Search This Blog

Wednesday, January 30, 2013

Being A Khan - Shahrukh Khan




Being a Khan
Outlook Turning Points 2013 [Published By The New York Times]
I am an actor. Time does not frame my days with as much conviction as images do. Images rule my life. Moments and memories imprint themselves on my being in the form of the snapshots that I weave into my expression. The essence of my art is the ability to create images that resonate with the emotional imagery of those watching them.
I am a Khan. The name itself conjures multiple images in my mind too: a strapping man riding a horse, his reckless hair flowing from beneath a turban tied firm around his head. His ruggedly handsome face marked by weathered lines and a distinctly large nose.
A stereotyped extremist; no dance, no drink, no cigarette tipping off his lips, no monogamy, no blasphemy; a fair, silent face beguiling a violent fury smoldering within. A streak that could even make him blow himself up in the name of his God. Then there is the image of me being shoved into a back room of a vast American airport named after an American president (another parallel image: of the president being assassinated by a man named lee, not a Muslim thankfully, nor Chinese as some might imagine! I urgently shove the image of the room out of my head).
Some stripping, frisking and many questions later, I am given an explanation (of sorts): “Your name pops up on our system, we are sorry”. “So am I,” I think to myself, “Now can I have my underwear back please?” Then, there is the image I most see, the one of me in my own country: being acclaimed as a megastar, adored and glorified, my fans mobbing me with love and apparent adulation.
I am a Khan.
I could say I fit into each of these images: I could be a strapping six feet something – ok something minus, about three inches at least, though I don’t know much about horse-riding. A horse once galloped off with me flapping helplessly on it and I have had a “no horse-riding” clause embedded in my contracts ever since.
I am extremely muscular between my ears, I am often told by my kids, and I used to be fair too, but now I have a perpetual tan or as I like to call it ‘olive hue’ – though deep In the recesses of my armpits I can still find the remains of a fairer day. I am handsome under the right kind of light and I really do have a “distinctly large” nose. It announces my arrival in fact, peeking through the doorway just before I make my megastar entrance. But my nose notwithstanding, my name means nothing to me unless I contextualize it.
Stereotyping and contextualizing is the way of the world we live in: a world in which definition has become central to security. We take comfort in defining phenomena, objects and people – with a limited amount of knowledge and along known parameters. The predictability that naturally arises from these definitions makes us feel secure within our own limitations.
We create little image boxes of our own. One such box has begun to draw its lid tighter and tighter at present. It is the box that contains an image of my religion in millions of minds.
I encounter this tightening of definition every time moderation is required to be publicly expressed by the Muslim community in my country. Whenever there is an act of violence in the name of Islam, I am called upon to air my views on it and dispel the notion that by virtue of being a Muslim, I condone such senseless brutality. I am one of the voices chosen to represent my community in order to prevent other communities from reacting to all of us as if we were somehow colluding with or responsible for the crimes committed in the name of a religion that we experience entirely differently from the perpetrators of these crimes.
I sometimes become the inadvertent object of political leaders who choose to make me a symbol of all that they think is wrong and unpatriotic about Muslims in india. There have been occasions when I have been accused of bearing allegiance to our neighboring nation rather than my own country – this even though I am an Indian whose father fought for the freedom of India. Rallies have been held where leaders have exhorted me to leave my home and return to what they refer to as my “original homeland”. Of course, I politely decline each time, citing such pressing reasons as sanitation words at my house preventing me from taking the good shower that’s needed before undertaking such an extensive journey. I don’t know how long this excuse will hold though.
I gave my son and daughter names that could pass for generic (pan-Indian and pan-religious) ones: Aryan and Suhana. The Khan has been bequeathed by me so they can’t really escape it. I pronounce it from my epiglottis when asked by Muslims and throw the Aryan as evidence of their race when non-Muslims enquire.
I imagine this will prevent my offspring from receiving unwarranted eviction orders and random fatwas in the future. It will also keep my two children completely confused. Sometimes, they ask me what religion they belong to and, like a good Hindi movie hero, I roll my eyes up to the sky and declare philosophically, “You are an Indian first and your religion is humanity”, or sing them an old Hindi film ditty, “Tu Hindu banega na Musalmaan banega – insaan ki aulaad hai insaan banega” set to Gangnam Style.
None of this informs them with any clarity, it just confounds them some more and makes them deeply wary of their father.
In the land of the freed, where I have been invited on several occasions to be honored, I have bumped into ideas that put me in a particular context. I have had my fair share of airport delays for instance.
I became so sick of being mistaken for some crazed terrorist who coincidentally carries the same last name as mine that I made a film, subtly titled My name is Khan (and I am not a terrorist) to prove a point. Ironically, I was interrogated at the airport for hours about my last name when I was going to present the film in America for the first time. I wonder, at times, whether the same treatment is given to everyone whose last name just happens to be McVeigh (as in Timothy)??
I don’t intend to hurt any sentiments, but truth be told, the aggressor and taker of life follows his or her own mind. It has to nothing to do with a name, a place or his/her religion. It is a mind that has its discipline, its own distinction of right from wrong and its own set of ideologies. In fact, one might say, it has its own “religion”. This religions has nothing to do with the ones that have existed for centuries and been taught in mosques or churches. The call of the azaan or the words of the pope have no bearing on this person’s soul. His soul is driven by the devil. I, for one, refuse to be contextualized by the ignorance of his ilk.
I am a Khan.
I am neither six-feet-tall nor handsome (I am modest though) nor am I a Muslim who looks down on other religions. I have been taught my religion by my six-foot-tall, handsome Pathan ‘Papa’ from Peshawar, where his proud family and mine still resides. He was a member of the no-violent Pathan movement called Khudai Khidamatgaar and a follower of both Gandhiji and Khan Abdul Gaffar Khan, who was also known as the Frontier Gandhi.
My first learning of Islam from him was to respect women and children and to uphold the dignity of every human being. I learnt that the property and decency of others, their points of view, their beliefs, their philosophies and their religions were due as much respect as my own and ought to be accepted with an open mind. I learnt to believe in the power and benevolence of Allah, and to be gentle and kind to my fellow human beings, to give of myself to those less privileged than me and to live a life full of happiness, joy, laughter and fun without impinging on anybody else’s freedom to live in the same way.
So I am a Khan, but no stereotyped image is factored into my idea of who I am. Instead, the living of my life has enabled me to be deeply touched by the love of millions of Indians. I have felt this love for the last 20 years regardless of the fact that my community is a minority within the population of India. I have been showered with love across national and cultural boundaries, from Suriname to Japan and Saudi Arabia to Germany, places where they don’t even understand my language. They appreciate what I do for them as an entertainer – that’s all. My life has led me to understand and imbibe that love is a pure exchange, untempered by definition and unfettered by the narrowness of limiting ideas. If each one of us allowed ourselves the freedom to accept and return love in its purity, we would need no image boxes to hold up the walls of our security.
I believe that I have been blessed with the opportunity to experience the magnitude of such a love, but I also know that its scale is irrelevant. In our own small ways, simply as human beings, we can appreciate each other for how touch our lives and not how our different religions or last names define us.
Beneath the guise of my superstardom, I am an ordinary man. My Islamic stock does not conflict with that of my Hindu wife’s. The only disagreements I have with Gauri concern the color of the walls in our living room and not about the locations of the walls demarcating temples from mosques in India.
We are bringing up a daughter who pirouettes in a leotard and choreographs her own ballets. She sings western songs that confound my sensibilities and aspires to be an actress. She also insists on covering her head when in a Muslim nation that practices this really beautiful and much misunderstood tenet of Islam.
Our son’s linear features proclaim his Pathan pedigree although he carries his own, rather gentle mutations of the warrior gene. He spends all day either pushing people asie at rugby, kicking some butt at Tae Kwon Do or eliminating unknown faces behind anonymous online gaming handles around the world with The Call of Duty video game. And yet, he firmly admonishes me for getting into a minor scuffle at the cricket stadium in Mumbai last year because some bigot make unsavory remarks about me being a Khan.
The four of us make up a motley representation of the extraordinary acceptance and validation that love can foster when exchanged within the exquisiteness of things that are otherwise defined ordinary.
For I believe, our religion is an extremely personal choice, not a public proclamation of who we are. It’s as person as the spectacles of my father who passed away some 20 years ago. Spectacles that I hold onto as my most prized and personal possession of his memories, teachings and of being a proud Pathan. I have never compared those with my friends, who have similar possessions of their parents or grandparents. I have never said my father’s spectacles are better than your mother’s saree. So why should we have this comparison in the matter of religion, which is as personal and prized a belief as the memories of your elders. Why should not the love we share be the last word in defining us instead of the last name? It doesn’t take a superstar to be able to give love, it just takes a heart and as far as I know, there isn’t a force on this earth that can deprive anyone of theirs.
I am a Khan, and that’s what it has meant being one, despite the stereotype images that surround me. To be a Khan has been to be loved and love back – that the promise that virgins wait for me somewhere on the other side.
- Shah Rukh Khan

Monday, January 21, 2013

संग-संग : अनुराग बसु और तानी बसु

बर्फी से फिलहाल चर्चित अनुराग बसु की पत्‍नी और हमसफर हैं तानी। दोनों की प्रेमकहानी और शादी किसी फिल्‍म की तरह ही रोचक है। संग-संग में इस बार अनुराग और तानी के संग... 
मुलाकात और एहसास प्रेम का
तानी - तब मैं दिल्ली के एक गैरसरकारी संगठन में काम करती थी। डॉक्यूमेंट्री फिल्मों का थोड़ा-बहुत काम देखती थी। मैं उस संगठन में कम्युनिकेशन कंसलटेंट थी। उन्होंने असम के ऊपर एक डॉक्यूमेंट्री बनाने का फैसला किया। उस समय मैंने उसकी स्क्रिप्ट लिखी और यह सोचा कि मैं ही डॉक्यूमेंट्री बनाऊंगी। संगठन के प्रमुख आलोक मुखोपाध्याय डायरेक्टर रमण कुमार को जानते थे। दोनों दोस्त थे। उन्होंने रमण जी को यह काम सौंप दिया। मुझे थोड़ा बुरा भी लगा। थोड़ी निराशा जरूर हुई, लेकिन शूटिंग के लिए मैं दिल्ली से असम गई। रमण कुमार जी मुंबई से अपनी टीम लेकर असम पहुंचे। वहां पता चला कि रमण जी तो शूट नहीं कर रहे हैं। रमण जी का एक जवान सा असिस्टेंट ही उछल-कूद कर सारे काम कर रहा है। हालांकि मैंने फिल्म इंस्ट्रीटयूट से पढ़ाई की है, लेकिन उस जवान लडक़े की शॉट टेकिंग से मैं चकित थी। मैं बहुत प्रभावित हुई। बाद में पता चला कि वह जवान लडक़ा अनुराग बसु है। वहीं परिचय हुआ। उसके बाद डॉक्यूमेंट्री की एडिटिंग के लिए मैं मुंबई आई। अनुराग तब दिन में अपनी सीरियल की शूटिंग करते थे और रात में डाक्यूमेंट्री एडिट करते थे। असम की शूटिंग के समय ही होली आ गई थी। होली में भी अनुराग का उत्साह देखने लायक था। मैंने ऐसे ही अनुराग से पूछा कि आपको किस तरह की लडक़ी पसंद है? उन्होंने तपाक से कहा, ‘आप जैसी’। फिर ऐसा कुछ हुआ कि मैं मुंबई आ गई। राकेश सारंग आशीर्वाद सीरियल बना रहे थे। मैं वहां असिस्टेंट बन गई। हमारी बात-मुलाकात होती रही। दोस्ती बढ़ती गई।
अनुराग - गुवाहाटी में हमारी पहली मुलाकात हुई। पहली नजर में प्यार जैसी बात तो नहीं थी। आउटडोर में हर जवान लडक़े की नजर शूटिंग में आई लड़कियों पर रहती है। शुरुआत में तानी का एटीट्यूड बॉस जैसा था। उन्हें वह डॉक्यूमेंट्री अपनी बपौती लग रही थी। उन्हें लगता था कि मुझे उनको रिपोर्ट करना चाहिए। एक रात डिनर में मछली थी। मैं ऊहापोह में था कि कांटा-छुरी से मछली कैसे खाएं। मैंने तानी को देखा कि वह एक कोने में पालथी मार कर घपाघप मछली खा रही हैं। मुझे लगा कि उनके बगल में बैठ कर मैं भी खा लेता हूं। उस समय पहली बार हमारी बातचीत हुई थी। इसके अलावा मुझे संगीत से बहुत प्यार है। जोरहाट में यूनिट की छोटी सी मौज-मस्ती की पार्टी में एक रात तानी ने गाना गाया। उस रात पहली बार मैंने तानी को महसूस किया। तानी बहुत अच्छा रवींद्र संगीत गाती हैं। उस रात हम सभी ने थोड़ी-थोड़ी रम पी रखी थी। कहना मुश्किल है कि रम, रवींद्र संगीत और तानी में किस ने ज्यादा असर किया? लेकिन यह सच है कि उसी रात मैंने तानी से नजदीकी महसूस की।
प्रेम और प्रगाढ़ता
अनुराग - हमारे बीच प्रेम की गति एक जैसी नहीं रही। असम से लौट कर तानी दिल्ली चली गईं और मैं मुंबई आ गया। ऐसा लगा कि प्रेम का धागा टूट गया। मुंबई आने के बाद मैं अपने छोटे-मोटे अफेयर में फंस गया। बंदर भला गुलाटी मारने से कैसे बाज आए? फिर भी तानी मेरी जिंदगी में आती-जाती रहीं। शादी से पहले छह-सात बार हमलोगों का ब्रेकअप भी हो गया था। तय हो जाता था कि अब बात नहीं करेंगे। एसएमएस भी नहीं करेंगे। फिर एक एसएमएस से शुरू होता था और फिर तानी आ जाती थीं। मेरे डैडी हम लोगों के लिए कहा करते थे - राम मिलाए जोड़ी ़ ़ ़
तानी - मैं निश्चित नहीं कर पा रही थी कि अनुराग से शादी करनी है या नहीं करनी है? हालांकि उम्र में मैं बड़ी थी, लेकिन बाद में महसूस किया कि अनुराग हर तरह से सीनियर और सुपीरियर हैं। हमारे संबंधों में सरप्राइज जैसी बातें होती थी। हमेशा कुछ नया होता था। अनुराग में एक आंतरिक गति है। उनके जीवन में कुछ भी शांतिपूर्वक नहीं होता। शादी, बच्चे, बच्चों की परवरिश, घर जैसे हर मामले में मतभेद चलता रहता है। झगड़े होते हैं। इसके साथ ही हमारे संबंध में ढेर सारा एक्साइटमेंट भी है। एक एनर्जी भी है। अनुराग बहुत ही इमैजिनेटिव हैं। फिल्म का सेट हो या घर का इंटीरियर ़ ़ ़ आप अनुराग के इमैजिनेशन से दंग रह जाएंगे। अनुराग के काम और कल्पनाओं में मैं साथ रहती हूं और हर औरत को यह स्थिति अच्छी लगती है।
बदलाव,लगाव और जुड़ाव
अनुराग - पहले मैं झूठ बोलने में कतराता नहीं था। साकी नाका में शूटिंग कर रहा हूं तो भी आसानी से कह देता था कि कोलकाता में हूं। अभी नहीं आ सकता। यह तानी ने बंद करवा दिया। मैं कुछ भी बोलता था तो तानी यकीन ही नहीं करती थी। कई बार तो तानी ने पोल भी खोल दी। तानी युधिष्ठर से भी ज्यादा सच बोलती है। मुझे याद है कि मैं मैट्रो का नरैशन देने यूटीवी गया था। पहली बार विशेष फिल्म से बाहर निकल रहा था। थोड़ा घबराया हुआ था। मैंने उन्हें कहानी बतायी। रोनी ने पूछा कि स्क्रिप्ट कब तक दे दोगे? तानी जोर से हंस पड़ी और कहा - आपको कभी स्क्रिप्ट नहीं मिलेगी। तानी की यह अच्छाई है। दरअसल तानी की हर बुराई में एक अच्छाई है। तानी में एक वायब्रेंस है। वह मुझे कभी बोझिल नहीं लगती है। हमें लग ही नहीं रहा है कि हमारी शादी को नौ साल हो गए हैं। अभी तक पहली मुलाकात की एनर्जी और एक्साइटमेंट है।  अभी तक हमलोग बचकानी हरकतें करते हैं। परसों ही स्कूटर से भींगते हुए घर गए और मुंबई की बारिश का मजा लिया। कई बार काम का टेंशन लेकर मैं घर लौटता हूं तो तानी बगैर किसी शिकायत के मुझे कूल करने की कोशिश करती हैं। तानी का सेंस ऑफ ह्यूमर बहुत अच्छा है। बुरे को बुरा कहने में इन्हें देर नहीं लगती। थोड़ी मुंहफट हैं। हम लोगों ने प्रोडक्शन भी चालू कर दिया है। उसे तानी ही पूरी साफ-सफाई से चलाती हैं।
तानी - अनुराग बहुत अच्छा खाना पकाते हैं। जब भी काम का तनाव और थकान होता है तो राहत के लिए अनुराग खाना बनाते हैं। बच्चों को भी इनके हाथ का खाना पसंद है। यहां घर में पहले मम्मी-डैडी दोनों थे। अभी डैडी नहीं रहे। मम्मी हैं। मुझे लगता है कि मम्मी हमारा बहुत बड़ा संबल हैं। अनुराग से जब मेरी पहली मुलाकात हुई थी तब वे सभी मीरा रोड में एक छोटे से घर में रहते थे। एक लंबे स्ट्रगल के बाद हम सभी यहां तक पहुंचे हैं। मुझे याद है शादी के बाद अनुराग ने सफारी कार खरीदी थी। उस समय डैडी ने कहा था कि अनुराग तुम्हें याद है ़ ़ ़ हमारा पहला मकान तुम्हारी इस कार से भी छोटा था। वे बड़े देशी किस्म के मजाकिया स्वभाव के व्यक्ति थे। अनुराग ने बहुत पहले स्पष्ट कर दिया था कि हमारी शादी होगी तो हमलोग इक_े रहेंगे।
अनुराग - तानी की एक क्वालिटी की मैं खास तारीफ करूंगा। शादी के बाद लडक़े तो अपने घर में ही रहते हैं। लडक़ी नई फैमिली में आ जाती है। मैंने इकट्ठे रहने की बात जरूर की थी, लेकिन मेरे मन में आशंका थी कि पता नहीं तानी कैसे एडजस्ट करेंगी। सोचें जरा कितना मुश्किल काम है किसी नए दंपत्ति को अपना मां-बाबा कहना। तानी मेरे मम्मी डैडी को बोदी-दादा बोलती थी।
तानी - दोनों दिल से इतने जवान थे कि मुझे मां-बाबा कहना नहीं जमा।
अनुराग - फिर तो मुझे तुम्हें मौसी या बुआ कहना चाहिए? शादी के बाद काफी समय तक तानी का भैया-भाभी संबोधन चलता रहा। धीरे-धीरे वह मां-बाबा में तब्दील हुआ। शादी के समय मैंने सोचा था कि छह महीने की छुट्टी लेकर घर पर रहूंगा और तानी एवं मां-बाबा के बीच पुल का काम करूंगा।
तानी - अच्छा, तुमने ऐसा सोचा था। आज पता चला।
अनुराग - उसकी जरूरत नहीं पड़ी। फिर भी मैंने छह महीने तक कोई काम नहीं किया। यही कोशिश रही कि आस-पास मौजूद रहूं। शादी के बाद के छह महीने एडजस्टमेंट के हिसाब से बहुत नाजुक होते हैं। मैं तो संयुक्त परिवार के लडक़ों को कहूंगा कि वे ज्यादा से ज्यादा घर पर रहने की कोशिश करें। सभी को वैवाहिक छुट्टी लेनी चाहिए। आप बाहर से एक लडक़ी लेकर आते हैं और उसे अपने परिवार का सदस्य बनाते हैं। आपकी मौजूदगी में यह प्रक्रिया आसान होगी।
तानी - मुझे मालूम था कि अनुराग क्या चाहते हैं?  हम दो अलग-अलग व्यक्ति हैं। मां से भी कई बार बहस होती है। वह नाराज भी होती हैं, लेकिन कभी डांटती नहीं हैं। उल्टा मैं गुस्से में कई बार बोल जाती हूं। मुझे ऐसा करना नहीं चाहिए। हर बार गलती का एहसास होता है और उसके बाद मां को पटा लेती हूं। मैं बहुत खुश हूं कि मेरी सास इतनी अच्छी हैं। मेरी तो देवरानी से भी छनती है। हालांकि वह मुझ से चौदह साल छोटी है।
परिवार,काम और झगड़े
तानी - मेरी परवरिश और पढ़ाई-लिखाई शांतिनिकेतन में हुई। अनुराग भिलाई और मुंबई में रहे। हम दोनों में ढेर सारे अंतर हैं। अभी याद करती हूं तो शुरू की मुलाकातों से अभी के जीवन में कई परिवर्तन आ गए हैं। थोड़ी मैं बदल गई हूं। थोड़ा और सब भी बदले हैं। हम सभी के बीच अच्छी बात है कि कोई भी अड़ के खड़ा नहीं होता। समय के साथ हमलोग बहते और बदलते गए हैं। मां ज्यादातर समय भिलाई में रहीं। मुंबई आने के बाद यहां के हिसाब से उन्होंने खुद को बदला। हम सभी में एक समानता यह भी है कि हर कोई बदलने को तैयार रहता है। हम किसी भी पृष्ठभूमि से आएं साथ रहने पर एक दूसरे से तारतम्य तो बन ही जाता है।
अनुराग - हमें पता ही नहीं चलता कि ऑफिस में कितना ज्यादा घर घुस आता है और घर में ऑफिस दखल करता है। हमारे व्यक्तिगत झगड़े नहीं होते हैं। हमारी ज्यादातर लड़ाई काम को लेकर होती है। हमारी बीच बहुत सारी चीजें सुलझ चुकी है। मनमुटाव काम को लेकर ही होता है।
तानी - व्यक्तिगत झगड़े भी होते हैं। अब जैसे कि अनुराग भीगा तौलिया बिस्तर पर छोड़ देते हैं। यह आदत अभी तक बनी हुई है। अनुराग ने तो एक सीन ‘मैट्रो’ में डाल भी दिया था।
अनुराग - भीगे तौलिए का तो सीन नहीं था। हां,शिल्पा एक बार केके के  मोबाइल पर कंगना का एसएमएस पढ़ लेती है। यह सीन मेरी लाइफ से था।
तानी - यह तो आज भी होता है।
स्पेस और स्नेह
अनुराग - सच कहूं तो मैं परफेक्ट तो हूं नहीं। अभी बड़ा हो गया हूं, लेकिन नजरें तो वही हैं। ऑटो में झांक ही लेता हूं। तानी ने इतनी छूट दे रखी है। मैंने भी तानी को छूट दे दी है ताक-झांक करने की। एक साथ काम करने के बावजूद हम दोनों एक-दूसरे को काफी स्पेस देते हैं। । मैं कोशिश करता हूं कि तानी के प्रोडक्शन के एरिया में न जाऊं और यह चाहता हूं कि तानी मेरे डायरेक्शन में अड़ंगा न डाले। जरूरत होने पर हम खुद ही एक-दूसरे की राय लेते हैं।
तानी - अनुराग प्रोडक्शन में आए ही इसलिए कि वे अपने मन की फिल्में बना सकें। मेरी जिम्मेदारी बनती है कि मैं इनकी सोच और कल्पना को साकार करने की सुविधाएं जुटा दूं। फिल्ममेकिंग के सारे क्रिएटिव डिसीजन अनुराग के होते हैं। मैंने लंबे समय तक अनुराग को असिस्ट किया है। इनके साथ काम करने में मजा आता है। अनुराग कभी सीधी कहानी नहीं कहते। उन्हें पेंचदार कहानियां कहने में मजा आता है।
अनुराग - मियां-बीवी दोनों काम कर रहे हों तो बच्चों को वक्त नहीं मिलता है। तानी इस मामले में कमाल का संतुलन बिठाती हैं। वह दोनों बेटियों का पूरा ख्याल रखती है। जब उसे लगता है कि ज्यादा काम हो रहा है तो छुट्टी ले लेती है। मुझे लगता है कि हम दोनों में से किसी का बच्चों के पास होना बहुत जरूरी है। मैं तो उस स्थिति में ज्यादा खुश रहूंगा जब मुझे घर पर रहना पड़े और तानी काम करती रहे।
तानी - अनुराग सिर्फ कहने के लिए यह नहीं कह रहे हैं। उनकी पुरानी ख्वाहिश है कि कब ऐसा वक्त आएगा जब मैं घर पर रहूंगा। बच्चों की देखभाल करूंगा और खाना पकाऊंगा।
अनुराग - सही में अगर मुझे छह महीने के लिए परिवार में तानी का रोल मिल जाए तो मैं बहुत खुश रहूंगा। मैं घर में बीवी का भूमिका निभाना चाहता हूं।
तानी - मुझे मालूम है कि अनुराग इस में बुरी तरह से असफल रहेंगे।
अनुराग - तानी को लगता है कि मैं बच्चियों को स्कूल के तैयार नहीं कर पाऊंगा। उनके बाल नहीं बना पाऊंगा।
शादी,फिल्में और रस्में
अनुराग - शादी मेरी जिंदगी का अहम फैसला था। मुझे शादी करनी ही थी।
तानी - मुझ से नहीं होती तो किसी और कर लेते। उसकी तैयारी भी हो गई थी।
अनुराग - नहीं, नहीं ़ ़ ़ शादी तक बात ही नहीं पहुंची थी। मां-बाबा जरूर लड़कियां खोज रहे थे।
तानी - शादी का फैसला अचानक हुआ। बाबा ने एक दिन कहा कि अब बहुत हो गया चलो तुम दोनों शादी कर लो। अनुराग के मां-बाबा मेरी मां से मिलने शांतिनिकेतन चले गए। उन दिनों हमलोग बैंकाक में ‘मर्डर’ की शूटिंग कर रहे थे।
अनुराग - हमारी शादी ‘मर्डर’ की शूटिंग के दौरान ही हुई थी। शादी की मेरी सारी तस्वीरों में आप मुझे फोन पर बात करते देखेंगे। उधर शूटिंग चल रही थी और इधर शादी की रस्में हो रही थी। शादी की रात भी हम शूटिंग के लिए गए। पारंपरिक तरीके से हमें सुहागरात की रस्म के लिए रुकना चाहिए था, लेकिन तानी ने शादी के बाद जींस पहना और चलने के लिए तैयार हो गई। इस बात पर नानी बहुत नाराज हुई कि इस रात को बहू कैसे शूटिंग पर जा सकती है? तानी तो रुक गई, लेकिन मैं चला गया। रात भर शूटिंग चलती रही।
तानी - इनके घर वालों ने मुझे रोक लिया और सजा-धजा कर बिठा दिया। अनुराग तो शूटिंग पर गए और पूरा परिवार मेरे साथ कमरे में बैठा रहा। अनुराग सुबह तीन बजे आए।
अनुराग - आने के बाद भी मजा आया,क्योंकि हम दोनों बाहर निकल गए। हमारा ज्यादातर रोमांस कार में हुआ था इसलिए हम दोनों ने पहली रात कार में ही बिताई। सुबह तक घुमते रहे। सुबह एक ईरानी रेस्टोरेंट में चाय पी। कीमा खाया और कीमा पैक करवा के लेते आया। हमारी शादी 14 दिसंबर को हुई थी।
तानी - फिल्मी दंपतियों की जिंदगी के बारे में कोई भविष्यवाणी नहीं की जा सकती। मुझे ही पता नहीं रहता कि अनुराग कब घर पर रहेंगे और कब बाहर जाएंगे? हमारा प्रोफेशन ही ऐसा है। जरूरी नहीं है कि हर रात को 9 बजे हमलोग इक_ा खाना खाएंगे। यह होता नहीं है और मैं अपेक्षा भी नहीं करती हूं।
छोटे शहर का असर और बसर
अनुराग - हम दोनों के खून में अपना-अपना छोटा शहर है। शहर के रोजमर्रा जिंदगी से हमारा अंतस्य प्रभावित नहीं हुआ है। घर में हमने मैट्रो लाइफ को आने नहीं दिया है। हमलोग कभी ज्यादा पैसे कमाते हैं तो कभी कम कमाते हैं। मैं तानी से यही कहता हूं कि हमें हमेशा मिडिल क्लास लाइफ जीना है। अभी तक मैं ट्रेन से सफर करता हूं। मैं चाहता हूं कि बच्चे ट्रेन का सफर एंज्वॉय करें। शहरी इच्छाओं पर हमारा ध्यान ही नहीं है।
तानी - हम दोनों इस मामले में एक जैसे हैं। एक-दूसरे को समझाने की जरूरत ही नहीं पड़ती है। हम फिल्मी टाइप नहीं हैं। पार्टी में नहीं जाते हैं।
अनुराग - फिल्म इंडस्ट्री बहुत ज्यादा प्रभावित करती है। हमारी कोशिश है कि हम बचे रहें।
तानी - संयुक्त परिवार में रहने का यह प्लस पाइंट है। मां साथ में रहती हैं। हमलोग हमेशा साथ रहते हैं। कुछ भी करने के पहले सभी के बारे में सोचते हैं।
सुधार और प्यार
तानी - अनुराग में सुधार हो जाए तो अनुराग अनुराग नहीं रहेंगे।
अनुराग - हम दोनों में एक कमी समान है। हम दोनों को गुस्सा बहुत जल्दी आता है। हम टीन की तरह गर्म हो जाते हैं।
तानी - अनुराग अपनी बात कह रहे हैं।
अनुराग - मैं अपने गुस्से से डरता हूं। मुझे डर है कि किसी दिन यह गुस्सा फ्लैश न  हो जाए।
अनुराग - हम दोनों को खाना बहुत पसंद है। हम लोगों ने कभी डेटिंग वगैरह नहीं की। ज्यादातर खाना ही खाते रहे।
तानी - अनुराग ने कभी एक गुलाब तक नहीं भेजा।
अनुराग - अभी तो कोई उपहार लेकर आऊं तो तानी शक की नजर से देखती है। पूछती है कि क्या बात है? अब तो मैं कुछ ला भी नहीं सकता।
तानी - मुझे यह सब अच्छा भी नहीं लगता। गिफ्ट ़ ़ ़ कैंडिल लाइट डिनर इन चीजों का कोई तुक नहीं है।
अनुराग - हम दोनों अभी तक पागल हैं। प्यार में अभी तक बच्चे हैं। चाहते हैं कि यह बचपना और पागलपन बना रहे। अभी तक मुर्खतापूर्ण हरकतें करते हैं।
तानी - हर मामले में अंतिम फैसला अनुराग का ही होता है। फिर भी मैं आखिरी दम तक राय देती रहती हूं। अगर मैं राजी नहीं हूं तो टोकती रहती हूं। अब तो मेरी सोच और विश्वास भी अनुराग जैसे हो गए हैं। बहुत ज्यादा मतभेद या लड़ाई नहीं होती है।
अनुराग - मैं थोड़ा जिद्दी हूं। मैं अपनी बात मनवा लेता हूं। मैं अड़ जाता हूं।
तानी - नहीं। अनुराग किसी बात पर अड़ते नहीं हैं। वह मुझे समझा लेते हैं। परिवार में थोड़ा एडजस्टमेंट तो करना पड़ता है। परस्पर सहमति होने के बाद जीवन में ज्यादा मजा आता है। अभी तक तो अनुराग के निर्णय सही रहे हैं।
शादी से पहले
तानी - सबसे पहले लडक़े को अच्छी तरह समझना चाहिए। उसके नजरिए को समझना होगा। अपने नजरिए से सब कुछ नहीं आंका जा सकता है। समझने की कोशिश करनी होगी कि वह कैसा है? यह कोशिश होनी चाहिए कि साथ में कदम बढ़े । अगर ऐसा न हुआ तो हर अगले कदम पर दूरी बढ़ती जाएगी। शादी जरूर करनी चाहिए। यह जरूरी है।
अनुराग - पहले तानी ऐसा नहीं सोचती थी। मैं भी ऐसा नहीं सोचता था। हमें लगता था कि शादी कर के क्या होगा? साथ रहने पर एक वक्त आता है जब लगता है कि शादी कर लेना चाहिए। हमें जब यह समझ में आया उसके तीन-चार महीने के अंदर हमने शादी कर ली। मुझे लगता है कि समय से पहले शादी नहीं करनी चाहिए। अभी लोगों ने इतना सिंपल कर दिया है कि अगर वर्कआउट नहीं हुआ तो तलाक ले लेंगे। मुझे यही लगता है कि शादी के पहले काफी सोच-समझ कर फैसला लेना चाहिए। अगर आप अपनी जगह पार्टनर को रख कर नहीं सोच सकते तो इसका मतलब है कि आप साथ नहीं हैं। यह समझना जरूरी है। तानी ने सही कहा। जीरो इगो के बाद शादी करनी चाहिए।





Friday, January 18, 2013

फिल्‍म समीक्षा : इंकार

inkaar movie review-अजय ब्रह्मात्‍मज 
सुधीर मिश्र ने 'इंकार' में ऑफिस के परिवेश में 'यौन उत्पीड़न' का विषय चुना है। हर दफ्तर में यौन उत्पीड़न के कुछ किस्से होते हैं, जिन्हें आफिस, व्यक्ति या किसी और बदनामी की वजह से दबा दिया जाता है। चूंकि हम पुरुष प्रधान समाज में रहते हैं, इसलिए 'यौन उत्पीड़न' के ज्यादातर मामलों में स्त्री शिकार होती है और पुरुष पर इल्जाम लगते हैं।
इस पृष्ठभूमि में सहारनपुर (उत्तरप्रदेश) के राहुल और सोलन (हिमाचल प्रदेश) की माया की मुलाकात होती है। दोनों एक ऐड एजेंसी में काम करते हैं। राहुल ऐड व‌र्ल्ड का विख्यात नाम है। एक इवेंट में हुई मुलाकात नजदीकी में बढ़ती है। प्रतिभाशाली माया को राहुल ग्रुम करता है। अपने अनुभव और ज्ञान से धार देकर वह उसे तीक्ष्ण बना देता है। माया सफलता की सीढि़यां चढ़ती जाती है और फिर ऐसा वक्त आता है, जब वह राहुल के मुकाबले में उसके समकक्ष नजर आती है। काम के सिलसिले में लंबे प्रवास और साथ की वजह से उनके बीच शारीरिक संबंध भी बनता है। सब कुछ तब तक सामान्य तरीके से चलता रहता है, जब तक माया राहुल की सहायिका बनी रहती है। जैसे ही उसे अवसर और अधिकार मिलते हैं, राहुल असहज महसूस करने लगता है। दोनों के बीच असहयोग बढ़ता है। तनातनी होती है। अल्फा मेल अपने आसपास अल्फा फीमेल को बर्दाश्त नहीं कर पाता। माया से रहा नहीं जाता और वह राहुल पर 'यौन उत्पीड़न' का आरोप लगा देती है।
फिल्म अंदरूनी कामदार जांच कमिटी की सुनवाई से आरंभ होती है। सुनवाई के दौरान राहुल और माया के बयानों और पक्ष से हमें दोनों की जिंदगी में आई लहरों की जानकारी मिलती है। कामदार सुनवाई में एक बार मानती भी हैं कि दो खूबसूरत लोग लंबे समय तक साथ काम करेंगे तो उनके बीच शारीरिक संबंध बनना अस्वाभाविक नहीं है। जीवन के बदलते मूल्यों ने लव और सेक्स के प्रति अप्रोच बदल दिए हैं। बड़े-छोटे शहरों में सभी संस्थानों में ऐसे संबंध बनते हैं। मीडिया,्र फिल्म, फैशन और ऐड व‌र्ल्ड में खुलापन ज्यादा है तो ऐसे संबंधों की तादाद ज्यादा होती है। कोई परवाह नहीं करता और न ही कोई बिसूरता है। मानवीय संबंधों में उत्तर आधुनिकता की वजह से आए इस प्रभाव के बावजूद भारत में देखा जाता है कि अधिकांश मामलों में ऐसे संबंध भावनात्मक हो जाते हैं। स्त्री और पुरुष दोनों ही इसे दिल पर ले लेते हैं।
'इंकार' की यही कहानी स्त्री-पुरुष के बजाए दो पुरुषों की होती है तो इसे ईष्र्या और द्वेष का नाम दिया जाता। चूंकि इस कहानी में एक स्त्री और दूसरा पुरुष है और दोनों के बीच भावनात्मक शारीरिक संबंध भी बने हैं। इसलिए व्यक्तिगत द्वेष 'यौन उत्पीड़न' का टर्न ले लेता है। करिअर में राहुल और माया के आमने-सामने आने के पहले सब कुछ सहज और स्वाभाविक है। राहुल का पुरुष अहंमाया की तरक्की और समकक्षता बर्दाश्त नहीं कर पाता। वह कठोर और रूखा होता है तो माया बिफर जाती है। 'यौन उत्पीड़न' का आरोप फिल्म में बदले की एक चाल के रूप में आता है। सतह पर बिगड़े संबंधों के नीचे राहुल और माया की भावनात्मक संवेदना की धारा है। राहुल आखिरकार भारतीय पुरुष है। उसकी एक ही चिंता है कि माया ने जॉन के साथ क्या किया? क्या किया से उसका तात्पर्य सिर्फ इतना है कि वह उसके साथ सोई तो नहीं थी? दूसरी तरफ भारतीय नारी माया जॉन के करीब आने के बाद साथ सोने से मु•र जाती है। अंतिम दृश्यों में आकर 'इंकार' साधारण और चालू फिल्म बन जाती है।
अर्जुन रामपाल और चित्रांगदा सिंह ने अपने किरदारों को सही तरीके से पर्दे पर उतारा है। चित्रांगदा सिंह कभी भूमिका को लेखक-निर्देशक का समर्थन मिला है। छोटी भूमिका में होने के बावजूद गुप्ताजी (विपिन शर्मा) की मारक टिप्पणियां याद रह जाती हैं।
सुधीर मिश्र अगर बोल्ड कल्पना करते और माया के साथ जाते तो 'इंकार' 21वीं सदी में महेश भट्ट की 'अर्थ' के समान एक प्रोग्रेसिव फिल्म हो जाती। अफसोस एक अच्छी सोच और कोशिश अपने निष्कर्ष में प्रभावहीन हो गई। 
अवधि-131 मिनट
*** तीन स्टार

Wednesday, January 16, 2013

बाहरी प्रतिभाओं का बढ़ता दायरा

दरअसल ...
-अजय ब्रह्मात्मज
    पिछले हफ्ते की खबर है कि दिबाकर बनर्जी के साथ यशराज फिल्म्स ने तीन फिल्मों का करार किया है। इनमें से दो फिल्में स्वयं दिबाकर बनर्जी निर्देशित करेंगे। तीसरी फिल्म के निर्देशन का मौका उनके सहयोगी कनु बहल को मिलेगा। फिल्म इंडस्ट्री पर नजर रख रहे पाठक अवगत होंगे कि एकता कपूर की प्रोडक्शन कंपनी बालाजी फिल्म्स ने विशाल भारद्वाज की ‘एक थी डायन’ का निर्माण किया है। जल्दी ही अनुराग कश्यप और करण जौहर का संयुक्त निर्माण भी सामने आएगा। ऊपरी तौर पर ऐसे अनुबंध, सहयोग और संयुक्त उद्यम हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में चलते रहते हैं। यहां उल्लेखनीय है कि दिबाकर बनर्जी, विशाल भारद्वाज और अनुराग कश्यप को जिन फिल्म कंपनियों ने अनुबंधित किया है, उनके मालिक फिल्म इंडस्ट्री के हैं। आज इन तीनों की प्रतिभाओं और संभावनाओं से अच्छी तरह परिचित होने के बाद ही वे ऐसे कदम उठा रहे हैं।
    दरअसल, यह हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में बाहर से आई प्रतिभाओं की बड़ी जीत है। पीछे पलट कर देखें तो तीनों फिल्मकारों ने छोटी और नामालूम सी फिल्मों से शुरुआत की। उनकी आरंभिक फिल्में पूरी तरह से हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के विरोध में खड़ी थीं। तीनों को अपनी जगह और पहचान के लिए कठिन संघर्ष करना पड़ा। आज अपनी फिल्मों के कथ्य और प्रभाव से वे इस स्थिति में आ गए हैं कि स्थापित प्रोडक्शन घरानों को उन्हें अनुबंधित करना पड़ रहा है। हम जानते हैं कि हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में बाहर से आकर पांव टिकाना तक मुश्किल होता है। इन तीनों ने पिछले दस-बारह सालों में अनवरत प्रयास और सृजनात्मक जिजीविषा को बनाए रखा। उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री से आरंभिक सहयोग नहीं मिलने पर भी हिम्मत नहीं हारी। किसी तरह अपनी  फिल्मों के लिए धन का जुगाड़ किया। अनुराग कश्यप तो घोषित रूप से उनके खिलाफ मुखर रहे। अब उन्हें हिंदी फिल्म इंडस्ट्री की सुविधाएं मिलेंगी। क्या यह कोई जाल है?
    इन सुविधाओं के दो नतीजे सामने आ सकते हैं। फिल्म जैसे कलात्मक व्यवसाय में सृजन और प्रेरणा के साथ मुनाफा और रिटर्न का भी ध्यान रखा जाता है। किसी भी फिल्म के निर्माण में करोड़ों का नफा-नुकसान होता है। इस वजह से स्थापित प्रोडक्शन हाउस किसी भी प्रकार के जोखिम से बचते हैं। वे कामयाबी का सुनिश्चित तरीका चुनते हैं और लकीर के फकीर बने रहते हैं। नई प्रतिभाओं के साथ सबसे अच्छी बात यही होती है कि वे सीमित संसाधनों के बावजूद नया और बेहतरीन काम करते हैं। कई बार देखा गया है कि संघर्षशील प्रतिभाओं को अतिरिक्त सुविधाएं मिल जाएं तो उसका नकारात्मक असर उनकी कृतियों पर पड़ता है। आम तौर पर सुनाई पड़ता है कि निर्माण के दौरान ही दबाव का शिकंजा कस दिया जाता है। एक हद तक सृजनात्मक आजादी देने के साथ कहा जाता है कि थोड़ा बाजार और आडिएंस का भी खयाल रखें। इस खयाल रखने में ही प्रखर राह छूटती है। पता भी नहीं चलता और प्रतिभाओं की धार कुंद हो जाती है। हम तो यही उम्मीद रखेंगे कि दिबाकर बनर्जी, अनुराग कश्यप और विशाल भारद्वाज अपनी प्रखरता और धार बनाए रखें।
    तीनों युवा फिल्मकारों ने हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में बदलाव के प्रवाह को तेज किया है। आज ऐसी स्थिति है कि तमाम बड़े लोकप्रिय स्टार इनके साथ काम करने को इच्छुक हैं। विशाल भारद्वाज ने तो ‘ओमकारा’ से ही पहल कर दी थी। अब अनुराग कश्यप और दिबाकर बनर्जी भी लोकप्रिय स्टार के साथ काम करेंगे। लोकप्रिय स्टार को फिल्मों में रखने से आकर्षण बढ़ जाता है। रिलीज के दिन पर्याप्त दर्शक मिलते हैं। फिल्मों का प्रचार स्तर बढ़ जाता है। एक ही खतरा रहता है कि स्टारों के बोझ से कहीं कथ्य न चरमरा जाए। विशाल भारद्वाज की पिछली दो फिल्मों में ऐसी चरमराहट सुनाई पड़ी थी। ऐसा कहा भी कहा जा रहा है कि अब विशाल भारद्वाज नई प्रतिभाओं के साथ काम नहीं कर सकते। लोकप्रिय स्टारों के साथ काम करना उनका स्वभाव बन गया है।
    दिबाकर बनर्जी और अनुराग कश्यप अभी तक अपने कथ्यों को लेकर समर्पित रहे हैं। मुझे एक ही डर है कि कहीं आदित्य चोपड़ा और करण जौहर की सोच से इनकी कल्पना और सोच प्रभावित हुई तो बड़ा झटका लगेगा। कालांतर में ये समृद्ध और सफल फिल्मकार साबित होंगे। मुमकिन ही उनका अपना प्रोडक्शन घराना भी बन जाए, लेकिन हिंदी फिल्म इंडस्ट्री की मुख्य धारा बनने के अंतर्निहित खतरे हैं। मालूम नहीं उन खतरों से ये तीनों फिल्मकार कब तक और कैसे बचे रहेंगे?
    इन गतिविधियों के खतरों से खुशी मिलने के साथ आशंका और चिंता भी बढ़ती है। पहले की पीढिय़ों के अनेक फिल्मकार मुनाफे और मनोरंजन के मोह में अपना महत्व घटा चुके हैं। कुछ फिल्मकारों को तो अब अपने अतीत की उपलब्धियों पर भी अफसोस होने लगा है, जबकि सच्चाई यही है कि उनकी कमर्शियल कामयाबी भी उन उपलब्धियों की वजह से है। वही उनका वजह है। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री किसी दूसरी इंडस्ट्री की तरह नई सोच को आत्मसात कर लेती है। पचा लेती है।

  

Tuesday, January 15, 2013

बलराज साहनी और मंटो

यह सारगर्भित लेख आदरणीय शेष नारायण सिंह के ब्‍लॉग जंतर मंतर से चवन्‍नी के पाठकों के लिए लिया गया है। उन्‍होंने सहमत के एक कार्यक्रम के अवसर पर इसे लिखा था। आज के कलाकारों और लेखकों के संदर्भी में इसे पढ़ें। 
बलराज साहनी और मंटो का ज़िक्र किये बिना बीसवीं सदी के जनवादी आन्दोलन के बारे में बात पूरी नहीं की जा सकती है .बलराज साहनी ने इस देश को गरम हवा जैसी फिल्म दी .कहते हैं कि एम एस सत्थ्यूके निर्देशन में बनी फिल्म ,गरम हवा में बंटवारे के दौर के असली दर्द को जिस बारीकी से रेखांकित किया गया वह वस्तुवादी कलारूप का ऊंचे दर्जे का उदाहरण है . बलराज साहनी को उनकी फिल्मों के कारण आमतौर पर एक ऐसे कलाकार के रूप में जाना जाता है जिनका फिल्मों के बाहर की दुनिया से बहुत वास्ता नहीं था . लेकिन यह बिलकुल अधूरी सच्चाई है . बलराज साहनी बेशक बहुत बड़े फिल्म अभिनेता थे लेकिन एक बुद्धिजीवी के रूप में भी उनका स्तर बहुत ऊंचा है . बलराज साहनी ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय का पहला कन्वोकेशन भाषण दिया था। बाद के वर्षों में विश्वविद्यालय में दाखिला लेने वाले छात्रों को सीनियर छात्रों की ओर से उस भाषण की साइक्लोस्टाइल कापी दी जाती थी . बलराज साहनी का वह भाषण शिक्षा की दुनिया में संस्कृति के सकारात्मक हस्तक्षेप की मिसाल के रूप में देखा जाता है .

बलराज साहनी की मौत के बाद महान पत्रकार , फिल्मकार और बुद्धिजीवी  ख्वाजा अहमद अब्बास ने उनकी याद में एक मज़मून लिखा था जिसकी कुछ पंक्तियाँ शामिल किये बिना मेरा यह मज़मून अधूरा रह जाएगा। ख्वाजा साहेब ने लिखा था  की बलराज साहनी ने अपनी जिंदगी के बेहतरीन साल, भारतीय रंगमंच तथा सिनेमा को घनघोर व्यापारिकता के दमघोंटू शिकंजे से बचाने के लिए और आम जन के जीवन के साथ उनके मूल, जीवनदायी रिश्ते फिर से कायम करने के लिए समर्पित किए थे।
बहुत से लोग इस पर हैरानी जताते थे कि बलराज साहनी  कितनी सहजता और आसानी से आम जन के बीच से विभिन्न पात्रों को मंच पर या पर्दे पर प्रस्तुत कर गए हैं, चाहे वह धरती के लाल का कंगाल हो गए किसान का बेटा हो या हम लोग का कुंठित तथा गुस्सैल नौजवान; चाहे वह दो बीघा जमीन का हाथ रिक्शा खींचने वाला मजबूर इंसान हो या काबुलीवाला का पठान मेवा बेचनेवाला या फिर इप्टा के नाटक "आखिरी शमा" में मिर्जा गालिब का बौद्धिक  रूपांतरण ही क्यों न हो। बलराज साहनी कोई यथार्थ से कटे हुए बुद्धिजीवी या  कलाकार नहीं थे। आम आदमी से उनका गहरा परिचय स्वतंत्रता के लिए तथा सामाजिक न्याय के लिए जनता के संघर्षों में उनकी हिस्सेदारी से निकला था। उन्होंने जुलूसों में, जनसभाओं में तथा ट्रेड यूनियन गतिविधियों में शामिल होकर और पुलिस की नृशंस लाठियों और गोलियां उगलती बंदूकों का सामना करते हुए यह भागीदारी की थी। गोर्की की तरह अगर जिंदगी उनके लिए एक विशाल विश्वविद्यालय थी, तो जेलों ने जीवन व जनता के इस चिरंतन अध्येता, बलराज साहनी के लिए स्नातकोत्तर प्रशिक्षण का काम किया था।

इंडियन पीपुल्स थिएटर एसोसिएशन, जिसे इप्टा के नाम से ही ज्यादा जाना जाता है, का जन्म दूसरे विश्व युद्ध तथा बंगाल के भीषण अकाल के बीच हुआ था और बलराज साहनी इसके पहले कार्यकर्ताओं में से थे। एक अभिनेता की हैसियत से भी और एक निदेशक की हैसियत से भी, उनका इप्टा के खजाने में शानदार योगदान रहा था। सब से बढक़र वह एक संगठनकर्ता थे। किसी भी मुकाम पर इप्टा अपने नाटकों के जरिए जिस भी लक्ष्य के लिए अपना जोर लगा रहा होता था, चाहे वह फासीविरोधी जनयुद्ध हो या नृशंस दंगों की पृष्ठïभूमि में हिंदू-मुस्लिम एकता का सवाल हो, वह चाहे  अफ्रीकी जनगण की मुक्ति हो या फिर साम्राज्यवाद के खिलाफ वियतनाम का युद्ध , बलराज साहनी हमेशा सभी के मन में उस लक्ष्य के प्रति हार्दिकता व गहरी भावना जगाते थे। काबुलीवाल फिल्म में बलराज साहनी ने जिस तरह से ऐ मेरे प्यारे वतन का सीन अभिनीत किया था वह आज भी हर उस आदमी को अपने वतन की याद दिलाता है जो अपने घर से दूर है . हालांकि यह गाना अफगानिस्तान छोड़कर आये एक मेवा बेचने वाले की टीस थी।

मंटो के बारे में  उनके जन्मशती के हवाले से पिछले एक साल से बहुत चर्चा हुई है . इस अवसर पर सहमत ने एक किताब भी प्रकाशित की . जनवादी लेखक और पत्रकार राजेन्द्र शर्मा ने इस किताब का सम्पादान किया है . किताब की भूमिका में उन्होंने मंटो के होने का अर्थ समझाने की  कोशिश की है . वे मंटो को भारतीय और  हिंदी पाठकों के  सामने बहुत ही बेबाक तरीके से प्रस्तुत करते हैं .  राजेन्द्र शर्मा ने लिखा  है  कि 1931 में यानी उन्नीस बरस की उम्र में जलियांवाला बाग त्रासदी पर पहली कहानी ‘तमाशा’ से शुरू करने वाले मंटो ने, मुश्किल से बाईस साल के अपने लेखकीय जीवन में इतना लिखा, गद्य की इतनी विधाओं में लिखा और इतने ऊंचे दर्जे का लिखा कि  मंटो की चमक  सबसे अलग  दिखाई देती है। मुश्किल से बाईस साल में बाईस कहानी संग्रह (बाईस दर्जन से ज्यादा कहानियां), एक उपन्यास, पांच रेडियो नाटक संग्रह, तीन लेख संग्रह, दो निजी खाकों के संकलन इतना सब कोई जुनूनी ही रच सकता था।  मंटो के देश के विभाजन के बाद पाकिस्तान में लाहौर में जा बसने के ‘कारणों’ और ‘संदेशों’ पर तो बहस हो सकती है और यह बहस शायद कभी खत्म भी न हो, पर इसमें बहस की कोई गुंजाइश नहीं है कि यह फैसला, व्यक्ति सआदत हसन को बहुत-बहुत भारी पड़ा। 

मंटो को अपने ‘दूसरे वतन’ बंबई से इतनी मोहब्बत थी कि वह बंबई छूटने के बाद भी खुद को ‘चलता-फिरता बंबई’ कहते थे.उस बंबई में उसने ‘चंद रुपयों से लेकर हजारों और लाखों कमाए और खर्च किए’ थे। दूसरी तरफ लाहौर में डेरा डालने के साढ़े चार बरस बाद भी मंटो को यह लिखना पड़ रहा था कि, ‘‘दिन रात मशक़्क़त के बाद मुश्किल से इतना कमाता हूं जो मेरी रोजमर्रा की जरूरियात के लिए पूरा हो सके। ये तकलीफदेह एहसास हर वक्त मुझे दीमक की तरह चाटता रहता है कि अगर आज मैंने आंखें मींच लीं तो मेरी बीवी और तीन कमसिन बच्चियों की देखभाल कौन करेगा।’’ फिर भी, जो चीज मंटो को खाए जा रही थी, वह न उसे पाकिस्तान में मिला सलूक था और न छूटे हुए पहले और दूसरे ‘वतनों’ की याद। 

मंटो विभाजन की  की विभीषिका को कभी स्वीकार  नहीं कर पाए . विभाजन का मंटो पर क्या और कैसा असर हुआ था, इसे समझने के लिए शायद विभाजन पर मंटो की कहानियां ही सबसे भरोसेमंद गवाह हैं .। फिर भी विभाजन के साढ़े चार साल बाद मंटो का यह लिखना एक महत्वपूर्ण संकेत है कि, ‘‘मुल्क के बंटवारे से जो इंकलाब बरपा हुआ, उससे मैं एक अर्से तक बागी रहा और अब भी हूं।’’ बेशक, उसी टिप्पणी में मंटो यह भी कहते हैं कि, ‘‘लेकिन बाद में उस खौफनाक हकीकत को मैंने तस्लीम कर लिया’’। लेकिन, मंटो का इसे तस्लीम करना, इस खौफनाक हकीकत को स्वीकार करने की जगह, उसे शिव के हालाहल पान की तरह, अपने भीतर उतार लेना ही ज्यादा लगता है। अचरज नहीं कि मंटो ‘‘तस्लीम करने’’ के दावे के फौरन बाद, उसी सांस में अपनी स्याह हाशिए के बहाने से, जो ‘टोबा टेक सिंह’ की ही तरह, विभाजन की त्रासदी का स्तब्धकारी दस्तावेज है, विभाजन की खौफनाक हकीकत के साथ अपने खास मंटोआई सलूक की अनोखी विशिष्टïता की ओर इशारा करता है:
बहरहाल, विभाजन की विभीषिका को देखने का मंटो का यह खास मुकाम, दो परस्पर जुड़े हुए काम और करता है। पहला, यह मंटो को विभाजन, उससे जुड़ी-चरम अमानवीयता और खून-खराबे को एक तिरछे कोण से देखने और इस तरह इस अमानवीयता के भीतर झांककर, सबसे बढक़र उसकी निरर्थकता को देखने और बहुत ही ठंडे तरीके से तथा मारक ढंग से दिखाने का मौका देता है। ‘टोबा टेक सिंह’ से लेकर, जिसे सहज ही भारतीय उपमहाद्वीप के विभाजन के सबसे बड़े क्लासिक का दर्जा दिया जा सकता है, ‘खोल दो’ या स्याह हाशिए की पांच-सात वाक्यांशों की कहानी ‘मिस्टेक’ तक, विभाजन से अपेक्षाकृत प्रत्यक्ष रूप से जुड़ी मंटो की अधिकांश रचनाएं, विडंबना और व्यंग्य को अपना मुख्य हथियार यूं ही नहीं बनाती हैं। मंटो सबसे बढक़र इन्हीं हथियारों से विभाजन की सचाई की भयावहता और उसकी सम्पूर्ण निरर्थकता को, एक दूसरे की पृष्ठïभूमि में रखते हैं और इस तरह इसकी भयावहता और निरर्थकता, दोनों को उस तरह रौशन करते हैं, जैसे हिंदी-उर्दू-पंजाबी में दूसरा कोई लेखक नहीं कर पाया है। 
वास्तव में मंटो विभाजन और उसके साथ जुड़ी विभीषिका को, उसकी निरर्थकता तथा भीषणता के अर्थ में ही ‘पागलपन’ के रूपक के जरिए नहीं देखता है बल्कि इस अर्थ में भी पागलपन के रूप में देखते हैं  कि यह पागलपन भी, पागल को इस तरह पूरी तरह नहीं भर सकता है कि वह शुद्ध पागल ही रह जाए और दूसरे किसी भाव की उसके अंदर गुंजाइश ही न बचे। मंटो इस पागलपन को पहचानता है, तो यह भी पहचानता है कि यह पागलपन भी कोई हमेशा बना नहीं रह सकता है। ‘यज़ीद’ इस पागलपन के नशे के धीरे-धीरे टूटने की ही कहानी है। वास्तव में यहां मंटो की सांप्रदायिकता और विभाजन की भी आलोचना, कहीं ज्यादा वास्तविक और मानव-केंद्रित लगती है। 
यह तो निर्विवाद है कि मंटो विभाजन के, हिंदी-उर्दू-पंजाबी के क्षेत्र के सबसे बड़े और सबसे ‘विश्वसनीय गवाह’ हैं। उन्होंने इस त्रासदी को गहरे अर्थों में जिया था और एक अर्थ में अपनी जान से इस गवाही की कीमत चुकायी। हिंदी के लिए, पंजाब से जुड़े या मुस्लिम लेखकों को छोड़ दें तो, विभाजन की यह त्रासदी शायद कभी घटी ही नहीं थी। ऐसा  आबादी की अदला-बदली में हिंदी क्षेत्र में भारी उथल-पुथल होने के बावजूद है। ऐसे में हिंदी के लिए तो विभाजन की त्रासदी का याद दिलाया जाना ही काफी है। फिर भी, मंटो का लेखकीय योगदान, विभाजन की त्रासदी की गवाही तक ही सीमित नहीं है। उल्टे, विभाजन की त्रासदी की उसकी गवाही भी, इंसानियत में और इसीलिए इंसान की बराबरी तथा स्वतंत्रता में, मंटो की गहरी आस्था का ही हिस्सा है।

Friday, January 11, 2013

फिल्‍म रिव्‍यू : मटरू की बिजली का मन्‍डोला

matru ki bijlee ka mandola film review

मुद्दे का हिंडोला

-अजय ब्रह्मात्‍मज
देश के सामाजिक और राजनीतिक मुद्दे संवेदनशील फिल्मकारों को झकझोर रहे हैं। वे अपनी कहानियां इन मुद्दों के इर्द-गिर्द चुन रहे हैं। स्पेशल इकॉनोमिक जोन [एसईजेड] के मुद्दे पर हम दिबाकर बनर्जी की 'शांघाई' और प्रकाश झा की 'चक्रव्यूह' देख चुके हैं। दोनों ने अलग दृष्टिकोण और निजी राजनीतिक समझ एवं संदर्भ के साथ उन्हें पेश किया। विशाल भारद्वाज की 'मटरू की बिजली का मन्डोला' भी इसी मुद्दे पर है। विशाल भारद्वाज ने इसे एसईजेड मुद्दे का हिंडोला बना दिया है, जिसे एक तरफ से गांव के हमनाम जमींदार मन्डोला व मुख्यमंत्री चौधरी और दूसरी तरफ से मटरू और बिजली हिलाते हैं। हिंडोले पर पींग मारते गांव के किसान हैं, मुद्दा है, माओ हैं और व‌र्त्तमान का पूरा मजाक है। वामपंथी राजनीति की अधकचरी समझ से लेखक-निर्देशक ने माओ को म्याऊं बना दिया है। दर्शकों का एक हिस्सा इस पर हंस सकता है, लेकिन फिल्म आखिरकार मुद्दे, मूवमेंट और मास [जनता] के प्रति असंवेदी बनाती है।
मन्डोला गांव के हमनाम जमींदार मन्डोला दिन में क्रूर, शोषक और सामंत बने रहते हैं। शाम होते ही गुलाबो [एक लोकल शराब] के नशे में आने के बाद वे खुद के ही खिलाफ हो जाते हैं। उनका उदार, डेमोक्रेटिक और प्रगतिशील चेहरा नजर आता है। धुत्त होने के बाद वे अद्भुत हो जाते हैं। उन्होंने प्रदेश की मुख्यमंत्री के साथ मिल कर अपने गांव के खेतों को मिल-कारखाने में बदलने की योजना बना डाली है। गांव के किसान अपनी जमीन बचाने की लड़ाई लड़ते हैं, जिसमें माओत्से तुंग की राय से वे निर्देशित होते हैं। माओ का यह उल्लेख और प्रसंग आम दर्शकों को सही राजनीतिक संदर्भ दे या न दे, लेकिन उन्हें तुरंत ही देश में चल रहे माओवादी आंदोलन का स्मरण कराएगा। इस आंदोलन की सरकारी व्याख्या और मीडिया कवरेज से समझ बनाए दर्शकों को यह प्रहसन गुदगुदाएगा,जबकि माओवादियों का आंदोलन इस देश की क्रूर सच्चाई का एक पहलू है। ना..ना.. विशाल भारद्वाज से ऐसी उम्मीद नहीं थी।
दरअसल, हमारे ज्यादातर फिल्मकार विदेशों के फिल्मकारों का शिल्प लेकर स्थानीय कथ्य गढ़ने की कोशिश करते हैं। स्थानीय कथ्य को ऐतिहासिक, सामाजिक और राजनीतिक संदर्भ के सही परिपेक्ष्य में नहीं रखने से सच, कल्पना और सोच की गडमड होती है। यह गडमड 'मटरू की बिजली का मन्डोला' में कुछ ज्यादा है। पूछने का मन कर रहा है-आप की राजनीति क्या है विशाल? शबाना आजमी के एक लंबे संवाद में बताया गया है कि कैसे देश का मतलब समूह, समूह का मतलब भीड़ और भीड़ को चेहरा देने वाले नेता,नेता के व्यक्तिगत गुणों-अवगुणों से बनते देश और भारत के इतिहास की संक्षिप्त व्याख्या की गई है। इस से देश, समाज और जन की आप की समझ भी जाहिर होती है। फिल्म किरदारों के सहारे कथ्य के प्रभाव को बढ़ाती है। किरदार अधिक प्रभावशाली हो जाएं और उनमें परस्पर संतुलन न हो तो प्रवाह टूटता है। पंकज कपूर और शबाना आजमी सिद्ध अभिनेता हैं। वे मामूली दृश्यों को भी गैरमामूली बना देते हैं। उनके बीच इमरान खान और अनुष्का शर्मा जैसे अभिनय के छोटे बटखरे पासंग नहीं बना पाते। उनका हरियाणवी लहजा बार-बार टूटता है।
विशाल भारद्वाज शब्द और दृश्य के धनी फिल्मकार हैं। इसके बावजूद उनकी फिल्मों को क्रमवार देखें तो 'मकबूल' से 'मटरू की बिजली का मन्डोला' तक की यात्रा में लगातार बिखराव की ओर बढ़ रहे हैं। उनका क्राफ्ट निखरता जा रहा है और कथ्य बिखरता जा रहा है। हो सकता है कि वे अपनी अभिव्यक्ति का सही माध्यम खोज रहे हों, लेकिन इस प्रक्रिया में उनका असमंजस सामने आ रहा है। यह भी मुमकिन है कि वे अपने कथ्य और प्रस्तुति को लेकर स्पष्ट हों। कई बार ऐसा होता है कि लेखक और निर्देशक की स्पष्ट धारणाएं भी पन्ने और पर्दे पर प्रतिभासी हो जाती हैं। फिल्म के चुटीले संवाद और चटकीले दृश्य लुभाते हैं। पूरी फिल्म में यह निरंतरता रहती तो निश्चित ही अधिक आनंद आता।
विशाल भारद्वाज की फिल्मों का गीत-संगीत बहुत ओजपूर्ण, मधुर और कर्णप्रिय होता है। इस फिल्म के गीत-संगीत में भी वे सारी खूबियां हैं। सवाल है कि दर्शकों को कब तक झुनझुना सुनाते रहेंगे विशाल? उन्हें अपनी इस क्षमता का सदुपयोग फिल्म का प्रभाव बढ़ाने में करना चाहिए। फिल्म के प्रचार से आभास मिला था कि यह पूरी तरह से कामेडी फिल्म होगी। फिल्म का अप्रोच कॉमिकल है और विषय राजनीतिक मुद्दे की अधूरी समझ से गढ़ा गया है, इसलिए फिल्म का घालमेल निराश करता है।
पुनश्च-विशाल भारद्वाज की इस हिम्मत के लिए बधाई कि इस फिल्म के पोस्टर पर फिल्म का टायटल चलन के मुताबिक अंग्रेजी में नही लिखा गया है। रोमन टायटल पोस्टर पर दिखे ही नहीं।
अवधि- 151 मिनट
** ढाई स्टार

Wednesday, January 9, 2013

बाबूजी की कमी खलती है- अमिताभ बच्चन

यह इंटरव्‍यू रघुवेन्‍द्र सिंह के ब्‍लॉग से लिया गया है चवन्‍नी के पाठ‍कों के लिए....
अमिताभ बच्चन ने दिल में अपने बाबूजी हरिवंशराय बच्चन की स्मृतियां संजोकर रखी हैं. बाबूजी के साथ रिश्ते की मधुरता और गहराई को अमिताभ बच्चन से विशेष भेंट में रघुवेन्द्र सिंह ने समझने का प्रयास किया
लगता है कि अमिताभ बच्चन के समक्ष उम्र ने हार मान ली है. हर वर्ष जीवन का एक नया बसंत आता है और अडिग, मज़बूत और हिम्मत के साथ डंटकर खड़े अमिताभ को बस छूकर गुज़र जाता है. वे सत्तर वर्ष के हो चुके हैं, लेकिन उन्हें बुजऱ्ुग कहते हुए हम सबको झिझक होती है. प्रतीत होता है  िक यह शब्द उनके लिए ईज़ाद ही नहीं हुआ है.
उनका $कद, गरिमा, प्रतिष्ठा, लोकप्रियता समय के साथ एक नई ऊंचाई छूती जा रही है. वह साहस और आत्मविश्वास के साथ अथक चलते, और बस चलते ही जा रहे हैं. वह अंजाने में एक ऐसी रेखा खींचते जा रहे हैं, जिससे लंबी रेखा खींचना आने वाली कई पीढिय़ों के लिए चुनौती होगी. वह नौजवान पीढ़ी के साथ $कदम से $कदम मिलाकर चलते हैं और अपनी सक्रियता एवं ऊर्जा से मॉडर्न जेनरेशन को हैरान करते हैं.
अपने बाबूजी हरिवंशराय बच्चन के लेखन को वह सबसे बड़ी धरोहर मानते हैं. आज भी विशेष अवसरों पर उन्हें बाबूजी की याद आती है. पिछले महीने 11 अक्टूबर को अमिताभ बच्चन का जन्मदिन बहुत धूमधाम से अनोखे अंदाज़ में सेलीब्रेट किया गया. इस माह की 27 तारी$ख को उनके बाबूजी का जन्मदिन है. प्रस्तुत है अमिताभ बच्चन से उनके जन्मदिन एवं उनके बाबूजी के बारे में विस्तृत बातचीत.  

पिछले दिनों आपके सत्तरवें जन्मदिन को लेकर आपके शुभचिंतकों, प्रशंसकों और मीडिया में बहुत उत्साह रहा. आपकी मन:स्थिति क्या है?
मन:स्थिति यह है कि एक और साल बीत गया है और मेरी समझ में नहीं आ रहा है कि क्यों इतना उत्साह है सबके मन में? प्रत्येक प्राणी के जीवन का एक साल बीत जाता है, मेरा भी एक और साल निकल गया.
दुनिया की नज़र में आपके पास सब कुछ है, मगर जीवन के इस पड़ाव पर अब आपको किन चीज़ों की आकांक्षा है? 
हमने कभी इस दृष्टि से न अपने आप को, न अपने जीवन को और न अपने व्यवसाय को देखा है. मैंने हमेशा माना है कि जैसे-जैसे, जो भी हमारे साथ होता जा रहा है, वह होता रहे. ईश्वर की कृपा बनी रहे. परिवार स्वस्थ रहे. मैंने कभी नहीं सोचा कि कल क्या करना है, ऐसा करने से क्या होगा या ऐसा न करने से क्या होगा. जीवन चलता जाता है, हम भी उसमें बहते जाते हैं.
एक सत्तर वर्षीय पुरुष को बुजुर्ग कहा जाता है, लेकिन आपके व्यक्तित्व पर यह शब्द उपयुक्त प्रतीत नहीं होता.
अब क्या बताऊं मैं इसके बारे में? बहुत बड़ी गलतफहमी लोगों को. लेकिन हूं तो मैं सत्तर वर्ष का. आजकल की जो नौजवान पीढ़ी है, उसके साथ हिलमिल जाने का मन करता है. क्या उनकी सोच है, क्या वो कर रहे हैं, उसे देखकर अच्छा लगता है. खासकर के हमारी फिल्म इंडस्ट्री की जो नई पीढ़ी है, जो नए कलाकार हैं, उन सबका जो एक आत्मबल है, एक ऐसी भावना है कि उनको सफल होना है और उनको मालूम है कि उसके लिए क्या-क्या करना चाहिए. इतना कॉन्फिडेंस हम लोगों में नहीं था. अभी भी नहीं है. अभी भी हम लोग बहुत डरते हैं. लेकिन आज की पीढ़ी जो है, वो हमसे ज्यादा ता$कतवर है और बहुत ही सक्षम तरीके से अपने करियर को, अपने जीवन को नापा-तौला है और फिर आगे बढ़े हैं. इतनी नाप-तौल हमको तो नहीं आती. लेकिन आकांक्षाएं जो हैं, वो मैं दूसरों पर छोड़ता हूं. आप यदि कोई चीज़ लाएं कि आपने ये नहीं किया है, आपको ऐसे करना चाहिए, तो मैं उस पर विचार करूंगा. आप कहें कि अपने आपके लिए सोचकर बताइए, तो वो मैं नहीं करता. इतनी क्षमता मुझमें नहीं है कि मैं देख सकूं कि मुझे क्या करना है. 
आप जिस तरीके से नौजवान पीढ़ी के साथ कदम से $कदम मिलाकर चलते हैं, वह देखकर लोगों को ताज्जुब होता है कि आप कैसे कर लेते हैं?
ये सब कहने वाली बातें हैं. कष्ट तो होता है, शारीरिक कष्ट होता है. अब जितना हो सकता है, उतना करते हैं, जब नहीं होता है तो बैठ जाते हैं. लेकिन ऐसा कहना कि न जाने कहां से एनर्जी आ रही है, तो क्या कहूं मैं? मैं ऐसा मानता हूं कि जब ये निश्चित हो जाए कि ये काम करना है, तो उसके बाद पूरी दृढ़ता और लगन के साथ उसे करना चाहिए. परिणाम क्या होता है, यह बाद में देखना चाहिए. एक बार जो तय हो गया, उसे हम करते हैं.
क्या आप मानते हैं कि आप शब्दों, विशेषणों आदि से ऊपर उठ चुके हैं? इस बारे में सोचना पड़ता है कि आपके नाम के साथ क्या विशेषण लगाएं?
मैं अपने बारे में कैसे मान सकता हूं? और ये जो तकलीफ है, वह आपकी है. मुझ पर क्यों थोप रहे हैं आप? मैंने तो कभी ऐसा माना नहीं है. आप लोग तो बहुत अच्छी-अच्छी बातें लिखते हैं, अच्छे-अच्छे खिताब देते हैं मुझे. मैंने कभी नहीं माना है उनको, तो मेरे लिए वह ठीक है. अब आप को कष्ट हो रहा हो, तो अब आप जानिए.
बचपन में अम्मा और बाबूजी आपका जन्मदिन किस प्रकार सेलीब्रेट करते थे?
जैसे आम घरों में मनाया जाता था. हम छोटे थे, तो हमारी उम्र के बच्चों के लिए पार्टी-वार्टी दी जाती थी, केक कटता था, कैंडल लगता है. हालांकि ये प्रथा अभी तक चल रही है. अंग्रेज़ चले गए, अपनी प्रथाएं छोड़ गए. पता नहीं क्यों अभी तक केक काटने की प्रथा बनी हुई है! मैं तो धीरे-धीरे उससे दूर हटता जा रहा हूं. बड़ा अजीब लगता है मुझे कि फूंक मारो, कैंडल बुझ जाए. जितनी उम्र है, उतने कैंडल लगाओ. बाबूजी भी इसको कुछ ज़्यादा पसंद नहीं करते थे. इसलिए उन्होंने एक छोटी-सी कविता लिखी थी, जिसे जन्मदिन के दिन वो गाया करते थे. हर्ष नव, वर्ष नव...  
अभिषेक बच्चन ने हालिया भेंट में बताया कि घर के किसी सदस्य के जन्मदिन पर दादाजी उपहार स्वरूप कविता लिखकर देते थे. क्या आपने उन्हें सहेजकर रखा है?
जी, वह एक छोटी-सी कविता लिखकर लाते थे. ज़्यादातर तो हर्ष नव, वर्ष नव... ही हम सुनते थे. उसके बाद बाबूजी-अम्माजी कई जगह गाते थे इसको.
क्या बचपन में आपने बाबूजी से किसी गिफ्ट की मांग की थी? क्या आपकी मांगों को वो पूरा करते थे? उन दिनों इतने समृद्ध नहीं थे आप लोग.
कई बार हमने ऐसी मांग की, लेकिन मां-बाबूजी की परिस्थितियां ऐसी नहीं थीं कि वह हमें मिल सके तो हम निराश हो जाते थे. और अभी यह सुनकर शायद अजीब लगे, लेकिन मेरे स्कूल में एक क्रिकेट क्लब बना और उसमें भर्ती होने के लिए मेंबरशिप फीस थी दो रुपए. मैं मां से मांगने गया, तो उन्होंने कहा कि दो रुपए नहीं हैं हमारे पास. एक बार मैंने कहा कि मुझे कैमरा चाहिए. पुराने जमाने में एक बॉक्स कैमरा होता था, वो एक-एक आने इकट्ठा करके मां जी ने अंत में मुझे कैमरा दिया.
कैमरे का शौक आपको कब लगा? पहला कैमरा आपने कब लिया?
शायद मैं दस या गयारह वर्ष का रहा होऊंगा. कुछ ऐसे ही सडक़ पर पेड़-वेड़ दिखता था, तो लगता था कि यह बहुत खूबसूरत है, उसकी छवि उतारनी चाहिए और इसलिए हमने मां जी से कहा कि हमको एक बॉक्स कैमरा लाकर दो. अभी भी बहुत सारे कैमरे हैं. ये हैं परेश (इंटरव्यू के दौरान हमारी तस्वीरें क्लिक कर रहे शख्स), यही देखभाल करते हैं. कैमरे का जो भी लेटेस्ट मॉडल निकलता है, उसे प्राप्त करना और उसे चलाना अच्छा लगता है मुझे. मैं घर में ही तस्वीरें लेता हूं, बच्चों की, परिवार की.
आपमें और अजिताभ में बाबूजी का लाडला कौन था? कौन उनके सानिध्य में ज़्यादा रहता था? बराबरी का हिस्सा था और हमेशा बाबूजी ने कहा कि जो भी होगा, आधा-आधा कर लो उसको.
क्या बाबूजी आपके स्कूल के सांस्कृतिक कार्यक्रमों में आया करते थे? क्या वे सांस्कृतिक गतिविधियों में हिस्सा लेने के लिए आपका उत्साहवर्द्धन किया करते थे?
अब पता नहीं कि फाउंडर डे पर जो स्कूल प्ले होता है, उसको एक सांस्कृतिक ओहदा दिया जाए या... लेकिन जब भी हमारा फाउंडर डे होता था, तो मां-बाबूजी आते थे. हम नैनीताल में पढ़ रहे थे. वो लोग आते थे और हफ्ता-दस दिन हमारे साथ गुज़ारते थे. हमारा नाटक देखते थे. हमेशा उन्होंने हमारा साथ दिया. मां जी ने स्पोट्र्स में प्रोत्साहित किया.  
क्या आप बचपन में उनके संग कवि सम्मेलनों में जाते थे?
जी. प्रत्येक कवि सम्मेलन में बाबूजी ले जाते थे और मैं भी साथ जाता था. रात-बिरात दिल्ली के पास या इलाहाबाद के पास मैं उनके साथ जाता था.
बाबूजी के कद, उनकी गरिमा और प्रतिष्ठा का ज्ञान आपको कब हुआ? 
सारी ज़िन्दगी. मैं तो जब पैदा हुआ, तभी से बच्चन जी, बच्चन जी थे. और हमेशा मैं था हरिवंश राय बच्चन का पुत्र अमिताभ. कहीं भी हम जाएं, तो लोग कहें कि ये बच्चन जी के बेटे हैं. उनकी प्रतिष्ठा जग ज़ाहिर थी.
निजी जीवन पर अपने बाबूजी का सबसे गहरा असर क्या मानते हैं? क्या हिंदी भाषा पर आपकी इतनी ज़बरदस्त पकड़ का श्रेय हम उन्हें दे सकते हैं?
हां, क्यों नहीं. मैंने सबसे अधिक उन्हीं को पढ़ा है. उनकी जो कविताएं हैं, जो लेखन है, जो भी छोटा-मोटा ज्ञान मिला है, उन्हीं से मिला है. लेकिन हिंदी को समझना और उसका उच्चारण करना, दो अलग-अलग बातें हैं. मैं नहीं मानता हूं कि मेरी जिज्ञासा या मेरा ज्ञान हिंदी के प्रति बहुत ज्यादा अच्छा है. लेकिन मैं ऐसा समझता हूं कि किसी भाषा का उच्चारण सही होना चाहिए. उसमें त्रुटियां नहीं होनी चाहिए. हिंदी बोलें या गुजराती या तमिल या कन्नड़ बोलें, तो उसे सही ढंग से बोलने का हमारे मन में  हमेशा एक रहता है. और बिना बाबूजी के असर के मैं मानता हूं कि मेरा जीवन बड़ा नीरस होता. स्वयं को भागयशाली समझता हूं कि मैं मां-बाबूजी जैसे माता-पिता की संतान हूं. माता जी सिक्ख परिवार से थीं और बहुत ही अमीर घर की थीं. उनके फादर बार एटलॉ थे उस जमाने में. वह रेवेन्यू मिनिस्टर थे पंजाब सरकार के पटियाला में. अंग्रेजी, विलायती नैनीज़ होती थीं उनकी देखभाल के लिए. उस वातावरण से माता जी आईं और उन्होंने बाबूजी के साथ ब्याह किया. जो कि लोअर मीडिल क्लास से थे, उनके पास व्यवस्था ज़्यादा नहीं थी. ज़मीन पर बैठकर पढ़ाई-लिखाई करते थे, मिट्टी के तेल की लालटेन जलाकर काम करते थे, लाइट नहीं होती थी उन दिनों. मुझे लगता है कि कहीं न कहीं मां जी का जो वातावरण था, जो उनके खयाल थे, वह बहुत ही पश्चिमी था और बाबूजी का बहुत ही उत्तरी था. इन दोनों का इस्टर्न और वेस्टर्न मिश्रण जो है, वो मुझे प्राप्त हुआ. मैं अपने आप को बहुत भागयशाली समझता हूं कि इस तरह का वातावरण हमारे घर के अंदर हमेशा फलता रहा. कई बातें थीं, जो बाबूजी को शायद नहीं पसंद आती होंगी, लेकिन कई बातें थीं, जिसमें मां जी की रुचि थी- जैसे सिनेमा जाना, थिएटर देखना. इसमें बाबूजी की ज़्यादा रुचि नहीं होती थी. वह कहते थे कि यह वेस्ट ऑफ टाइम है, घर बैठकर पढ़ो. मां जी सोचती थीं कि हमारे चरित्र को और उजागर करने के लिए ज़रूरी है कि पढ़ाई के साथ-साथ थोड़ा-सा खेलकूद भी किया जाए. मां जी खुद हमें रेस्टोरेंट ले जाती थीं, बाबूजी न भी जाते हों. तो ये तालमेल था उनका जीवन के प्रति और वो संगम हमको मिल गया. 
दोनों अलग-अलग विचारधारा के लोग थे. आप किससे अधिक जुड़ाव महसूस करते थे?
दोनों से ही. उत्तरी-पश्चिमी दोनों सभ्यताएं हमें उनसे प्राप्त हुईं. और उनमें अंतर कब और कहां लाना है, यह हमारे ऊपर निर्भर करता है. वो सारा जो मिश्रण है, वह हमको सोचकर करना पड़ता है.
जया बच्चन के फिल्मफेयर को दिए गए एक पुराने साक्षात्कार में हमने पाया कि आपको लिखने का बहुत शौक है. उन्होंने बताया है कि जब आप काम ज़्यादा नहीं कर रहे थे, तो अपने कमरे में एकांत में लिखते रहते हैं. क्या आप लिखते थे, वो उन्होंने नहीं बताया है.
अच्छा हुआ कि वो उन्होंने नहीं बताया है, क्योंकि मुझसे भी आपको नहीं पता चलने वाला है कि मैंने क्या लिखा उन दिनों. बैठकर कुछ पढ़ते-लिखते रहना, फिर सितार उठाकर बजा दिया, गिटार उठाकर बजा लिया. ये सब हमको आता नहीं है, लेकिन ऐसे ही करते रहते थे. 
क्या बाबूजी की तरह आप भी कविताएं लिखते हैं?
कविता हमने नहीं लिखी. अस्पताल में जब था मैं 1982 में, कुली के एक्सीडेंट के बाद, उस समय एक दिन ऐसे ही भावुक होकर हमने अंग्रेज़ी में एक कविता लिख दी. वो हमने बाबूजी को सुनाई, जब वो हमसे मिलने आए. वो चुपचाप उसे ले गए और अगले दिन आकर कहा उसका हिंदी अनुवाद करके हमको दिखाया. उन्होंने कहा कि ये कविता बहुत अच्छी लिखी है, हमने इसका हिंदी अनुवाद किया है. ज़ाहिर है कि उनका जो हिंदी अनुवाद था, वह हमारी अंग्रेज़ी से बेहतर था. वो कविता शायद धर्मयुग वगैरह में छपी थी.  
जीवन में किन-किन पड़ावों पर आपको बाबूजी और अम्मा की कमी बहुत अखरती है?
प्रतिदिन कुछ न कुछ जीवन में ऐसा बीतता है, जब लगता है कि उनसे सलाह लेनी चाहिए, लेकिन वो हैं नहीं. लेकिन ये जीवन है, एक न एक दिन सबके साथ ऐसा ही होगा. माता-पिता का साया जो है, ईश्वर न करें, लेकिन खो जाता है. लेकिन जो बीती हुई बातें हैं, उनको सोचकर कि यदि मां-बाबूजी जीवित होते, तो वो क्या करते इन परिस्थितियों में? और फिर अपनी जो सोच रहती है उस विषय पर कि हां, मुझे लगता है कि उनका व्यवहार ऐसा होता, तो हम उसको करते हैं.
अपने अभिनय के बारे में बाबूजी की कोई टिप्पणी आपको याद है? वह आपके प्रशंसक थे या आलोचक? 
नहीं, वो बाद के दिनों में $िफल्में वगैरह देखते थे और जो फिल्म उनको पसंद नहीं आती थी, वो कहते थे कि बेटा, ये फिल्म हमको समझ में नहीं आई कि क्या है. हालांकि वो कुछ फिल्मों को पसंद भी करते थे और देखते थे. जब वो अस्वस्थ थे, तो प्रतिदिन शाम को हमारी एक फिल्म देखते थे.  
कभी ऐसा पल आया, जब उन्होंने इच्छा ज़ाहिर की हो कि आप फलां किस्म का रोल करें?
ऐसा कभी उन्होंने व्यक्त नहीं किया. मैंने कभी पूछा भी नहीं. उनके लिए भी समस्या हो जाती और हमारे लिए भी.
क्या बाबूजी को अपना हीरो मानते हैं? उनकी कोई बात, जो आज भी आपको प्रेरणा और हिम्मत देती है?
हां, बिल्कुल. साधारण व्यक्ति थे, मनोबल बहुत था उनमें, एक आत्मशक्ति थी उनमें. लेकिन $खास तौर पर उनका आत्मबल. कई उदाहरण हैं उनके. एक बार वो कोई चीज़ ठान लेते थे, फिर वो जब तक $खत्म न हो जाए, तब तक उसे छोड़ते नहीं थे. बाबूजी को पंडित जी (जवाहर लाल नेहरू) ने बुलाया और कहा कि ये आत्मकथा लिखी है माइकल पिशर्ड ने. हम चाहते हैं कि इसका हिंदी अनुवाद हो, लेकिन ये हमारे जन्मदिन के दिन छपकर निकल जानी चाहिए. अब केवल तीन महीने रह गए थे. तीन महीने में एक बॉयोग्रा$फी का पूरा अनुवाद करना और उसे छापना बड़ा मुश्किल काम था, लेकिन बाबूजी दिन-रात उस काम में लगे रहे. जो उनकी स्टडी होती थी, उसके बाहर वो एक पेंटिंग लगा देते थे. उसका मतलब होता था कि अंदर कोई नहीं जा सकता, अभी व्यस्त हूं. बैठे-बैठे जब वो थक जाएं, तो खड़े होकर लिखें, जब खड़े-खड़े थक जाएं, तो ज़मीन पर बैठकर लिखें. विलायत में भी वो ऐसा ही करते थे. जब वो विलायत में अपनी पीएचडी कर रहे थे, तो उन्होंने अपने लिए एक खास मेज़ खुद ही बनाया. उनके पास इतना पैसा नहीं था कि मेज़ खरीद सकें. एक दिन मैं ऐसे ही चला गया, तो मैंने देखा कि एक कटोरी में गरम पानी है और उसमें उन्होंने अपना बायां हाथ डुबोया था. मैंने कहा कि क्या हो गया? तो उन्होंने बताया कि दर्द हो रहा था. हमने कहा कि कैसे हो गया? तो कहा कि लिखते-लिखते दर्द होने लगा. हमने कहा कि ये तो आपका बायां हाथ है, आप तो दाहिने हाथ से लिखते हैं? उन्होंने कहा कि हां, तुम सही कह रहे हो. दाहिने हाथ से लिखते-लिखते मेरा हाथ थक गया था, लेकिन क्योंकि मुझे काम खत्म करना था और लिखना था, तो मैंने अपने आत्मबल से दाहिने हाथ के दर्द को बाएं हाथ में डाल दिया है और अब मेरा बायां हाथ दर्द कर रहा है, इसलिए मैं उसकी मसाज कर रहा हूं. उनके ऐसे विचार थे.
अभिषेक और आपके बीच पिता-पुत्र के साथ-साथ दोस्त का रिश्ता नज़र आता है. क्या ऐसा ही संबंध आपके और आपके बाबूजी के बीच था?
हां, बाद के दिनों में. शुरुआत के सालों में हम सब उन्हें अकेला छोड़ देते थे, क्योंकि वो अपने काम में, अपने लेखन में व्यस्त रहते थे. मां जी थीं हमारे साथ, तो घूमना-फिरना होता था, जो बाबूजी को शायद उतना पसंद नहीं था. बाद में जब हमारे साथ यहां आए तो हमारा उनके साथ अलग तरह का दोस्ताना बना. कई बातें जो केवल दो पुरुषों के बीच हो जाती हैं, कई बार ऐसा अवसर आता था, जब हम करते थे. अभिषेक के पैदा होने के पहले ही मैंने सोच लिया था कि अगर मुझे पुत्र हुआ, तो वह मेरा मित्र होगा, वो बेटा नहीं होगा. मैंने ऐसा ही व्यवहार किया अभिषेक के साथ और अभी तक तो हमारी मित्रता बनी हुई है. 
क्या आप चाहते हैं कि अभिषेक और आपकी आने वाली पीढिय़ां बच्चनजी की रचनाओं, विचार और दर्शन को उसी तरह अपनाएं और अपनी पीढ़ी के साथ आगे बढ़ाएं, जैसे आपने बढ़ाया है?
ये अधिकार मैं उन पर छोड़ता हूं. यदि उनके मन में आया कि इस तरह से कुछ काम करना चाहिए, तो वो करें. मैं उन पर किसी तरह का दबाव नहीं डालना चाहता हूं कि देखो, ये हमारे परिवार की परंपरा रही है, हमारे लिए एक धरोहर है, जिसे आगे बढ़ाना है. न ही बाबूजी ने कभी हमसे ये कहा कि ये धरोहर है. क्योंकि उनकी जो वास्तविकता थी, उसे कभी उन्होंने हमारे सामने ऐसे नहीं रखा कि मैंने बहुत बड़ा काम कर दिया है. उसके पीछे छुपी हुई जो बात थी, वो हमेशा पता चलती थी. जैसे विलायत पीएचडी करने गए, पैसा नहीं था. कुछ फेलोशिप मिली, फिर बीच में वो भी बंद हो गई. मां जी ने गहने बेचकर पैसा इकट्ठा किया, क्योंकि वो चाहती थीं कि वो पीएचडी करें. चार साल जिस पीएचडी में लगता है, वो उन्होंने दो वर्षों में ही पूरी कर ली और का$फी मुश्किल परिस्थितियों में रहे वहां. जब वो वापस आए, तो उस ज़माने में तो विलायत जाना और वापस आना बहुत बड़ी बात होती थी और खासकर इलाहाबाद जैसी जगह पर. सब लोग बहुत खुश कि भाई, विलायत से लौटकर के आ रहे हैं और हम बच्चे ये सोचते थे कि हमारे लिए क्या तोहफा लाए होंगे. सबसे पहला सवाल हमने बाबूजी से यही किया कि क्या लाएं हैं आप हमारे लिए? उन्होंने मुझे सात कॉपी, जो उनके हाथ से लिखी हुई पीएचडी है, वो उन्होंने मुझे दी. कहा कि ये मेरा तोहफा है तुम्हारे लिए. ये मेरी मेहनत है, जो मैंने दो साल वहां की. उसे मैंने रखा हुआ है. उससे बड़ा उपहार क्या हो सकता है मेरे लिए.
बाबूजी की कौन सी रचना आपको बहुत प्रिय है और क्यों?
सभी अच्छी हैं. अलग-अलग मानसिक स्थितियों से जब बाबूजी गुज़रे, तो उन परिस्थितियों में उन्होंने अलग-अलग कविताएं लिखीं. बाबूजी के शुरुआत के दिन बहुत गंभीर थे. बाबूजी की पहली पत्नी का देहांत साल भर के अंदर हो गया था. वो बीमार थीं, उनकी चिकित्सा के लिए पैसे नहीं थे बाबूजी के पास, तो वो दुखदायी दिन थे. उनके ऊपर उनका वर्णन है. फिर मां जी से मिलने के बाद उनके जीवन में जो एक नया रंग, उल्लास आया, उसको लेकर उनकी कविताएं आईं. फिर आधुनिक ज़माने में आकर बहुत से जो ट्रेंड थे कविता लिखने के, खास तौर से हिंदी जगत में, वो बदलते जा रहे थे, हास्य रस बहुत प्रचलित हो गया था. कवि सम्मेलनों में हास्य कवियों को ज़्यादा तालियां मिलने लगीं. इन सारे दौर से गुज़रते हुए उन्होंने लेखन किया. किसी एक रचना पर उंगली रखना बड़ा मुश्किल होगा.
आपकी उनकी चीज़ों की आर्कइविंग करने की योजना थी?
प्रयत्न जारी है. समय नहीं मिल रहा है. दूसरी बड़ी बात ये है कि जो लोग बाबूजी के साथ उस ज़माने में थे, वो वृद्ध हो गए हैं. लेकिन मैं ये चाहूंगा कि जो उनके साथ उस ज़माने में थे, उन्हें ढूंढें. क्योंकि कई ऐसी बातें हैं, जो हमको नहीं पता हैं. बाबूजी पत्र बहुत लिखते थे और वो अपने हाथ से लिखते थे. प्रतिदिन वो पचास-सौ पोस्ट कार्ड लिखते थे जवाब में, जो उनके पास चिट्ठियां आती थीं और उसे $खुद ले जाकर पोस्ट बॉक्स में डालते थे. उन्होंने बहुत सी चिट्ठियां जो लोगों को लिखी हैं, उन चिट्ठियों को एकत्रित करके लोगों ने किताब के रूप में छाप दिया है. अब ये पता नहीं कि कानूनन ठीक है या नहीं, लेकिन उन्होंने कहा कि साहब, ये पत्र तो उन्होंने हमें लिखा है, आपका इसके ऊपर कोई अधिकार नहीं है. तो मैं ऐसा सोच रहा था कि कभी अगर मुझे जानकारी हासिल करनी होगी तो मैं इश्तहार दूंगा मैं या पूछूंगा कि जिन लोगों के पास बाबूजी की लिखी चिट्ठियां हैं या याददाश्त हैं, वो हमें बताएं ताकि हम उनका एक आर्काइव बना सकें.
अब आप स्वयं दादाजी बन चुके हैं. इस संबोधन से आपको अपने दादाजी (प्रताप नारायण श्रीवास्तव) एवं दादीजी (सरस्वती देवी) की याद आती है. उनके बारे में हमें बहुत कम सामग्री मिलती है.
जी, दादाजी की स्मृतियां हैं नहीं, क्योंकि जब मैं पैदा हुआ, तो उनका देहांत हो गया था. दादी थीं, लेकिन उनका भी मेरे पैदा होने के साल-डेढ़ साल बाद स्वर्गवास हो गया. मां जी की तरफ से, उनकी माता जी का देहांत उनके जन्म पर ही हो गया था. जो नाना जी थे, मुझे ऐसा बताया गया है कि अब तो वो पाकिस्तान हो गया है, मां जी का जन्म लायलपुर में हुआ था, जो अब फैसलाबाद हो गया है और उनकी शिक्षा-दीक्षा सब गर्वमेंट कॉलेज लाहौर में हुई. वो वहां पढ़ाने भी लगीं. मुझे बताया गया है कि जब मैं दो साल का था, तो मां जी उनसे मिलवाने कराची ले गई थीं. ऐसा मां जी बताती हैं कि एक बार मैं नाना के पास गया, तो चूंकि वो सरदार थे, तो उनकी दाढ़ी बड़ी थी, तो मैंने आश्चर्य से उनसे पूछा कि आप कौन हैं? तो मेरे नानाजी ने कहा कि अपनी मां से जाकर पूछो कि मैं कौन हूं.
अभिषेक चाहते हैं कि आप अब काम कम और आराम ज़्यादा करें, अपने नाती-पोतों को वह सारे संस्कार और गुर सिखाएं, जो आपने उन्हें और श्वेता को सिखाए हैं. आपकी इस बारे में क्या राय है? 
मैं ज़रूर नाती-पोतों को सिखाऊंगा और मैं काम भी करूंगा. यदि शरीर चलता रहा और सांस आती रहेगी, तो मैं चाहूंगा कि मैं काम करूं और जिस दिन मेरा शरीर काम नहीं करेगा, जैसा कि मैंने आपसे कई बार कहा है कि हमारे शरीर के ऊपर निर्भर है, चेहरा सही है, टांग-वांग चल रही है, तो काम है, वरना हम बोल देंगे कि अब हम घर बैठते हैं.
फिल्मों को लेकर आपकी ओर से कब घोषणा होगी?
एक तो अभी हुई है प्रकाश झा की सत्याग्रह और दूसरी है सुधीर मिश्रा की मेहरुन्निसा. उसमें चिंटू (ऋषि) कपूर हैं, शायद चित्रांगदा हैं और मैं हूं. दो-एक और फिल्में हैं, महीने भर के अंदर उनकी भी घोषणा की जाएगी. 

Sunday, January 6, 2013

अनुष्‍का शर्मा से अजय ब्रह्मात्‍मज की बातचीत


-अजय ब्रह्मात्मज
- विशाल भारद्वाज की ‘मटरू की बिजली का मन्डोला’ क्या है?
0 इस फिल्म से मैं अलग जोनर में जाने की कोशिश कर रही हूं। पहली बार कामेडी ड्रामा कर रही हूं। यह मुख्य रूप से तीन किरदारों मटरू, बिजली और मन्डोला की कहानी है। तीनों थोड़े अटपटे से हैं। उनके परस्पर संबंध विचित्र किस्म के हैं।
- मटरू और मन्डोला के बीच बिजली क्या कर रही है?
0 बिजली मन्डोला की बेटी है। वह बहुत ही बिगड़ैल है। नाज-ओ-नखरे में पली है। दिल्ली और ऑक्सफोर्ड में उसकी पढ़ाई हुई है। अभी तक मैंने जितनी फिल्में कीं, उनमें मेरा किरदार बहुत ही स्पष्ट और सुलझा हुआ रहा है। बिजली अस्थिर और खिसकी हुई है। उसे पता ही नहीं है कि लाइफ में क्या करना है? बिना विचारे कुछ भी करती रहती है। सही और गलत के बारे में नहीं सोचती है। उसे अपनी जिंदगी में पिता से आजादी मिली हुई है कि वह जैसे चाहे जीए। मैंने ऐसा वनरेवल कैरेक्टर नहीं निभाया है। शूटिंग करते समय मैं खुद को नासमझ बच्ची समझ रही थी।
- पिछले चार सालों में आप ने छह फिल्में कर लीं। आप की सारी फिल्में सफल रही हैं। क्या आप ने सोच-समझ कर फिल्में चुनीं या उनकी कामयाबी महज संयोग है?
0 मैंने सोच समझ कर ही फिल्में चुनी हैं। किसी और की दी हुई सोच से मैंने करिअर के फैसले नहीं लिए हैं। मैं किसी के कहने पर कुछ नहीं कर सकती। मैं बहुत ही स्ट्रांग दिमाग की लडक़ी हूं। कह सकते हैं कि व्यक्तिवादी हूं। अफसोस की बात है कि अपने देश में व्यक्तिवादी होने को दोष माना जाता है। हमेशा यही सीख दी जाती है कि इस की तरह बनो या उस की तरह बनो। कभी यह नहीं कहा जाता कि तुम जैसी हो, वैसी बनो। मां-बाप ज्यादा ख्याल नहीं करते कि मेरा बच्चा कैसा है? उसकी अपनी क्या क्वालिटी है? बच्चों के पसंद-नापसंद का ध्यान नहीं रखा जाता। मैंने अपन सारे निर्णय खुद लिए हैं। मैं भविष्य में भी किसी और को दोषी नहीं ठहराना चाहती।
- कैसे चुनती हैं फिल्में?
0 फिल्म इंडस्ट्री में अक्सर सुना और कहा जाता है कि आउट ऑफ साइट आउट ऑफ माइंड। लोग कहते हैं कि अधिक से अधिक फिल्में साइन कर लो। हमेशा दिखते रहना चाहिए। मुझे इसमें बेवकूफी नजर आती है। अगर मैं ज्यादा काम करूंगी तो खुद को पूरी तरह से खर्च कर दूंगी। मुझे वही फिल्में करनी हैं,जो इस समय मेरे लिए जरूरी हैं। अपनी जरूरतें मैं खुद तय करती हूं। ‘बैंड बाजा बारात’ मेरे करिअर में सही समय पर आई। उसके बाद सही समय पर मैंने यश जी की फिल्म ‘जब तक है जान’ की। अभी ‘मटरू की बिजली का मन्डोला’ कर रही हूं। यहां हमारे हर फैसले का नतीजा छह महीने या साल भर के बाद सामने आता है। यह फिल्म मैंने पिछले साल जनवरी में शुरू की थी। इस जनवरी में इसका रिजल्ट आएगा। दूरगामी सोच रखनी पढ़ती है।
- आपकी बातों से लग रहा है कि आप ने शुरू से ही समझदार फैसले लिए? आज कल की लड़कियों में यह गुण अच्छा लगता है। चौबीस की उम्र में ऐसी परिपक्वता कैसे आई?
0 बहुत ही संरक्षित जीवन मिला है मुझे। अपने समझदार फैसलों का श्रेय मैं पापा को दूंगी। मैं बहुत कुछ पापा जैसी हूं। सच कहें तो हम दोनों एक जैसा ही सोचते हैं। कई बार ऐसा होता है कि बगैर बताए ही वे मेरे फैसले जान लेते हैं और मैं उनके दिल की बात सुन लेती हूं। सोलह-सतरह की उम्र में मॉडलिंग की शुरुआत के समय मेरे सारे विचार पापा के अनुभवों के आधार पर बने थे। मैं उनसे ही समझती थी। उन्होंने हमेशा कहा कि तुम वही करो जो तुम्हें सही लगे। उनसे मिली इस आजादी से मेरे अंदर इंटयूशन पैदा हुआ। पापा ने मेरे अंदर विश्वास जगाया। उन्होंने यही कहा कि हमेशा अच्छा होगा।
- कह सकते हैं कि आप आत्मविश्वास से भरी सफल अभिनेत्री हैं?
0 मेरी दूसरी फिल्म आने में थोड़ी देर हुई तो लोगों ने वन फिल्म वंडर लिखना शुरू कर दिया था। अगर आत्मविश्वास नहीं होता तो आंख मूंद कर कोई भी फिल्म साइन कर लेती। फिल्में मिल रही थीं, लेकिन खास फिल्में नहीं मिल रही थीं। फिल्म से अगर कुछ मिले तभी उसे करने का मजा है। मैं मानती हूं कि अच्छे काम का परिणाम भी अच्छा होता है। मैं आर्मी के बैकग्राउंड की हूं। हर काम को एक टास्क के तरह लेती हूं।
- आपको अनुभवी और नए दोनों किस्म के डायरेक्टर मिले। इनके साथ ने आपकी करिअर को किस रूप में संवारा?
0 अभी की बात करूं तो विशाल भारद्वाज, राजकुमार हिरानी और अनुराग कश्यप की फिल्में कर रही हूं। तीनों अलग किस्म के डायरेक्टर हैं। उन तीनों के नजरिए से मैं समृद्ध होती हूं। उनके किरदार हमेशा अलग होते हैं। एक्टर के तौर पर मुझे चुनौतियां मिलती हैं। ‘मटरू ़ ़ ़’ की ही बात करूं तो बिजली के बहुत सारी इमोशन मैं नहीं समझ सकती। विशाल भारद्वाज के किरदार ब्लैक एंड ह्वाइट नहीं होते। उनका रंग ग्रे होता है।
- आप किस तरह की एक्टर हैं?
0 मैं अपनी लाइनें याद करती हूं। सबसे पहले यह मालूम करती हूं कि मेरा किरदार क्या नहीं करेगा? यह इसलिए जरूरी होता है कि उस किरदार में दर्शकों को अनुष्का शर्मा ही न दिखे। मैं निजी जिंदगी में जैसे चलती और भागती हूं,उससे बिल्कुल अलग चाल-ढाल है बिजली का। बिजली जिस लहजे में बात करती है उस लहजे में मैं कभी बात न कर पाऊं। गौर करें तो लेखक-निर्देशक स्क्रिप्ट में ही किरदार का चित्रण कर देते हैं। हमें सिर्फ उसे कैमरे के सामने निभा देना पड़ता है। मुझे खुशी है कि मेरी फिल्मों के कैरेक्टर लोगों को याद रहे।
- बिल्कुल सही कह रही हैं। इन दिनों ज्यादातर फिल्मों के किरदार इतने कमजोर और एक समान होते हैं कि उनकी अलग पहचान नहीं बन पाती। नाम याद रखना तो दूर की बात है।
0 इस फिल्म के टायटल में ही मेरा नाम डाल दिया गया है। बिजली बिल्कुल निश्शंक और निर्भीक स्वभाव की लडक़ी है। मैं खुद को समझदार मानती हूं, लेकिन इस फिल्म में मुझे कंफ्यूज दिखना था। कई बार मुझे बिजली के व्यवहार पर ही गुस्सा आता था। वह पागल लगती थी। अच्छा है न? मैं चाहूंगी कि समीक्षक और दर्शक मुझे किसी एक खाने में डाल कर न रखें। हमेशा नई फिल्में हथियाने की कोशिश में रहूंगी।
- सीधा सवाल करूं कि एक्टिंग क्या है तो क्या जवाब होगा?
0 मेरे लिए एक्टिंग साधना है। एक्शन बोलने के बाद कैमरा ऑन होता है और उसके साथ हम एक्टर ट्रांस में चले जाते हैं। वह एक ऐसा समय होता है कि अपनी किए का एहसास तुरंत हो जाता है। हमारी जिंदगी लोगों के जजमेंट पर निर्भर करती है,लेकिन कैमरे के सामने का वह क्षण पूरी तरह से हमारा होता है। उस क्षण में हम जो करते हैं वही एक्टिंग है।
- कितना जरूरी है कि आप जिस डायरेक्टर के साथ काम कर रही हैं उसकी सारी फिल्मों से परिचित हों?
0 मैंने अभी तक ज्यादातर रोमांटिक कामेडी की है। ‘मटरू ़ ़ ़’ शुरू करने के पहले मैंने विशाल भारद्वाज की सारी फिल्में देखी। मैं यह समझना चाहती थी कि उनके एक्टर कैसे होते हैं? मैंने महसूस किया कि उनके एक्टर बगैर संवादों के भी बोलते हैं। हमारी फिल्मों में संवादों की प्रचुरता रहती है। विशाल भारद्वाज की फिल्मों में संवाद सटीक और कम होते हैं। उनके ज्यादातर किरदार परतदार होते हैं। इन वजहों से उनके साथ काम करने में ज्यादा मजा आया। भविष्य में भी मेरी यही रणनीति रहेगी कि हर डायरेक्टर की सारी फिल्में देख कर उनकी शैली को समझ सकूं।
- अपने को-एक्टर इमरान खान के बारे में कुछ बताएं?
0 सबसे पहले तो वे बड़े नेक व्यक्ति हैं। उन में असुरक्षा की कोई भावना नहीं है। वे किसी के बारे में बुरी बात नहीं करते। मुझे भी दूसरों में कमी निकालना अच्छा नहीं लगता। इमरान के साथ मैं वास्तविक किस्म की बातें कर सकती थी। इमरान बेंगलोर में पढ़े हैं। मैं बेंगलोर में रहती थी। हमारे बीच बहुत सारे कामन बातें भी हैं। मैंने पहले नहीं सोचा था कि इमरान के साथ मेरी पहली फिल्म इस जोनर की होगी। मैंने रोमांटिक कामेडी की उम्मीद की थी।
- पंकज कपूर और शबाना आजमी जैसे सिद्धहस्त कलाकारों से क्या सीखा?
0 मैंने पंकज कपूर की तरह एकाग्रचित कलाकार नहीं देखा। इस उम्र में भी कुछ अलग करने की उनकी ललक जिंदा है। यह उनसे सीखा जा सकता है। पंकज जी को शूट करते हुए देखना भी एक यादगार अनुभव रहा। शबाना जी से तो मैं पहले भी मिली थी। ऐसे कलाकार अलग से बुला कर कोई टिप नहीं देते। हम इन्हें काम करते देखते हैं और इन से सीखते हैं। यह हमें चुनना पड़ता है। शबाना जी बहुत ही नैचुरल एक्टर हैं।


Saturday, January 5, 2013

दीपिका पादुकोण से अजय ब्रह्मात्‍मज की बातचीत


-अजय ब्रह्मात्मज

- 2012 आप के लिए बहुत अच्‍छा रहा। 'काकटेल’ हिट रही। अभी किस मूड में हैं आप?
0 फिलहाल तो मैं ‘कॉकटेल’ का सक्सेस एंज्वाय कर रही हूं। प्रमोशन के समय हमने सबको कहा था कि मेरे लिए यह बहुत स्पेशल फिल्म है। मैं बहुत ही खुश हूं कि लोगों को फिल्म अच्छी लगी। मेरा परफारमेंस अच्छा लगा। मैंने ‘कॉकटेल’ में बहुत मेहनत की थी। उस रोल के लिए प्रेपरेशन करना पड़ा। बहुत रिहर्सल भी की मैंने। फिलहाल तीन फिल्मों पर फोकस कर रही हूं। शाहरूख खान के साथ ‘चेन्नई एक्सप्रेस’ कर रही हूं।रणगीर कपूर के साथ  ‘ये जवानी है दीवानी’ लगभग पूरी हो गई है। संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘रामलीला’ की शटिंग आरंभ हो गई है।
- ‘रेस 2’ भी पूरी हो गई होगी?
0 ‘रेस’ पूरी हो गई है और अब डबिंग कर रही हूं उस फिल्म की। कल ही हमलोगों फिल्म का लोगो ऑन लाइन लांच किया। दीवाली के दिन प्रोमो लांच हुआ। 25 जनवरी को फिल्म रिलीज होगी। ‘रेस 2’ मेरी अगली रिलीज है। ‘कॉकटेल’ के बाद यह नेक्सट फिल्म होगी और पहली बार मैं एक्शन थ्रिलर फिल्म कर रही हूं। पहली बार मैं अब्बास-मस्तान जी के साथ काम कर रही हूं तो मैं बहुत ही एक्साइटेड हूं।
- ‘कॉकटेल’  देखते हुए बार-बार महसूस हो रहा था कि दीपिका में कांफिडेंस के साथ निखार आया है?
0 जी, थोड़ा सा कांफिडेंस लोगों को नजर आया ‘कॉकटेल’ में। मुझे भी महसूस हुआ,इसलिए शायद लोगों को मेरी परफारमेंस अच्छी लगी। मैंने हमेशा यही कहा है कि इस इंडस्ट्री को और फिल्म मेकिंग के प्रोसेस को समझने में मुझे काफी वक्त लगा,क्योंकि मैं इस इंडस्ट्री से नहीं हूं। न ही मेरे कोई रिलेटिव हैं। ऐसा भी नहीं कि मैं मुंबई से हूं। बहुत सारे एडजस्टमेंट करने पड़े। बहुत कुछ सीखना पड़ा। मैं आसानी से हार नहीं मानती। खिलाड़ी की बेटी हूं। मैं जो भी करती हूं, अच्छे से करना चाहती हूं। फिल्म इंडस्ट्री के तरीकों को थोड़ा समझ पाई हूं।
- और अब अच्छी तरह से एंज्वाय कर रहे हो ऐसा लग रहा है साफ।
0 कैमरे के सामने बिल्कुल एंज्वाय करती हूं। मैं ज्यादा सोचती नहीं हूं। मैं एंज्वाय करती हूं।
- ‘कॉकटेल’ के क्लाइमैक्स को लेकर मुझे कुछ दिक्कत थी।  वेरोनिका जैसी इडीपेंडेंट किरदार के कैरेक्टर को थोड़ा चेंज करना पड़ता है। गौतम के प्रेम को जीतने के लिए ऑर्थाेडोक्स लडक़ी की तरह रोल प्ले करना पड़ता है। मैं दीपिका पादुकोण ़ ़ ़आज की आजाद और कामकाजी लडक़ी से जानना चाहता हूं कि क्या किरदार के व्यक्तित्व में आया वह बदलाव सही था?
0 देखिए मैं पर्सनली विलीव करती हूं कि ़ ़ ़ पर्सनली मैं यह मानती हूं कि यू शूड नॉट चेंज फॉर एनी वडी, यू शूड बी योरसेल्फ ़ ़ ़किसी और के लिए खुद का नहीं बदलना चाहिए। हम जैसे हैं,वैसे ही रहें। अपनी पर्सनैलिटी में विश्वास करें। जब प्यार होना है तो वह हो ही जाएगा। मैं जरूर कहूंगी कि किसी को चेंज नहीं होना चाहिए। यह कहना बहुत ही आसान पर मैं जानती हूं कि बहुत सारे ऐसे लोग हैं,जो प्यार में आकर बदलते हैं। पर्सनैलिटी में थोड़ा चेंज आता है। फिर भी सैद्धांतिक रूप से यही कहूंगी कि लड़कियों को नहीं बदलना चाहिए।
- बिल्कुल ़ ़ ़इस विषय पर दूसरे मत भी हो सकते हैं। फिलहाल, ‘चेन्नई एक्सप्रेस’, ‘रामलीला’, ‘ये जवानी है दीवानी’ के बारे में क्या-क्या बता सकती हैं कुछ भी?
0 मैं सिर्फ यह कह सकती हूं कि ‘रामलीला’ और ‘ये जवानी है दीवानी’ दोनों  लव स्टोरी है। ‘चेन्नई एक्सप्रेस’ रोमांटिक कामेडी है। तीनों फिल्म में मेरा कैरेक्टर बहुत ही अलग है। ‘रामलीला’ में मैं गुजराती कैरेक्टर प्ले कर रही हूं। ‘चेन्नई एक्सप्रेस’ में तमिल लडक़ी का रोल प्ले कर रही हूं। ‘ये जवानी है दीवानी’ का जो कैरेक्टर है,वह बहुत ही मॉडर्न लडक़ी है। कैरेक्टर,लुक और कैरेक्टराइजेशन के हिसाब से तीनों कैरेक्टर बहुत ही अलग हैं। मेरे लिए बहुत ही   चैलेंजिंग है,क्योंकि मैं तीनों फिल्मों पर एक साथ काम कर रही हूं।
- फिल्मों में आ जाने के बाद आप किसी स्टेट या किसी एक इलाके के नहीं रह जाते, फिर भी मैं दीपिका से जाना चाहूंगा कि वह खुद को कहां की मानती हैं?
0 मैं लोगों के दिलों में रहना चाहती हूं। वही मेरा ठिकाना और पहचान है।
- यह तो बहुत अच्छा जवाब हुआ। मैं फिर से पूछता हूं कि दीपिका पादुकोण की सही पहचान क्या है?
0 मैं अपने आपको हिंदुस्तानी मानती हूं। लोग कहते हैं कि मैं मॉडर्न हूं। इस जमाने की लडक़ी हूं। मेंटली, इमोशनली, कल्चरली मैं बहुत ट्रेडिशनल हूं। मेरा एक बहुत ही सिंपल अपब्रिंगिंग रहा है। मैं खुद को इंडियन मानती हूं। मैं यह नहीं सोचती हूं कि मैं कहां से हूं, मेरा थॉट प्रोसेस क्या है? मैं मानती हूं कि मैं इंडियन हूं सब से पहले। भारतीय संस्कूति और परंपरा का मुझे गर्व है। मैं लोगों का प्यार चाहती हूं और उनके दिलों में रहना चाहती हूं। यही मैं चाहती हूं।
 जिस तरह से आप कैरियर पर ध्यान दे रही हैं और अच्छी फिल्में करती जा रही हैं़ ़  इसमें आपके उम्र के लड़कियों के लिए जो जरूरी चीजें मानी जाती हैं- प्रेम और शादी। इन दिनों करिअर वीमेन इन्हें निश्चित समय के लिए दरकिनार कर देती हैं। क्या ऐसा ही कुछ है दीपिका के साथ?
0 जी, बिल्कुल। फिलहाल तो मैं अपने काम पर फोकस कर रही हूं और अपनी फैमिली को बहुत मिस करती हूं। मेरा एक ही रीग्रेट कि मैं अपनी फैमिली के साथ ज्यादा टाइम शेयर नहीं कर सकती। पर आज मैं जहां हूं,वहां बहुत खुश हूं। जितना मुझे मिला है, जितना मुझे लोगों ने दिया है, उन से मैं बहुत खुश हूं। मैं मेहनत करती रहूंगी। प्यार-शादी  ़ ़ ़फिलहाल इनके बारे में मैं नहीं सोच रही हंू।
- फिल्मों के अलावा और क्या इंटरेस्ट हैं?
0 फिल्मों के अलावा मुझे स्पोर्टस में बहुत इंटरेस्ट है। मेरा एक चैरिटी        ऑर्गनाइजेशन है  ़ ़ ़ओलम्पिक का गोल क्वेस्ट। उस से बहुत सारे हमारे इंडियन स्पोर्टसमेन जुड़े हुए हैं ़ ़ ज़ैसे मेरे पिता जी है, लिएंडर पेश हैं, विश्वनाथन आनंद और गीत सेठी हैं। हम सब इस ऑर्गनाइजेशन के फाउंडर हैं और हम अपकमिंग टैलेंट को स्पोर्ट करते हैं अलग-अलग फील्ड से। चाहे बैडमिंटन हो, बॉक्सिंग, राइफल शूटिंग हो या कोई और गेम। हमने गगन नारंग, साइना नेहवाल और विजय कुमार को सपोर्ट किया। इन सभी एथलीट को हम जरूरत की सारी चीजें मुहैया कराते हैं। हम चाहते हैं कि वे ओलम्पिक में अच्छा प्रदर्शन कर लौटें। इस बार जब वे पुरस्कार लेकर आए तो लोगों के लिए बहुत ही प्राउड मूवमेंट रहा। उनकी जीत में हमारा थोड़ा कंट्रीब्यूशन रहा। अभी हम 2016 के ओलम्पिक के लिए काम कर रहे हैं।
- एक्टिंग के अलावा किसी और आर्ट फॉर्म को आपने सीखा है या सीखना चाहती हैं?
0 कह सकती हूं कि म्यूजिक में मेरा ज्यादा इंटरेस्ट है। जब भी अच्छा गाना सुनती हूं तो डाउनलोड करती हूं। दोस्तों के आय पॉड से गाने लेती हूं। मेरे पास बहुत सारे अलग-अलग किस्म के गाने हैं। इसके अलावा स्कूल के दिनों में ड्राइंग और पेंटिंग करती थी। अभी मुझे वक्त नहीं मिलता। एक इच्छा है कि मैं कोई भी इंस्ट्रूमेंट बजाना सीखूं। गिटार और पियानो मेरे ध्यान में हैं। जैसे ही थोड़ा वक्त मिलेगा मैं इसकी कोशिश करूंगी।
- इस साल आपको कौन सी फिल्में अच्छी लगीं?
0  मुझे अपनी फिल्म ‘कॉकटेल’ सबसे ज्यादा अच्छी लगी। इसके अलावा मैंने भरोसेमंद लोगों से ‘इंग्लिश विंग्लिश’ के बारे में सुन रखा है। अभी तक देख नहीं पाई हूं। मुझे अनुराग बसु की ‘बर्फी’ बहुत अच्छी लगी।
- ऐसा लग रहा है कि फिल्मों में हीरोइनों को अब ज्यादा महत्व दिया जा रहा है। वे सिर्फ शो पीस या सौंग-डांस के लिए ही नहीं ली जा रही हैं। आपकी ‘कॉकटेल’ भी एक उदाहरण है।
0 फिलहाल मैं इस विषय पर पूरे अधिकार के साथ कुछ नहीं कह सकती। अभी मैं जो भी स्क्रिप्ट चुन रही हूं उसमें अपने रोल पर ध्यान देती हूं। वह कैरेक्टर मुझे एक्साइट करे । सिर्फ गाना गाने या डांस करने के लिए मैं फिल्म नहीं कर सकती। मुझे लगता है कि फिल्म की कहानी में मेरे किरदार का कंट्रीब्यूशन होना चाहिए।
- आप ढेर सारे प्रोडक्ट एंडोर्स कर रही हैं। क्या उन्हें स्वीकार करने के पहले आप उनकी गुणवत्ता परखती हैं?
0 अभी मैं नौ प्रोडक्ट का एंडोर्समेंट कर रही हूं। मैं हर प्रोडक्ट और ब्रांड की जांच-पड़ताल करती हूं। ऐसा नहीं है कि जो ऑफर आ गया उसे एक्सेप्ट कर लिया। जरूरी है कि मैं उस ब्रांड के साथ रिलेट करूं।
- अपनी उम्र की लड़कियों के लिए क्या संदेश देंगी? वे कैसे आपकी तरह कामयाब हों?
0 जैसा कि एक सवाल के जवाब में मैंने कहा कि हमें नहीं बदलना चाहिए। अपनी पर्सनैलिटी पर गहरा विश्वास होना चाहिए। आप जो हैं, उस पर अडिग रहें। खुद पर यकीन करें। सिंपल ़ ़ ़









Thursday, January 3, 2013

पुरस्कारों से वंचित प्रतिभाएं




-अजय ब्रह्मात्मज
    साल खत्म होने के साथ ही हिंदी फिल्मों के लोकप्रिय पुरस्कारों के इवेंट शुरू हो गए हैं। इस साल जून तक इनका सिलसिला जारी रहेगा। विभिन्न मीडिया घरानों और संस्थानों द्वारा आयोजित इन पुरस्कार समारोहों में पिछले साल दिखे और चमके सितारों में से चंद लोकप्रिय नामों को पुरस्कृत किया जाएगा। शुरू से यह परंपरा चली आ रही है कि लोकप्रिय पुरस्कार बाक्स आफिस पर सफल रही फिल्मों के मुख्य कलाकारों को ही दिए जाएं। अभी तक उनका पालन हो रहा है। दरअसल, फिल्मों के लगभग सारे पुरस्कार समारोह इवेंट में बदल चुके हैं। कालांतर में इनका टीवी पर प्रसारण होता है इसलिए जरूरी होता है कि परिचित और मशहूर चेहरों को ही सम्मान से नवाजा जाए। इसी बहाने वे इवेंट में परफार्म करते हैं। इवेंट की शोभा बढ़ाते हैं। प्रसारण के समय दर्शक जुटाते हैं।
    2012 में  नौ फिल्मों ने सौ करोड़ से अधिक का बिजनेस किया। इन फिल्मों में हमने तीनों खान के अलावा अजय देवगन, अक्षय कुमार, रितिक रोशन और रणबीर कपूर को देखा। इस साल सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के तमाम पुरस्कार इन्हीं के बीच बटेंगे। आमिर खान और अजय देवगन घोषित रूप से पुरस्कार समारोहों में हिस्सा नहीं लेते, इसलिए उन्हें पुरस्कृत करने की संभावनाएं कम हैं। रह गए सलमान खान और शाहरुख खान ़ ़ ़ इन में सलमान को पुरस्कारों की परवाह नहीं रहती। हां, शाहरुख खान अभी तक पुरस्कारों के लिए लालायित रहते हैं। ‘अग्निपथ’ में रितिक रोशन और ‘बर्फी’ में रणबीर कपूर ने उल्लेखनीय अभिनय से प्रभावित किया है। संभावना है कि एक-दो पुरस्कार इनके हिस्से भी आ जाएं।
    इन लोकप्रिय सितारों के अलावा इस साल तीन अन्य अभिनेताओं ने अपनी फिल्मों में अदाकारी की खास छाप छोड़ी। सबसे पहले इरफान खान का नाम लें। तिग्मांशु धूलिया की फिल्म ‘पान सिंह तोमर’ में इरफान खान ने शीर्षक भूमिका को उसकी उम्र और भावनाओं के साथ संजीदगी से निभाया। एथलीट फौजी पान सिंह तोमर की गतिशीलता को पर्दे पर चपल तरीके से दिखाना आसान नहीं रहा होगा। और फिर जब पान सिंह तोमर बागी होकर बीहड़ में घूसता है तो उसकी जिंदगी उबड़-खाबड़ हो जाती है। इरफान ने भाषा, लहजा और बॉडी लैंग्वेज के लिहाज से बहुत ही उम्दा अभिनय किया है।
    ऐसे ही पिछले साल मनोज बाजपेयी की प्रतिभा के भिन्न आयाम पर्दे पर दिखे। अनुराग कश्यप की ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’,  प्रकाश झा की ‘चक्रव्यूह’ और वेदव्रत पाएन की ‘चिटगांव’ में हमने इस प्रतिभाशाली अभिनेता को विभिन्न किरदारों में देखा। हर किरदार को मनोज बाजपेयी ने अभिनय की बारीकी से अलग रखा। उन्होंने एक बार फिर से साबित किया कि अलग चुनौतीपूर्ण भूमिकाएं मिले तो उन में गहराई तक उतर सकते हैं।
    पिछले साल ही हमने लगभग एक दशक से ज्यादा समय से सक्रिय और संघर्षरत अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दिकी को अपनी छंटा बिखेरते देखा। ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ में फैजल खान के किरदार को उन्होंने सच्चाई के साथ चित्रित किया। इस फिल्म के दूसरे भाग के नायक नवाजुद्दीन सिद्दिकी ही हैं। उन्होंने निर्देशक अनुराग कश्यप के भरोसे को नहीं टूटने दिया। पर्दे पर उनके किरदार में आया परिवर्तन बखूबी उभरा। एक साथ इमोशन के इतने शेड कम किरदारों को मिलते हैं। यह नवाजुद्दीन की प्रतिभा ही है कि वे इस भूमिका में कहीं नहीं चूकते।
    यकीन करें। ये तीनों प्रतिभाएं इस साल पुरस्कारों से वंचित रहेंगी। कुछ स्थानों पर इनका नामांकन भले ही हो जाए, लेकिन ठीक इनकी आंखों के सामने साधारण और औसत अभिनेताओं को पुरस्कृत कर इन्हें ठेस पहुंचाया जाएगा। एक-दो आयोजकों ने अगर हिम्मत की तो भी इन्हें क्रिटिक अवार्ड की कैटेगरी में डाल देंगे। तात्पर्य यह है कि प्रतिभा, लोकप्रियता और पुरस्कार के बीच कोई तालमेल नहीं रहता। पुरस्कार तो सिर्फ उन चमकते चेहरों को दिया जाता है जो भीड़ जुटाने को काम करते हैं। यह भी एक किस्म की प्रतिभा है, लेकिन इसे सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का नाम देना सही नहीं है।