Search This Blog

Sunday, November 16, 2008

रब ने बना दी जोड़ी में अलग लग रहे हैं शाहरूख खान



12 दिसंबर को रब ने बना दी जोड़ी रिलीज होगी। दरअसल, यह फिल्म शाहरुख खान से ज्यादा आदित्य चोपड़ा के लिए इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि मोहब्बतें के निर्देशन के आठ साल बाद वे रब.. लेकर आ रहे हैं। फिल्म के पोस्टर और पहले गाने को देखकर ऐसा लग रहा है कि यह फिल्म उनकी पहले की फिल्मों से अलग होगी। वैसे, यह शाहरुख के लिए इस लिहाज से भी खास हो जाती है कि ओम शांति ओम के बाद यह उनकी पहली कायदे की फिल्म होगी।
शाहरुख इस बार ओम शांति ओम की तरह आक्रामक जरूर नहीं दिख रहे हैं, लेकिन इस फिल्म को दर्शकों तक ले जाने और उन्हें इस फिल्म के लिए तैयार करने की जिम्मेदारी उनके कंधों पर भी है। इसी कारण उन्होंने अपने जन्मदिन के मौके पर मीडिया को मन्नत में बुलाया। कोशिश यह थी कि जन्मदिन के मौके पर रब.. की चर्चा आरंभ हो जाए। यशराज और शाहरुख इस रणनीति में सफल रहे। शाहरुख ने विस्तार से फिल्म के बारे में बताया। उन्होंने आदित्य के साथ हुई विमर्श की जानकारी भी दी। जैसे कि पहले पोस्टर में प्रौढ़ शाहरुख को पेश करना। पहले राय बनी थी कि इससे दर्शक निराश होंगे। उन्हें लगेगा कि शाहरुख बूढ़े हो गए हैं। शाहरुख की राय थी, हमें दर्शकों को सच बना देना चाहिए। फिल्म के पोस्टर और प्रचार में यह झलकना चाहिए कि वे फिल्म में क्या देखने जा रहे हैं? अगर इस फिल्म में मैं प्रौढ़ किरदार निभा रहा हूं, तो उसकी जानकारी लोगों को पहले से होनी ही चाहिए। ऐसा न हो कि दर्शकों को सिनेमाघरों जाकर झटका लगे। दर्शकों को नहीं लगना चाहिए कि उन्हें धोखे में रखा गया है। अगर मैं इस फिल्म में साधारण और मध्यवर्गीय बिजली कर्मचारी सुरेन्द्र साहनी की भूमिका निभा रहा हूं, तो यह लोगों को पहले से मालूम होना चाहिए!
शाहरुख ने आगे बताया, हालांकि हर फिल्म में मैं दर्शकों के बीच अपनी इमेज का खयाल रखता हूं, लेकिन इस फिल्म के लिए मैंने हिम्मत की है। फिल्म की कहानी मुझे पसंद आई और अपना किरदार दर्शकों के बीच का लगा। उन्होंने स्पष्ट कहा, अगर लोग मेरी इमेज और लोकप्रियता को किनारे कर दें, तो मैं मध्यवर्गीय साधारण चेहरे वाला लड़का ही हूं। आश्चर्य होता है कि गौरी (पत्नी) ने मुझमें क्या देखा! रब.. में खास संदेश है कि आप जिसके साथ हैं, उसी को प्यार करना सीखें। इससे जिंदगी खुशहाल होगी। पति-पत्नी और प्रेमी-प्रेमिका के भावनात्मक रिश्ते में किसी तीसरे का खयाल आना ही नहीं चाहिए। फिल्म में शाहरुख की दो छवियां हैं। एक प्रौढ़ और दूसरे जवान। दोनों ही रूपों में वे फिल्म की नायिका अनुष्का शर्मा के साथ हैं। चूंकि फिल्म का यही खास ऐंगल है, इसलिए शाहरुख साफ-साफ बताने में हिचकिचाते रहे। हालांकि उन्होंने कहा, मैं कहानी बता देने में कोई बुराई नहीं समझता, लेकिन आजकल रिवाज है कि पहले ज्यादा जानकारी मत दो। चूंकि आदित्य रहस्य बनाए रखना चाहते हैं, इसलिए मैं उनके विरोध में जा भी नहीं सकता। एक तरह से यह अच्छा भी है कि दर्शक अनुमान लगाते रहें कि फिल्म में क्या है!
फिल्म की भूमिका के लिए शाहरुख खान को खास तैयारी करनी भी पड़ी। मध्यवर्गीय आचरण और व्यवहार भूल चुके शाहरुख ने अपने पिछले टीवी शो क्या आप पांचवीं पास से तेज हैं के लिए आए प्रतियोगियों के ऑडिशन के वीडियोज देखे और उनमें से दो प्रतियोगियों के हाव-भाव और अंदाज को अपने लिए पकड़ा। उन्होंने इस फिल्म में मूंछ भी लगाई है। पर्दे पर अपनी मूंछ को लेकर शंकालु शाहरुख को डर भी लग रहा है कि पता नहीं यह दर्शकों को पसंद आएगी भी या नहीं? फिल्म पहेली में उनका चरित्र यानी किशन मूंछ वाला था और उस फिल्म का हाल सभी जानते हैं। शाहरुख के शुभचिंतक मानते हैं कि उन्हें मूंछों को लेकर परेशान नहीं होना चाहिए। इस बार अमोल पालेकर ने नहीं, आदित्य चोपड़ा ने मूंछें लगवाई हैं, तो कोई बात जरूर होगी? वैसे भी, रब.. एक तरह से यशराज फिल्म्स, आदित्य चोपड़ा और शाहरुख खान की मूंछों का मामला है।

2 comments:

विनय said...

हाँ भाई तभी तो वह आज भी नम्बर 1 क्लेम होते हैं!

bhoothnath said...

accha laga bhai padhkar...age phir aayenge chavanni chap par...