’, ‘पुकार’ मोनोलॉग में एक्ट किया। दो-ढ़ाई साल इसमें बीते। ‘पुकार’ के प्रदर्शन में बालाजी के कास्टिंग डायरेक्टर ने मुझे देखा और एकता कपूर से मिलने के लिए बुलाया। एकता ने सलाह दी कि टीवी कर लो। तब तक मैंने कुछ सोचा नहीं था।
- अच्छा तो मुंबई आने के समय यह इरादा नहीं था कि टीवी फिल्मों में एक्टिंग करनी है?
0 मैंने यह नहीं सोचा था। कैरियर प्लान नहीं किया था। सीखने के लिए मैंने सब कुछ कर रहा था। टीवी का ऑफर मिला तो सभी सुझाव दिया कि प्राइम टाइम शो है, जरूर करो। अच्छा ही हो गया। कैमरे की ट्रेनिंग मिल गई। पैसे अच्छे मिलने लगे और आडिएंस भी पसंद करने लगी। दो साल बीतते-बीतते लगा कि मैं तो कुछ सीख ही नहीं रहा हूं। सिर्फ पैसे कमा रहा हूं। यह ख्याल आते ही मैंने ‘पवित्र रिश्ता’ छोड़ दिया। उस समय शॉर्ट फिल्में बनाने लगा। ‘इग्नोर्ड डे’ शॉर्ट फिल्म बनाई। फिल्म की ट्रेनिंग के लिए यूसीएलए में ट्राय किया। वहां हो गया। तो जाने की तैयारी करने लगा। टीवी छोड़ते ही मुझे फिल्मों के ऑफर आने लगे, फिर भी मन नहीं डिगा। फिल्मों के लिए ना कर ही रहा था। तभी कास्टिंग डायरेक्टर मुकेश छाबड़ा से मुलाकात हुई। उन्होंने मुझे ‘काय पो छे’ के बारे में बताया और ऑडिशन के लिए बुलाया। लगभग सात सालों के अभ्यास और काम के बाद मैंने ऑडिशन दिया था।
- फिर क्या हुआ?
0 चुन तो लिया गया, लेकिन अभिषेक कपूर ने कहा कि छह हफ्ते के बाद शूटिंग पर जाना है। तुम्हें अपना वजन कम करना होगा। तब मैं 87 किलो का था। मैंने स्क्रिप्ट का अभ्यास किया। वजन कम किया। टीवी करते समय आलस्य और व्यस्तता के मोटा हो गया था। छह हफ्ते की मेहनत काम आई। 14 किलो ग्राम वजन कम हुआ।
- ‘काय पो छे’ के आरंभ होने के पहले के बारे में कुछ बताएं?
0 हमलोग वर्कशॉप और रिहर्सल करते रहे। हम तीनों एक-दूसरे को काटने या दबाने की कभी कोशिश नहीं की। हमारे बीच खूब छनती थी। अभिषेक ने तो मुकेश से पूछा भी था कि तीनों पहले से दोस्त हैं क्या? अभिषेक भी चौंके।
- क्या कभी आशंका या असुरक्षा का एहसास भी हुआ कि अगर फिल्म नहीं बन सकी तो क्या होगा? हम जानते हैं कि कई बार सारी कोशिशों के बावजूद फिल्में अटक जाती है?
0 मैं बस प्रार्थना करता रहता था कि सब कुछ ठीक से चलता रहे। इंट्रोवर्ट, अल्पभाषी और शर्मिला था। फिल्म में उसका उल्टा था। यही जोश था कि इसमें कुछ नया कर पाएंगे। अब तक अभिषेक ने एक्शन नहीं बोल दिया तब तक अज्ञात डर तो था ही।
- फिल्म मिलने की खबर सबसे पहले किस के साथ शेयर की?
0 मैं अंकिता के साथ ही बैठा हुआ था जब फोन आया था। तो सबसे पहली जानकारी अंकिता को मिली। फिर सबसे बड़ी बहन को बताया। उन्होंने हमेशा मेरी मदद की और हौसला दिया। आर्थिक मदद भी देती रहीं।
- कितने भाई-बहन हैं? परिवार के बारे में बताएं?
0 मेरी चार बड़ी बहनें हैं। मैं सबसे छोटा हूं। एक डॉक्टर हैं चंडीगढ़ में, उनकी शादी आईपीएस ऑफिसर के साथ हुई। दूसरी स्टेट लोकल तक क्रिकेट खेल चुकी हैं। अभी गोल्फ खेलती हैं। मीतू दीदी के ऊपर ही मैंने ईशान को आधारित किया था। तीसरी सुप्रीम कोर्ट में क्रिमिनल लॉयर हैं। चौथी बहन भी काम करती हैं। मीतू दीदी जब फिल्म देखने जा रही थी तो मैंने कहा था कि दीदी देख कर बताना कि ईशान किस पर आधारित है? दस मिनट के अंदर ही उनका फोन आ गया। मेरे डैडी का नाम के  के सिंह है।
- मीतू दीदी में ऐसी क्या बात थी, जो ईशान में भी है  ... 
0 जरूरी नहीं है कि काबिलियत को सही समय पर मौके मिल जाएं। उनके साथ भी ऐसा ही कुछ हुआ था। ईशान के साथ भी ऐसा हुआ तो वह बहुत इंपलसिव हो गया। ऊपर से वह गुस्सैल और असंवेदनशील लगता है, लेकिन अंदर से मुलायम और टची है। वह शुद्ध और ईमानदार है। असुरक्षित भी है।
- फिल्म में यह सब दिखा है और ईशान उसे धक्का देता है ...
0 जी, ईशान का गुस्सा अली पर नहीं है। सच कहें तो वह सिस्टम के प्रति नाराजगी जाहिर करता है। ईशान को तुरंत एहसास होता है कि मैंने अली को क्यों मारा।
- मीतू दीदी और सुशांत सिंह का संबंध फिल्म में विधा और ईशान के जैसा ही है या अलग था?
0 मीतू दीदी से मेरे संबंध की झलक अली और ईशान के बीच है। मीतू दीदी ने मुझे बाईक और कार चलाना सिखाया। क्रिकेट खेलना सिखाया। मैं जो भी अच्छी चीजें करता हूं, वह सब मीतू दीदी का सिखाया-बताया है। तब मेरी भी उम्र अली इतनी थी। जब सब कुछ सीख-समझ रहा था।
- आप के पिता का नाम के के सिंह है और आप अपने नाम में सिंह के आगे राजपूत लिखते हैं। कोई वजह?
0 मेरी मां राजपूत लिखती थीं। मैंने डैड से सिंह और मां से राजपूत लिया। मैं पटना का ही हूं। छोटा था तभी मां का देहांत हो गया था। तब मैं बारह का ही था। हमलोग शुरू से दिल्ली में ही रहे।
- उत्तर भारत... खास कर उत्तरप्रदेश और बिहार से फिल्मों में कम एक्टर आते हैं। मैंने देखा है कि उनके प्रति इंडस्ट्री का रवैया स्वागत और प्रोत्साहन का नहीं रहता। आप का अनुभव कैसा रहा?
0 मुझे कभी विरोध नहीं झेलना पड़ा। भेदभाव तो होता ही है। हमारे समाज और विश्व में है। यह मानवीय प्रवृति है। मेरे अंदर एक आत्मविश्वास रहा है। ऐसा नहीं था कि एक सुबह सो कर उठने के बाद मैंने एक्टर बनने का फैसला कर लिया। मैंने बाकायदा छह साल ट्रेनिंग की। फिर आप कैसे छांट सकते हो। सबसे बड़े जज दर्शक होते हैं। वे पैसे देकर फिल्में देखने आते हैं। वे जब फिल्म देखने के बाद हाथ मिलाते समय भावुक हो जाते हैं। उनकी आंखें छलकने लगती हैं तो स्वीकृति मिल जाती है। मेरे लिए यह एक प्रोसेस है। डांस, थिएटर, टीवी और फिल्म ... सब एक-एक होता गया। अभी सीख रहा हूं। मैं खुद को स्टार नहीं समझ रहा हूं।
- स्टारडम के अहंकार से बचने के लिए क्या कर रहे हैं?
0 मुझे लगता है कि लोग आप को पढ़ लेते हैं। मैं झूठ और सच नहीं छिपा सकता। पैसे और प्रसिद्धि का आकर्षण नहीं है। अभी तक मैं ट्विटर या फेसबुक पर भी नहीं हूं। मुझे जो भी सराहना मिली है, उसे स्वीकार कर दिल में रखा है। सिर तक आने नहीं दिया है।
- अपने रिलेशनशिप के बारे में बताएं?
0 अंकिता लोखंडे ‘पवित्र रिश्ता’ में मेरी कोस्टार थीं। उन से दोस्ती हुई। आज भी हम दोस्त हैं। साथ रहते हैं। शादी जब होनी होगी, हो जाएगी। अभी सोचा नहीं है। मैं ईमानदारी और मेहनत नहीं छोडऩा चाहता। बैरी जॉन और नादिरा बब्बर से जो सीखा है, उसे ही मांज रहा हूं। साथ ही नई चीजें भी सीख रहा हूं।

Friday, March 29, 2013

फिल्‍म समीक्षा : हिम्‍मतवाला

बेमेल मसालों का मनोरंजन

-अजय ब्रह्मात्‍मज 
1983 में आई के राघवेन्द्र राव की हिम्मतवाला की रीमेक साजिद खान की हिम्मतवाला 1983 के ही परिवेश और समय में है। कपिलदेव के नेतृत्व में व‌र्ल्ड कप जीतने की कमेंट्री के अलावा फिल्म का एक किरदार बाल कर बताता है कि यह 1983 है। इस प्रकार पिछले बीस सालों में हिंदी सिनेमा के कथ्य और तकनीक में जो भी विकास और प्रगति है, उन्हें साजिद खान ने सिरे से नकार और नजरअंदाज कर दिया है। मजेदार तथ्य है कि साजिद खान की सोच और समझ में यकीन करने वाले निर्माता, कलाकार, तकनीशियन और दर्शक भी हैं। निश्चित ही हमारा देश भारत कई स्तरों पर एक साथ चल रहा है। मनोरंजन का एक स्तर साजिद खान का है।
साजिद खान थैंक्स गॉड इटस फ्रायडे जैसा गीत सुनवाने और मॉडर्न फाइट दिखाने के बाद 1983 के गांव रामनगर ले जाते हैं। इस गांव में शेर सिंह, नारायण दास, गोपी, सावित्री आदि जैसे दुनिया से कटे किरदार रहते हैं। बरगद या पीपल के पेड़ के नीचे ग्राम सभा होती है। यहां पुलिस भी 2000 किलोमीटर दूर से आती है। रामनगर की ग्राम पंचायत में एक ही सरपंच है। उसने सभी ग्रामीणों की जमीन-जायदाद गिरवी रख ली है। प्रतीकात्मक रूप से साजिद खान मनोरंजन जगत की पंचायत के ऐसे ही सरपंच हैं, जिन्होंने दुनिया से कटे दर्शकों के दिल-आ-दिमाग को गिरवी रख लिया है। उन्हें लगता है कि मनोरंजन के नाम पर वे जो भी परोसेंगे, दर्शक उसे चटखारे लेकर देखेंगे।
साजिद खान की पिछली फिल्मों करी सफलता ने उन्हें कुतर्क की गली में और अंदर और गहरे धकेल दिया है। हिम्मतवाला में वे पिछली फिल्मों से ज्यादा सरल, सतही, तर्कहीन और फूहड़ अंदाज में अपने किरदारों को लेकर आए हैं। साजिद खान की हिम्मतवाला शुद्ध मसालेदार फिल्म है। बस, मसालों को बेमेल तरीके से डाल दिया गया है। ऐसे बेमेल स्वाद इन दिनों पसंद किए जा रहे हें।यह कुछ-कुछ पायनीज भेल, चिकेन डोसा या जैन मंचूरियन की तरह है। न कोई ओर, न कोई छोर, लेकिन बिक्री बेजोड़। हिम्मतवाला पहले दिन पहले शो में दर्शकों के साथ देखने का संयोग बना। एक दर्शक ने इंटरवल में उच्छवास लेते हुए कहा-पका दिया। उसी दर्शक ने फिल्म खत्म होने पर टिप्पणी की, जो मन में आता है, बना देते हैं। इस लिहाज से हिम्मतवाला दर्शकों के मनोरंजन के बजाए साजिद खान का मनरंजन है।
साजिद खान ने अजय देवगन को उनके पॉपुलर इमेज में ही पेश किया है। अजय की प्रतिभा का ऐसा स्वार्थी उपयोग साजिद खान ही कर सकते हैं। अजय देवगन स्वयं पिछली कुछ फिल्मों से कॉमेडी और एक्शन के हिट फार्मूले में फंसे हैं। अपने संवादों और दृश्यों से भरोसा उठने पर साजिद खान अजय देवगन से आता माझा सटकली भी बुलवाते हैं। बम पे लात गाना गवाते हैं। पिछली फिल्म के गानों नैनों में सपना और ताकी रे ताकी को इस फिल्म में रखा गया है, लेकिन जितेन्द्र-श्रीदेवी का जादू जगाने में अजय देवगन-तमन्ना असफल रहे हैं। अमजद खान और कादर खान के किरदारों में इस बार महेश मांजरेकर और परेश रावल हैं। दोनों ने साजिद खान की मर्जी से किरदारों को नया अवतार दिया है। अपनी फूहड़ता से कभी वे हंसाते हैं और कभी हंसने पर मजबूर करते हैं कि बात बन नहीं रही है।
हिम्मतवाला साजिद खान का सिनेमा है। उन्हें भ्रम है कि वे मनमोहन देसाई की परंपरा को आगे बढ़ा रहे हैं। इस भ्रम में वे सिनेमा को कभी पीछे ले जाते हैं तो कभी तर्कहीन ड्रामा दिखाते हैं।
अवधि-150 मिनट,
*1/2 डेढ़ स्टार

Thursday, March 28, 2013

हिंदीहित में निर्माता-निर्देशकों से सार्वजनिक अपील

क्‍या आप ने दबंग का पोस्‍टर हिंदी में देखा है ? जिस पर DABANGG नहीं दबंग लिखा हो। 
चलिए किसी और फिल्‍म का नाम याद करें और यह भी याद करें कि पोस्‍टर पर फिल्‍म का नाम देवनागरी में लिखा था या रोमन में ?              
धीरे-धीरे निर्माता-निर्देशकों ने फिल्‍मों के नाम देवनागरी में लिखना बंद कर दिया है। कभी हिंदी,उर्दू और अंग्रेजी तीनों भाषाओं में नाम आते थे। अभी अंग्रेजी का बोलबाला है। कास्‍ट एंड क्रू के नाम की पट्टी भी अंग्रेजी में चला दी जाती है। फर्स्‍ट लुक पोस्‍टर और विज्ञापनों में भी फिल्‍मों के नाम अंग्रेजी में ही चल रहे हैं। हिंदी फिल्‍मों के नाम सिर्फ रोमन में लिखने का संक्रामक चलन तेजी से बढ़ता जा रहा है। मान लिया गया है कि इतनी अंग्रेजी सभी जानते हैं कि रोमन में फिल्‍मों के नाम पढ़ और समझ सकें। किसी को परवाह नहीं है। ऐसा कोई नियम-अधिनियम भी नहीं है कि हिंदी फिल्‍मों के नाम देवनागरी में ही लिखे जाएं। 
         मुझे एक प्रसंग याद आता है। राकेश रोशन की कृष रिलीज होने वाली थी। उनके कुछ वितरक मिलने और समझने आए थे। उन्‍हें फिल्‍म के पोस्‍टर दिए गए। अग्रिम विज्ञापन और प्रचार का यह कारगर तरीका है। थिएटरों में आने वाली फिल्‍मों के पोस्‍टर लगा दिए जाते हैं। एक वितरक ने कहा कि ये पोस्‍टर बेकार हैं। फिल्‍म का नाम हिंदी में नहीं लिखा है। राकेश रोशनका जवा था,'यह रितिक की फिल्‍म है। केवल उसकी तस्‍वीर भी रहेगी तो दर्शक समझ जाएंगे कि कृष ही है। हिंदी प्रदेश का वितरक सहमत नहीं हुआ। उसने करारा जवाब दिया,'आप हिंदी में पोस्‍टर छपवा दें तो अच्‍छा। वर्ना हम इसे पर हाथ से हिंदी में लिख देंगे।' मैंने खुद मनाली में देखा कि सनी देओल की एक फिल्‍म के पोस्‍टर पर नील से फिल्‍म और सनी देओल का नाम अंग्रेजी के ऊपर हिंदी में लिख दिया गया था। निर्माता बंधुओं समझ लें कि हिंदी फिल्‍में केवल मुंबई और दिल्‍ली की हद में नहीं चलतीं। बेहतर है किहिंदी प्रदेशों के लिए कम से कम देवनागरी में लिखे नामों के पोस्‍टर बनाए जाएं। अभी इसी हफ्ते बिहार की यात्रा में देखा कि 'स्‍पेशल 26','जॉली एलएलबी','आत्‍मा' और 'रंगरेज' के लिथो पोस्‍टर देवनागरी में छपे थे। कोई तस्‍वीर नहीं। सिर्फ फिल्‍म का नाम और कलाकारों की सूची। आप के ज्‍यादातर दर्शक अभी तक हिंदी ही समझते हैं। 
   
   किसी भाषायी जिद से ज्‍यादा यह आलस्‍य और सहूलियत का मामला है। चwaकि कहीं से भी पुरअसर आपत्ति नहीं होती,इसलिए निर्माताओं,प्रोडक्‍शन हाउस,निर्देशक आदि ने मान लिया है कि हिंदी में पोस्‍टर न आए तो भी चलता है। मुझे बहुत कोफ्त होती है। इन दिनों हिंदी अखबारो,चैनलों और वेब साइटों पर भी धड़ल्‍ले से अंग्रेजी में लिखे पोस्‍टर समाचार,रिव्‍यू और लेख के साथ छपते हैं। मालूम नहीं इन्‍हें देख कर कितनों की भवें तनती होंगी ?हिंदी प्रदेशों में शहरों की दीवारें हिंदी फिल्‍मों के अंग्रेजी पोस्‍टर से अटी रहती हैं। क्‍या निर्माता-निर्देशक किसी भाषायी आंदोलन या दबाव का इंतजार कर रहे हैं ? क्‍या विरोध में अंग्रेजी के पोस्‍टर फटने के बाद ही हिंदी में पोस्‍टर छपने शुरू होंगे। मीडिया को फर्स्‍ट लुक देते समय हिंदी के पोस्‍टर क्‍यों नहीं दिए जाते ? मुझे हिंदी चैनलों,अखबारों और वेबसाइट के फिल्‍म पद्धकारों से भी शिकायत है। वे हिंदी में क्रिएटिव क्‍यों नहीं मांगते ? मैंने एक-दो दफा मांगा तो मानो गोदाम से निकाल कर हिंदी के पोस्‍टर की साफ्ट कॉपी भेजी गई। कहा भी गया कि आप हिंदी-हिदी करते रहते हैं। देखिए सभी लोग पब्लिश कर रहे हैं कि नहीं ?
    निर्माता,निर्देशक और फिल्‍म प्रचार से जुढ़े सभी व्‍यक्तियों से आग्रह है कि वे जल्‍दी से जल्‍दी हिंदी में पोस्‍टर बनाने की प्राथमिकता पर विचार करें। हिंदी पत्र-पत्रिकाओं के संपादक,हिंदी फिल्‍म पत्रकारों,वेबसाइट के संपादकों से निवेदन है कि वे किसी भी फिल्‍म का अंग्रेजी पोस्‍टर इस्‍तेमाल न करें। हमें निर्माता-निर्देशकों,प्रचारकों और अप्ल्‍य संबंधित व्‍यक्तियों को एहसास दिलाना होगा कि अगर हिंदी में पोस्‍टर न छने तो उस फिल्‍म के प्रचार में बाधा आएगी। पोस्‍टर नहीं छपेंगे तो आखिरकार दर्शक कम होंगे। 
           मैं फिलहाल इस चर्चा में नहीं जाना चाहता कि हिंदी में पोस्‍टर न छाप कर भाषा,संस्‍कृति और समाज के साथ कैसा भ्रष्‍ट आचरण किया जा रहा है। अगर अभी से आवाज नहीं उठाई गई तो कल फिल्‍म पोस्‍टरों से हमशा के लिए हिंदी गायब हो जाएगी। प्रकिया शुरू हो चुकी है। उसे पलटने और बदलने के लिए हिंदी पोस्‍टरों की मांग करनी होगी।


Tuesday, March 26, 2013

नसीम बानो के साथ होली - मंटो




सआदत हसन मंटो के मीना बाजार से होली का एक प्रसंग। यह प्रसंग परी चेहरा नसीम बानो से लिया गया है। यहां नसीम के बहाने मंटो ने होली का जिक्र किया है। फिल्‍मों पर होली पर लिखते समय हम सभी राज कपूर की आर के स्‍टूडियो से ही आरंभ करते हैं। उम्‍मीद है अगली होली में फिल्मिस्‍तान और एस. मुकर्जी का भी उल्‍लेख होगा।
.......
      यह हंगामा होली का हंगामा था। जिस तरह अलीगढ़ यूनिवर्सिटी की एक ट्रेडीशनबरखा के आगाज पर मूड पार्टीहै। उसी तरह बम्बे टॉकीज की एक ट्रेडीशन होली की रंग पार्टी थी। चूंकि फिल्मिस्तान के करीब-करीब तमाम कारकुन बाम्बे टॉकीज के महाजिर थे। इसलिए यह ट्रेडीशन यहां भी कायम रही।
      एस. मुकर्जी उस रंग पार्टी के रिंग लीडर थे। औरतों की कमान उनकी मोटी और हंसमुख बीवी (अशोक की बहन) के सिपुर्द थी। मैं शाहिद लतीफ के यहां बैठा था। शाहिद की बीवी इस्मत (चुगताई) और मेरी बीवी (सफिया) दोनों खुदा मालूम क्या बातें कर रही थीं। एकदम शोर बरपा हुआ। इस्मत चिल्लाई। लो सफिया वह आ गये...लेकिन मैं भी...
      इस्मत इस बात पर अड़ गयी कि वह किसी को अपने ऊपर रंग फेंकने नहीं देगी। मुझे डर था कि उसकी यह जिद कहीं दूसरा रंग इख्तियार न कर ले। क्योंकि रंग पार्टी वाले सब होली के मूड  में थे। खुदा का शुक्र है कि इस्मत का मूड खुद बखुद बदल गया और वह चन्द लम्हात ही में रंगों में लत पत भुतनी बन कर दूसरी भुतनियों में शामिल हो गयी। मेरा और शाहिद तलीफ का हुलिया भी वही था, जो होली के दूसरे भुतनों का था।
      पार्टी में जब कुछ और लोग शामिल हुए तो शाहिद लतीफ ने बा आवाज-ए-बुलन्द कहा, ‘चलो परी चेहरा नसीम के घर रुख करो।
      रंगों से मुसल्लह गिरोह घोड़ बन्दर रोड की ऊंची-नीची तारकोल लगी सतह पर बेढंगे बेल-बूटे बनाता और शोर मचाता नसीम के बंगले की तरफ रवाना हुआ। चन्द मिनटों ही में हम सब वहां थे। शोर सुन कर नसीम और एहसान बाहर निकले। नसीम हल्के रंग की जारजट की साड़ी में मलबूस मेकअप की नोक पलक निकाले, जब हुजूम के सामने बरामदे में नमूदार हुई, तो शाहिद ने बिजन का हुक्म दिया। मगर मैंने उसे रोका, ‘ठहरो! पहले इनसे कहा कपड़े बदल आयें।
नसीम से कपड़े तब्दील करने के लिए कहा गया तो वह एक अदा के साथ मुस्कराई, ‘यही ठीक है।
      अभी यह अल्फाज उसके मुंह ही में थे कि होली की पिचकारियां बरस पड़ीं।  चन्द लम्हात ही में परी चेहरा नसीम बानो एक अजीब-ओ-गरीब किस्म की खौफनाक चुड़ैल में तब्दील हो गयी। नीले-पीले रंगों को तहों में से जब उसके सफेद और चमकीले दांत और बड़ी-बड़ी आंखें नजर आतीं तो ऐसा मालूम होता कि बहुजाद और मानी की मुसव्वरी पर किसी बच्चे ने स्याही उड़ेल दी है।
      रंगबाजी खत्म होने पर कबड्डी शुरू हुई। पहले मर्दों का मैच शुरू हुआ फिर औरतों का। यह बहु़त दिलचस्प था। मिस्टर मुकर्जी की फरबा बीवी जब भी गिरती कहकहों का तूफान-बरपा हो जाता। मेरी बीवी ऐनक-पोश थी। शीशे रंग-आलूद होने के बायस उसे बहुत कम नजर आता था। चुनांचे वह अक्सर गलत सिम्त दौडऩे लगती। नसीम से भगा नहीं जाता था या वह यह जाहिर करना चाहती थी कि वह उस मशक्कत की आदी नहीं। बहरहाल वह बराबर खेल में दिलचस्पी लेती रही।

Friday, March 22, 2013

संजय दत्‍त

-अजय ब्रह्मात्मज
 नि:स्संदेह संजय दत्त की लोकप्रियता में बीस सालों के बाद भी कोई कमी नहीं आई है। पिछली बार अप्रैल, 1993 में जेल जाने के समय वे अपने करियर के उत्कर्ष पर थे। साजन और यलगार जैसी हिट फिल्मों से पॉपुलर स्टार की अगली कतार में खड़े संजय दत्त की खलनायक रिलीज होने वाली थी। मुंबई बम धमाके में उनकी संलग्नता की खबर आने के बाद ही उनकी गिरफ्तारी की संभावना बढ़ गई थी। फिर भी उनके आशावादी मित्र सोच रहे थे कि पिता सुनील दत्त अपनी साख का इस्तेमाल करेंगे और उन्हें गंभीर सजा से बचा लेंगे। सुनील दत्त ने हमेशा संजू बाबा को सही राह पर लाने की कोशिश की। उनके दुर्गुणों को जानते हुए भी वे उनसे बेइंतहा प्यार करते रहे। 1993 में वे चाहकर भी अपने बेटे को जेल जाने से नहीं बचा सके क्योंकि तब उनका बेटा राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में लिप्त पाया गया था।
फिर भी पिता होने के नाते उन्होंने संजय को जरूरी भावनात्मक संबल दिया। कोर्ट के चक्कर से लेकर जेल जाने के बाद उनकी रिहाई और उन्हें सामान्य जिंदगी में लाने की हर कोशिश की। कोर्ट में हथियार रखने का मामला साबित होने के बाद भी उनके प्रति फिल्म बिरादरी की सहानुभूति में कोई कमी नहीं आई थी। ज्यादातर यही मानते थे कि उन्होंने परिवार की सुरक्षा के लिए भावनात्मक जल्दबाजी में एक गलत निर्णय ले लिया था। पिछली बार जेल जाने से उनकी कई निर्माणाधीन फिल्में रुक गई थीं। उनमें से कुछ तो बन भी नहीं सकीं। एक अनुमान के मुताबिक तब फिल्म इंडस्ट्री को लगभग 60 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था।
1995 में जमानत पर जेल से छूटने पर फिल्म इंडस्ट्री ने उनका जोरदार स्वागत किया। उन्हें धड़ाधड़ फिल्में मिलीं। अपनी इस दूसरी पारी में उन्होंने दाग: द फायर, वास्तव और मुन्नाभाई एमबीबीएस जैसी फिल्में कीं। मुन्नाभाई एमबीबीएस ने उनकी धूमिल छवि को भी साफ किया। संजू बाबा फिर सभी के चहेते बन गए। वह अपनी पीढ़ी के उन गिने-चुने अभिनेताओं में हैं, जिनका बाजार अब तक बरकरार है। ताजा उदाहरण, उनकी पिछली रिलीज जिला गाजियाबाद है। सिर्फ उनकी मौजूदगी की वजह से इस फिल्म ने औसत से बेहतर कलेक्शन किया।
सुप्रीम कोर्ट के ताजा फैसले के वक्त उनकी चार फिल्मों की शूटिंग चल रही है। हाल में वे राजस्थान से राजकुमार हिरानी की फिल्म 'पीके' की शूटिंग कर लौटे थे। इस फिल्म में वे आमिर खान के साथ महत्वपूर्ण भूमिका में हैं। सूत्रों के मुताबिक इस फिल्म के महत्वपूर्ण हिस्सों की शूटिंग अभी बाकी है। उनकी फिल्म 'पुलिसगीरी' में भी थोड़ा काम बाकी है। यह फिल्म 14 जून को रिलीज होने वाली है। हालांकि जंजीर के निर्माता बता रहे हैं कि उनकी फिल्म इस सजा से नहीं अटकेगी, लेकिन अंदरूनी खबरों के मुताबिक फिल्म में उनका काम बाकी है।
एक ही तरीका है कि एक महीने की मिली मोहलत में बचे हिस्सों को जल्दी-जल्दी शूट कर लिया जाए या फिर उनके किरदार में फेरबदल कर दिया जाए। राजस्त्रह्नमार गुप्ता की फिल्म 'घनचक्कर' में उनकी सिर्फ झलक दिखनी है। इसलिए ज्यादा फर्क नहीं पड़ता। करन जौहर की 'उंगली' के बारे में कहा जा रहा है कि उसमें संजय दत्त का काम खत्म हो चुका है। पिछले दिनों मुन्नाभाई. सीरीज की तीसरी कड़ी के लिए जॉली एलएलबी के निर्देशक सुभाष कपूर के नाम की खबर आई थी। निश्चित ही यह फिल्म निकट भविष्य में फ्लोर पर नहीं जा पाएगी। सुभाष मानते हैं कि संजय के बगैर मुन्नाभाई. सीरिज की कल्पना नहीं की जा सकती।
संजू बाबा के अब जेल जाने से मोटे अनुमान के मुताबिक लगभग 130 करोड़ का निवेश अधर में अटकेगा। यह राशि उन फिल्मों में लगे पैसे पर आधारित है जिनकी शूटिंग चल रही है। उनके जेल जाने से कई प्रोजेक्ट तैयारी पर ही रोकने पड़ेंगे। पिछली बार जेल से लौटने के बाद संजय ने अपने जीवन को संवारा और जिम्मेदार पारिवारिक व्यक्ति के तौर पर उभरे। उन्होंने मान्यता से शादी की, जिनसे उनके दो बच्चे हैं।उन बच्चों को क्या पता था कि उनके पापा ने उनके जन्म के पहले ऐसा संगीन अपराध किया था, जिसकी सजा अब मिली। दोनों बच्चे फिल्म बिरादरी के किसी भी सदस्य से ज्यादा अपने पिता की कमी महसूस करेंगे।

112 अरब का कारोबार

-अजय ब्रह्मात्मज
    हाल ही में संपन्न हुए फिक्की फ्रेम्स में प्रस्तुत वार्षिक रिपोर्ट में इस बात पर जोर दिया गया कि एक अरब से ज्यादा जनसंख्या के देश में हर दर्शक तक कैसे पहुंचा जाए। मीडिया उद्योग में चौतरफा विकास और बढ़ोत्तरी है। फिर भी लाभ का आंकड़ा अपेक्षा और संभावना से काफी कम है। मीडिया उद्योग की सबसे बड़ी बाधा और सीमा जन-जन तक नहीं पहुंच पाने की है। हिंदी फिल्मों को संदर्भ ले तो बाक्स आफिस पर सर्वाधिक कलेक्शन का रिकार्ड बना चुकी ‘3 इडियट’ को भी केवल 3 करोड़ दर्शकों ने ही देखा। एक अरब से ज्यादा आबादी के देश में 3 करोड़ दर्शक तो 3 प्रतिशत से भी कम हुए। गौर करें तो ‘3 इडियट’ को ही टीवी प्रसारण के जरिए 30 करोड़ दर्शकों ने देखा। अब फिल्म निर्माता चाहते हैं कि डीटीएच के माध्यम से वे पहले ही दिन अधिकाधिक दर्शकों तक पहुंच जाएं।
    पिछले दिनों दक्षिण के अभिनेता निर्देशक और निर्माता कमल हासन ने यह तय किया था कि वे डीटीएच के माध्यम से ‘विश्वरूप’ रिलीज करेंगे। घोषणा के बावजूद वितरकों और प्रदर्शकों के भारी दबाव की वजह से वे ऐसा नहीं कर सके। उनकी आरंभिक कोशिश विफल रही, लेकिन यह स्पष्ट संकेत मिल गया कि देर-सबेर देश भर के निर्माता अपनी फिल्मों को डीटीएच के माध्यम से दर्शकों तक ले जाएंगे। सारी कोशिश यही है कि रिलीज के साथ ही धन बटोर लिया जाए। स्वर्ण जयंती, रजत जयंती से वीकएंड कलेक्शन और ओपनिंग तक आ चुका फिल्म ट्रेड अपने पहले शो या डीटीएच प्रसारण से उगाही की संभावनाओं पर विचार कर रहा है।
    भारतीय परिदृश्य में अभी तक फिल्मों की सफलता और लाभ का मापदंड बाक्स आफिस कलेक्शन ही है। फिल्म रिलीज होने के साथ ट्रेड पंडित कलेक्शन के आंकड़े एकत्रित करने लगते हैं। ओपनिंग,फस्र्ट डे कलेक्शन और वीकएंड कलेक्शन के आधार पर फिल्म के अनुमानित बिजनेश की भविष्यवाणी की जाती है। इन दिनों हम 100 करोड़ के लक्ष्य को सफलता का मानदंड मान रहे हैं। एक-दो सालों में यह 300 करोड़ हो जाएगा और 2015 तक 1000 करोड़ की कमाई का लक्ष्य सभी फिल्मों के सामने होगा। फिल्म पूरी तरह से व्यवसाय हो चुका है। हर फिल्मकार और निर्माता आरंभ में पैशन के साथ फिल्म इंडस्ट्री में प्रवेश करता है। कुछ सालों के बाद उसका पैशन पैसों में बदल जाता है। वह अपनी बातचीत और फैसलों में उसे जस्टीफाई करने लगता है।
    पिछले कई सालों के धीमे विकास के बादं फिल्म इंडस्ट्री ने 2012 में गति पकड़ी है। मीडिया जगत के बाकी क्षेत्रों में विकास की रफ्तार धीमी रही, लेकिन फिल्म इंडस्ट्री में 23 ़8 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी देखी गई। पिछले साल 9 फिल्मों ने 100 करोड़ यानी 1 अरब  से अधिक का कलेक्शन किया। यहां तक कि छोटी फिल्मों ने भी अच्छा कारोबार किया। नफे के प्रतिशत को आधार मानें तो छोटी फिल्मों से मिला मुनाफा ज्यादा रहा। कारपोरेट और फैमिली प्रोडक्शन हाउस अब एक साथ बड़ी एंव छोटी फिल्मों के निर्माण और मार्केटिंग पर ध्यान दे रहे हैं। छोटी फिल्में अधिक सुरक्षित निवेश होती हैं। अगर नुकसान हुआ तो छोटा और लाभ हुआ तो बड़ा। यही कारण है कि नए कंटेंट, युवा निर्देशकों और नई सोच को तरजीह दी जाने लगी है।
    फिल्मों के बिजनेश और कलेक्शन को डिजीटाइजेशन से बड़ा फायदा हुआ है। देश के अस्सी प्रतिशत सिनेमाघर डिजीटिल हो चुके हैं। अनुमान है कि अगले दो-तीन सालों में शत-प्रतिशत सिनेमा घर डिजीटिल हो जाएंगे। कस्बों और छोटे शहरों के डिजीटल होने का सीधा फायदा निर्माताओं को मिलता है। उन्हें स्पष्ट जानकारी रहती है कि उनकी फिल्मों को किस शहर के किस थिएटर में कितने शो मिले। टेलीकास्ट के आधार पर मिले कलेक्शन से उनकी आमदनी लगातार बढ़ रही है।
    इधर की फिल्मों के प्रचार पर भी पर्याप्त ध्यान दिया जा रहा है। ‘विक्की डोनर’ फिल्म के प्रचार पर उसके निर्माण से अधिक खर्च किया गया था। उसका नतीजा सामने है। पहले बजट का 5-10 प्रतिशत ही प्रचार पर खर्च किया जाता था। अब यह अनुपात बढ़ कर कम से कम 20 प्रतिशत हो चुका है। ध्यान दें कि अब पोस्टर और प्रोमो तक ही प्रचार सीमित नहीं रह गया। अब फिल्म की यूएसपी पर आधारित इवेंट होते हैं। फिल्म के कलाकार शहर-दर-शहर घूमते हैं। विभिन्न माध्यमों का सदुपयोग किया जाता है।
    संक्षेप में पूरी कोशिश यही है कि देश के एक अरब से अधिक जनसंख्या को आखिरकार दर्शकों में बदल दिया जाए।


Tuesday, March 19, 2013

किशोर कुमार से प्रीतिश नंदी की बातचीत (1985)

Source: The Illustrated Weekly of India 28 August, 1985 ( 2 yrs before Kishore Kumar's death)
 Interviewer: Pritish Nandy

.....

PN: I understand you are quitting Bombay and going away to Khandwa…
KK: Who can live in this stupid, friendless city where everyone seeks to
exploit you every moment of the day? Can you trust anyone out here?
Is anyone trustworthy? Is anyone a friend you can count on?
I am determined to get out of this futile rat race and live as I've
always wanted to. In my native Khandwa, the land of my forefathers.
Who wants to die in this ugly city?
PN: Why did you come here in the first place?
KK: I would come to visit my brother Ashok Kumar. He was such a big
star in those days. I thought he could introduce me to KL Saigal
who was my greatest idol. People say he used to sing through his
nose. But so what? He was a great singer. Greater than anyone else.
PN: I believe you are planning to record an album of famous Saigal
songs….
KK: They asked me to. I refused. Why should I try to outsing him?
Let him remain enshrined in our memory. Let his songs remain
just HIS songs. Let not even one person say that Kishore Kumar
sang them better.
PN: If you didn't like Bombay, why did you stay back? For fame?
For money?
KK: I was conned into it. I only wanted to sing. Never to act. But
somehow, thanks to peculiar circumstances, I was persuaded to
act in the movies. I hated every moment of it and tried virtually
every trick to get out of it. I muffed my lines, pretended to be
crazy, shaved my head off, played difficult, began yodelling in
the midst of tragic scenes, told Meena Kumari what I was supposed
to tell Bina Rai in some other film - but they still wouldn't let
me go. I screamed, ranted, went cuckoo. But who cared? They were
just determined to make me a star.
PN: Why?
KK: Because I was Dadamoni's brother. And he was a great hero.
PN: But you succeeded, after your fashion….
KK: Of course I did. I was the biggest draw after Dilip Kumar. There
were so many films I was doing in those days that I had to run
from one set to the other, changing on the way. Imagine me. My
shirts flying off, my trousers falling off, my wig coming off
while I'm running from one set to the other. Very often I would
mix up my lines and look angry in a romantic scene or romantic
in the midst of a fierce battle. It was terrible and I hated it.
It evoked nightmares of school. Directors were like schoolteachers.
Do this. Do that. Don't do this. Don't do that. I dreaded it. That's
why I would often escape.
PN: Well, you are notorious for the trouble you give your directors
and producers. Why is that?
KK: Nonsense. They give me trouble. You think they give a damn for
me? I matter to them only because I sell. Who cared for me during
my bad days? Who cares for anyone in this profession?
PN: Is that why you prefer to be a loner?
KK: Look, I don't smoke, drink or socialise. I never go to parties.
If that makes me a loner, fine. I am happy this way. I go to work
and I come back straight home. To watch my horror movies, play
with my spooks, talk to my trees, sing. In this avaricious
world, every creative person is bound to be lonely. How can you
deny me that right?
PN: You don't have many friends?
KK: None.
PN: That's rather sweeping.
KK: People bore me. Film people particularly bore me. I prefer talking
to my trees.
PN: So you like nature?
KK: That's why I want to get away to Khandwa. I have lost all touch
with nature out here. I tried to did a canal all around my
bungalow out here, so that we could sail gondolas there. The
municipality chap would sit and watch and nod his head
disapprovingly, while my men would dig and dig. But it didn't work.
One day someone found a hand - a skeletal hand- and some toes.
After that no one wanted to dig anymore. Anoop, my second brother,
came charging with Ganga water and started chanting mantras. He
thought this house was built on a graveyard. Perhaps it is. But
I lost the chance of making my home like Venice.
PN: People would have thought you crazy. In fact they already do.
KK: Who said I'm crazy. The world is crazy; not me.
PN: Why do you have this reputation for doing strange things?
KK: It all began with this girl who came to interview me. In those
days I used to live alone. So she said: You must be very lonely.
I said: No, let me introduce you to some of my friends. So I
took her to the garden and introduced her to some of the friendlier
trees. Janardhan; Raghunandan; Gangadhar; Jagannath; Buddhuram;
Jhatpatajhatpatpat. I said they were my closest friends in this
cruel world. She went and wrote this bizarre piece, saying that
I spent long evenings with my arms entwined around them. What's
wrong with that, you tell me? What's wrong making friends with
trees?
PN: Nothing.
KK: Then, there was this interior decorator-a suited, booted fellow
who came to see me in a three-piece woollen, Saville Row suit
in the thick of summer- and began to lecture me about aesthetics,
design, visual sense and all that. After listening to him for about
half an hour and trying to figure out what he was saying through
his peculiar American accent, I told him that I wanted something
very simple for my living room. Just water-several feet deep- and
little boats floating around, instead of large sofas. I told him
that the centre-piece should be anchored down so that the tea
service could be placed on it and all of us could row up to it
in our boats and take sips from our cups. But the boats should
be properly balanced, I said, otherwise we might whizz past each
other and conversation would be difficult.
He looked a bit alarmed but that alarm gave way to sheer horror
when I began to describe the wall decor. I told him that I wanted
live crows hanging from the walls instead of paintings-since I
liked nature so much. And, instead of fans, we could have monkeys
farting from the ceiling. That's when he slowly backed out from
the room with a strange look in his eyes. The last I saw of him
was him running out of the front gate, at a pace that would have
put an electric train to shame. What's crazy about having a living
room like that, you tell me? If he can wear a woollen, three-piece
suit in the height of summer, why can't I hang live crows onmy
walls?
PN: Your ideas are quite original, but why do your films fare so badly?
KK: Because I tell my distributors to avoid them. I warn them at the
very outset that the film might run for a week at the most.
Naturally, they go away and never come back. Where will you find
a producer-director who warns you not to touch his film because
even he can't understand what he has made?
PN: Then why do you make films?
KK: Because the spirit moves me. I feel I have something to say and
the films eventually do well at times.
I remember this film of mine - Door Gagan ki Chhaon mein - which
started to an audience of 10 people in Alankar. I know because I
was in the hall myself. There were only ten people who had come to
watch the first show!
Even its release was peculiar. Subhodh Mukherjee, the brother of
my brother-in-law, had booked Alankar(the hall) for 8 weeks for
his film April Fool- which everyone knew was going to be a block-
buster. My film, everyone was sure, was going to be a thundering
flop. So he offered to give me a week of his booking. Take the
first week, he said flamboyantly, and I'll manage within seven. After
all, the movie can't run beyond a week. It can't run beyond two
days, I reassured him.
When 10 people came for the first show, he tried to console me.
Don't worry, he said, it happens at times. But who was worried?
Then, the word spread. Like wildfire. And within a few days the
hall began to fill. It ran for all 8 weeks at Alankar, house full!
Subodh Mukherjee kept screaming at me but how could I let go the
hall? After 8 weeks when the booking ran out, the movie shifted
to Super, where it ran for another 21 weeks! That's the anatomy
of a hit of mine. How does one explain it? Can anyone explain
it? Can Subodh Mukherjee, whose April Fool went on to become a
thundering flop?
PN: But you, as the director should have known?
KK: Directors know nothing. I never had the privilege of working with
any good director. Except Satyen Bose and Bimal Roy, no one even
knew the ABC of film making. How can you expect me to give good
performances under such directors?
Directors like S.D. Narang didn't even know where to place the
camera. He would take long, pensive drags from his cigarette,
mumble 'Quiet, quiet, quiet' to everyone, walk a couple of furlongs
absentmindedly, mutter to himself and then tell the camera man to
place the camera wherever he wanted. His standard line to me was:
Do something. What something? Come on, some thing! So I would go
off on my antics. Is this the way to act? Is this the way to direct
a movie? And yet Narangsaab made so many hits!
PN: Why didn't you ever offer to work with a good director?
KK: Offer! I was far too scared. Satyajit Ray came to me and wanted me
to act in Parash Pathar - his famous comedy - and I was so scared
that I ran away. Later, Tulsi Chakravarti did the role. It was a
great role and I ran away from it, so scared I was of these great
directors.
PN: But you knew Ray.
KK: Of course I did. I loaned him five thousand rupees at the time of
Pather Panchali-when he was in great financial difficulty- and even
though he paid back the entire loan, I never gave him an opportunity
to forget the fact that I had contributed to the making of the
classic. I still rib him about it. I never forget the money I
loan out!
PN: Well, some people think you are crazy about money. Others describe
you as a clown, pretending to be kinky but sane as hell. Still
others find you cunning and manipulative. Which is the real you?
KK: I play different roles at different times. For different people.
In this crazy world, only the truly sane man appears to be mad.
Look at me. Do you think I'm mad? Do you think I can be manipulative?
PN: How would I know?
KK: Of course you would know. It's so easy to judge a man by just
looking at him. You look at these film people and you instantly
know they're rogues.
PN: I believe so.
KK: I don't believe so. I know so. You can't trust them an inch.
I have been in this rat race for so long that I can smell trouble
from miles afar. I smelt trouble the day I came to Bombay in the
hope of becoming a playback singer and got conned into acting. I
should have just turned my back and run.
PN: Why didn't you?
KK: Well, I've regretted it ever since. Boom Boom. Boompitty boom boom.
Chikachikachik chik chik. Yadlehe eeee yadlehe ooooo (Goes on
yodelling till the tea comes. Someone emerges from behind the
upturned sofa in the living room, looking rather mournful with
a bunch of rat-eaten files and holds them up for KK to see)
PN: What are those files?
KK: My income tax records.
PN: Rat-eaten?
KK: We use them as pesticides. They are very effective. The rats die
quite easily after biting into them.
PN: What do you show the tax people when they ask for the papers?
KK: The dead rats.
PN: I see.
KK: You like dead rats?
PN: Not particularly.
KK: Lots of people eat them in other parts of the world.
PN: I guess so.
KK: Haute cuisine. Expensive too. Costs a lot of money.
PN: Yes?
KK: Good business, rats. One can make money from them if one is
enterprising.
PN: I believe you are very fussy about money. Once, I'm told. a
producer paid you only half your dues and you came to the sets
with half your head and half your moustache shaved off. And you
told him that when he paid the rest, you would shoot with your face
intact…
KK: Why should they take me for granted? These people never pay unless
you teach them a lesson. I was shooting in the South once. I think
the film was Miss Mary and these chaps kept me waiting in the hotel
room for five days without shooting. So I got fed up and started
cutting my hair. First I chopped off some hair from the right side
of my head and then, to balance it, I chopped off some from the
left. By mistake I overdid it. So I cut off some more from the
right. Again I overdid it. So I had to cut from the left again.
This went on till I had virtually no hair left- and that's when
the call came from the sets. When I turned up the way I was, they
all collapsed. That's how rumours reached Bombay. They said I had
gone cuckoo. I didn't know. I returned and found everyone wishing
me from long distance and keeping a safe distance of 10 feet while
talking. Even those chaps who would come and embrace me waved out
from a distance and said Hi. Then, someone asked me a little
hesitantly how I was feeling. I said: Fine. I spoke a little
abruptly perhaps. Suddenly I found him turning around and running.
Far, far away from me.
PN: But are you actually so stingy about money?
KK: I have to pay my taxes.
PN: You have income tax problems I am told….
KK: Who doesn't? My actual dues are not much but the interest has
piled up. I'm planning to sell off a lot of things before I go
to Khandwa and settle this entire business once and for all.
PN: You refused to sing for Sanjay Gandhi during the emergency and,
it is said, that's why the tax hounds were set on you. Is this true?
KK: Who knows why they come. But no one can make me do what I don't
want to do. I don't sing at anyone's will or command. But I sing
for charities, causes all the time.
[Note: Sanjay Gandhi wanted KK to sing at some Congress rally in Bombay.
KK refused. Sanjay Gandhi ordered All India Radio to stop playing
Kishore songs. This went on for quite a while. KK refused to
apologize. Finally, it took scores of prominant producers and
directors to convince those in power to rescind the ban]
PN: What about your home life? Why has that been so turbulent?
KK: Because I like being left alone.
PN: What went wrong with Ruma Devi, your first wife?
KK: She was a very talented person but we could not get along because
we looked at life differently. She wanted to build a choir and a
career. I wanted someone to build me a home. How can the two
reconcile? You see, I'm a simple minded villager type. I don't
understand this business about women making careers. Wives should
first learn how to make a home. And how can you fit the two
together? A career and a home are quite seperate things. That's why
we went our seperate ways.
PN: Madhubala, your second wife?
KK: She was quite another matter. I knew she was very sick even before
I married her. But a promise is a promise. So I kept my word and
brought her home as my wife, even though I knew she was dying from
a congenital heart problem. For 9 long years I nursed her. I watched
her die before my own eyes. You can never understand what this means
until you live through this yourself. She was such a beautiful woman
and she died so painfully.
She would rave and rant and scream in frustration. How can such an
active person spend 9 long years bed-ridden? And I had to humour her
all the time. That's what the doctor asked me to. That's what I did
till her very last breath. I would laugh with her. I would cry with
her.
PN: What about your third marriage? To Yogeeta Bali?
KK: That was a joke. I don't think she was serious about marriage. She
was only obsessed with her mother. She never wanted to live here.
PN: But that's because she says you would stay up all night and
count money..
KK: Do you think I can do that? Do you think I'm mad? Well, it's
good we separated quickly.
PN: What about your present marriage?
KK: Leena is a very different kind of person. She too is an actress like
all of them but she's very different. She's seen tragedy. She's
faced grief. When your husband is shot dead, you change. You
understand life. You realise the ephemeral quality of all things..
I am happy now.
PN: What about your new film? Are you going to play hero in this one too?
KK: No no no. I'm just the producer-director. I'm going to be behind
the camera. Remember I told you how much I hate acting? All I might
do is make a split second appearance on screen as an old man or
something.
PN: Like Hitchcock?
KK: Yes, my favourite director.
I'm mad, true. But only about one thing. Horror movies. I love
spooks. They are a friendly fearsome lot. Very nice people,
actually, if you get to know them. Not like these industry chaps
out here. Do you know any spooks?
PN: Not very friendly ones.
KK: But nice, frightening ones?
PN: Not really.
KK: But that's precisely what we're all going to become one day. Like
this chap out here (points to a skull, which he uses as part of his
decor, with red light emerging from its eyes)- you don't even know
whether it's a man or a woman. Eh? But it's a nice sort. Friendly
too. Look, doesn't it look nice with my specs on its non-existent
nose?
PN: Very nice indeed.
KK: You are a good man. You understand the real things of life. You are
going to look like this one day.

Monday, March 18, 2013

डॉ चंद्रप्रकाश द्विवेदी से अजय ब्रह्मात्‍मज की बातचीत (वीडियो बातचीत )

2 मार्च 2013 को मुंबई में डॉ चंद्रप्रकाश द्विवेदी से मैंने उनके निर्देशक होने से लेकर सिनेमा में उनकी अभिरुचि समेत साहित्‍य और सिनेमा के संबंधों पर बात की थी। मेरे मित्र रवि शेखर ने उसकी वीडियो रिकार्डिंग की थी। उन्‍होंने इसे यूट्यूब पर शेयर किया है। वहीं से मैं ये लिंक यहां चवन्‍नी के पाठकों के लिए दे रहा हूं। आप का फीडबैक इस नए प्रयास को आंकेगा और बताएगा कि आगे ऐसे वीडियो किस रूप में  पेश किए जाएं। पांच किस्‍तों की यह बातचीत एक साथ पेश है...यह बातचीत संजय चौहान के सौजन्‍य से संपन्‍न हुई थी। दोनों मित्रों को धन्‍यवाद !
पहली किस्‍त
http://www.youtube.com/watch?v=K3vsQGenAyo

दूसरी किस्‍त 
http://www.youtube.com/watch?v=eBSsvIr6VN4

तीसरी किस्‍त 
http://www.youtube.com/watch?v=fzwnPNjigbE

चौथी किस्‍त 
http://www.youtube.com/watch?v=imvxn8VMDwc

पांचवीं किस्‍त 
http://www.youtube.com/watch?v=_JkdqS1XkWM

Friday, March 15, 2013

फिल्‍म रिव्‍यू : मेरे डैड की मारुति

Mere dad ki maruti film review-अजय ब्रह्मात्‍मज
यशराज फिल्म्स युवा दर्शकों को ध्यान में रख कर कुछ फिल्में बनाती है। 'मेरे डैड की मारूति' इसी बैनर वाय फिल्म्स की फिल्म है। चंडीगढ़ में एक पंजाबी परिवार में शादी की पृष्ठभूमि में गढ़ी यह फिल्म वहां के युवक-युवतियों के साथ बाप-बेटे के रिश्ते, दोस्ती और निस्संदेह मोहब्बत की भी कहानी कहती है। फिल्म में पंजाबी संवाद और पंजाबी गीत-संगीत की बहुलता है। इसे हिंदी में बनी पंजाबी फिल्म कह सकते हैं। पंजाब का रंग-ढंग अच्छी तरह उभर कर आया है। ऐसी फिल्में क्षेत्र विशेष के दर्शकों का भरपूर मनोरंजन कर सकती हैं। भविष्य में हिंदी में इस तरह की क्षेत्रीय फिल्में बढ़ेंगी, जो बिहार, राजस्थान, हिमाचल की विशेषताओं के साथ वहां के दर्शकों का मनोरंजन करें।
तेजिन्दर (राम कपूर) और समीर (साकिब सलीम) बाप-बेटे हैं। अपने बेटे की करतूतों से हर दम चिढ़े रहने वाले तेजिन्दर समीर को किसी काम का नहीं समझते। समीर अपने जिगरी दोस्त गट्टू के सथ शहर और यूनिवर्सिटी में मंडराता रहता है। अचानक एक लड़की उसे पसंद करती है और डेट का मौका देती है। डेट पर जाने के लिए समीर अनुमति लिए बगैर अपने डैड की नई मारुति लेकर जाता है। डेट,प्यार और उत्साह के चक्कर में वह कार खो जाती है। यहां यह भी बता दें कि तेजिन्दर ने वह मारुति अपने दामाद को भेंट करने के लिए खरीदी है। संगीत से शादी के चंद दिनों के बीच मारुति तलाशने और लाने के दरम्यान फिल्म में रोमांस, गाने और युवकों के बीच प्रचलित लतीफेबाजी है।
फिल्म में युवाओं के बीच प्रचलित भाषा का अधिकाधिक उपयोग किया गया है। गैरशहरी दर्शकों को इसे समझने में दिक्कत हो सकती है, लेकिन यह फिल्म उनके लिए बनी भी नहीं है। फिल्म का उद्देश्य शहरी युवाओं के मन-मानस को पेश करना है। बहरहाल, पिता की भूमिका में आए राम कपूर किरदार के मिजाज को अच्छी तरह पर्दे पर जीवंत करते हैं। उनकी अदायगी में आई नाटकीयता किरदार की जरूरत है। बेटे की भूमिका में साकिब सलीम ने अच्छी मेहनत की है। नृत्य और भागदौड़ के दृश्यों में वे अधिक जंचे हैं। भावनात्मक और नाटकीय दृश्यों में उनकी मेहनत झलकती है। अभी अभ्यास चाहिए। कुछ दृश्यों में उनका सहयोगी गट्टू बाजी मार ले जाता है।
फिल्म के परिवेश के मुताबिक पंजाबी गीत-संगीत की भरमार है। मौका संगीत और शादी का है तो नाच-गाने जरूरी लगने लगते हैं। फिर भी दुल्हन का आयटम गीत का तुक समझ में नहीं आता, जबकि दिखाया गया है कि भाई और दूल्हा उस नृत्य पर झेंप रहे हैं। एक मां हैं, जो चुटकियां बजा रही हैं।
पुन:श्च- फिल्म में मारुति कार का प्रचार किया गया है। यह प्रचार खटकता है।
-अजय ब्रह्मात्मज
अवधि-101 मिनट
ढाई स्टार

फिल्‍म रिव्‍यू : जॉली एलएलबी

-अजय ब्रह्मात्‍मज
तेजिन्दर राजपाल - फुटपाथ पर सोएंगे तो मरने का रिस्क तो है।
जगदीश त्यागी उर्फ जॉली - फुटपाथ गाड़ी चलाने के लिए भी नहीं होते।
सुभाष कपूर की 'जॉली एलएलबी' में ये परस्पर संवाद नहीं हैं। मतलब तालियां बटोरने के लिए की गई डॉयलॉगबाजी नहीं है। अलग-अलग दृश्यों में फिल्मों के मुख्य किरदार इन वाक्यों को बोलते हैं। इस वाक्यों में ही 'जॉली एलएलबी' का मर्म है। एक और प्रसंग है, जब थका-हारा जॉली एक पुल के नीचे पेशाब करने के लिए खड़ा होता है तो एक बुजुर्ग अपने परिवार के साथ नमूदार होते हैं। वे कहते हैं साहब थोड़ा उधर चले जाएं, यह हमारे सोने की जगह है। फिल्म की कहानी इस दृश्य से एक टर्न लेती है। यह टर्न पर्दे पर स्पष्ट दिखता है और हॉल के अंदर मौजूद दर्शकों के बीच भी कुछ हिलता है। हां, अगर आप मर्सिडीज, बीएमडब्लू या ऐसी ही किसी महंगी कार की सवारी करते हैं तो यह दृश्य बेतुका लग सकता है। वास्तव में 'जॉली एलएलबी' 'ऑनेस्ट ब्लडी इंडियन' (साले ईमानदार भारतीय) की कहानी है। अगर आप के अंदर ईमानदारी नहीं बची है तो सुभाष कपूर की 'जॉली एलएलबी' आप के लिए नहीं है। यह फिल्म मनोरंजक है। फिल्म में आए किरदारों की सच्चाई और बेईमानी हमारे समय के भारत को जस का तस रख देती है। मर्जी आप की ़ ़ ़ आप हंसे, रोएं या तिलमिलाएं।
हिंदी फिल्मों में मनोरंजन के नाम पर हास्य इस कदर हावी है कि हम व्यंग्य को व्यर्थ समझने लगे हैं। सुभाष कपूर ने किसी भी प्रसंग या दृश्य में सायास चुटीले संवाद नहीं भरे हैं। कुछ आम किरदार हैं, जो बोलते हैं तो सच छींट देते हैं। कई बार यह सच चुभता है। सच की किरचें सीने को छेदती है। गला रुंध जाता है। 'जॉली एलएलबी' गैरइरादतन ही समाज में मौजूद अमीर और गरीब की सोच-समझ और सपनों के फर्क की परतें खोल देती है। 'फुटपाथ पर क्यों आते हैं लोग?' जॉली के इस सवाल की गूंज पर्दे पर चल रहे कोर्टरूम ड्रामा से निकलकर झकझोरती है। हिंदी फिल्मों से सुन्न हो रही हमारी संवेदनाओं को यह फिल्म फिर से जगा देती है। सुभाष कपूर की तकनीकी दक्षता और फिल्म की भव्यता में कमी हो सकती है, लेकिन इस फिल्म की सादगी दमकती है।
'जॉली एलएलबी' में अरशद वारसी की टीशर्ट पर अंग्रेजी में लिखे वाक्य का शब्दार्थ है, 'शायद मैं दिन में न चमकूं, लेकिन रात में दमकता हूं'। जॉली का किरदार के लिय यह सटीक वाक्य है। मेरठ का मुफस्सिल वकील जगदीश त्यागी उर्फ जॉली बड़े नाम और रसूख के लिए दिल्ली आता है। तेजिन्दर राजपाल की तरह वह भी नाम-काम चाहता है। वह राजपाल के जीते एक मुकदमे के सिलसिले में जनहित याचिका दायर करता है। सीधे राजपाल से उसकी टक्कर होती है। इस टक्कर के बीच में जज त्रिपाठी भी हैं। निचली अदालत के तौर-तरीके और स्थिति को दर्शाती यह फिल्म अचानक दो व्यक्तियों की भिड़ंत से बढ़कर दो सोच की टकराहट में तब्दील हो जाती है। जज त्रिपाठी का जमीर जागता है। वह कहता भी है, 'कानून अंधा होता है। जज नहीं, उसे सब दिखता है।'
सुभाष कपूर ने सभी किरदारों के लिए समुचित कास्टिंग की है। बनी इमेज के मुताबिक अगर अरशद वारसी और बमन ईरानी किसी फिल्म में हों तो हमें उम्मीद रहती है कि हंसने के मौके मिलेंगे। 'जॉली एलएलबी' हंसाती है, लेकिन हंसी तक नहीं ठहरती। उससे आगे बढ़ जाती है। अरशद वारसी, बमन ईरानी और सौरभ शुक्ला ने अपने किरदारों को सही गति, भाव और ठहराव दिए हैं। तीनों किरदारों के परफारमेंस में परस्पर निर्भरता और सहयोग है। कोई भी बाजी मारने की फिक्र में परफारमेंस का छल नहीं करता। छोटे से दृश्य में आए राम गोपाल वर्मा (संजय मिश्रा) भी अभिनय और दृश्य की तीक्ष्णता की वजह से याद रह जाते हैं। फिल्म की नायिका संध्या (अमृता राव) से नाचने-गाने का काम भी लिया गया है, लेकिन वह जॉली को विवेक देती है। उसे झकझोरती है। हिंदी फिल्मों की आम नायिकाओं से अलग वह अपनी सीमित जरूरतों पर जोर देती है। वह कामकाजी भी है।
सुभाष कपूर ने 'जॉली एलएलबी' के जरिए हिंदी फिल्मों में खो चुकी व्यंग्य की धारा को फिर से जागृत किया है। लंबे समय के बाद कुंदन शाह और सई परांजपे की परंपरा में एक और निर्देशक उभरा है, जो राजकुमार हिरानी की तरह मनोरंजन के साथ कचोट भी देता है। धन्यवाद सुभाष कपूर।

Thursday, March 14, 2013

व्यंग्य निर्देशक सुभाष कपूर


-अजय ब्रह्मात्मज
    बाहर से आए निर्देशक के लिए यह बड़ी छलांग है। खबर है कि सुभाष कपूर विधू विनोद चोपड़ा और राज कुमार हिरानी की ‘मुन्नाभाई  ... ’ सीरिज की अगली कड़ी का निर्देशन करेंगे। पिछले हफ्ते आई इस खबर ने सभी को चौंका दिया। ‘मुन्नाभाई एमबीबीएस’ और ‘लगे रहो मुन्नाभाई’ के बाद ‘मुन्नाभाई चले अमेरिका’ की घोषणा हो चुकी थी। उसके फोटो शूट भी जारी कर दिए गए थे। राजकुमार हिरानी उस फिल्म को शुरू नहीं कर सके। स्क्रिप्ट नहीं होने से फिल्म अटकी रह गई। इस बीच राजकुमार हिरानी ने ‘3 इडियट’ पूरी कर ली। उसकी अपार और रिकार्ड सफलता के बाद वे फिर से आमिर खान के साथ ‘पीके’ बनाने में जुट गए हैं। इसी दरम्यान सुभाष कपूर को ‘मुन्नाभाई ....’ सीरिज सौंपने की खबर आ गई।
    सुभाष कपूर और विधु विनोद चोपड़ा के नजदीकी सूत्रों की मानें तो यह फैसला अचानक नहीं हुआ है। राजकुमार हिरानी की व्यस्तता को देखते हुए यह जरूरी फैसला लेना ही था। ‘मुन्नाभाई ...’ सीरिज में दो फिल्में कर लेने के बाद राजकुमार हिरानी अन्यमनस्क से थे। शायद वे इस सीरिज से ऊब गए हों या नए विषयों का हिलोर उन्हें बहा ले जाता हो। ‘मुन्नाभाई ...’ के मुन्ना और सर्किट की जोड़ी को दर्शक नई स्थितियों और परिवेश में देखने के लिए लालायित हैं। संजय दत्त के पास अभी कोई बेहतर फिल्म भी नहीं है। ‘जिला गाजियाबाद’ जैसी फिल्म में हम ने संजय दत्त और अरशद वारसी को एक साथ देखा, लेकिन उनके बीच मुन्ना-सर्किट की केमिस्ट्री नहीं दिखी। स्पष्ट है कि दोनों ‘मुन्नाभाई ...’ सीरिज में ही जमते हैं।
    सुभाष कपूर के चुने जाने की बात कर रहा था। विधु विनोद चोपड़ा और राजकुमार हिरानी दोनों चाहते थे कि फिल्म के निर्देशन की जिम्मेदारी किसी को दी जाए। इस सिलसिले में वे पहले हबीब फैजल से मिले। उन्हें लगा था कि युवा निर्देशक ‘मुन्नाभाई ...’ सीरिज के साथ न्याय कर सकेंगे। बातचीत और विमर्श में उनसे संतुष्ट नहीं होने पर फिर ‘फरारी की सवारी’ के निर्देशक राजेश मापुसकर के बारे में सोचा गया। राजेश मापुसकर पहले राजकुमार हिरानी के सहयोगी थे और उन्होंने विधु विनोद चोपड़ा के लिए ही ‘फरारी की सवारी’ बनाई थी। उन पर भी सहमति नहीं बनी। तभी फिल्म पत्रकार और समीक्षक अनुपमा चोपड़ा ने सुभाष कपूर का नाम सुझाया। अनुपमा चोपड़ा के पति हैं विधु विनोद चोपड़ा। अनुपमा को ‘फंस गया रे ओबामा’ अच्छी लगी थी। उन्होंने यह भी बताया कि सुभाष कपूर की ‘जॉली एलएलबी’ आ रही है। अनुपमा के सुझाव पर चोपड़ा और हिरानी ने पहले ‘फंस गया रे ओबामा’ और फिर अप्रदर्शित ‘जॉली एलएलबी’ देखी। उन्हें सुभाष कपूर की शैली और व्यंग्य की धार पसंद आई। उन्होंने तय कर लिया कि सुभाष कपूर को ही लेंगे।
    सुभाष कपूर ने हिंदी से एमए किया है। हिंदी से एम ए का विशेष उल्लेख इसलिए कर रहा हूं कि आम तौर पर हिंदी पढ़े व्यक्ति की एक रूढि़वादी और पिछड़ी छवि है। माना जाता है कि जो विद्यार्थी किसी और विषय में प्रवीण नहीं होते वे मजबूरी में हिंदी और मराठी चुनते हैं। सुभाष कपूर ने पढ़ाई के दिनों में छात्र आंदोलन और थिएटर गतिविधियों में हिस्सा लिया। वे वामपंथी रुझान के व्यक्ति हैं। टीवी और प्रिंट की पत्रकारिता करने के बाद उन्होंने मुंबई का रुख किया। इरादा था कि हिंदी में फिल्में बनाएंगे। उनकी पहली फिल्म ‘से सलाम इंडिया’ क्रिकेट के विषय पर थी। वह आई और चली गई, फिर भी इंडस्ट्री में उन्हें नोटिस किया गया। अगली फिल्म ‘फंस गया रे ओबामा’ थी। इस फिल्म के लिए कलाकार जुटाने में सुभाष कपूर को भारी मशक्कत करनी पड़ी। संजय मिश्र को केंद्रीय भूमिका में लेकर फिल्म बनी। यह फिल्म चली और खूब पसंद की गई। अगली फिल्म ‘जॉली एलएलबी’ 15 मार्च को रिलीज हो रही है। यह पश्चिमी उत्तर प्रदेश के एक असफल वकील जॉली की कहानी है। समाज और सत्ता पर एक साथ चोट करती सुभाष कपूर की फिल्में सीधे तौर पर कोई उद्घोष या नारा नहीं लगातीं। उनकी फिल्मों में आम जीवन के प्रसंगों का मनोरंजन रहता है। हमारे आसपास के किरदार हमारी ही भाषा में चुटीली बातें करते हैं और हमें घायल कर देते हैं।
    उम्मीद है कि सुभाष कपूर अपनी धार बनाए रखेंगे और ‘मुन्नाभाई  ...’ सीरिज को मनोरंजक मजबूती के सथ आगे बढ़ाएंगे।

Monday, March 11, 2013

परदे पर साहित्‍य -ओम थानवी

ओम थानवी का यह लेख जनसत्‍ता से चवन्‍नी के पाठकों के लिए लिया गया है। ओम जी ने मुख्‍य रूप से हिंदी सिनेमा और हिंदी साहित्‍य पर बात की है। इस जानकारीपूर्ण लेख से हम सभी लाभान्वित हों। 
 -ओम थानवी
जनसत्ता 3 मार्च, 2013: साहित्य अकादेमी ने अपने साहित्योत्सव में इस दफा तीन दिन की एक संगोष्ठी साहित्य और अन्य कलाओं के रिश्ते को लेकर की। एक सत्र साहित्य और सिनेमापर हुआ। इसमें मुझे हिंदी कथा-साहित्य और सिनेमा पर बोलने का मौका मिला।
सिनेमा के मामले में हिंदी साहित्य की बात हो तो जाने-अनजाने संस्कृत साहित्य पर आधारित फिल्मों की ओर भी मेरा ध्यान चला जाता है। जो गया भी। मैंने राजस्थानी कथाकार विजयदान देथा उर्फ बिज्जी के शब्दों में सामने आई लोककथाओं की बात भी अपने बयान में जोड़ ली।
बिज्जी की कही लोककथाएं राजस्थानी और हिंदी दोनों में समान रूप से चर्चित हुई हैं। हिंदी में शायद ज्यादा। उनके दौर में दूसरा लेखक कौन है, जिस पर मणि कौल से लेकर हबीब तनवीर-श्याम बेनेगल, प्रकाश झा और अमोल पालेकर का ध्यान गया हो?
वैसे हिंदी साहित्य में सबसे ज्यादा फिल्में- स्वाभाविक ही- उपन्यास सम्राट प्रेमचंद की रचनाओं पर बनी हैं। इसलिए नहीं कि जब बंबई (अब मुंबई) में बोलती फिल्मों का दौर शुरू हुआ, प्रेमचंद ने खुद बंबई फिल्म जगत की ओर रुख किया। वहां वे विफल ही हुए। सरस्वती प्रेस के घाटे के चलते साप्ताहिक जागरणको दो साल चलाकर बंद करना पड़ा था। सो मोहन भावनानी की कंपनी अजंता सिनेटोन के प्रस्ताव पर 1934 में आठ हजार रुपए सालाना के अच्छे-खासे अनुबंध पर वे मुंबई पहुंच गए।
प्रेमचंद की कहानी पर मोहन भावनानी ने 1934 में मजदूर बनाई। उसका नाम कभी मिल हुआ, कभी सेठ की बेटी भी। प्रेमचंद का क्रांतिकारी तेवर उसमें इतना प्रभावी था कि फिल्म सेंसर के हत्थे चढ़ गई। मुंबई प्रांत; पंजाब/लाहौर; फिर दिल्ली- फिल्म पर प्रतिबंध लगते गए। उसमें श्रमिक अशांतिका खतरा देखा गया। फिल्म की विधा तब नई थी, समाज में फिल्म का असर तब निरक्षर समुदाय तक भी पुरजोर पहुंचता था।
अंतत: मजदूर सेंसर से पास हुई, पर चली नहीं। हां, उसके असर ने कहते हैं प्रेमचंद के अपने सरस्वती प्रेस के मजदूरों को जागृतकर दिया था! वहां के श्रमिकों में असंतोष भड़क गया!
1934 में ही प्रेमचंद के उपन्यास सेवासदन’ (जो पहले उर्दू में बाजारे-हुस्न नाम से लिखा गया था) पर नानूभाई वकील ने फिल्म बनाई। प्रेमचंद उससे उखड़ गए थे। हिंदी साहित्य में लेखक और फिल्मकार की तकरार की कहानी वहीं से शुरू हो जाती है। हालांकि चार साल बाद इसी उपन्यास पर तमिल में के. सुब्रमण्यम ने जब फिल्म बनाई, प्रेमचंद उससे शायद संतुष्ट हुए हों। उस फिल्म में एमएस सुब्बुलक्ष्मी नायिका थीं। अभिनय, सुब्बुलक्ष्मी के गायन आदि के कारण वह फिल्म बहुत सफल हुई।
अगले वर्ष उनके उपन्यास नवजीवन पर फिल्म बनी। इस बीच प्रेमचंद का मोहभंग हुआ, पीछे सरस्वती प्रेस के मजदूर भी हड़ताल पर चले गए। वे मुंबई छोड़ बनारस लौट आए। 1936 में उनका निधन हो गया। निधन के बाद उनकी कहानी पर स्वामी (औरत की फितरत/त्रिया चरित्र), हीरा-मोती (दो बैलों की कथा), रंगभूमि, गोदान, गबन और बहुत आगे जाकर सत्यजित राय सरीखे फिल्मकार के निर्देशन में शतरंज के खिलाड़ी और सद्गति बनीं।
हिंदी फिल्मों में सत्यजित राय को छोड़कर शायद ही किसी फिल्मकार ने प्रेमचंद के साहित्य के मर्म को समझने की कोशिश की हो। यों मृणाल सेन ने भी कफनकहानी पर तेलुगु में फिल्म (ओका उरी कथा) बनाई है, जिसे मैं अब तक देख नहीं सका हूं। राय ने शतरंज के खिलाड़ी  में बहुत छूट ली- उस पर आगे बात होगी- लेकिन रचना की उनकी समझ पर कौन संदेह कर सकता है?
वैसे प्रेमचंद अजंता सिनेटोन में अपना अनुबंध पूरा होने के पहले ही समझ गए थे कि रचना को लेकर फिल्म वाले फिल्मी ही हैं। 28 नवंबर, 1934 को जैनेंद्र कुमार को लिखे एक पत्र में प्रेमचंद कहते हैं- ‘‘फिल्मी हाल क्या लिखूं? मिल (बाद में मजदूर नाम से जारी चलचित्र) यहां पास न हुआ। लाहौर में पास हो गया और दिखाया जा रहा है। मैं जिन इरादों से आया था, उनमें से एक भी पूरा होता नजर नहीं आता। ये प्रोड्यूसर जिस ढंग की कहानियां बनाते आए हैं, उसकी लीक से जौ भर भी नहीं हट सकते। वल्गैरिटीको ये एंटरटेनमेंट बैल्यूकहते हैं।... मैंने सामाजिक कहानियां लिखी हैं, जिन्हें शिक्षित समाज भी देखना चाहे; लेकिन उनकी फिल्म बनाते इन लोगों को संदेह होता है कि चले, या न चले!’’
प्रेमचंद की कृतियों पर बनी फिल्मों के दौर में ही अमृतलाल नागर, भगवतीचरण वर्मा, सुदर्शन, सेठ गोविंददास, होमवती देवी, चंद्रधर शर्मा गुलेरी और आचार्य चतुरसेन की रचनाओं पर भी फिल्में बनीं। वर्मा के उपन्यास चित्रलेखा पर दो-दो बार। आम तौर वे सब साधारण फिल्में थीं।
1966 में फणीश्वरनाथ रेणु की कहानी मारे गए गुलफामपर बासु चटर्जी ने तीसरी कसम बनाई। भारी कर्ज लेकर फिल्म में पैसा शैलेंद्र ने लगाया। राज कपूर और वहीदा रहमान को लेकर भी फिल्म नहीं चली। कहते हैं इस सदमे में शैलेंद्र की जान चली गई। लेकिन आज वह फिल्म क्लासिक मानी जाती है। अभिनय, गीत-संगीत, नृत्य आदि में फिल्म उत्तम थी। छायांकन में उत्कृष्ट। पथेर पांचाली सहित सत्यजित राय की अनेक फिल्मों के छविकार सुब्रत मित्र ने तीसरी कसम भी फिल्माई थी। पर फिल्म का संपादन कमजोर था। रोचक कहानी भी बिखर-बिखर जाती थी। दूसरे, हीराबाई का दर्द फिल्म में उभर कर ही नहीं आया।
इसके बाद बासु चटर्जी ने राजेंद्र यादव के उपन्यास सारा आकाश (1969)   और मन्नू भंडारी की कहानी यही सच हैपर रजनीगंधा (1974) फिल्में बनाईं, जो चलीं। हालांकि फिल्म की सफलता से यह शायद ही जाहिर होता हो कि फिल्म ने कथा को बखूबी प्रस्तुत किया या नहीं। बासु चटर्जी, साफ नीयत के बावजूद, भावुकतावादी लोकप्रिय बुनावट के कारीगर हैं। हृषिकेश मुखर्जी, गुलजार आदि हमारे यहां यही काम करते रहे हैं।
इस दौर को मैं साहित्य के संदर्भ में हिंदी फिल्मों का खुशगवार दौर कहता हूं। जो और फिल्में साठ और सत्तर के दशक में हिंदी लेखन को केंद्र में रखकर बनीं उनमें उल्लेखनीय थीं- फिर भी (तलाश): कमलेश्वर/शिवेंद्र सिन्हा, बदनाम बस्ती: कमलेश्वर/प्रेम कपूर; 27 डाउन (अठारह सूरज के पौधे): रमेश बक्षी/अवतार कौल; चरणदास चोर: विजयदान देथा/श्याम बेनेगल; त्यागपत्र (जैनेंद्र कुमार/रमेश गुप्ता); आंधी (काली आंधी): कमलेश्वर/गुलजार; जीना यहां (एखाने आकाश नाय): मन्नू भंडारी/बासु चटर्जी, आदि। इस तरह की फिल्में बंबइया बाजार की लीक से कुछ हटकर थीं। मगर थीं व्यावसायिक।
इनसे हटकर हिंदी फिल्मों का वह दौर है, जिसे नई धारा का समांतर सिनेमा भी कहा गया। साहित्य से इसका संबंध ईमानदार रहा, भले ही लेखक अपनी कृति के दृश्यों में ढले रूप से संतुष्ट न रहे हों।
साहित्यिक रचनाओं पर बनी सभी फिल्मों की सूची देना या उनकी समीक्षा करना यहां मेरा प्रयोजन नहीं है। पर उदाहरण के बतौर कुछ फिल्मकारों का उल्लेख और उनके काम की चर्चा मैं करता चलता हूं।
समांतर सिनेमा के दौर में हिंदी साहित्य को सबसे ज्यादा महत्त्व और निष्ठाभरी समझ मणि कौल ने दी। इसी दौर में कुमार शहानी ने निर्मल वर्मा की कहानी माया दर्पण पर फिल्म बनाई। इसके अलावा दामुल (कबूतर): शैवाल/प्रकाश झा; परिणति: विजयदान देथा/प्रकाश झा; पतंग: संजय सहाय/गौतम घोष; सूरज का सातवां घोड़ा: धर्मवीर भारती/श्याम बेनेगल; कोख (किराए की कोख): आलमशाह खान/आरएस विकल; खरगोश: प्रियंवद/परेश कामदार जैसी फिल्में भी कथा के निरूपण की दृष्टि से बेहतर थीं।
मणि कौल ने पूना फिल्म संस्थान की दीक्षा के फौरन बाद उसकी रोटी (1969) बनाई। मोहन राकेश की कहानी पर बनी इस फिल्म ने हिंदी सिनेमा में कथा कहने का तरीका सिर से पांव तक बदल दिया। मणि के दिमाग में राकेश की कहानी का मर्म था, कथोपकथन और घटना-क्रम उन्होंने उतना ही लिया जितना अनिवार्य जान पड़ा। इस तरह उसकी रोटी ट्रक-ड्राइवर सुच्चा सिंह और उसकी पत्नी बालो की घरेलू दास्तान न बनकर मर्द की बेरुखी और औरत की वेदना का काव्यात्मक चित्रण बन गई। संवादों की अदायगी, संगीत की जगह सहज आवाजों का इस्तेमाल और छायांकन (के.के. महाजन) में ठहरी हुई छवियों की काली-सफेद भंगिमा ने कहानी को जैसे परदे की कविता में ढाल दिया।
खयाल करने की बात है कि इसी अंदाज में माया दर्पण (1972) चलती है, जो रंगीन भी है। कहानी का निर्वाह उसमें काव्यात्मक- दूसरे अर्थ में कलात्मक- है। लेकिन उसमें बिखराव भी है। चाहे प्रयोग हो, पर दर्शक के साथ तारतम्य टूटने का मतलब होता है, फिल्म का अपनी लय से छूटना। साहित्य में पाठक के साथ रिश्ता टुकड़ों में शक्ल ले सकता है, लेकिन सिनेमा में दर्शक को एक निरंतरता चाहिए। फिल्म के साथ अपने रिश्ते को दर्शक- पाठक की तरह- आगे भी आविष्कृत कर सकता है, लेकिन हर बार उसे एक तारतम्य फिर भी चाहिए।
अपने अंदाज में ही मणि कौल ने बाद में आषाढ़ का एक दिन (मोहन राकेश), दुविधा (विजयदान देथा), सतह से उठता आदमी (मुक्तिबोध) और नौकर की कमीज (विनोद कुमार शुक्ल) फिल्में बनाईं। सतह से उठता आदमी जरूर- माया दर्पण की तरह- किसी संगति से उचट जाती है, लेकिन नौकर की कमीज संगति के मामले में उन्हें बिल्कुल मुकम्मल ढंग से पेश करती है।
प्रसंगवश जिक्र करना मुनासिब होगा कि 1994 में एक जर्मन निर्माता के लिए मणि कौल ने एक छोटी फिल्म द क्लाउड डोर (बादल द्वार) बनाई थी। भास के नाटक अविमारकऔर जायसी के महाकाव्य पद्मावतपर आधारित फिल्म सिनेमाई बिंबविधान की दृष्टि से, मेरी समझ में, मणि कौल की सर्वश्रेष्ठ फिल्म है।
साहित्य और सिनेमा के रिश्ते को जोड़े रखने में दूरदर्शन की बड़ी भूमिका रही है। लेकिन कड़ियों में घर-घर को ध्यान में रखकर बनने वाले फिल्म-रूप आम तौर पर लचर ही देखे गए हैं। छोटे परदे के लिए फिल्मांकन की अपनी सीमाएं होती हैं। सद्गति (प्रेमचंद/सत्यजित राय) और तमस (भीष्म साहनी/गोविंद निहलानी) को छोड़कर कोई उल्लेखनीय चित्रांकन मुझे खयाल नहीं पड़ता। यों चंद्रकांता (देवकीनंदन खत्री), निर्मला (प्रेमचंद), राग दरबारी (श्रीलाल शुक्ल), कब तक पुकारूं (रांगेय राघव), मुझे चांद चाहिए (सुरेंद्र वर्मा), नेताजी कहिन (कक्काजी कहिन, मनोहर श्याम जोशी) पर भी धारावाहिक फिल्मांकन हुआ है। अन्य अनेक कहानियों पर भी। प्रेमचंद की कहानियों पर तो गुलजार ने काम किया। लेकिन यह सब कहानियों का इस्तेमाल भर रहा।
साफ कर दूं कि सिनेमा या टीवी के लिए संवाद या पटकथा लेखन को मैं यहां दूर रखता हूं। वरना प्रेमचंद के अलावा सुदर्शन, हरिकृष्ण प्रेमी, सेठ गोविंददास, द्वारकाप्रसाद मिश्र, धनीराम प्रेम, अमृतलाल नागर, राही मासूम रजा, मनोहर श्याम जोशी ने फिल्मों और टीवी के लिए भी बड़ी कलम-घिसाई की।
पर सद्गति और शतरंज के खिलाड़ी के लिए हमें सत्यजित राय पर अलग से बात करनी चाहिए। हिंदी में राय ने   दो ही फिल्में बनाईं; दोनों प्रेमचंद की कहानियों पर। शतरंज के खिलाड़ी 1977 में बनी। सद्गति दूरदर्शन के लिए चार साल बाद बनाई। पहली फिल्म पर विवाद उठा। दरअसल, ‘शतरंज के खिलाड़ीछोटी कहानी है, पूर्ण अवधि की फिल्म उस पर बन नहीं सकती। राय फिल्म में वाजिद अली शाह और लॉर्ड डलहौजी के सैनिकों की पेशकदमी ले आए। वरना प्रेमचंद की कहानी घर-परिवार और समाज-सरकार को ताक पर रख हरदम शतरंज खेलने वाले दो निकम्मे नवाबों के गिर्द सिमटी रहती है। राय ने कहानी का अंत फिल्म में बदल दिया।
सत्यजित राय ने प्रेमचंद की कहानी शतरंज के खिलाड़ीका विस्तार तो किया ही था, अंत भी बदल दिया था। मिर्जा और मीर वहां एक दूसरे को तलवार से मौत के घाट नहीं उतारते, फिर से बाजी जमा कर बैठ जाते हैं। परस्पर मार-काट दो नवाबों की आपसी कहानी बन कर रह जाता; फिल्म में तमंचे निकाल कर, चला कर अंतत: फिर बाजी पर आ जाना अंगरेजी फौज के हमले के प्रति अवध की (व्यापक अर्थ में हमारी) अनवरत उदासीनता का मंजर बन जाता है। मुझे लगता है राय ने प्रेमचंद को आदर भी दिया (कहानी का चुनाव और उस पर उस दौर में बड़े बजट की फिल्म बनाना भी एक प्रमाण है) और उसके असर में इजाफा भी किया।
हालांकि किसी लेखक के गले यह बात न उतरे कि फिल्मकार- चाहे कितना ही महान हो- अपनी पुनर्रचना में इतनी छूट ले सकता है। आलोचकों ने इसे खिलवाड़कहा।
राय अपनी ज्यादातर फिल्में कथा-साहित्य पर ही केंद्रित रखते आए थे। शायद ही कभी कथा में बड़ा बदलाव उन्होंने किया हो। हिंदी कहानी के साथ यह प्रयोगभारी आलोचना का कारण बना। विवाद का नतीजा था या राय ने खुद सद्गति में किसी तरह के परिवर्तन की जरूरत अनुभव नहीं की, कहा नहीं जा सकता।
इस बारे में मेरा विचार यह है कि अगर फिल्मकार पाए का है और लेखक को उस पर भरोसा है तो फिल्मकार को पर्याप्त छूट मिलनी चाहिए। एक फिल्मकार किसी कहानी, उपन्यास या नाटक पर हमेशा इसलिए फिल्म नहीं बनाता कि उसे फिल्म की पटकथा के लिए बना-बनाया कथा-सूत्र चाहिए। इसके लिए उसे बेहतर लोकप्रिय चीजें- गुलशन नंदा से लेकर चेतन भगत तक ढेर उदाहरण मिल जाएंगे- मिल सकती हैं। साहित्यिक कृति को चुनने में ही गंभीर सृजन के प्रति उसका सम्मान जाहिर हो जाता है; अगर लेखक का भी भरोसा उसमें हो तो अपनी कृति उसे फिल्मकार के विवेक पर छोड़ देनी चाहिए। वह परदे पर संवर भी सकती है, बिगड़ भी सकती है।
हम इस बात का खयाल रखें कि किसी साहित्यिक कृति पर फिल्म उसके पाठकों का विस्तार करने के लिए नहीं बनाई जाती। न इसलिए कि जिन तक लेखनी न पहुंच सके, चाक्षुष रूप में फिल्म पहुंच जाए। फिल्म शब्दों का दृश्य विधा में अनुवादनहीं हो सकती। यह फिल्म की विधा को कमतर करके देखना होगा, और साहित्य को भी। फिल्मकार के उपकरण जुदा होते हैं। वह रचना को शब्दों के पार ले जाना चाहता है। मुश्किल यहीं पर है, जब साहित्यजगत फिल्म में से साहित्य को हू-ब-हू देखना चाहता है। एक हद तक यह लगभग असंभव अपेक्षा ही है; गद्य का विवरण- नैरेटिव- फिल्म में सिर्फ पार्श्व से बोलकर व्यक्त किया जा सकता है- सूरज का सातवां घोड़ा- पर वह हमेशा शायद ही कारगर साबित हो।
साहित्य पर बनी गंभीर और ईमानदार फिल्म दृश्यों, ध्वनियों, रंगों और प्रकाश के आयामों में एक कृति को समझने की कोशिश होती है। पाठक रचना से हजार अर्थ लेकर बाहर निकलते हैं, एक फिल्मकार भी एक श्रेष्ठ कृति का अपना पाठ प्रस्तुत करता है। इस तरह वह किसी रचना की पुनर्रचना भी करता है, जो बड़ा काम है।
हिंदी में सौ वर्षों में साहित्यिक कृतियों पर सौ फिल्में भी नहीं बनी हैं। कुमार शहानी जैसे फिल्मकार ने माया दर्पण बनाई, पर निर्मल वर्मा उसमें अपनी कहानी देखते थे। शहानी कहते थे, यह उस कहानी का बिंबों में पुनराविष्कार है।
मन्नू भंडारी के उपन्यास आपका बंटीपर फिल्म बनी तो मामला उच्च न्यायालय तक पहुंच गया। अंत में यह समझौता हुआ कि फिल्म आपका बंटीसे जोड़कर नहीं प्रचारित की जाएगी। वह फिल्म समय की धारा नाम से दिखाई गई। बहरहाल, यह व्यावसायिक फिल्म थी। बाजार के लिए किए गए बदलाव छूट के घेरे में नहीं आ सकते।
यहीं मायादर्पण का मामला यहां अलग हो जाता है। शतरंज के खिलाड़ी या उसकी रोटी का भी। दुविधा के सिनेमाई भाष्य में मणि कौल और अमोल पालेकर में रात-दिन का भेद है। श्याम बेनेगल ने भी चरणदास चोर में अपने भाष्य की खूब छूट ली है। कहानी उसे निखारती ही है।
विदेश में साहित्य और सिनेमा का रिश्ता बेहतर है। वहां शेक्सपियर की कृतियों पर बेशुमार फिल्में बनी हैं। एक ही कृति पर अनेक बार फिल्म बनना जाहिर करता है कि हर फिल्मकार कृति को नए सिरे से पढ़ना’, अपनी विधा में आविष्कृत करना चाहता है। बालजाक, सरवांतेस, तोलस्तोय, चार्ल्स डिकंस, टॉमस हार्डी, मार्क ट्वेन, अल्बेयर कामू, ग्राहम ग्रीन, ईएम फॉस्टर, व्लादीमिर नाबोकोव, मार्शल प्रूस्त, एमिल जोला, गुंथर ग्रास, हरमन हेस... सूची बेहद लंबी है। उनकी कृतियों पर अच्छी फिल्में भी मिलती हैं, बुरी भी। गाब्रिएल गार्सिया मार्केस ने अपने तीन उपन्यासों पर बनी फिल्में देखने के बाद निश्चय किया कि अ हंड्रेड इयर्स आॅफ सॉलिट्यूडपर फिल्म बनाने की इजाजत कभी नहीं देंगे।
मैं समझता हूं फिल्म की विधा जब तक कथा का   आधार चाहती है- हालांकि अब इस पद्धति में बदलाव आ रहे हैं- तब तक उसे साहित्य को अपना भाष्य देने की आजादी रहनी चाहिए। साहित्य और सिनेमा का यह सार्थक रिश्ता होगा। हिंदी में तो अनेक कृतियों में सिनेमा की संभावनाएं हैं। किसी कृति का मेरा पाठ मुझ में है, पर मैं यह भी क्यों न जानना चाहूं कि चाक्षुष विधा का कोई गंभीर सर्जक बाणभट्ट की आत्मकथा, नदी के द्वीप, अमृत और विष, दिव्या या मैला आंचल को किस तरह सामने ला सकता है?